किशोरी का अपहरण कर बलात्कार

अमर उजाला ब्यूरो Updated Mon, 01 Dec 2014 11:23 PM IST
Rape kidnapped teenager
ख़बर सुनें
फूलपुर थाना क्षेत्र के एक गांव की रहने वाली किशोरी का उसके ही घर से रविवार रात अपहरण कर लिया गया। गांव के ही एक दबंग युवक  किशोरी के घर में घुसकर उसे उठा ले गया। उसने अपने घर पर किशोरी के साथ दो बार बलात्कार किया। सोमवार सुबह वह अपने घर के बाहर कुंडी लगाकर कहीं चला गया। किशोरी ने शोर मचाया तो पास ही रहने वाले युवक के रिश्तेदार आए और दरवाजा खोला।
किशोर ने आपबीती परिवार वालों को सुनाई तो वह फूलपुर थाने पहुंच गए और तहरीर दी। देर रात तक न तो रिपोर्ट दर्ज की गई थी, न ही किशोरी को मेडिकल के लिए भेज गया गया था।
17 वर्षीय किशोरी के पिता ने गांव की आबादी से कुछ दूरी पर घर बनवा रखा है। पहली मंजिल पर किशोरी अकेली सो रही थी। आरोप है कि गांव का ही युवक सीढ़ी लगाकर पहली मंजिल पर पहुंच गया। उसने किशोरी को अकेला पाकर मफलर से उसका मुंह बांध दिया। कहा कि चिल्लाने की कोशिश की तो वह उसे छत से फेंक देगा। इसके बाद किशोरी का हाथ-पांव रस्सी से बांधकर युवक उसे कंधे पर उठाकर सीढ़ी से उतरा और अपने घर ले गया।

घर पर भी उसने किशोरी को बांधकर रखा था। वह सोमवार को घर से जाने से पहले भी उसको धमकाकर गया था। किशोरी काफी देर तक तो चुप रही लेकिन जब यह पक्का हो गया कि युवक आसपास नहीं है तो उसने शोर मचाया। युवक के रिश्तेदार ही उसे खोलकर घर के पास तक ले गए। किशोरी को पुलिस ने पूरे दिन थाने पर ही बैठाए रखा था। आरोपी युवक गांव छोड़कर भाग गया है। एसओ फूलपुर रमेंद्र सिंह का कहना है कि वह फाफामऊ ड्यूटी पर गए थे। मामले की जानकारी मिली है। जांच करवाई जा रही है।

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App और Amarujala Hindi News App अपने मोबाइल पे|
Get all crime news in Hindi. Stay updated with us for all breaking hindi news.

Spotlight

Most Read

National

मंदिरों के शहर में विदेशी महिला से रेप, हिरासत में 6 आरोपी

तमिलनाडु में रूसी महिला से रेप, 6 लोग हिरासत में, एक ने बताई पूरी कहानी।

18 जुलाई 2018

Related Videos

किराया नहीं चुकाने पर कांग्रेस के सबसे पुराने दफ्तर का वजूद खतरे में, क्या करेंगे राहुल गांधी?

देश की सबसे पुरानी राजनीतिक पार्टी कांग्रेस के सबसे पुराने राजनीतिक दफ्तर का वजूद खतरे में हैं। इसकी वजह कुछ और नहीं बल्कि पिछले बयालीस सालों से दफ्तर का किराया नहीं देना है। वहीं अब दफ्तर बचाने के लिए पदाधिकारी और कार्यकर्ता चंदा जुटा रहे हैं।

20 जुलाई 2018

आज का मुद्दा
View more polls

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree

अमर उजाला ऐप चुनें

सबसे तेज अनुभव के लिए

क्लिक करें Add to Home Screen