विज्ञापन

तराई का तापमान समय से पहले खोल सकता है नन्हे घड़ियालों की आंखें

Lucknow Bureau Updated Mon, 05 Jun 2017 06:31 PM IST
विज्ञापन
ख़बर सुनें
बढ़ा पारा समय से पहले खोल सकता है नन्हें घड़ियालों की आंखें
विज्ञापन
बहराइच। तराई का अधिक तापमान घड़ियालों की नई जिंदगी में समस्या बन रहा है। इस बार सामान्य से अधिक तापमान के कारण निर्धारित समय से सप्ताह भर पूर्व घड़ियालों के अंडे खुल सकते हैं। इसके लिए निगरानी टीम गठित की गई है। यह टीम कतर्नियाघाट संरक्षित वन क्षेत्र से होकर बहने वाली नेपाल की गेरुआ नदी में घड़ियालों के 27 घोसलों में अंडों की सुरक्षा में लगी है। वनाधिकारी व जलीय जीव विशेषज्ञ निरंतर घोसलों की निगरानी कर रहे हैं। 27 घोसलों से 1900 नए मेहमानों के कतर्निया में दस्तक देने की उम्मीद जताई जा रही है।
कतर्नियाघाट संरक्षित वन क्षेत्र से होकर बहने वाली नेपाल की गेरुआ नदी घड़ियालों के कुनबों को बढ़ाने में मददगार मानी जाती है। इस समय अनुमान के मुताबिक नदी में लगभग 300 वयस्क घड़ियाल मौजूद हैं। प्रति वर्ष मार्च के अंत में घड़ियाल नदी के टॉपू वाले स्थानों पर अंडे देकर उन्हें बालुओं में सहेज कर घोसला बना देते हैं। एक घोसले में 45 से 50 अंडे होते हैं। बालुओं में ढकने के बाद मादा घड़ियाल अंडों के प्रति निश्चिंत हो जाती है। 15 जून का समय अंडों से बच्चों के निकलने का होता है। लेकिन इस बार तराई का मौसम अधिक सख्त है। सूरज की तपिश से गेरुआ नदी के टॉपुओं पर भी सामान्य से ज्यादा गर्मी है। जिसके चलते समय से सप्ताह भर पूर्व अंडों से बच्चे निकलने की संभावना विशेषज्ञ जता रहे हैं। वन क्षेत्राधिकारी आरकेपी सिंह का कहना है कि चार वन रक्षकों की टीम गठित की गई है, जो मोटरबोट व नाव के सहारे गेरुआ नदी में टॉपुओं पर बने घड़ियालों के घोसलों पर नजर रख रही हैं। विश्व प्रकृति निधि भारत (डब्ल्यूडब्ल्यूएफ) के परियोजनाधिकारी दबीर हसन ने बताया कि अंडों की प्रतिदिन सुबह-शाम निगरानी हो रही है। बालू हटाकर अंडों की स्थिति जांची जा रही है। जैसे ही बच्चों के निकलने की शुरुआत होगी, उन्हें सुरक्षित नदी में छोड़ा जाएगा। डीएफओ ने बताया कि कतर्नियाघाट रेंज में भवानीपुर घाट और आंबा घाट में दो किलोमीटर के दायरे में टॉपुओं पर बालू में अंडे सुरक्षित हैं।

इंसेट
होना चाहिए 42 डिग्री तापमान
कतर्नियाघाट के रेंजर आरकेपी सिंह ने बताया कि अंडों से बच्चों के निकलने के लिए नदी क्षेत्र का तापमान 42 डिग्र्री होना चाहिए। इस बार तापमान कुछ इसी अंदाज में चढ़-उतर रहा है। ऐसे में गर्मी अधिक होने से आगामी सप्ताह में नन्हे मेहमान आंखें खोल सकते हैं।

इंसेट
नर घड़ियाल होंगे अधिक
प्रभागीय वनाधिकारी जीपी सिंह ने बताया कि अधिक गर्मी पड़ने पर अंडों से निकलने वाले बच्चों में नर अधिक होते हैं। सामान्य मौसम होने पर नर और मादा की संख्या लगभग बराबर होती है। डीएफओ ने बताया कि टॉपू पर निगरानी बढ़ा दी गई है।

Recommended

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
अमर उजाला की खबरों को फेसबुक पर पाने के लिए लाइक करें

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App और Amarujala Hindi News App अपने मोबाइल पे|
Get all crime news in Hindi. Stay updated with us for all breaking hindi news.

विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन

Most Read

Bahraich

प्रतिमा विसर्जन के दौरान विवाद

प्रतिमा विसर्जन के दौरान विवाद

21 अक्टूबर 2018

विज्ञापन
Bahraich

मौतें

18 अक्टूबर 2018

Related Videos

यूपी के बहराइच में 45 दिनों के अंदर 70 बच्चों की मौत

उत्तर प्रदेश में बेहतर स्वास्थ्य सुविधाएं देने के योगी सरकार के दावे बहराइच में फेल होते नजर आ रहे हैं। यहां 45 दिनों में 70 बच्चों की मौत रहस्यमयी बुखार की वजह से हो चुकी है।

21 सितंबर 2018

आज का मुद्दा
View more polls

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree