लोकप्रिय और ट्रेंडिंग टॉपिक्स

विज्ञापन
Hindi News ›   Jammu and Kashmir ›   Jammu News ›   Jammu Kashmir: Army rescues pregnant woman in Kupwara, walks five km in snow and sends her to hospital

जम्मू-कश्मीर: कुपवाड़ा में सेना ने गर्भवती को किया रेस्क्यू, बर्फ में पांच किमी पैदल चलकर पहुंचाया अस्पताल

अमर उजाला नेटवर्क, श्रीनगर Published by: विमल शर्मा Updated Mon, 06 Feb 2023 06:13 PM IST
सार

सेना को सोमवार सुबह बर्फ से ढके बड़ाखेत से आपात सूचना मिली। लोगों ने बताया कि गर्भवती को उपचार की तुरंत आवश्यकता है। इलाके में वाहनों की आवाजाही बंद होने के कारण ग्रामीणों ने सेना से मदद मांगी।

Jammu Kashmir: Army rescues pregnant woman in Kupwara, walks five km in snow and sends her to hospital
कुपवाड़ा में गर्भवती को रेस्क्यू करते सेना के जवान - फोटो : पीआरओ

विस्तार

कश्मीर में सेना ने कालारूस में बर्फ से ढके बड़ाखेत गांव से गर्भवती को रेस्क्यू कर उपचार दिलवाया। जवानों ने पांच किलोमीटर बर्फ में पैदल चलकर महिला को स्ट्रेचर पर लेटाकर उपचार करवाया। प्रसव के बाद दोनों स्वस्थ हैं।



सेना को सोमवार सुबह बर्फ से ढके बड़ाखेत से आपात सूचना मिली। लोगों ने बताया कि गर्भवती को उपचार की तुरंत आवश्यकता है। इलाके में वाहनों की आवाजाही बंद होने के कारण ग्रामीणों ने सेना से मदद मांगी।


बर्फ के चलते फिसलन होने से कोई निजी वाहन या सेना का वाहन घर तक नहीं पहुंच सकता था। स्थिति की गंभीरता को देखते हुए सेना के जवानों और चिकित्सा कर्मियों ने रेस्क्यू चलाया।

जवानों ने महिला को स्ट्रेचर पर पांच किलोमीटर पैदल चलकर उपचार दिलाया। इस अभियान के दौरान लगातार बर्फबारी होती रही। चिकित्सा दल ने सूमो ब्रिज के पास एंबुलेंस तैयार रखी थी। परिवार ने सेना का इस ऑपरेशन के लिए आभार जताया। 

विज्ञापन
विज्ञापन

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App और Amarujala Hindi News APP अपने मोबाइल पे|
Get all India News in Hindi related to live update of politics, sports, entertainment, technology and education etc. Stay updated with us for all breaking news from India News and more news in Hindi.

विज्ञापन
विज्ञापन

एड फ्री अनुभव के लिए अमर उजाला प्रीमियम सब्सक्राइब करें

फॉन्ट साइज चुनने की सुविधा केवल
एप पर उपलब्ध है

बेहतर अनुभव के लिए
4.3
ब्राउज़र में ही
एप में पढ़ें

क्षमा करें यह सर्विस उपलब्ध नहीं है कृपया किसी और माध्यम से लॉगिन करने की कोशिश करें

Followed