लोहिया की कर्मभूमि में सपा की जमीन खिसकी

अमर उजाला Updated Fri, 10 Nov 2017 11:59 PM IST
sp,s popularity gone down
smarak sthal - फोटो : अमर उजाला ब्यूरो
समाजवाद के जनक डॉ. राममनोहर लोहिया की कर्मभूमि रहे फर्रुखाबाद जिले में सपा की जमीन खिसकने लगी है। लोकसभा चुनाव के बाद विधानसभा की सभी सीटें हार चुकी सपा को निकाय चुनाव सभासद के प्रत्याशी तक नहीं मिल पाए। चार निकायों में तो पार्टी का एक भी सभासद प्रत्याशी नहीं है, सदर की 14 सीटों पर पार्टी प्रत्याशी नहीं खोज पाई। जिले की छह निकाय के 123 वार्डों में सपा के केवल 34 प्रत्याशी हैं। 89 वार्डों में पार्टी चुनाव के पहले ही जंग हार गई है।


फर्रुखाबाद जिला समाजवाद के जनक डॉ. राम मनोहर लोहिया की कर्मभूमि रहा है। डा. लोहिया 1962 में यहां से संयुक्त सोशलिस्ट पार्टी के टिकट पर लोकसभा सांसद चुने गए थे। इसके बाद से यहां समाजवादी विचारधारा की जड़ें फैल गईं और अब तक हुए 16 लोकसभा चुनावों में पांच बार समाजवादी विचारधारा का नेता सांसद चुना गया। विधानसभा चुनावों में भी समाजवादी झंडा फहराता रहा। सपा बनने के बाद तो जिला समाजवादी गढ़ में ही तब्दील हो गया। 2012 के विधानसभा चुनाव में जिले की


तीन विधानसभा सीटों पर साइकिल दौड़ी थी। पार्टी ने सबसे ज्यादा 56279 वोट कायमगंज विधानसभा क्षेत्र में हासिल किए थे। इसके बाद भोजपुर में 51650, अमृतपुर में 50911 और सदर में 25969 वोट जुटाए थे। उस चुनाव में पार्टी को कुल 184809 वोट मिले थे। इसके ठीक दो साल बाद हुए लोकसभा चुनाव में सपा प्रत्याशी की वोट करीब आधे रह गए। सपा को मिले 255693 वोट में सवा लाख से ज्यादा एटा के अलीगंज विधानसभा क्षेत्र में मिले थे। इस साल की शुरुआत में हुए विधानसभा चुनाव में पार्टी चारों


सीटें हार भले गई लेकिन पिछले विधानसभा चुनाव की अपेक्षा उसका परिणाम बेहतर रहा। इस बार भी कायमगंज में सबसे ज्यादा 79544 वोट मिले। भोजपुर में 58769, अमृतपुर में 52995 सहित कुल 220201 वोट बटोरे थे। किंतु सूबे में सरकार जाने के आठ महीने बाद ही लोहिया की इस कर्मभूमि में समाजवादी जमीन खिसकने लगी है। जिस कायमगंज में सपा ने दोनों विधानसभा चुनाव में सबसे ज्यादा वोट बटोरे थे, वहां उसे नगर पालिका चुनाव में सभासद का एक प्रत्याशी तक नहीं मिला। नगर पंचायत कमालगंज, कंपिल में भी वार्डों में कोई साइकिल चलाने को कोई तैयार नहीं हुआ। इतना ही नहीं जिलाध्यक्ष नदीम फरुकी के गृहनगर शमशाबाद में भी किसी वार्ड में साइकिल नहीं दौड़ पाएगी जबकि यहां उनकी पत्नी अध्यक्ष पद का चुनाव लड़ रही हैं। सदर


में भी 13 वार्ड में साइकिल चलाने वाला कोई नहीं मिला। यहां पार्टी ने 29 वार्डों में पार्टी ने प्रत्याशी उतारे थे, इसमें वार्ड 27 की प्रत्याशी रजिया अंसारी ने शुक्रवार को पर्चा वापस ले लिया। यादव बाहुल्य मोहम्मदाबाद में भी सपा सभी वार्डों में प्रत्याशी नहीं खोज पाई। इस नगर पंचायत में 15 में केवल 06 सपा प्रत्याशी ही लड़ रहे हैं। जिले की सभी छह निकाय के 123 वार्ड में केवल 34 वार्ड में सपा के प्रत्याशी बचे हैं जबकि 89 वार्डों में मुकाबले के पहले ही साइकिल चुनावी दौड़ से बाहर हो गई है। पार्टी सभी निकायों में अध्यक्ष पद पर जरूर प्रत्याशी लड़ा रही है।
 
कहां कितने सपा प्रत्याशी
निकायवार्ड सभासद प्रत्याशी
फर्रुखाबाद        42    28
कायमगंज        25    00
कामलगंज        12    00
कंपिल            10    00
शमशाबाद        19    00
मोहम्मदाबाद     15    06

Spotlight

Most Read

Madhya Pradesh

CM शिवराज ने रोड शो में शख्स को जड़ा थप्पड़, ट्विटर पर हुए ट्रोल

रोड शो में मुख्यमंत्री अपना आपा खो बैठे और एक शख्स पर थप्पड़ जड़ दिया। इस घटना का वीडियो तेजी से वायरल हो रहा है जिस वजह से लोग उनकी कड़ी निंदा करने लगे हैं।

16 जनवरी 2018

Related Videos

VIDEO: अब ये खास अंडरवियर बचाएगी बहू-बेटियों की आबरू

साल 2016 में देश में सबसे ज्यादा रेप के मामले उत्तर प्रदेश से सामने आए। अब यूपी की ही एक बेटी ने एक महिलाओं की इज्जत-आबरू को बचाने का बेड़ा उठाया है। इस बेटी ने एक ऐसा अंडरवियर बनाया है जो रेप प्रूफ है। देखिए क्या है इसकी खासियत।

11 जनवरी 2018

आज का मुद्दा
View more polls
  • Downloads

Follow Us

Read the latest and breaking Hindi news on amarujala.com. Get live Hindi news about India and the World from politics, sports, bollywood, business, cities, lifestyle, astrology, spirituality, jobs and much more. Register with amarujala.com to get all the latest Hindi news updates as they happen.

E-Paper