हड़ताल से बिगड़े हालात, बाहर से मंगाए टैंकर

अमर उजाला ब्यूरो, इलाहाबाद Updated Fri, 03 Mar 2017 01:47 AM IST
Strike the disturbed situation, supplied by tanker out
इलाहाबाद - फोटो : अमर उजाला ब्यूरो, इलाहाबाद
टैंकर चालकों एवं परिचालकों के हड़ताल पर रहने से लगातार तीसरे दिन इंडियन ऑयल कारपोरेशन के सूबेदारगंज स्थित टर्मिनल से पेट्रोल-डीजल के टैंकर नहीं निकले। तीन दिन से पेट्रोल-डीजल की उठान न होने से इलाहाबाद के साथ आसपास के जिलों में आईओसी के दो दर्जन से ज्यादा पंपों में स्टाक खत्म हो गया। स्थिति भयावह न हो इसके लिए बृहस्पतिवार को लखनऊ, मुगलसराय और कानपुर से 15 टैंकर मंगाए गए। इस बीच डैमेज कंट्रोल के लिए आईओसी के जीएम ऑपरेशन वीके वर्मा भी इलाहाबाद पहुंच गए। उन्होंने आईओसी अफसरों एवं ट्रांसपोर्टरों के साथ बैठक भी की। उधर टैंकर चालकों ने एलान किया है कि अगर शुक्रवार की दोपहर तक आईओसी अफसरों ने उनसे बात न की तो वे दोपहर बाद भूख हड़ताल पर चले जाएंगे।

आईओसी के सूबेदारगंज टर्मिनल से हर रोज सौ से ज्यादा टैंकर इलाहाबाद, कौशाम्बी, प्रतापगढ़, सुल्तानपुर, चित्रकूट आदि जिलों के लिए जाते हैं। यहां से पड़ोसी देश नेपाल को भी फ्यूल भेजा जाता है। नेपाल से भी लगातार फ्यूल की डिमांड हो रही है। बता दें कि मंगलवार की सुबह से ही टैंकर चालक एवं परिचालक आईओसी अफसरों पर तेल चोरी का आरोप एवं कई अन्य मांगों को लेकर हड़ताल पर चले गए हैं। उनका आरोप है कि टर्मिनल से जो टैंकर निकलते हैं उसमें कई लीटर पेट्रोल-डीजल कम रहता है।

इसे लेकर पंप संचालक चालकों एवं परिचालकों पर तेल चोरी का आरोप लगा देते हैं। हड़ताल पर जाने से इलाहाबाद के  साथ आसपास के जिलों में आईओसी के कई पंपों में स्टॉक खत्म हो गया। इससे शहर के तमाम पंपों से लोगों को बैरंग लौटना पड़ा। इसमें मुख्य रूप से बालसन, रामबाग, बम्हरौली, शंकरगढ़, मामा भांजा तालाब, फाफामऊ, इरादतगंज स्थित पंप रहे। स्थिति भयावह होती देख आईओसी ने लखनऊ, कानपुर और मुगलसराय स्थित डिपो से पेट्रोल-डीजल से टैंकर मंगाए गए। बृहस्पतिवार को दिन भर में 15 टैंकर आए। इससे कुछ पेट्रोल पंपों पर पेट्रोल-डीजल की सप्लाई की गई।
धरने पर बैठे रहे टैंकर चालक एवं परिचालक

0 बुधवार को पुलिस द्वारा बल प्रयोग किए जाने की वजह से बृहस्पतिवार को टैंकर चालक एवं परिचालक आईओसी टर्मिनल गेट के पास धरने पर नहीं बैठ सक। वहां से थोड़ी दूर एक स्थान पर टैंकरों के पास चालक एवं परिचालकों ने धरना दिया। इस दौरान यूनियन नेता शंभू सिंह ने कहा कि अगर शुक्रवार दोपहर तक चीफ टर्मिनल मैनेजर एमके श्रीवास्तव या अन्य अफसरों ने वार्ता नहीं की तो टैंकर चालक एवं परिचालक दोपहर बाद से भूख हड़ताल पर चले जाएंगे। इस दौरान उमेश, लाल सिंह, गुड्डू, राहुल, सुनील, पुष्पेंद्र आदि मौजूद रहे। उधर बुधवार को पुलिस द्वारा खदेड़े जाने से महेश कुमार श्रीवास्तव नाम का चालक सड़क पर गिर गया था। उसके सिर में चोट लगी है। उसका एक निजी अस्पताल में इलाज चल रहा है।

0 तीन दिन से चल रही टैंकर चालकों एवं परिचालकों की हड़ताल के बाद बृहस्पतिवार को लखनऊ से आईओसी के जीएम ऑपरेशन वीके वर्मा सूबेदारगंज स्थित टर्मिनल पहुंच गए। यहां आईओसी अफसरों के साथ उन्होंने ट्रांसपोटर्रों एवं डीलरों से वार्ता की। इस दौरान टैंकर चालक एवं परिचालकों के हड़ताल पर जाने की वजह भी उन्होंने पूछी। यहां कम तेल नापने की बात बताई गई। कहा गया कि मशीन में भी गड़बड़ी हो सकती है। बैठक के दौरान ट्रांसपोर्टर विमल द्विवेदी की तबीयत बिगड़ गई। वहां से ट्रांसपोर्टर को लेकर उनके साथी निजी अस्पताल ले गए। बैठक बाद आईओसी के सीनियर डिवीजन रिटेल अफसर किशोर सोनक और चीफ टर्मिलन मैनेजर एमके श्रीवास्तव ने बताया कि ट्रांसपोटर्रों ने आश्वस्त किया है कि शुक्रवार की सुबह से हड़ताल खत्म हो जाएगी।

Spotlight

Most Read

Madhya Pradesh

14 साल के इस बच्चे ने कराई चार कैदियों की रिहाई, दान में दी प्राइज मनी

14 साल के आयुष किशोर ने चार कैदियों की रिहाई के लिए दान कर दी राष्ट्रपति से मिली प्राइज मनी।

22 जनवरी 2018

Related Videos

इलाहाबाद में चल रहे माघ मेले में लगी आग, कई टेंट जलकर हुए खाक

इलाहाबाद में चल रहे माघ मेले में रविवार दोपहर आग लगने से दहशत फैल गयी। माना जा रहा है कि आग दीये से लगी। फायर बिग्रेड की टीम ने किसी तरह आग पर काबू पाया। आग से कई टेंट जलकर खाक हो गए वहीं इस हादसे में कोई व्यक्ति हताहत नहीं हुआ।

22 जनवरी 2018

आज का मुद्दा
View more polls
  • Downloads

Follow Us

Read the latest and breaking Hindi news on amarujala.com. Get live Hindi news about India and the World from politics, sports, bollywood, business, cities, lifestyle, astrology, spirituality, jobs and much more. Register with amarujala.com to get all the latest Hindi news updates as they happen.

E-Paper