विज्ञापन

पंचकूला

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
Digital Edition

Ranjeet Singh Murder Case: डेरामुखी समेत पांच दोषियों की सजा पर फैसला आज, राम रहीम सुनारिया जेल से वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग से होगा पेश

बहुचर्चित रणजीत सिंह हत्याकांड मामले में 19 साल बाद सीबीआई की विशेष अदालत मंगलवार को डेरामुखी राम रहीम सिंह समेत पांच दोषियों को सजा सुनाएगी। इसके लिए पंचकूला पुलिस ने कड़ी सुरक्षा कर ली है। पुलिस ने 17 नाके लगाकर शहर की सुरक्षा में 700 जवानों को तैनात किया है। जिला अदालत के बाहर भी पुलिस के जवान बड़ी संख्या में तैनात रहेंगे।

हत्या के मामले में दोषी गुरमीत राम रहीम को तीसरी बार पंचकूला सीबीआई की विशेष अदालत सजा सुनाएगी। सुबह से ही जगह-जगह नाकों पर तैनात पुलिस के जवान चेकिंग करेंगे। शहर के सभी मुख्य मार्गों के अलावा हाईवे पर पुलिस की पेट्रोलिंग रहेगी। इसके अलावा सादी वर्दी में भी पुलिस तैनात रहेगी। 

दोषी गुरमीत राम रहीम वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग से होंगे पेश 
पुलिस ने बताया कि रणजीत सिंह हत्याकांड में दोषी डेरामुखी राम रहीम रोहतक की सुनारिया जेल से वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से सीबीआई की विशेष अदालत में पेश होंगे। इसमें एक वकील उन्हें दिया गया है। एक वकील उनकी ओर से सीबीआई की विशेष अदालत में पेश होगा। वहीं, दोषी कृष्ण कुमार, अवतार, जसवीर और सबदिल को सीबीआई कोर्ट में सामने पेश किया जाएगा। इस दौरान दोषियों को कड़ी सुरक्षा के घेरे में पुलिस पंचकूला जिला अदालत लेकर आएगी। इसके लिए पुलिस की तरफ से पूरी तैयारी कर ली गई है। 

यह भी पढ़ें: 
हरियाणा: सरकार ने विश्वविद्यालयों पर छोड़ा प्रो-वीसी लगाने का फैसला, कार्यकारी परिषद की बैठक में असहमति पर संभव नहीं नियुक्ति

जांच एजेंसियां हैं अलर्ट 
रणजीत सिंह हत्याकांड में सजा सुनाए जाने को लेकर पुलिस, सीआईडी, आईबी सहित सभी जांच एजेंसियों की तरफ से पंचकूला के चप्पे चप्पे पर नजर रखी जा रही है। पुलिस की तरफ से सभी जगह सीसीटीवी कैमरों की जांच भी की गई है। 

इन धाराओं में है दोषी
रणजीत सिंह हत्याकांड मामले में आठ अक्तूबर को डेरामुखी गुरमीतराम रहीम सिंह और कृष्ण कुमार को कोर्ट ने आईपीसी की धारा-302 (हत्या), 120-बी (आपराधिक षड्यंत्र रचना) के तहत दोषी करार दिया है। वहीं, अवतार, जसवीर और सबदिल को कोर्ट ने आईपीसी की धारा-302 (हत्या), 120-बी (आपराधिक षड्यंत्र रचना) और आर्म्स एक्ट के तहत दोषी करार दिया है। 
... और पढ़ें

रणजीत सिंह हत्याकांड: डेरामुखी गुरमीत राम रहीम सहित पांच दोषी करार, सीबीआई विशेष अदालत 12 अक्तूबर को सुनाएगी सजा

बहुचर्चित रणजीत सिंह हत्याकांड मामले में शुक्रवार को 19 साल बाद सीबीआई की विशेष कोर्ट ने डेरामुखी गुरमीत राम रहीम सिंह समेत पांच आरोपियों को दोषी करार दिया है। कोर्ट ने सजा सुनाने की तारीख 12 अक्तूबर मुकर्रर की है। कोर्ट ने डेरामुखी गुरमीत राम रहीम सिंह, कृष्ण कुमार, अवतार, जसवीर और सबदिल को दोषी करार दिया है। 

