विज्ञापन
विज्ञापन
मौनी अमावस्या पर गया में कराएं तर्पण, हर तरह के ऋण से मिलेगी मुक्ति : 24 जनवरी 2020
Astrology Services

मौनी अमावस्या पर गया में कराएं तर्पण, हर तरह के ऋण से मिलेगी मुक्ति : 24 जनवरी 2020

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

एनआईए ने संभाली दविंदर सिंह केस की जांच, पूछताछ के लिए लाया जाएगा दिल्ली

हिजबुल कमांडर नवीद बाबू के साथ गिरफ्तार डीएसपी दविंदर सिंह के मामले को राष्ट्रीय जांच एजेंसी (एनआईए) ने संभाल ली है।

18 जनवरी 2020

विज्ञापन
विज्ञापन

उधमपुर

शनिवार, 18 जनवरी 2020

राजमार्ग खुला लेकिन ट्रक चालक अभी भी फंसे

उधमपुर/रामबन। रामबन के विभिन्न हिस्सों में पस्सियां गिरने और जवाहर टनल बाहर बर्फबारी के बाद बंद हुए राजमार्ग को शुक्रवार सुबह खोलने में कामयाबी मिली। राजमार्ग खुलने पर सबसे पहले रामबन के विभिन्न हिस्सों में फंसे वाहनों को जम्मू की तरफ रवाना किया गया। उधमपुर से केवल छोटे यात्री वाहनों को ही घाटी की तरफ जाने की अनुमति दी गई। ट्रकों को आगे जाने की अनुमति न मिलने पर चालक व सह चालक बहुत ज्यादा परेशान हैं।
गौरतलब है कि सोमवार को मौसम खराब होने के बाद रामबन के विभिन्न हिस्सों में पस्सियां गिरने और जवाहर टनल के बाहर बर्फबारी शुरू होने पर राजमार्ग बंद हो गया था। इसके बाद लगातार चार दिन तक राजमार्ग बंद रहा। वीरवार को चौथे दिन डिगडोल में लिंक मार्ग तैयार कर बीच में फंसे छोटे वाहनों को निकाला गया, लेकिन बड़े वाहनों के लिए राजमार्ग को शुक्रवार को खोलने में कामयाबी मिली। सुबह के समय राजमार्ग खुलने पर सबसे पहले रामबन के विभिन्न हिस्सों में फंसे वाहनों को जम्मू की तरफ रवाना किया। आगे जाने की अनुमति मिलने पर वाहनों के चालकों व यात्रियों ने राहत की सांस ली। वहीं उधमपुर में चार दिन से रोके गए वाहनों को सुबह के समय घाटी की तरफ नहीं जाने दिया गया। दोपहर के समय छोटे यात्री वाहनों को ही आगे जाने की अनुमति मिली। वहीं ट्रकों के चालक व सहचालक पांचवें दिन भी राजमार्ग के खुलने का इंतजार करते रहे, लेकिन किसी को भी पुलिस ने आगे नहीं जाने दिया।
ट्रक चालक बोले-हमेशा हमें ही रोका जाता है
राजमार्ग खुलने के बावजूद आगे जाने की अनुमति न मिलने पर ट्रकों के चालक व सहचालक बहुत ज्यादा परेशान हुए। ट्रकों के चालकों ने कहा जब भी राजमार्ग खुलता है तो उनको जाने की अनुमति नहीं दी जाती है। हर बार ट्रकों को ही रोक कर यातायात में सुधार किया जाता है। उनके ट्रकों में रखा सामान खराब होने लगा है। इस तरफ कोई भी ध्यान नहीं दे रहा है। उम्मीद है कि शनिवार को उनको आगे जाने की अनुमति मिल जाए।
... और पढ़ें

