गोधरा और 84 के दंगों में कोई मेल नहीं : बादल

अमर उजाला, मलोट/मुक्तसर Updated Fri, 31 Jan 2014 07:57 AM IST
punjab, muktsar, cm, badal
मुख्यमंत्री प्रकाश सिंह बादल ने कहा कि 1984 में सिख दंगों व गुजरात में हुए गोधरा दंगों की तुलना करना पूरी तरह से गलत है। इन दोनों में जमीन आसमान का अंतर है।

वीरवार को यहां संगत दर्शन कार्यक्रम के दौरान पत्रकारों से बातचीत करते हुए मुख्यमंत्री ने कहा कि गुजरात के गोधरा में दुखद हिंसक दंगे हुए थे जबकि 1984 के सिख दंगे केंद्र सरकार के इशारे पर किए गए थे। दंगे हमेशा दो समुदायों में हुई हिंसा को कहते हैं जबकि 1984 में केंद्र सरकार के अपनी पूरी ताकत लगाकर सिखों को खत्म करने की साजिश रची थी।

मुख्यमंत्री ने कहा कि 1984 के दंगों के बाद हुई विभिन्न जांचों ने भी कांग्रेसी नेताओं को दिल्ली और देश के अन्य हिस्सों में हुए कत्लेआम का दोषी ठहराया था। सबूतों के बावजूद सभी दोषी आजाद घूम रहे हैं। कांग्रेस पार्टी उनके खिलाफ कोई भी कदम उठाने के बजाय उन्हें उच्चपदों से सम्मानित कर रही है।

एक सवाल के जवाब में मुख्यमंत्री ने फिलिपींस जैसे देश में पंजाबी नौजवानों की हो रही हत्याओं पर चिंता प्रगट करते हुए कहा कि केंद्र सरकार को विदेशों में बसते पंजाबी नौजवानों की जानमाल की सुरक्षा के जरूरी कदम उठाने चाहिएं। केंद्र सरकार की जिम्मेवारी है कि वह विश्व भर में बसते देशवासियों की सुरक्षा के उचित कदम उठाए।

इससे पहले संगत दर्शन के दौरान विभिन्न वार्डों में संगत दर्शन कार्यक्रमों को संबोधित करते हुए मुख्यमंत्री ने स्पष्ट किया कि उनकी पहल प्रदेशवासियों का बेहतर जीवन बनाना है। बादल ने कहा कि उनकी केंद्रीय राजनीति में जाने की कोई इच्छा नहीं है और वे भविष्य में भी प्रदेश व प्रदेशवासियों की सेवा करते रहेंगे। मुख्यमंत्री ने कहा कि वे राज्य के लोगों की सेवा करके बहुत संतुष्ट हैं।

मुख्यमंत्री ने कहा कि राज्य सरकार मलोट की सीवरेज समस्या के समाधान के लिए योजना तैयार कर रही है। उन्होंने उच्चाधिकारियों की एक टीम इस समस्या के समाधान के लिए लगा दी है, जो शहर का सर्वेक्षण करके इसका हल निकालेगी। मुख्यमंत्री ने कहा कि शहर का सब डिवीजनल राजकीय अस्पताल शीघ्र ही नवीनतम तकनीकों से लैस किया जाएगा ताकि 24 घंटे उच्च स्तरीय चिकित्सा सुविधा मिल सके।

अस्पताल में बढ़िया डाक्टर नियुक्त किए जाएंगे। ब्लड बैंक भी बनाएंगे। मुख्यमंत्री ने कहा कि उनकी पत्नी स्वर्गीय सुरिंदर कौर का इस शहर से खास लगाव था। उनकी इच्छा अनुसार मलोट को एक माडल शहर के तौर पर विकसित करने के लिए वे वचनबद्ध हैं।

इस मौके पर सांसद शेर सिंह घुबाया, विधायक हरप्रीत सिंह, चेयरमैन पंजाब एग्रो फूड ग्रेन कार्पोरेशन जत्थेदार दियाल सिंह कोलियावाली, उपायुक्त परमजीत सिंह, स. बसंत सिंह कंग चेयरमैन, प्रधान राम सिंह आरेवाला, दिनेश गर्ग जिला प्रधान, प्रवीन जैन, बिल्लू शर्मा, राकेश धींगडा जिला प्रधान भाजपा, मनोहर लाल नागपाल, संजीव नागपाल, अजय गुप्ता आदि उपस्थित थे।

Spotlight

Most Read

Jharkhand

चारा घोटाले में लालू की नई मुसीबत, चाईबासा कोषागार मामले में आज आएगा फैसला

चारा घोटाला मामले में रांची की स्पेशल सीबीआई कोर्ट बुधवार को सुनवाई करेगी। स्पेशल कोर्ट जज एस एस प्रसाद इस मामले में फैसला देंगे।

24 जनवरी 2018

Related Videos

सरकारी बेरुखी ने बनाया इस गोल्ड मेडेलिस्ट को मजदूर

स्पेशल ओलिंपिक्स वर्ल्ड समर गेम्स-2015 में 2 स्वर्ण पदक विजेता 17 साल के चैंपियन साइक्लिस्ट राजबीर सिंह आजकल बदहाली में जी रहे हैं। राजबीर की ये बदहाली सरकार के खेलों को बढ़ावा देने के दावों की कलई खोल रही है।

27 दिसंबर 2017

आज का मुद्दा
View more polls
  • Downloads

Follow Us

Read the latest and breaking Hindi news on amarujala.com. Get live Hindi news about India and the World from politics, sports, bollywood, business, cities, lifestyle, astrology, spirituality, jobs and much more. Register with amarujala.com to get all the latest Hindi news updates as they happen.

E-Paper