सीबीआई की विशेष कोर्ट में शुक्रवार को दोषी गुरमीत राम रहीम सिंह सुनारिया जेल और कृष्ण कुमार अंबाला जेल से वीडियो कांफ्रेंसिंग से पेश हुए। वहीं, दोषी अवतार, जसवीर और सबदिल प्रत्यक्ष रूप से कोर्ट में पेश हुए। सीबीआई की विशेष अदालत के जज डॉ. सुशील गर्ग ने दोषी करार देने से पहले अभियोजन और बचाव पक्ष के वकीलों की करीब ढाई घंटे तक दलीलें सुनीं। इसके बाद उन्होंने पांचों आरोपियों को दोषी करार दिया। 

पंचकूला स्थित सीबीआई की विशेष कोर्ट में 12 अक्तूबर को पहले सजा पर बहस होगी। इसके बाद कोर्ट अपना फैसला सुनाएगी। कोर्ट ने शुक्रवार को सुनवाई के दौरान रणजीत सिंह के बेटे जगसीर सिंह की अर्जी को खारिज कर दिया। अर्जी के जरिए मांग की गई थी कि वह जज बदलने की याचिका सुप्रीम कोर्ट में दायर करना चाहते हैं। इस पर सीबीआई की विशेष कोर्ट के जज डॉ. सुशील गर्ग ने अर्जी को खारिज करते हुए कहा कि दो दिन का समय आपके पास था। आप अर्जी दाखिल कर सकते थे। इसलिए अब इसमें सुनवाई का समय नहीं दिया जा सकता। यह कहकर उन्होंने अर्जी खारिज कर दी। 

यह भी पढ़ें - 
पंजाब की सियासत : अगला हफ्ता बेहद अहम, नई पार्टी का एलान कर सकते हैं अमरिंदर, कांग्रेस चौकस 

अभियोजन पक्ष के वकील एचपीएस वर्मा ने बताया कि 19 साल पुराने इस मामले में 12 अगस्त को बचाव पक्ष की अंतिम बहस पूरी हो गई थी। गौर है कि इस मामले में फैसला 26 अगस्त के लिए सुरक्षित रख लिया गया था। रणजीत सिंह के बेटे ने जज बदलने की मांग को लेकर हाईकोर्ट में याचिका दायर की थी। दायर याचिका की सुनवाई के कारण यह फैसला लंबित हो गया था। 

बता दें कि डेरा सच्चा सौदा के प्रबंधक रणजीत सिंह की 10 जुलाई 2002 को गोली मारकर हत्या कर दी गई थी। डेरा के अनुयायियों का आरोप था कि रणजीत सिंह साध्वी यौन शोषण मामले में गुमनाम चिट्ठी छपवाकर बांट रहे हैं। इसको लेकर डेरा प्रमुख समेत पांच लोगों ने मिलकर हत्या की वारदात को अंजाम दिया था। 

इन धाराओं में कोर्ट ने दिया दोषी करार
डेरामुखी गुरमीत राम रहीम सिंह और कृष्ण कुमार को कोर्ट ने आईपीसी की धारा-302 (हत्या), 120-बी (आपराधिक षड्यंत्र रचना) के तहत दोषी करार दिया है। वहीं, अवतार, जसवीर और सबदिल को कोर्ट ने आईपीसी की धारा-302 (हत्या), 120-बी (आपराधिक षड्यंत्र रचना) और आर्म्स एक्ट के तहत दोषी करार दिया है।
... और पढ़ें

पंचकूला में वारदात: पुरानी रंजिश में युवक की हत्या, गंडासी और तलवारों से किए 40 से ज्यादा वार

पंचकूला के माजरी चौक बस स्टॉप पर 12 से अधिक लोगों ने गंड़ासी और तलवारों से वार कर रिंकू उर्फ हरविंदर नाम के युवक की हत्या कर दी। सेक्टर-7 थाना पुलिस ने सात लोगों के खिलाफ नामजद केस दर्ज किया है। पुलिस ने बताया कि मामले की जांच की जा रही है।
 
