विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
नवरात्र में कराएं कामाख्या बगलामुखी कवच का पाठ व हवन, पाएं कर्ज मुक्ति एवं शत्रुओं से छुटकारा
Astrology Services

नवरात्र में कराएं कामाख्या बगलामुखी कवच का पाठ व हवन, पाएं कर्ज मुक्ति एवं शत्रुओं से छुटकारा

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

जम्मू और कश्मीर

रविवार, 29 मार्च 2020

Coronavirus Jammu Kashmir: जम्मू संभाग का ये इलाका घोषित किया गया रेड जोन, यहां मिले थे तीन संक्रमित

लॉकडाउन के दौरान आदेशों की अवहेलना कर मस्जिद में नमाज अदा करने गए जम्मू संभाग के रियासी जिले में मौलवी पर पुलिस ने कार्रवाई की है। डीएसपी वसीम महमूद ने कहा कि 144 का उल्लंघन करने वालों के खिलाफ कार्रवाई की जाएगी।
 
शुक्रवार को पुलिस को सूचना मिली कि नवाबाद स्थित मस्जिद में नमाज अदा की गई। इसके बाद मौके पर पहुंची पुलिस ने मौलवी मोहम्मद जफर के खिलाफ केस दर्ज किया। इसके साथ ही नगर के वार्ड पांच में दुकान खोलकर सामान बेच रहे दुकानदार रमेश कुमार के खिलाफ भी केस दर्ज किया गया।

उधर, लॉकडाउन के बीच विभिन्न राज्यों से जम्मू कश्मीर लौटने वाले लोगों की संख्या रोजाना एक हजार से भी अधिक है। इनमें से कई लोग विभिन्न प्रदेशों में इलाज करवाकर लौट रहे हैं तो कई छात्र, मजदूर और कर्मचारी भी शामिल हैं।
... और पढ़ें

लखनपुर से कश्मीर तक झमाझम बारिश, मकान गिरने से महिला की मौत, जम्मू-श्रीनगर हाईवे बंद

जम्मू-कश्मीर में भूकंप के हल्के झटके, तीव्रता 3.0 और हिमाचल प्रदेश का धर्मशाला क्षेत्र रहा केंद्र

प्रदेश के कई हिस्सों में भूकंप के हल्के झटके महसूस किए गए। शुक्रवार की शाम 5.45 मिनट पर 3.0 तीव्रता वाले इन झटकों का ज्यादा अहसास नहीं हुआ। इन झटकों को हिमाचल के चंबा, डलहौजी और इससे सटे जम्मू कश्मीर के माश्का, शीतलनगर, बसोहली समेत बनी में भी महसूस किया गया है।

मौसम विज्ञान केंद्र श्रीनगर के अनुसार भूकंप का केंद्र हिमाचल प्रदेश का धर्मशाला क्षेत्र था और यह जमीन के 10 किलोमीटर नीचे था। जम्मू कश्मीर में पिछले कुछ समय लगातार भूकंप के झटके आ रहे हैं।

कठुआ जिले के बनी और आस पास के इलाकों में शुक्रवार शाम सवा पांच बजे के करीब भूकंप के झटके महसूस किए गए। कोरोना वायरस के चलते लॉकडाउन और बारिश के कारण घरों में दुबके लोग इस बीच बाहर निकल आए।
... और पढ़ें

कोरोना वायरस के जम्मू-कश्मीर में पांच नये मामले, संख्या पहुंची 38, अबतक दो की मौत

कश्मीर में आज यानी कि रविवार को कोरोना वायरस से संक्रमित पांच और मरीज पाए गए हैं। इनमें दो श्रीनगर से, दो बड़गाम से और एक मामला बारामुला का है। इन नए मरीजों के साथ ही अब केंद्र शासित प्रदेश में कुल मरीजों की संख्या 38 हो गई है।

