हत्यारोपी गिरफ्तार, सिर बरामद

ब्यूरो, अमर उजाला, आजमगढ़ Updated Sun, 12 Apr 2015 11:50 PM IST
Htyaropi arrested, head recovered
ख़बर सुनें
शहर कोतवाली क्षेत्र के बांधा बाईपास पर जिला पंचायत की बाउंड्री के पास हत्या कर फेंकी मिली युवक की सिर कटी लाश की शिनाख्त होने के 24 घंटे के भीतर पुलिस ने मामले की गुत्थी सुलझा दी। इस दौरान पुलिस टीम ने बद्दोपुर गांव निवासी अखिलेश और उसकी महिला मित्र दुलारी भारती को गिरफ्तार कर लिया।
हत्यारोपियों की निशानदेही पर पुलिस ने पुराने पुल हरबंशपुर से युवक का सिर और मोबाइल बरामद कर लिया। कोतवाली में प्रेसवार्ता का आयोजन कर एएसपी नगर विनोद ने मामले का खुलासा किया। इस दौरान उन्होंने खुलासा करने वाली पुलिस टीम को 15 हजार रुपये पुरस्कार देने की घोषणा की। पुलिस ने बरामद सिर को पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया।

एएसपी नगर के अनुसार, गिरफ्तार हत्यारोपी अखिलेश राम पुत्र रामनरेश शहर कोतवाली क्षेत्र के बद्दोपुर गांव का निवासी है। साथ ही मारा गया युवक योगेश कुमार का पड़ोसी है। घटना को अंजाम देने के लिए अखिलेश ने अपनी महिला मित्र दुलारी भारती पत्नी स्व. किसुन दयाल का सहारा लिया।

दुलारी सिधारी थाने के सुंदरपुर (राहुल प्रेक्षागृह के पीछे मौजूद) गांव की रहने वाली है। एएसपी ने बताया कि योगेश कुमार पुत्र स्व. मुन्नर राम का हत्यारोपी की छोटी बहन से संबंध था। इस बात की जानकारी होने पर अखिलेश ने अपनी बहन की शादी कर दी लेकिन योगेश कुमार शादी होने के बाद भी उसकी बहन का पीछा नहीं छोड़ रहा था। अखिलेश की बहन को योगेश ब्लैकमेल करने लगा था।

 इसकी जानकारी होने पर अखिलेश बहन की गृहस्थी बचाने के लिए अपनी महिला मित्र दुलारी भारती का सहयोग लिया। इस दौरान वह एक सिम कार्ड खरीदकर दुलारी को चार माह पूर्व दिया था। जिसके जरिए दुलारी योगेश कुमार से बात करने लगी थी। यही पर अखिलेश के बिछाए जाल में योगेश फंस गया।

योगेश दुलारी से मिलने के लिए आतुर था। इसी क्रम में तयशुदा समय और स्थान के हिसाब से दुलारी ने योगेश को 10 अप्रैल की रात बांधा बाईपास पर जिला पंचायत की बाउंड्रीवाल के पास बुलाया। यहां अखिलेश पहले से बांका लेकर छुपा था। जैसे ही योगेश वहां पहुंचा, दुलारी उसे लेकर नीचे उतर गई।

यहां पहले से छिपे अखिलेश ने योगेश पर प्रहार कर दिया। योगेश की मौत होने पर वह उसका सिर धड़ से अलग कर उसे बैग में रख लिया। इसके पीछे अखिलेश का मकसद था कि युवक के शव की शिनाख्त न हो लेकिन उसका ध्यान उसकी बाइक की तरफ नहीं गया। जिसमें युवक का ड्राइविंग लाइसेंस और अन्य सामान थे। एएसपी ने बताया कि शव की शिनाख्त होने पर पुलिस युवक के गायब मोबाइल की तलाश में जुटी। इस दौरान सीडीआर निकालने पर पुलिस को एक ऐसा नंबर मिला, जिस पर योगेश 3000 सेकेंड लगातार बात किया था।

उस नंबर को ट्रेस करने पर पुलिस दुलारी तक, फिर इसके बाद अखिलेश तक पहुंची। इस मामले में मृत युवक के परिवार के नन्हेलाल ने थाने में रिपोर्ट दर्ज कराई थी। इसमें अज्ञात बदमाशों को आरोपित किया गया था।

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App और Amarujala Hindi News APP अपने मोबाइल पे|
Get all India News in Hindi related to live update of politics, sports, entertainment, technology and education etc. Stay updated with us for all breaking news from India News and more news in Hindi.

Spotlight

Most Read

Lucknow

कैराना व नूरपुर उपचुनाव में भाजपा की मुश्किलें बढ़ाने आया एक और 'खिलाड़ी', सपा-रालोद का देगा साथ

कैराना और नूरपुर में हो रहे उपचुनाव में सपा-रालोद को भाजपा के खिलाफ एक और साथी मिल गया है। ऐसे में भाजपा की राह और मुश्किल हो सकती है।

23 मई 2018

Related Videos

VIDEO: इस एसपी विधायक ने ‘जिन्ना विवाद’ पर बीजेपी को दिया ये 'विवादित' नाम

समाजवादी पार्टी विधायक नफीस अहमद ने आजगमगढ़ में जिन्ना विवाद में कूदते हुए एक विवादित बयान दिया। उन्होंने कहा कि संघी लोग हमें देशभक्ति ना सिखाएं। बीएचयू में धरना हिंदू दे रहे थे।

5 मई 2018

आज का मुद्दा
View more polls

अमर उजाला ऐप चुनें

सबसे तेज अनुभव के लिए

क्लिक करें Add to Home Screen