पुलिस को दी गई शिकायत में रिंकू निवासी पावर फेस कॉलोनी इंडस्ट्रियल एरिया फेस-2 ने बताया कि रविवार रात वह अपने दोस्त रिंकू उर्फ हरविंदर सिंह और आनंद के साथ ममता इनक्लेव के सिमरन होटल जीरकपुर से खाना खाकर आई टेन कार में माजरी चौक पर आकर रुके। माजरी चौक बस स्टैंड के पास वे कार में बैठे थे। रात साढ़े 11 बजे रिंकू की कार के पास दो गाड़ियां और मोटरसाइकिल आकर रुकीं। गाड़ी और मोटरसाइकिल पर करीब 12 लोग सवार थे। सभी लोगों ने उनकी कार को घेर लिया।

कार को घेरने के बाद आरोपी शेखर, जॉनी उर्फ प्रदीप, पप्पी, वकीली, मनीष उर्फ बहादुर, बब्बी, बड़ा बहादुर और अन्य ने रिंकू पर गंड़ासी, तलवार और डंडे से हमला कर दिया। हमले में वह और आंनद भी घायल हो गए। दोनों भागकर खड़क मंगोली कॉलोनी में घुस गए। इस दौरान रिंकू पर आरोपियों ने गंड़ासी, तलवार और डंडे से करीब 40 से ज्यादा बार वार किया। 

यह भी पढ़ें -
विश्व पर्यटन दिवस: शीशे में रखकर सहेजे जाएंगे हड़प्पा काल के तंदूर और बर्तन, राखीगढ़ी में दोबारा शुरू होगी खोदाई 

हमले से रिंकू उर्फ हरविंदर की मौके पर मौत हो गई। मौत के 15 मिनट बाद उसके दोस्त खड़क मंगोली से वापस आए और उन्होंने पुलिस को फोन किया। पुलिस की टीम मौके पर पहुंची। सेक्टर-7 थाना प्रभारी महाबीर सिंह ने बताया कि मामले की जांच की जा रही है। आरोपियों ने पुरानी रंजिश में रिंकू उर्फ हरविंदर की हत्या की है। प्रथम दृष्टया जांच में सामने आया है कि हरविंदर और जॉनी के बीच सट्टे के पैसे के लेनदेन को लेकर विवाद हुआ था। मामले की जांच की जा रही है। हत्या की सूचना मिलने के बाद पंचकूला के एसीपी, क्राइम ब्रांच और थाने की टीमें मौके पर पहुंची। पुलिस ने बताया कि मृतक रिंकू उर्फ हरविंदर पर वर्ष 2017 में  पिंजौर थाने में हत्या का मामला दर्ज है। ग्राम सचिव विजय की हत्या में वह मुख्य आरोपी था। पुलिस सभी एंगल पर जांच कर रही है। 
... और पढ़ें

पंचकूला में वारदात: बरवाला में गन प्वाइंट पर ब्रेजा कार छीनी, पांच अज्ञात युवकों ने की हवाई फायरिंग

पंचकूला के कस्बा बरवाला में राष्ट्रीय राजमार्ग 7 पर स्थित बरवाला मोड़ पर सोमवार रात को पांच अज्ञात व्यक्तियों ने दो व्यक्तियों से ब्रेजा गाड़ी छीन ली और फरार हो गए। हैप्पी पुत्र सहज राम वासी घडोली जिला अंबाला ने पुलिस को दी अपनी शिकायत में बताया कि वह करीब चार-पांच वर्ष से बरवाला कस्बे की करण कॉलोनी में रह रहा है। वह चंडीगढ़ में बिजली के सामान की दुकान करता है। उसने कुछ दिन पहले ब्लैक रंग की ब्रेजा गाड़ी खरीदी थी। गांव घड़ोली का उसका एक दोस्त राजेंद्र भी उसके साथ काम करता था। दोनों हर रोज बरवाला तक इकट्ठे आना-जाना करते थे। 

सोमवार रात को वह जब चंडीगढ़ से कार में सवार होकर बरवाला नेशनल हाईवे पर स्थित बरवाला मोड़ पर पहुंचे तो एक कार में सवार पांच युवकों ने उनकी गाड़ी को गन प्वाइंट पर रुकवा लिया और हवाई फायर कर उनसे उनकी ब्रेजा कार छीनकर फरार हो गए। आरोपी दोनों के मोबाइल भी छीनकर ले गए। उन्होंने सड़क से गुजर रहे लोगों की मदद से इस घटना की सूचना तुरंत बरवाला पुलिस चौकी में दी। 