इससे पहले आज ही जम्मू कश्मीर में कोरोना वायरस के कारण मौत का दूसरा मामला सामने आया। रविवार सुबह कश्मीर के एक अस्पताल में कोरोना वायरस से संक्रमित मरीज की मौत हो गई। बताया गया कि 62 वर्षीय मृतक उत्तरी कश्मीर के बारामुला जिले के तंगमार्ग इलाके का रहने वाला था।
 
 
एक वरिष्ठ सरकारी अधिकारी ने इसकी जानकारी देते हुए बताया कि मरीज की मृत्यु रविवार सुबह करीब 4:00 बजे हुई। मृतक पहले से ही लिवर की बीमारी से ग्रसित था और शनिवार को ही उसके संक्रमित होने का पता चला था। चिकित्सक ने बताया कि शनिवार को उसे वेंटिलेटर पर रखा गया था।
... और पढ़ें
जम्मू-कश्मीर में लॉकडाउन जम्मू-कश्मीर में लॉकडाउन

जानिए कोरोना परीक्षण की जरूरत कब और कैसे, घर से न निकलें, आप सुरक्षित तो सभी सुरक्षित

जम्मू कश्मीर में कोरोना वायरस फैल रहा है। ऐसे में अगर आप किसी संक्रमित व्यक्ति से बीते चौदह दिन में मिले हों तो आपके मन में भी चिंता पनप रही होगी कि कहीं मैं भी तो... मगर आपको चिंतित होने की जरूरत नहीं हैं। आपको बस सावधानी बरतनी है। अमर उजाला आपकी इसमें मदद कर रहा है। आपको अपने घर में ही रहना है। अगर आप घर में रहकर स्वयं सुरक्षित रहेंगे तो सभी सुरक्षित रहेंगे।

कोरोना तब तक आपके पास नहीं आएगा, जब तक आप उसे स्वयं लेने बाहर नहीं जाते हो। आपकी मदद के लिए सरकार से लेकर कई स्वयंसेवी संस्थाएं जुटी हुई हैं। ऐसे में आपका भी दायित्व बनता है कि बिना किसी कारण के घर से बाहर न निकलें। इससे आप कोरोना के प्रसार को रोकने में अहम भूमिका निभा सकते हैं। आइए जानते हैं आपको क्या करना है और क्या नहीं करना है।

कोरोना परीक्षण की जरूरत : कब और कैसे

कोरोना संक्रमण के परीक्षण की सभी लोगों को जरूरत नहीं है। यह सिर्फ उन्हीं लोगों के लिए जरूरी है, जो बीते 14 दिन के भीतर कोरोना प्रभावित देश अथवा क्षेत्र की यात्रा करके आए हों या फिर किसी संक्रमित व्यक्ति के संपर्क में आए हों तो ही जांच जरूरी है। इसके लिए आपको अस्पताल में जाना होगा।
... और पढ़ें

मदद करने के सरकारी दावे कुछ...हकीकत कुछ और ही, लोगों को मिल रही है मायूसी

सरकार एक तरफ राशन कार्ड धारकों को अगले दो महीने अप्रैल और मई का राशन उपलब्ध कराने की बात कर रही है। वहीं जमीनी स्थिति इससे बिल्कुल विपरीत है। राशन कार्ड धारकों को लॉकडाउन के दौरान अगले दो महीनों का राशन एडवांस में मिलना तो दूर वर्तमान माह का पूरा कोटा भी उपलब्ध नहीं कराया गया है।

राशन डीलर्स एसोसिएशन जम्मू के अध्यक्ष प्रभु दयाल शर्मा ने दावा किया है कि विभागीय अधिकारियों में समन्वय की कमी से अभी तक राशन डीलरों को कार्ड धारकों को बांटने के लिए अगले दो महीने का एडवांस राशन तो दूर मार्च महीने का भी पूरा कोटा उपलब्ध नहीं कराया गया है।

