प्रत्याशियों ने खुद बताए अपनी हार के कारण

कौशाम्बी ब्यूरो Updated Thu, 07 Dec 2017 10:21 PM IST
ख़बर सुनें
डिप्टी सीएम केशव मौर्या समेत माननीयों की फौज से सजे दोआबा में भाजपा प्रत्याशियों की निकाय चुनाव में दुर्गति से पार्टी में खलबली मच गई है। पराजय के कारणों की समीक्षा में जुटे संगठन ने माननीयों को निशाने पर ले लिया है। इसके लिए पार्टी ने प्रत्याशियों से खुद की हार के कारणों की पड़ताल करने का निर्देश दिया। खबर है कि उम्मीदवारों ने जिला इकाई के जरिए अपनी रिपोर्ट हाईकमान को भेज दी है।
उप मुख्यमंत्री केशव मौर्या के गृह जनपद कौशाम्बी में सांसद के साथ ही तीनों विधायक भाजपा के हैं। देश-प्रदेश में पार्टी की सरकार के अलावा माननीयों की फौज से भरे द्वाबा के भाजपाई निकाय चुनाव को लेकर काफी उत्साहित थे। मगर पहली दिसंबर को आए नतीजों ने पार्टी प्रत्याशियों के लचर प्रदर्शन के चलते सभी का उत्साह ठंडा पड़ गया। जिले की छह नगर पंचायतों में सिर्फ एक पर ही पार्टी को जैसे-तैसे सफलता मिल सकी। डिप्टी सीएम के गृहनगर सिराथू में चेयरमैनी तो दूर वार्ड की सभासदी तक भाजपा उम्मीदवार नहीं जीत सके। यहां इतने बड़े अंतर से पार्टी प्रत्याशी की हार हुई कि खुद चुनाव जीतने वाला हैरान हो गया।

मंझनपुर, अजुहा और चायल में भाजपा उम्मीदवार तीसरे पायदान पर खिसक गए। करारी, सिराथू में भले ही पार्टी प्रत्याशी दूसरे पायदान पर रहे हों। मगर मतों का अंतर अप्रत्याशित रहा। इसके अलावा निकायों के 70 वार्डों में से सिर्फ आठ वार्डों में ही भाजपा उम्मीदवार चुनाव जीत सके। बेहद लचर प्रदर्शन से पार्टी में खलबली मची है। हाईकमान ने इसके लिए प्रत्याशियों से उनकी हार के कारणों की रिपोर्ट तलब की है। खबर है कि जिला इकाई के जरिए हाईकमान को भेजी गई रिपोर्ट में उम्मीदवारों ने सारा ठीकरा माननीयों के सिर पर फोड़ दिया है। अब देखना है कि संगठन इस पर क्या कदम उठाता है।

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App और Amarujala Hindi News App अपने मोबाइल पे|
Get all crime news in Hindi. Stay updated with us for all breaking hindi news.

Spotlight

Most Read

National

मंदिरों के शहर में विदेशी महिला से रेप, हिरासत में 6 आरोपी

तमिलनाडु में रूसी महिला से रेप, 6 लोग हिरासत में, एक ने बताई पूरी कहानी।

18 जुलाई 2018

Related Videos

किराया नहीं चुकाने पर कांग्रेस के सबसे पुराने दफ्तर का वजूद खतरे में, क्या करेंगे राहुल गांधी?

देश की सबसे पुरानी राजनीतिक पार्टी कांग्रेस के सबसे पुराने राजनीतिक दफ्तर का वजूद खतरे में हैं। इसकी वजह कुछ और नहीं बल्कि पिछले बयालीस सालों से दफ्तर का किराया नहीं देना है। वहीं अब दफ्तर बचाने के लिए पदाधिकारी और कार्यकर्ता चंदा जुटा रहे हैं।

20 जुलाई 2018

आज का मुद्दा
View more polls

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree

अमर उजाला ऐप चुनें

सबसे तेज अनुभव के लिए

क्लिक करें Add to Home Screen