सूचना मिलते ही बरवाला पुलिस चौकी इंचार्ज मुकेश कुमार, एसएचओ चंडी मंदिर ललित कुमार, डिटेक्टिव स्टाफ, सीआईए स्टाफ और पुलिस के आला अधिकारी मौके पर पहुंचे और घटना स्थल का मुआयना किया। पुलिस ने सभी मार्गों पर नाकाबंदी कर अज्ञात फरार युवकों की तलाश शुरू कर दी है। ब्रेजा कार चालक हैप्पी की शिकायत पर पांच अज्ञात लोगों के खिलाफ मामला दर्ज कर तलाश शुरू कर दी गई है। पुलिस सीसीटीवी कैमरे की मदद से कार लुटेरों की तलाश में जुटी है।
... और पढ़ें
सांकेतिक तस्वीर सांकेतिक तस्वीर

चंडीगढ़: कार को टक्कर मार भागे बदमाश, पीछा कर रोका तो हथियारों से हमला किया

आई-20 कार बदमाशों ने शनिवार रात मटका चौक में ब्रीजा कार को टक्कर मार दी। इसके बाद वह मौके से भाग निकले लेकिन परिवार के साथ ब्रीजा कार में सवार लोगों ने दूसरी गाड़ी से उनका पीछा किया और सेक्टर-16 स्थित जज की कोठी के बाहर रोक लिया। इस पर बदमाशों ने पीड़ितों के ऊपर ईंट, डंडे और तलवार से हमलाकर दिया। इतना ही नहीं बदमाशों ने गाड़ी को भी बुरी तरह क्षतिग्रस्त कर दिया। हमले में एक युवती के हाथ और सिर में चोट आई है। सेक्टर-3 थाना पुलिस जांच में जुटी है।

जीरकपुर निवासी विशाल सोनी ने बताया कि वह परिवार के साथ दो गाड़ियों से चंडीगढ़ आए थे। शनिवार रात करीब एक बजे मटका चौक पर तेज रफ्तार सफेद रंग की आई-20 कार ने उनकी गाड़ी को टक्कर मार दी। गाड़ी में उनकी तीन बहनें भी थीं।

हादसे में एक बहन के हाथ और सिर में चोट लगी है। आई-20 कार की रफ्तार इतनी तेज थी कि टक्कर लगने से उसके टायर फट गए। जब विशाल ने कहा कि वह पुलिस को बुला रहे हैं तो बदमाश फटे टायर के साथ ही गाड़ी में सवार होकर फरार हो गए।

उन्होंने दूसरी कार से आई-20 कार का पीछा किया और सेक्टर-16 स्थित एक जज की कोठी के बाहर रोक लिया। इस पर बदमाशों ने उनकी कार पर ईंट, डंडे और तलवारों से हमला कर दिया। हमले की युवती ने वीडियो बनाना शुरू तो बदमाशों ने युवती के सिर पर ईंट मार दी। जिससे वह घायल हो गई। इस दौरान जज की कोठी के बाहर सुरक्षा में तैनात पुलिसकर्मियों से मदद मांगी, लेकिन उन्होंने वहां से पीड़ितों को जाने के लिए कह दिया।

विशाल के अनुसार, आई-20 सवार बदमाश नशे में थे। वह बदमाशों की कार का नंबर नोट नहीं कर सके। पीड़ित परिवार ने बताया कि सुरक्षाकर्मियों ने वारदात के दौरान वीडियो भी बनाई थी। उनके मोबाइल में आरोपियों की कार का नंबर भी है। सेक्टर-3 और सेक्टर-17 थाना पुलिस जांच कर रही है। हमले में एक युवती के हाथ पर छह टांके आए हैं और दोनों गाड़ियां भी बुरी तरह से क्षतिग्रस्त हो गईं हैं।
... और पढ़ें

सिपाही भर्ती फर्जीवाड़ा: अब तक 19 गिरफ्तार, 33 लाख लेकर हिसार के रामफल ने दी तीन की परीक्षा

हरियाणा में सिपाही भर्ती फर्जीवाड़े में पुलिस अब तक 19 आरोपियों को गिरफ्तार कर चुकी है। आरोपियों ने रिमांड के दौरान खुलासा किया कि हिसार निवासी रामफल शर्मा ने तीन अभ्यर्थियों से 33 लाख रुपये कैश लेकर दो की परीक्षा खुद दी और एक की दोस्त से दिलाई। 

