बेहतर अनुभव के लिए एप चुनें।
INSTALL APP

तालाबों से नहीं हट रहे अवैध कब्जे

ब्यूरो, अमर उजाला/हमीरपुर Updated Tue, 30 Jun 2015 12:51 AM IST
विज्ञापन
Encroachments are not removed from ponds
ख़बर सुनें
पौथिया गांव में साढ़े चार एकड़ जमीन पर कहिया तालाब है, लेकिन उसमें
विज्ञापन
सिर्फ  एक एकड़ ही रकबा रह गया है। भूमाफियाओं की नजर इस तालाब की जमीन पर टिकी है। गांव के करीब 15 लोगों तालाब को पाटने पर दो साल पहले लेखपाल नोटिस दे चुका है। लेकिन राजस्व विभाग द्वारा कार्रवाई नहीं किए जाने से तालाब पाटने का काम जारी है। शिकायत के बाद लेखपाल मिट्टी डालना बंद करा दिया है।

जिले में तालाबों को संरक्षित रखने के लिए उच्च न्यायालय के आदेश है। इन पर कब्जा करने वालों के खिलाफ कार्रवाई के आदेश हैं। लेकिन देखा जा रहा है कि बड़े रकबे में फैले तमाम तालाब सिर्फ कागजों पर ही सीमित रह गए हैं।

तालाबों को भूमि पर पूरे मोहल्ले के मोहल्ले बसे हैं। पौथिया गांव में साढ़े चार एकड़ रकबे में कहिया तालाब फैला है। लेकिन यह अब समाप्ति की ओर है। मौके पर तालाब जैसी शक्ल नहीं है।

इस बस्ती के आसपास रहने वालों की नजरें इसी के कब्जे में टिकी रहतीं हैं। इस तालाब की कभी खुदाई नहीं हुई है। जबकि मनरेगा से ग्राम पंचायत प्रति वर्ष लाखों रुपये खर्च कर मजदूरों को रोजगार देने का दावा कर रही है।

इससे माना जा सकता है कि ग्राम पंचायत की नजरें इस तालाब पर इनायत नहीं हुई हैं। इधर कुछ दिनों के अंतराल में ग्रामीणों ने तालाब को पाटने में कुछ ज्यादा ही दिलचस्पी दिखाई है।

मिट्टी डालने में जुटे लोगों की कुछ ग्रामीणों ने राजस्व विभाग से शिकायत कर दी। हरकत में आए लेखपाल बिमलेश कुमार ने काम रूकवा दिया है।

लेखपाल ने कहा कि तत्कालीन लेखपाल अशोक कुमार ने दो साल पहले तालाब की जमीन पर अवैध कब्जा करने वाले करीब 15 लोगों को 115सी की नोटिस जारी की थी। उनका कहना है कि अगर रोकने पर अवैध कब्जा करने वाले नहीं मानेंगे तो उनके खिलाफ विधिक कार्रवाई की जाएगी।

आपकी राय हमारे लिए महत्वपूर्ण है। खबरों को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।

खबर में दी गई जानकारी और सूचना से आप संतुष्ट हैं?
विज्ञापन
विज्ञापन
सबसे विश्वसनीय हिंदी न्यूज़ वेबसाइट अमर उजाला पर पढ़ें हर राज्य और शहर से जुड़ी क्राइम समाचार की
ब्रेकिंग अपडेट।
 
रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें अमर उजाला हिंदी न्यूज़ APP अपने मोबाइल पर।
Amar Ujala Android Hindi News APP Amar Ujala iOS Hindi News APP
विज्ञापन
विज्ञापन
  • Downloads

Follow Us

X

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00
X