आदेश के बाद भी दूसरे लेखपाल को नहीं दिया चार्ज

विज्ञापन
Updated Wed, 19 Jul 2017 11:06 PM IST

पढ़ें अमर उजाला ई-पेपर
कहीं भी, कभी भी।

ख़बर सुनें
सिकंदरपुर। तत्कालीन उपजिलाधिकारी अनिल कुमार चतुर्वेदी के आदेश के तीन माह बाद भी एक लेखपाल द्वारा गांवों का चार्ज दूसरे लेखपाल को नहीं दिए जाने का मामला सामने आया है। इसको लेकर ग्रामीणों में चर्चा जारों पर है। चर्चा है कि एसडीएम और तहसीलदार पर उक्त लेखपाल भारी पड़ रहा।
विज्ञापन

तहसील में तैनात लेखपाल को सपा सरकार में लगभग दो दर्जन गांवों का कार्यभार दे दिया गया था, जिसके कारण उन गांव में लेखपाल की तूती बोलती थी, लेकिन सत्ता बदलते ही लोगों ने लेखपाल के विरोध में आवाज उठाना शुरू कर दिया। इसके अलावा सूखा राहत समेत अन्य मामलों में गोलमाल की शिकायत ग्रामीणों ने उपजिलाधिकारी से की। जिस पर एसडीएम अनिल कुमार चतुर्वेदी के आदेश पर लेखपाल का कुछ गांव से प्रभार हटाकर दूसरे लेखपाल को दे दिया गया। लेकिन तीन माह बीत जाने के बाद भी लेखपाल द्वारा अब तक चार्ज नहीं दिया गया।

तहसीलदार मनोज पाठक के कहने के बावजूद भी जब लेखपाल द्वारा चार्ज नहीं दिया गया तो उनके द्वारा चार्ज परिवर्तन नहीं करने के आरोप में विभागीय कार्यवाही के लिए उप जिलाधिकारी को संस्तुति की गई। एक माह बीतने के बाद भी आज तक लेखपाल के खिलाफ कोई कार्रवाई नहीं की गई। नवागत उपजिलाधिकारी से भी आम लोगों ने उक्त लेखपाल की शिकायत की, लेकिन अब तक मामला ठंडे बस्ते में पड़ा है।

आपकी राय हमारे लिए महत्वपूर्ण है। खबरों को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।

खबर में दी गई जानकारी और सूचना से आप संतुष्ट हैं?
विज्ञापन
विज्ञापन
सबसे विश्वसनीय हिंदी न्यूज़ वेबसाइट अमर उजाला पर पढ़ें हर राज्य और शहर से जुड़ी क्राइम समाचार की
ब्रेकिंग अपडेट।
 
रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें अमर उजाला हिंदी न्यूज़ APP अपने मोबाइल पर।
Amar Ujala Android Hindi News APP Amar Ujala iOS Hindi News APP

Spotlight

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
Election
  • Downloads

Follow Us

X

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00
X