हिसार निवासी राहुल ने रिमांड के दौरान बताया कि उसकी जगह नसीब ने 15 लाख रुपये लेकर परीक्षा दी थी। राहुल ने यह भी खुलासा किया कि फर्जीवाड़े में गिरफ्तार रामफल शर्मा ने झज्जर निवासी नवीन से 15 लाख और कुलदीप से 8 लाख रुपये लिए थे। इसके बाद नवीन की जगह हिसार और कुलदीप की जगह अंबाला में खुद ही परीक्षा देकर आया था।

वहीं, रामफल ने महेंद्रगढ़ निवासी नवीन कुमार से 10 लाख रुपये लेकर उसकी परीक्षा अपने दोस्त से दिलाई थी। जांच में यह भी खुलासा हुआ है कि विकास के दोस्त मोनू ने गांव से एक व्यक्ति को बुलाकर 5 लाख रुपये में परीक्षा नीलोखेड़ी में दिलाई थी।

पुलिस ने शनिवार को सेक्टर-5 स्थित बस स्टैंड के पास से गुप्त सूचना पर महेंद्रगढ़ निवासी नवीन कुमार को भी गिरफ्तार कर लिया है। एसीपी विजय कुमार नेहरा ने बताया कि अन्य आरोपियों की गिरफ्तारी के लिए पुलिस ने शनिवार को हिसार, जींद और झज्जर में दबिश दी।

शुक्रवार को गिरफ्तार किए चारों आरोपियों को अदालत में पेश कर दो दिन के रिमांड पर लिया है। यह चारों आरोपी सेक्टर-5 स्थित परेड ग्राउंड में फिजिकल टेस्ट देने आए थे, लेकिन, फिंगरप्रिंट का मिलान न होने पर गिरफ्तार कर लिया गया था। एसीपी ने बताया कि अब तक मामले में 19 लोगों को गिरफ्तार किया जा चुका है।
... और पढ़ें

हरियाणा: सिपाही भर्ती में दूसरों से परीक्षा दिलाने वाले छह अभ्यर्थी काबू, फिजिकल टेस्ट देने पहुंचे तो फिंगरप्रिंट का नहीं हुआ मिलान

सिपाही भर्ती में फर्जीवाड़ा करने के मामले में पुलिस ने शुक्रवार को छह और अभ्यर्थियों को गिरफ्तार किया है। आरोपियों की पहचान हिसार के कुलदीप सिंह और राहुल के अलावा झज्जर के नवीन, सोनीपत के विकास, रोहतक के संदीप व नरवाना के वसीम के रूप में हुई है। पुलिस पूछताछ में सामने आया है कि इन अभ्यर्थियों ने लिखित परीक्षा दूसरों से दिलवाई है।
 
एसीपी विजय नेहरा ने बताया कि हरियाणा कर्मचारी चयन आयोग की ओर से 286 अभ्यर्थियों को पंचकूला सेक्टर-5 परेड ग्राउंड में फिजिकल टेस्ट के लिए बुलाया था। इस दौरान कुलदीप, राहुल, नवीन और विकास के फिंगरप्रिंट मिलाए गए तो मिलान नहीं हो पाया। आयोग ने इसकी सूचना पुलिस को दी। 

पुलिस ने केस दर्ज कर चारों को गिरफ्तार कर लिया। इसके अलावा पहले से गिरफ्तार एक आरोपी की निशानदेही पर संदीप और वसीम को भी गिरफ्तार किया गया है। संदीप और वसीम के अलावा मानिक को अदालत में पेश किया गया, जहां से तीनों का चार दिन का रिमांड मिला है। इस मामले में पुलिस तीन दिन में छह एफआईआर दर्ज कर 17 आरोपियों को गिरफ्तार कर चुकी है। अब अभ्यर्थियों की जगह परीक्षा देने वालों की तलाश की जा रही है। 
... और पढ़ें

पुलिस कांस्टेबल भर्ती: एसआईटी ने पांच और आरोपियों को पकड़ा, फिजिकल और लिखित परीक्षा में गड़बड़ी का खुलासा

