पुलिस भर्ती परीक्षा के बहिष्कार का ऐलान

बरेली Updated Mon, 01 Dec 2014 01:31 AM IST
police
ख़बर सुनें
गुलाब राय इंटर कालेज में बवाल के मामले में नामजद आरोपी रिजवान के माफी मांगने के बाद शांत हुए शिक्षक फिर भड़क गए हैं। रिजवान की तरफ से प्रेमनगर थाने में अज्ञात शिक्षकों के खिलाफ मुकदमा दर्ज कराने पर शिक्षक संगठनों ने रोष जताते हुए 15 दिसंबर को होने वाली पुलिस भर्ती परीक्षा के बहिष्कार का ऐलान कर दिया है। रविवार को एसवी इंटर कालेज में शिक्षक संगठनों ने इस मुद्दे पर बैठक बुलाई थी। उधर, मामले में एक नया खुलासा हुआ है कि पुलिस ने शिक्षकों के खिलाफ शनिवार को नहीं बल्कि घटना वाले दिन शुक्रवार को ही मुकदमा लिख लिया था। इससे भी शिक्षकों में रोष है।
उत्तर प्रदेश माध्यमिक प्रधानाचार्य परिषद के बैनर तले रविवार शाम को बुलाई गई आपात सभा में शिक्षक नेताओं ने शिक्षकों के खिलाफ दर्ज कराई गई एफआईआर को झूठी बताया है। चेताया कि किसी शिक्षक के खिलाफ कार्रवाई हुई तो 15 दिसंबर को होने वाली पुलिस भर्ती परीक्षा के बहिष्कार का ऐलान किया। सभा में मौजूद गुलाबराय इंटर कॉलेज के प्रधानाचार्य डॉ. गिरीश गर्ग ने कहा कि हमला और तोड़फोड़ उन लोगों की तरफ से किया गया, फिर भी शिक्षकों पर एफआईआर दर्ज करा दी गई। प्रधानाचार्य परिषद के जिलाध्यक्ष डॉ. सुरेश चंद्र रस्तोगी ने कहा कि यह झूठी एफआईआर शिक्षकों को दबाव में लेने की रणनीति है लेकिन ऐसा नहीं होने दिया जाएगा। यह मुकदमा डीआईओएस दफ्तर पर सार्वजनिक रूप से हुए समझौते का उल्लंघन है और इसे बर्दाश्त नहीं किया जाएगा। परिषद के कार्यकारी जिलाध्यक्ष डॉ. संदीप इंदवार और उत्तर प्रदेश माध्यमिक शिक्षक संघ के प्रदेश उपाध्यक्ष आफताब अहमद खां ने कहा कि शिक्षकों पर कार्रवाई हुई तो सभी शिक्षक आंदोलन को जनांदोलन में तब्दील कर देंगे। सभा में शर्मा गुट के जिलाध्यक्ष डॉ. राजेंद्र कुमार गंगवार, चंदेल गुट के जिलाध्यक्ष संजय सिंह, पांडेय गुट के जिलाध्यक्ष अखिलेश पांडेय, नरेश चंद्र सक्सेना, रमेश चंद्र शर्मा, समाजवादी शिक्षक संघ के ज्ञान यादव, बृजमोहन शर्मा, डॉ. मनोज कुमार, डॉ. एसपी पांडेय, सौदान सिंह शाक्य, डॉ. छोटेलाल, राजकीय शिक्षक संघ के सुरेश बाबू मिश्रा आदि मौजूद थे।

इंस्पेक्टर को हटाने पर अड़े मौलाना अदनान
बरेली। मौलाना अदनान नरम होने को तैयार नहीं हैं। उनका कहना है कि डीआईजी आरकेएस राठौर ने उन्हें इंस्पेक्टर विद्याराम दिवाकर के खिलाफ कार्रवाई करने का आश्वासन दिया है। मौलाना अदनान के अनुसार डीआईजी को बता दिया गया है कि इंस्पेक्टर 20 साल से अधिक समय से बरेली में तैनात हैं। कभी पूरी तैनाती मिलती है तो कभी अटैचमेंट के जरिए। वह दरोगा रहने के दौरान से ही बरेली में तैनात है। कुछ दिनों के लिए दूसरे जिलों में चले जाते हैं और फिर लौट आते हैं। उन्होंने सवाल उठाया है कि इतने लंबे समय तक एक ही जिले में रहने का क्या औचित्य है। चेताया, इंस्पेक्टर के खिलाफ कार्रवाई नहीं हुई तो बड़ा आंदोलन होगा।

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App और Amarujala Hindi News App अपने मोबाइल पे|
Get all crime news in Hindi. Stay updated with us for all breaking hindi news.

Spotlight

Most Read

Pratapgarh

बहू ने सास को पीटा, फिर लगा दी आग

बहू ने सास को पीटा, फिर लगा दी आग

20 मई 2018

Related Videos

VIDEO: जा रहे थे मां पूर्णागिरी के दर्शन के लिए लेकिन रास्ते में खड़ी थी मौत

मां पूर्णागिरी के दर्शन को जा रहे श्रद्धालुओं के जत्थे को एक डंपर ने कुचल दिया। ये सभी लोग बरेली के थे। हादसे में 10 लोगों की मौत हो गई। सीएम योगी ने घटना पर गहरा दुख जताया है।

18 मई 2018

आज का मुद्दा
View more polls

अमर उजाला ऐप चुनें

सबसे तेज अनुभव के लिए

क्लिक करें Add to Home Screen