शर्मा के अनुसार प्रशासन की तरफ से आए दिन घोषणा की जा रही है कि राशन कार्ड धारकों को अगले दो महीने का राशन भी जारी कर दिया गया है। यह बात सही नहीं है। राशन कार्ड धारक सरकारी घोषणाओं को सुनकर राशन डीलरों के पास पहुंच रहे हैं और राशन न पाकर मायूस होकर लौट रहे हैं। लेकिन इसमें डीलरों का कोई कसूर नहीं है।
 
... और पढ़ें

जम्मू-कश्मीरः क्वारंटीन केंद्र से आईपीएस निकाल ले गए नौ लोग, हड़कंप 

सांबा जिले के विजयपुर स्थित राधा स्वामी सत्संग व्यास में बने क्वारंटीन केंद्र से आईजी स्तर के एक पुलिस अफसर की ओर से नौ लोगों को निकाल ले जाने का मामला सामने आया है। 

सूत्रों का कहना है कि आईजी स्तर के इस अफसर ने नौ लोगों को निकाल लिया तथा अपने साथ ले गए। इसकी जब जानकारी हुई तो हड़कंप मच गया। बाद में सभी को वापस क्वारंटीन केंद्र में लाया गया। सूत्रों ने बताया कि इस मामले को गृह मंत्रालय ने गंभीरता से लिया है। साथ ही इस मामले की प्रदेश सरकार से रिपोर्ट तलब की है। 

सूत्रों ने बताया कि पुलिस अफसर अपने स्कावायड के साथ वहां पहुंचे। उन्होंने अपने परिचित नौ लोगों को गाड़ी में बिठाया और जाने लगे। इस पर वहां तैनात सरकारी मुलाजिमों ने ऐसा करने से मना किया। फिर भी उन्होंने एक न सुनीं। 

उनके जाने के बाद मुलाजिमों ने इसकी जानकारी अपने उच्चाधिकारियों को दी तो हड़कंप मच गया। बताते हैं कि आईजी जम्मू जोन ने भी जाकर मामले की जानकारी हासिल की। इसके बाद विजयपुर एसएचओ को क्वारंटीन हुए लोगों को वापस लाने को कहा गया। काफी मशक्कत के बाद इन्हें दोबारा क्वारंटीन केंद्र लाया गया। शनिवार को इस बात की पूरे महकमे में चर्चा रही। 

लोगों का कहना था कि एक आईपीएस होकर हजारों लोगों की जिंदगी से खिलवाड़ किया जाना उचित नहीं है। एसएचओ अर्जुन सिंह चिब ने बताया कि तीन होटलों में क्वारंटीन केंद्र बनाया गया है जहां उन्हें ले जाया गया था। बाद में राधा स्वामी सत्संग व्यास केंद्र पहुंचा दिया गया।
... और पढ़ें

Coronavirus Jammu Kashmir: श्रीनगर में मिले 13 नए कोरोना पॉजिटिव मरीज, 33 हुई संक्रमितों की संख्या

demo pic
प्रदेश में कोरोना वायरस से संक्रमित मरीजों के मिलने का सिलसिला जारी है। आज यानी कि शनिवार को श्रीनगर में 13 नए कोरोना पॉजिटिव मरीज मिले हैं। इसी के साथ क्रेंद्र शासित प्रदेश में कुल संक्रमितों की संख्या 33 हो गई है। इससे पहले शुक्रवार को श्रीनगर में चार और राजोरी में दो नए पॉजिटिव मामले सामने आए थे।



राजोरी में मिले दो पॉजिटिव में एक श्रीनगर में कोरोना से मरने वाले बुजुर्ग मौलवी, जबकि दूसरा गुरुवार को पॉजिटिव पाए गए सेवानिवृत्त आयुर्वेदिक चिकित्सक के संपर्क में था। लद्दाख में अब तक 13 लोग पॉजिटिव हुए हैं। राजोरी के मंजाकोट में सेवानिवृत्त आयुर्वेदिक डॉक्टर को एक दिन पहले पॉजिटिव पाए जाने के बाद शुक्रवार को यहां कर्फ्यू लगा दिया गया। इस डॉक्टर के संपर्क में आए पांच परिजनों समेत 29 लोगों को फिलहाल एकांतवास में रखा गया है।