सांकेतिक तस्वीर
सिपाही भर्ती में फर्जीवाड़ा करने वाले पांच युवकों को पुलिस ने गिरफ्तार किया है। इन युवकों ने दूसरे से लिखित परीक्षा दिलाई या फिर फिजिकल के समय अपनी जगह दूसरे से दौड़ लगवाई। आरोपियों की पहचान हिसार का अशोक कुमार उर्फ शोकी, खेड़ी उकलाना का रमन, हांसी का पंकज कुमार, बिठमाठा उकलाना का पवन कुमार और रेवाड़ी का रोहित के रूप में हुई है।

चार आरोपियों को गुरुवार को पंचकूला की जिला अदालत में पेश किया। अदालत ने अशोक, पवन को एक दिन के रिमांड पर भेज दिया है। रमन और पंकज को न्यायिक हिरासत में भेज दिया गया है। वहीं, पांचवें आरोपी रोहित को शुक्रवार को अदालत में पेश किया जाएगा। एसीपी विजय नेहरा ने बताया कि सिपाही भर्ती फर्जीवाड़े में एसआईटी अब तक  11 आरोपियों को गिरफ्तार कर चुकी है। 

इन छह को बुधवार को किया था गिरफ्तार
संदीप निवासी फरीदपुर जिला हिसार, विनोद निवासी उचाना जींद, मोहित निवासी जिला फतेहाबाद, जोनी कुमार निवासी कैथल, रवि कुमार निवासी सोनीपत, मुकेश कुमार निवासी कैथल को एसआईटी बुधवार को गिरफ्तार कर चुकी है। 

एसआईटी ने पक्ष रखने के लिए 35 को भेजा समन
सिपाही भर्ती में फर्जीवाड़ा सामने आने के बाद हरियाणा कर्मचारी चयन आयोग को जांच में 133 संदिग्ध अभ्यर्थी मिले थे, जिनमे ंसे 35 की सूची डीजीपी को सौंपी थी। इन सभी को एसआईटी ने समन भेजकर अपना पक्ष रखने के लिए कहा है। इनमें भिवानी, जींद, सोनीपत और रोहतक के सबसे ज्यादा अभ्यर्थी हैं। इस मामले में अभी तक चार एफआईआर दर्ज हो चुकी है। 

13 संदिग्ध में 7 पुरुष और 6 महिलाएं शामिल
पुलिस ने पुरुष और महिला सिपाही भर्ती परीक्षा में 18 जनवरी को 13 संदिग्ध अभ्यर्थियों के खिलाफ एफआईआर दर्ज की थी। संदिग्ध अभ्यर्थियों की सूची एचएसएससी के चेयरमैन भोपाल सिंह खदरी ने डीजीपी को भेजी थी। आयोग ने पत्र में लिखा है कि पुरुष और महिला सिपाही भर्ती के लिए 17 से 31 दिसंबर तक स्क्रीनिंग टेस्ट आयोजित किया था। इस टेस्ट में करीब 13 अभ्यर्थी संदिग्ध मिले। दूसरी सूची में 7 पुरुष और 6 महिला अभ्यर्थी हैं।
... और पढ़ें

वारदात: मलोया के जंगल में मिला महिला का नग्न शव, मुंह में ठुंसी थी जुराब, दुष्कर्म के बाद हत्या की आशंका

चंडीगढ़ में मलोया के जंगल में स्नेहालय के पास बुधवार सुबह नग्न अवस्था में एक महिला का शव मिलने से सनसनी फैल गई। वह मंगलवार रात आठ बजे से लापता थी। पति उसकी तलाश कर रहा था, इसी दौरान जंगल में उसने पत्नी का शव देखा। महिला के मुंह में जुराब ठूंसी हुई थी। पति ने तत्काल मामले की सूचना मलोया पुलिस को दी। पुलिस घटनास्थल पर पहुंची और शव को कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए सेक्टर-16 अस्पताल की मोर्चरी में रखवाया। इसके बाद पति की शिकायत पर अज्ञात के खिलाफ हत्या का केस दर्ज कर जांच शुरू की। पुलिस ने प्राथमिक जांच में दुष्कर्म की आशंका जताई है।