मुर्गों से भरा वाहन पलटा, चालक बाल-बाल बचा

उधमपुर। सैला तालाब के नजदीक लिंक रोड पर शुक्रवार सुबह मुर्गों की सप्लाई लेकर जा रही बोलेरो सड़क से नीचे खाई की तरफ पलट गई। वाहन के पलटने पर कई मुर्गे मर गए लेकिन वाहन चालक सुरक्षित बाहर निकल गया। जब वाहन को खाई से निकालने लगे तो क्रेन के बीच मार्ग में खड़े होने के कारण एक घंटे तक जाम की स्थिति भी बनी रही।
जानकारी अनुसार सुबह करीब सात बजे बोलेरो नंबर जेके21डी-3935 जैसे ही लिंक रोड पर चुंगी के नजदीक पहुंची तो अचानक चालक वाहन से नियंत्रण खो बैठा और खाई में गिर गया। वाहन के पलटने पर चालक तो जख्मी नहीं हुआ, लेकिन अंदर रखे कई मुर्गों की मौके पर ही मौत हो गई। वाहन चालक ने इसकी सूचना वाहन के मालिक को दी। इसके बाद सुबह करीब साढ़े दस बजे क्रेन लाकर वाहन को निकालने का काम शुरू किया गया। क्रेन के बीच मार्ग में खड़े होने के कारण मार्ग पूरी तरह से बंद हो गया। इसके बाद देखते ही देखते दोनों तरफ वाहनों की लंबी कतार लग गई। क्रेन की मदद से वाहन को बाहर निकालने में एक घंटे से भी अधिक समय लग गया। जब तक क्रेन काम करती रही, तब तक वाहनों की आवाजाही बुरी तरह से प्रभावित रही। इसके कारण शहरवासियों को काफी परेशानियों का सामना करना पड़ा।
... और पढ़ें

पशुओं को किश्तवाड़ से बाहर ले जाने पर पाबंदी

किश्तवाड़। जिला मजिस्ट्रेट अंगरेज सिंह राणा ने शुक्रवार को जिले से पशुओं के परिवहन पर प्रतिबंध लगा दिया है। डीएम द्वारा इस संबंध में जारी आदेश में कहा गया है कि जिला मजिस्ट्रेट/अतिरिक्त जिला मजिस्ट्रेट किश्तवाड़ की पूर्व अनुमति के अलावा किसी भी जानवर जैसे कि गाय, बैल, बछड़ा, भैंस आदि को किश्तवाड़ से अन्य जिलों में नहीं भेजा जाएगा। आदेश तत्काल प्रभाव से लागू होगा और इसके जारी होने की तारीख से दो महीने की अवधि के लिए या जो भी पहले हो, जब तक इसे रद्द नहीं किया जाता है, तब तक लागू रहेगा। इसके साथ ही जिला मजिस्ट्रेट ने जुंडिल और शालीमार नाला किश्तवाड़ में और उसके आसपास पत्थरों की निकासी पर भी पूर्ण प्रतिबंध लगा दिया है। इससे संबधित आदेश में कहा गया है कि धारा 144 सीआरपीसी के तहत उन्हें दी गई शक्तियों के प्रयोग में जुंडिल और शालीमार नाला किश्तवाड़ और उसके आसपास पत्थरों के अवैध खनन पर पूर्ण प्रतिबंध लगा दिया गया है। साथ ही डीएम ने एसएचओ किश्तवाड़ को उक्त आदेश को सख्ती से लागू करने का निर्देश भी दिया है। ... और पढ़ें

डीएसपी की कलंक कथा: तो क्या इसलिए दविंदर गया था बांग्लादेश...!, एनआईए ने शुरू की जांच

निलंबित डीएसपी दविंदर सिंह निलंबित डीएसपी दविंदर सिंह

जनविश्वास जीतने जम्मू-कश्मीर पहुंची मोदी सरकार,मंत्री बोले प्रदेश बनेगा विकास मॉडल

अनूठे प्रयास के तहत जनता का विश्वास जीतने के लिए मोदी सरकार शनिवार को जम्मू कश्मीर पहुंची। 24 जनवरी तक मोदी सरकार के 40 मंत्री प्रदेश के कई शहरों और गांवों में घूमकर सभाएं करेंगे। वह 31 अक्तूबर 2019 के बाद प्रदेश में विकास की दिशा में हुए कार्य गिनाएंगे। 

जम्मू के कन्वेंशन सेंटर में केंद्रीय मंत्री डॉ. जितेंद्र सिंह ने सांसद जुगल किशोर शर्मा व राज्यसभा सांसद शमशेर सिंह मन्हास की मौजूदगी में सरपंचों, पंचों व काउंसलरों के अलावा लोगों को संबोधित किया। उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने जन हित में हुए कार्यों को गिनाकर लोगों का विश्वास जीतने की बात कही है। 

केंद्र शासित प्रदेश बनने के बाद जम्मू कश्मीर में लखनपुर टोल पोस्ट खत्म हो गई। पहले कोई व्यक्ति इसकी कल्पना तक नहीं कर सकता था। सरकारी कर्मचारियों का वेतन बढ़ गया। गैर कानूनी गतिविधि अधिनियम संशोधित हो गया। 800 केंद्रीय कानूनों को प्रदेश में लागू करने का रास्ता साफ हो गया। आरटीआई, केंद्रीय भ्रष्टाचार निरोधी अधिनियम भी प्रदेश में लागू होगा। विधानसभा क्षेत्रों का परिसीमन भी होगा। औद्योगिक विकास तेजी से होगा। अप्रैल 2020 में इंडस्ट्री समिट होगी। 

पंचायतों, बीडीसी को अधिकार दिए गए है। 73वां व 74वां संशोधन भी लागू होगा। उन्होंने कहा कि किसी भी क्षेत्र से कोई भेदभाव नहीं होगा। कई सालों से लटके पड़े बिजली प्रोजेक्ट 850 मेगावाट क्षमता का रटले प्रोजेक्ट, 1000 मेगावाट का पकलडुल प्रोजेक्ट और 624 मेगावाट का कीरू प्रोजेक्ट शुरू करने का रास्ता साफ हो गया है। 
... और पढ़ें

जम्मू-कश्मीर: पाबंदियों में और ढील, प्रीपेड सिमकार्ड पर कॉल और एसएमएस सुविधा बहाल

19 जनवरी 1990: कश्मीरी पंडितों के पलायन के 30 साल, ट्विटर पर ट्रेंड कर रहा 'हम वापस आएंगे'

मुख्य सचिव रोहित कंसल
घाटी में रहने वाले कश्मीरी पंडित समुदाय के लिए 19 जनवरी प्रलय का दिन माना जाता है, क्योंकि वर्ष 1990 में हालात बिगड़ने के कारण इसी तारीख में कश्मीरी पंडित समुदाय ने कश्मीर घाटी से पलायन करना शुरू कर दिया था।

मई 1990 तक करीब पांच लाख कश्मीरी पंडित जान बचाने के लिए अपनी मातृभूमि को छोड़ कश्मीर से पलायन कर चुके थे, जो स्वतंत्रता के बाद भारत का सबसे बड़ा पलायन माना जाता है। इसी के चलते हर वर्ष 19 जनवरी को जहां कहीं भी कश्मीरी पंडित रहते हैं, वहां वह इस तारीख को ‘होलोकॉस्ट/एक्सोडस डे’ (प्रलय/बड़ी संख्या में पलायन की तारीख) के तौर पर मनाते हैं।

इस तारीख को कल यानी कि रविवार को 30 साल पूरे हो जाएंगे। वहीं इस घटना को लेकर आज ट्विटर ट्रेंड चर्चा में है। ट्विटर पर हम वापस आएंगे और कश्मीर पंडित ट्रेंड कर रहा है। इस तारीख को जो भी कश्मीरी पंडित याद करता है, उसे वह यादें सिहरा कर रख देती हैं। उनके मुंह से सिर्फ यही शब्द निकलते हैं कि ऐसा दिन किसी की भी जिंदगी में कभी भी न आए।
... और पढ़ें

जम्मू कश्मीरः पाकिस्तान की नापाक हरकतें जारी, पुंछ के मेंढर सेक्टर में किया संघर्षविराम का उल्लंघन

जम्मू कश्मीर में पुंछ जिले के मेंढर सेक्टर में पाकिस्तानी सेना ने संघर्षविराम का उल्लंघन किया। इस दौरान पाकिस्तानी सेना ने गोलाबारी की। वहीं मेंढर सेक्टर के साथ ही पाकिस्तानी सेना ने राजोरी जिले के नौशेरा सेक्टर में भी संघर्षविराम का उल्लंघन कर गोलाबारी करनी शुरू कर दी है। पाकिस्तान की इन नापाक हरकतों का भारतीय सेना माकूल जवाब दे रही है।

इससे पहले बुधवार देर रात राजोरी के मंजाकोट सब डिविजन के तरकुंडी इलाके में पाकिस्तानी सेना की मदद से आतंकवादियों के एक ग्रुप ने घुसपैठ का प्रयास किया था। आधी रात को जवानों ने तरकुंडी में एलओसी के उस पार हलचल देखी।

सेना के जवानों ने देखा कि करीब 6 से 8 आतंकवादियों का एक ग्रुप भारतीय क्षेत्र में घुसने के लिए एलओसी के पास आ रहा है। सेना ने बिना समय गंवाए उन पर गोलाबारी शुरू कर दी व उन्हें वापिस जाने के लिए मजबूर कर दिया।

सूत्रों के अनुसार पाकिस्तानी सेना ने भी गोलाबारी कर आतंकवादियों के ग्रुप को कवर करने का प्रयास किया, लेकिन भारतीय सेना की गोलाबारी के आगे वह नहीं टिक सके व वापिस भाग निकले। वहीं गुरुवार को सेना ने उक्त क्षेत्र में तलाशी अभियान भी चलाया व यह सुनिश्चत कर दिया कि आतंकवादी कहीं से भी घुसने में सफल नहीं हुए हैं।
... और पढ़ें

लद्दाखः हिमस्खलन की चपेट में आने से जवान शहीद, उत्तर प्रदेश के घाटमपुर के निवासी थे धर्मेंद्र सिंह

लद्दाख के कारगिल में गुरुवार को आए बर्फीले तूफान में सेना का एक जवान शहीद हो गया। साथ ही तीन अन्य जवान घायल हो गए। घायल जवानों का उपचार चल रहा है। वहीं शहीद जवान का पार्थिव शरीर आज यानी कि शनिवार को उनके पैतृक घर ले जाया जाएगा।

बता दें कि मुश्कोह घाटी में गुरुवार को एक चौकी हिमस्खलन की चपेट में आ गई। आनन-फानन सेना ने रेस्क्यू ऑपरेशन कर घायल जवानों को बाहर निकाल लिया। इस दौरान उत्तर प्रदेश के घाटमपुर के बिराहिनपुर बाल्हापारा ब्लॉक पतारा के धर्मेंद्र सिंह उर्फ बबलू (35) शहीद हो गए। धर्मेंद्र का पार्थिव आज यानी कि शनिवार तक उसके गांव पहुंचाया जाएगा।

धर्मेंद्र सिंह लद्दाख के कारगिल में तैनात थे। सूत्रों के अनुसार गुरुवार सुबह करीब 11 बजे हिमस्खलन की चपेट में आने से वह शहीद हो गए। धमेंद्र की मां शिवदेवी गांव में धमेंद्र के दो बड़े भाइयों के साथ रहती हैं। जबकि पत्नी सुनीता दो बच्चों उत्कर्ष  (16) और राजवर्धन (9) के साथ चंडीगढ़ में रहती हैं। पिता रतन सिंह का देहांत हो चुका है।
... और पढ़ें

पीएम मोदी के मंत्रियों का जम्मू-कश्मीर दौरा, खराब मौसम की वजह से नहीं उतर सका विमान

केंद्र सरकार के 36 मंत्री आज यानी कि शनिवार को जम्मू-कश्मीर के शहरों व गांवों का दौरा करने के लिए पहुंच रहे हैं। वहीं खराब मौसम के कारण तीन केंद्रीय मंत्रियों की फ्लाइट जम्मू में नहीं उतर सकी। इस वजह से उन्हें श्रीनगर उतरना पड़ा। इन मंत्रियों में डॉ जितेंद्र सिंह, अश्विनी चौबे और अर्जुन राम मेघवाल शामिल हैं।

सभी मंत्री जनता से सीधे संवाद स्थापित करेंगे। इस दौरान वे उनकी समस्याओं से भी रूबरू होंगे। अनुच्छेद 370 खत्म होने व जम्मू कश्मीर के केंद्र शासित प्रदेश बनने के बाद मोदी सरकार की यह पहली पहल है।

सरकारी स्तर पर होने वाले इस कार्यक्रम के तहत केंद्रीय मंत्री मौके पर ही समस्याओं के निस्तारण के निर्देश जारी करेंगे। कश्मीर में श्रीनगर, बारामुला और सोपोर में मंत्रियों के कार्यक्रम होंगे। दौरे का उद्देश्य लोगों की समस्याओं का समाधान करने के साथ ही विकास कार्यों में तेजी लाना और पीएम विकास पैकेज के कार्यों को गति देना है। मंत्रियों के दौरे से एक दिन पहले एलजी जीसी मुर्मू ने शहर के विभिन्न विकास प्रोजेक्टों का मौका मुआयना कर उनकी प्रगति की समीक्षा की।
... और पढ़ें

श्री माता वैष्णो देवी विश्वविद्यालय पहुंचे 9 देशों के रोबोट, तीन दिन तक चलेगा आयोजन

श्री माता वैष्णो देवी यूनिवर्सिटी (एसएमवीडीयू) में देश के अठारह राज्यों समेत नौ देशों से इंजीनियरिंग के अजूबे रोबोट अपनी करामात दिखाएंगे। शुक्रवार को एनुअल टेक्निकल फेस्टिवल-तितिक्षा 2020 और रीसेंट ट्रेंड एंड एडवांसमेंट इन इंजीनियरिंग एंड टेक्नोलॉजी के 6वें अंतरराष्ट्रीय सम्मेलन का उद्घाटन किया गया।

तीन दिवसीय सम्मेलन में इंजीनियरिंग के विद्यार्थियों द्वारा तैयार रोबोट अपनी क्षमता का प्रदर्शन करेंगे। इसमें रोबो वार, हाईड्रॉलिक आर्म, स्मैश हिट, पैक-बोट, रोबो सॉकर का आयोजन होगा। वहीं विभिन्न वोकलिस्ट, म्यूजिकल बैंड आदि के भी टेक्निकल इवेंट होंगे।

तितिक्षा 2020 के को-आर्डिनेटर डॉ. राकेश झा और कांफ्रेंस के कनवीनर ने सभी का स्वागत किया। उन्होंने बताया कि इस सम्मेलन के जरिए विभिन्न क्षेत्रों के टेक्नोक्रेट, विद्यार्थियों, स्कालरों, रिसर्चरों को अपना काम दिखाने का मौका मिलेगा। 9 देशों और 18 राज्यों से 289 एब्सट्रैक्ट आए हैं। जिसमें से 219 एब्सट्रैक्ट को शार्टलिस्ट किया गया है।

उन्होंने कहा कि इस कान्फ्रेंस के जरिए कुछ चयनित पेपरों को यूजीसी, एससीआई के जर्नल में प्रकाशित किया जाएगा। कार्यक्रम में मुख्य अतिथि विवि के वीसी प्रो. रविंद्र कुमार सिन्हा रहे। उन्होंने कार्यक्रम के आयोजकों को बधाई दी।
... और पढ़ें

पटनीटॉप अवैध होटल मामला: जांच में शामिल हुए कारोबारी, मास्टर प्लान का उल्लंघन करने का है आरोप

पटनीटॉप में अवैध होटलों की जांच चौथे दिन भी जारी रही। शुक्रवार को सीबीआई टीम पटनीटॉप डेवलपमेंट अथॉरिटी (पीडीए) के कुद ऑफिस में कागजों की जांच में जुटी रही। पटनीटॉप के होटल कारोबारी अपने दस्तावेज लेकर पीडीए ऑफिस पहुंचे और बारी-बारी से जांच में शामिल हुए।  

पटनीटॉप होटलों के कारोबारियों को बुधवार को सीबीआई की तरफ से नोटिस दिए गए थे। इसमें होटलों के दस्तावेज जिसमें परमिशन, टूरिज्म की रजिस्ट्रेशन, पानी-बिजली के कनेक्शनों के अलावा अन्य दस्तावेज लाने को कहा गया था।

गौरतलब है कि सीबीआई की टीम पटनीटॉप क्षेत्र में पिछले 25 वर्षों के दौरान मास्टर प्लान का उल्लंघन कर बनाए गए होटलों की जांच कर रही है। जांच में 30 अधिकारियों की विशेष टीम जुटी है। टीम ने पीएचई, बिजली और राजस्व विभाग से भी रिकॉर्ड तलब किए हैं।
... और पढ़ें
अपने शहर की सभी खबर पढ़ने के लिए amarujala.com पर जाएं

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree
Election
  • Downloads

Follow Us