कोरोना से श्रीनगर के हैदरपोरा निवासी जिस मरीज की मौत गुरुवार को हुई थी, उसके संपर्क में आने वाले सोपोर के दो डॉक्टरों के जांच नमूने निगेटिव आने से राहत मिली है। कोरोना वायरस से निपटने में डॉक्टरों की कमी न हो इसके लिए एनएचएम के माध्यम से एमबीबीएस डॉक्टरों से आवेदन मांगे गए हैं। भर्ती संबंधी जानकारी एनएचएम की वेबसाइट पर दी गई है। इसमें आवेदनकर्ताओं को आवेदन से पहले फोन करने को कहा गया है, ताकि भर्ती प्रक्रिया में सामाजिक दूरी का पालन किया जाए।
... और पढ़ें

देश के लिए बड़ी खबर, कोरोना को मात देगा कश्मीर में बना प्रोटोटाइप

कोरोना को मात देने के लिए जम्मू-कश्मीर पुलिस ने संभाला मोर्चा, उपराज्यपाल ने दिए ये निर्देश

कोरोना वायरस को फैलने से रोकने के लिए और संकट में पड़े लोगों की मदद के लिए जम्मू पुलिस ने व्यापक राहत अभियान शुरू किया है। एसएसपी जम्मू, श्रीधर पाटिल के निर्देश पर उन लोगों की पहचान करने के लिए कई टीमों का गठन किया गया है, जिन्हें भोजन, कपड़े और अन्य आवश्यक वस्तुओं की आवश्यकता है।

पुलिस ने जम्मू में कई स्थानों का दौरा किया और जरूरतमंद लोगों के बीच राशन और अन्य आवश्यक वस्तुओं का वितरण किया। जम्मू पुलिस ने कोरोना वायरस से बचाव और सोशल डिस्टेंसिंग के बारे में लोगों को जागरूक करने के लिए बड़े पैमाने पर सामाजिक जागरूकता अभियान शुरू किया है। वहीं लॉकडाउन के आदेशों का उल्लंघन करने वालों के खिलाफ लगातार कार्रवाई की जा रही है।

उधर, उपराज्यपाल गिरीश चंद्र मुर्मू ने कोविड-19 से बचाव के लिए एकांतवास केंद्रों की सुविधाओं के साथ-साथ अस्पतालों में बेड की संख्या दोगुनी करने को कहा है। साथ ही कोराना का प्रसार रोकने के लिए संदिग्धों के संपर्क में आने वालों को चिह्नित करने के निर्देश दिए हैं।

उपराज्यपाल ने शनिवार को राजभवन में हुई उच्चस्तरीय बैठक में कहा कि आवश्यक वस्तुओं की होम डिलीवरी उन इलाकों में सुनिश्चित की जाए, जहां इसकी किल्लत हो। इसके साथ ही झुग्गी-झोपड़ी और श्रमिकों की बस्तियां भी चिह्नित की जाएं, ताकि वहां जरूरत का सामान पहुंचाया जा सके।
... और पढ़ें

तस्वीरेंः घाटी में घर-घर हो रहा दवा का छिड़काव, कोरोना से जंग में जुटे हैं 'जवान और धरती के भगवान'

अपने शहर की सभी खबर पढ़ने के लिए amarujala.com पर जाएं

Disclaimer


हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर और व्यक्तिगत अनुभव प्रदान कर सकें और लक्षित विज्ञापन पेश कर सकें। अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।
Agree
Election
  • Downloads

Follow Us

विज्ञापन