मार्केट में छोड़कर गया था पति

महिला के पति ने पुलिस को दी शिकायत में बताया कि वह अपने परिवार के साथ चंडीगढ़ में रहता है और ऑटो चलाता है। उसकी दो बेटियां और एक बेटा है। पत्नी सब्जी बेचती थी। मंगलवार रात करीब 8 बजे वह बाइक से पत्नी के साथ राशन लेने के लिए मार्केट में गया था। उसने पत्नी को मार्केट में उतारा और उसे 250 रुपये दिए। पत्नी ने रुपये कम होने की बात कही तो वह उसे वहीं छोड़कर पास की कॉलोनी में अपने भतीजे से रुपये लेने चला गया। लेकिन, भतीजे ने कहा कि उसके बेटे का जन्मदिन है, उसके पास रुपये नहीं हैं। जब वह भतीजे के घर से वापस आया तो पत्नी मार्केट में नहीं मिली। इस पर वह घर पहुंचा तो वह वहां भी नहीं थी। इसके बाद भतीजे के साथ वह पत्नी की तलाश करने लगा। रिश्तेदारों समेत कई जगह ढूंढा, लेकिन कुछ पता नहीं चला। इसके बाद मलोया थाने में गुमशुदगी की शिकायत दी।

शव पर नहीं हैं किसी तरह की चोट के निशान

सुबह करीब साढ़े 9 बजे जंगल के रास्ते में उसे आटे की एक थैली मिली। जब वह कुछ कदम आगे बढ़ा तो पत्नी के कपड़े बरामद हुए और पास ही एक झाड़ी में नग्न अवस्था में पत्नी का शव मिला।पुलिस ने प्राथमिक जांच में दुष्कर्म के बाद हत्या की आशंका जताई है। पुलिस का कहना है कि वारदात के समय महिला चीख न सके इसलिए हत्यारे ने उसके मुंह में जुराब ठूंस दी होगी। महिला के शव पर किसी भी तरह के चोट के निशान नहीं हैं। अब पुलिस मार्केट में लगे सीसीटीवी कैमरों को भी खंगाल रही है। 

मलोया थाना प्रभारी ने बताया कि महिला सब्जी बेचने के साथ एक निजी फार्म हाउस की देखरेख भी करती थी। उसी के आसपास झाड़ियों में शव बरामद हुआ है। घटना की सूचना के बाद एसएसपी कुलदीप चहल, एएसपी साउथ-वेस्ट मृदुल, थाना प्रभारी जसपाल सिंह, महिला जांच अधिकारी उप निरीक्षक सरिता रॉय और अन्य अधिकारी मौके पर पहुंचे।
 
... और पढ़ें

पंचकूला: उद्योगपति से मांगी पांच करोड़ की फिरौती, नहीं देने पर पूरे परिवार को गोली मारने की दी धमकी

पंचकूला में एक उद्योगपति से पांच करोड़ की फिरौती मांगे जाने का मामला सामने आया है। फिरौती नहीं देने पर उद्योगपति को परिवार सहित जान से मारने की धमकी दी गई है। सेक्टर-5 थाना पुलिस ने उद्योगपति रोहित सभ्रवाल की शिकायत पर केस दर्ज किया है। पुलिस मामले की जांच कर रही है।

पुलिस को दी गई शिकायत में उद्योगपति रोहित सभ्रवाल ने बताया कि वह ओल्ड जेल रोड अमृतसर के रहने वाले हैं। उन्होंने बताया कि उनकी फोकल प्वाइंट इंडस्ट्रियल एरिया अमृतसर में एल्युमिनियम की फैक्टरी है। 10 दिसंबर को वह अमृतसर में थे। उनके मोबाइल नंबर पर रात 9.30 बजे फिरौती मांगने की दो कॉल आई। इस पर उन्होंने ध्यान नहीं दिया। इसके बाद बीते 18 दिसंबर को वह पंचकूला अपने रिश्तेदार के सेक्टर-9 स्थित घर आए थे। रात 10.23 बजे उनको दोबारा फोन आया। फोन करने वाले आरोपी ने उन्हें धमकाते हुए कहा कि अगर उन्होंने पांच करोड़ रुपये की फिरौती देने में चालाकी दिखाई तो उनके परिवार को जान से मार दिया जाएगा। 

