विज्ञापन
विज्ञापन

जिले के 73227 किसानों को मिलेगा ऋणमाफी का लाभ

जिले के 73227 किसानों को मिलेगा ऋणमाफी का लाभ Updated Mon, 22 May 2017 11:03 PM IST
demo
demo
ख़बर सुनें

विज्ञापन
प्रदेश सरकार द्वारा की गई लघु/सीमांत किसानों के ऋण माफी की घोषणा से जिले के 73 हजार 227 किसान लाभांवित होंगे। वहीं पिछले वित्तीय वर्ष 2016-17 में फसली ऋण लेने वाले सात हजार 594 किसान इससे वंचित रह जाएंगे। जिले के ऋणमाफी वाले इन किसानों पर चार अरब 16 करोड़ 12 लाख रुपये बकाया होने पर बैंक वार सूची कृषि विभाग ने शासन को भेजी गई है।

जिले मेें कुल एक लाख 28 हजार 420 किसानों ने विभिन्न बैंकों से 11 अरब दो करोड़ 45 लाख रुपये का फसली ऋण लिया है। जिसमें से लघु/सीमांत श्रेणी के 80 हजार 821 किसानों को बैंकों ने सात अरब 53 करोड़ 48 लाख रुपये का फसली ऋण वितरित किया गया है।
सरकार की इस घोषणा में 73 हजार 227 किसान ही ऋण माफी के दायरे में आए हैं।

इन पर बैंकों का चार अरब 16 करोड़ 12लाख रुपये बकाया है। जिसमें सबसे अधिक इलाहाबाद बैंक में 20 हजार 137 किसानों का एक अरब 48 करोड़ 89 लाख रुपये बकाया है।
वहीं तीन अरब 37 करोड़ 56 लाख रुपये का वित्तीय वर्ष 2016-17 में ऋण लेने वाले सात हजार 594 किसान ऋण माफी का लाभ पाने से वंचित रह जाएंगे। जिले के 47 हजार 599 वृहद किसान पहले ही घोषणा से निराश हैं।

बैंकवार फसली ऋण माफी वाले लघु/सीमांत किसानों पर एक नजर
बैंक                                                    किसान                 माफी की धनराशि लाख में
सेंट्रल बैंक आफ इंडिया                          280                   206.58
इलाहाबाद यूपी ग्रामीण बैंक                  18104              10494.40
जिला सहकारी बैंक                               1048                73.95
आईडीबीआई बैंक                                   83                   107.62
डिस्ट्रिक्ट कोआपरेटिव बैंक                    15569              1953.91
इलाहाबाद बैंक                                        20137              14889.27
एसबीआई                                             16306              12654.50
पंजाब नेशनल बैंक                                131                  117.10
बैंक ऑफ बड़ौदा                                     403                  199.65
केनरा बैंक                                             68                    69.23
बैंक ऑफ इंडिया                                   139                  105.70
ओरिएंटल बैंक ऑफ कामर्स                    520                  350.23
सिंडीकेट बैंक                                           262                  191.40
पंजाब एंड सिंध बैंक                                 114                   164.10
यूनियन बैंक                                             63                     35.14

शासन से ऋण माफी संबंधी अभी कोई गाइड लाइन नहीं आई है। मुख्यमंत्री की घोषणा के आधार पर जिले के ऋण माफी योग्य 73 हजार 227 किसानों की बैंकवार सूचना शासन को भेजी है। पिछले साल फसली ऋण लेने वाले सात हजार 594 लघु/सीमांत किसान शासन की घोषणा के अनुसार ऋण माफी में नही आएंगे। इस वर्ष फसल अच्छी हुई है। वह बैंकों से लिया गया ऋण चुका सकते है।
- एसके साहू, एलडीएम इलाहाबाद बैंक
विज्ञापन

Recommended

OPPO के Big Diwali Big Offers से होगी आपकी दिवाली खूबसूरत और रौशन
Oppo Reno2

OPPO के Big Diwali Big Offers से होगी आपकी दिवाली खूबसूरत और रौशन

कराएं दिवाली की रात लक्ष्मी कुबेर यज्ञ, होगी अपार धन, समृद्धि  व्  सर्वांगीण कल्याण  की प्राप्ति : 27-अक्टूबर-2019
Astrology Services

कराएं दिवाली की रात लक्ष्मी कुबेर यज्ञ, होगी अपार धन, समृद्धि व् सर्वांगीण कल्याण की प्राप्ति : 27-अक्टूबर-2019

विज्ञापन
विज्ञापन
अमर उजाला की खबरों को फेसबुक पर पाने के लिए लाइक करें

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App और Amarujala Hindi News APP अपने मोबाइल पे|
Get all India News in Hindi related to live update of politics, sports, entertainment, technology and education etc. Stay updated with us for all breaking news from India News and more news in Hindi.

Spotlight

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

Most Read

Hamirpur

बैंकों से जारी आरसी वापस लेने पर किसानों का प्रदर्शन

बैंकों से जारी आरसी वापस लेने पर किसानों का प्रदर्शन

21 अक्टूबर 2019

विज्ञापन

NCRB की 2015-17 की रिपोर्ट: दिल्ली फिर बनी अपराध की राजधानी, साइबर क्राइम में यूपी नंबर वन

NCRB की 2015-17 की रिपोर्ट जारी हो गई है। दिल्ली फिर अपराध की राजधानी दिखी है तो वहीं साइबर क्राइम के मामले में यूपी नंबर वन है। इसके साथ ही निर्भया कांड के बाद कानून सख्त होने के बाद भी रेप पीड़िताओं को इंसाफ के लिए लंबा इंतजार करना पड़ रहा है।

21 अक्टूबर 2019

आज का मुद्दा
View more polls

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree