विज्ञापन
विज्ञापन

वाहन भिड़ंत के बाद मच गई चीखपुकार

Bareily Bureauबरेली ब्यूरो Updated Sat, 15 Jun 2019 02:37 AM IST
ख़बर सुनें
ममता के बच्चों को ले गईं नानी, मझगवां सीएचसी में भी भर्ती कराए घायल
विज्ञापन
विज्ञापन
अलीगंज। कस्बे के पास दो वाहनों की भिड़ंत में पांच लोगों की मौत और कई लोगों के घायल होने से अफरातफरी मच गई। घायलों को निकालने के लिए स्थानीय ग्रामीण देवदूत बन गए। कुछ घायलों को मझगवां सीएचसी में भी भर्ती कराया गया।
सिरौली मार्ग पर हनुमान मंदिर के पास टेंपो और पिकअप में टक्कर के साथ ही कमालपुर के दंपति की साइकिल भी बीच में फंस गई। हादसे में मारी गई श्रीवती अपने पति के साथ साइकिल से अलीगंज के बाजार में कपड़े लेने आ रही थी। उसके पति सूरजभान को जिला अस्पताल में गंभीर हालत में भर्ती कराया गया। मजदूर कुंवरपाल की मौत के साथ ही उसके साथी गिरधारी, चंद्रभान और हरगोपाल गंभीर घायल हो गए। इन्हें मझगवां सीएचसी लाया गया। ममता और उसके बेटे केशव की हादसे में मौत हो गई। ममता के दो और बेटे घायल हुए। उन्हें प्राथमिक उपचार के बाद ममता की मां बिटौना देवी साथ ले गईं। ममता को साथ ला रहे उसके भाई अजय को भी चोटें आई हैं। इन सभी को एंबुलेंस न मिलने पर टाटा मैजिक से सीएचसी लाया गया। घटना के बाद टेंपो मौके पर ही पलट गया तो पिकअप खाई में जा गिरी। इसमें कपड़े भरे हुए थे जो शायद किसी मेले या दुकान में बिक्री को ले जाए जा रहे थे। पिकअप में कौन लोग सवार थे, ये काफी देर तक पता नहीं लग सका। आंवला एसडीएम बिशु राजा और सीओ रामप्रकाश भी मौके पर पहुंचे।

अलीगंज एसओ ने भ्रमित किया तो मिली फटकार
बरेली। एसपी देहात को दोपहर करीब पौने दो बजे अलीगंज हादसे की जानकारी हुई। उन्होंने अपने कार्यालय से ही एसओ अलीगंज को कॉल की तो उन्होंने बस और टेंपो में भिड़ंत की बात बताई। कहा कि सामान्य एक्सीडेंट है। काफी देर बाद जब एसपी देहात जिला अस्पताल पहुंचे तो वहां दो मृतक और घायल लाए जा चुके थे। यहां अलीगंज पुलिस का पता नहीं था। कोतवाली की कुतुबखाना चौकी के प्रभारी चमन सिंह अपनी टीम के साथ जरूर मदद में लगे थे। उनको डॉक्टर के पास भेजकर मृतकों की जानकारी कराई तो वे भूलवश फतेहगंज पूर्वी हादसे के मृतकों के भी नाम इसी हादसे में लिख लाए। इससे एसपी देहात गफलत में पड़ गए। एंबुलेंस ड्राइवरों ने बताया कि टक्कर बस से न होकर पिकअप से हुई है और एसओ मौके पर नहीं थे। तब एसपी देहात ने दोबारा कॉल की तो एसओ ने उन्हें किसी और जगह होना बताया। तब वे उखड़ गए। एसपी देहात ने उन्हें फटकारा कि थानेदारी मिल गई है तो आरामतलबी छोड़ दो। आपके यहां इतना बड़ा हादसा हो गया और आप नहीं गए, यह आदत छोड़ दो।

Recommended

एलपीयू ही बेस्ट च्वॉइस क्यों है इंजीनियरिंग और अन्य कोर्सों के लिए
Lovely Professional University

एलपीयू ही बेस्ट च्वॉइस क्यों है इंजीनियरिंग और अन्य कोर्सों के लिए

जानिए जल्दी से सरकारी नौकरी पाने के उपाय।
Astrology

जानिए जल्दी से सरकारी नौकरी पाने के उपाय।

विज्ञापन
विज्ञापन
अमर उजाला की खबरों को फेसबुक पर पाने के लिए लाइक करें
सबसे विश्वशनीय हिंदी न्यूज़ वेबसाइट अमर उजाला पर पढ़ें हर राज्य और शहर से जुड़ी क्राइम समाचार की
ब्रेकिंग अपडेट।
 
रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें अमर उजाला हिंदी न्यूज़ APP अपने मोबाइल पर।
Amar Ujala Android Hindi News APP Amar Ujala iOS Hindi News APP
विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

Most Read

Bareilly

ग्राम प्रधान के पति की गला काटकर हत्या, पुलिस ने दो लोगों को हिरासत में लिया

भोजीपुरा थाना क्षेत्र के रामपुरा माफी गांव की प्रधान आयशा के पति साबिर खां की गला काटकर हत्या कर दी गई है।

16 जून 2019

विज्ञापन

मुजफ्फरपुर में बच्चों की मौत पर हो रही थी प्रेस कॉन्फ्रेंस, लेकिन सो रहे थे मंत्री जी

रविवार को केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री डॉक्टर हर्षवर्धन ने मुजफ्फरपुर के अस्पतालों का जायजा लिया। उन्होंनें दिमागी बुखार से पीड़ित बच्चों से मुलाकात भी की। इसके बाद केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री ने एक प्रेस कॉन्फ्रेंस भी की।

17 जून 2019

आज का मुद्दा
View more polls

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree
सबसे तेज अनुभव के लिए
अमर उजाला लाइट ऐप चुनें
Add to Home Screen
Election