कश्मीर साइबर हमलाः हैक हुआ कुछ डेटा रिकवर, उपभोक्ताओं के विवरण समेत अन्य जानकारियां नहीं मिलीं

न्यूज डेस्क, अमर उजाला, जम्मू Updated Mon, 29 Jun 2020 06:58 PM IST
विज्ञापन
सांकेतिक तस्वीर
सांकेतिक तस्वीर

पढ़ें अमर उजाला ई-पेपर
कहीं भी, कभी भी।

*Yearly subscription for just ₹249 + Free Coupon worth ₹200

ख़बर सुनें
कश्मीर में पीडीडी के डेटा बेस सेंटर पर साइबर हमले के बाद छठे दिन (सोमवार) को फिर से डेटा बेस सेंटर के मुख्य सर्वर को चलाया गया। इसी सर्वर से ही पता चल सकेगा कि कितना डेटा हैक किया गया है। पांचवें दिन रविवार को बैकअप से कुछ डेटा रिकवर किया गया है। इसे मुख्य सर्वर में अपलोड किया गया है।
विज्ञापन

यह भी पढ़ेंः त्राल के बाद डोडा हुआ आतंक मुक्त, जानिए 1999 से 2019 तक जम्मू-कश्मीर में कब-कब हुए आतंकी हमले
इंजीनियर्स की टीम ने दावा किया है कि बैकअप डेटा को अपलोड करने का काम सफल रहा है। अब मेन सर्वर को शुरू करने के बाद ही पता चल सकेगा कि डेटा फिर से मिलता है या फिर नहीं। अगर डेटा हैक होगा तो इस पर फिर से नए सिरे से अपलोड करने पर काम शुरू होगा। 
सॉफ्टवेयर हैक होने से उपभोक्ताओं, काल सेंटरों, बिजली प्रोजेक्टों से संबंधित तमाम जानकारी नहीं मिल पा रही है।  एमनेस्टी स्कीम समेत बिजली बिलों की अदायगी नहीं हो पा रही। अधिशासी अभियंता नील कमल ने बताया कि डाटा रिकवर करने का काम रविवार को भी चला। 

सोमवार को फिर से सर्वर को ऑन किया जाएगा। इसके बाद ही पता चल सकेगा कि बैकअप डाटा अपलोड होता है या नहीं। बता दें, बुधवार सुबह 4 बजे के आसपास साइबर हमला हुआ और जल्द ही साइबर पुलिस मौके पर पहुंच गई। साइबर पुलिस ने इस संबंध में एफआईआर दर्ज की है और तथ्यों की जांच कर रही है।
विज्ञापन
विज्ञापन
सबसे विश्वसनीय हिंदी न्यूज़ वेबसाइट अमर उजाला पर पढ़ें हर राज्य और शहर से जुड़ी क्राइम समाचार की
ब्रेकिंग अपडेट।
 
रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें अमर उजाला हिंदी न्यूज़ APP अपने मोबाइल पर।
Amar Ujala Android Hindi News APP Amar Ujala iOS Hindi News APP
विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
Election
  • Downloads

Follow Us