आरोपी ने उद्योगपति को धमकाते हुए कहा कि उनकी पत्नी गाड़ी से बेटी को स्कूल छोड़ने जाती है। अगर पैसे नहीं दिए तो पूरे परिवार को गोली मार दी जाएगी। अगर वह पुलिस के पास गए तो पहले ही वारदात को अंजाम देने का सैंपल उन्हें मिल जाएगा। उद्योगपति को धमकाते हुए कहा कि अगर जान बचानी है तो पूरे पांच करोड़ रुपये तैयार रखो। पैसे लेने के लिए दोबारा कॉल किया जाएगा। 

सेक्टर -5 थाना प्रभारी दलीप कुमार ने बताया कि रोहित सभ्रवाल की शिकायत पर केस दर्ज किया गया है। धमकी के लिए इस्तेमाल किए गए मोबाइल नंबर को पुलिस की ओर से ट्रेस किया जा रहा है। इसमें जो भी आरोपी शामिल हैं। उन पर सख्त कार्रवाई की जाएगी।
... और पढ़ें

धोखाधड़ी: सिद्धार्थ चट्टोपाध्याय के फर्जी हस्ताक्षर कर 11 पुलिसकर्मियों की पदोन्नति सूची जारी, पुलिस ने दर्ज किया केस

पंजाब पुलिस के तत्कालीन डीजीपी सिद्धार्थ चट्टोपाध्याय के फर्जी हस्ताक्षर कर 11 पुलिसकर्मियों की पदोन्नति की सूची जारी करने के मामले में चंडीगढ़ पुलिस ने अज्ञात के खिलाफ धोखाधड़ी समेत आठ धाराओं में केस दर्ज किया है। पूरे मामले में पुलिस को मोहाली के एक निरीक्षक और चार उप निरीक्षकों की भूमिका संदेह के घेरे में है। पंजाब डीजीपी के स्टाफ में तैनात डीएसपी की शिकायत पर सेक्टर-3 थाना पुलिस ने यह कार्रवाई की है। एसएसपी कुलदीप चहल खुद इस मामले की जांच कर रहे हैं।

आठ जनवरी को जारी हुई थी सूची

आठ जनवरी को पंजाब पुलिस की ओर से 11 पुलिसकर्मियों की पदोन्नति की एक सूची जारी हुई थी। इसमें उप निरीक्षक, सहायक उप निरीक्षक, वरिष्ठ कांस्टेबल और कांस्टेबल रैंक के कर्मचारियों के नाम थे। तत्कालीन डीजीपी सिद्घार्थ चट्टोपाध्याय को जैसे ही सूची जारी होने की सूचना मिली, उन्होंने तत्काल उसकी प्रति मंगवाई। अपने वरिष्ठ अधिकारियों को सूचना देते हुए उन्होंने बताया कि उन्होंने ऐसी किसी भी सूची पर कोई हस्ताक्षर नहीं किए हैं और न किसी को पदोन्नत किया है। मामले में मंगलवार को डीएसपी की शिकायत पर सेक्टर-3 थाना पुलिस ने केस दर्ज कर जांच शुरू कर दी है।

आचार संहिता लागू होने से कुछ देर पहले जारी हुई थी सूची

पंजाब में विधानसभा चुनाव होने हैं। आठ जनवरी को चुनाव की घोषणा के साथ ही आचार संहिता लागू हो गई। आचार संहिता लागू होने से कुछ देर पहले ही यह सूची जारी हुई थी। पुलिस मामले में जांच कर रही है कि आखिर यह सूची कहां से जारी हुई और जिन लोगों के नाम सूची में थे, आखिर उन्हें ही क्यों चुना गया। जिन पुलिसकर्मियों की भूमिका संदेह के घेरे में है, जल्द ही उनसे पूछताछ की जाएगी।

इन 11 पुलिसकर्मियों का नाम था सूची में

सूची में लोकल रैंक पर तैनात एसआई नरेंद्र सिंह और हरविंदर सिंह को पक्के तौर पर एसआई, हवलदार मनी कटोच को एएसआई, एएसआई जगनंदन सिंह को एसआई, वरिष्ठ कांस्टेबल बरिंदर सिंह को एएसआई, एएसआई जसविंदर सिंह को एसआई, हवलदार मनदीप सिंह को एएसआई, हवलदार अमृतपाल सिंह को एएसआई, हवलदार राजकुमार को एएसआई, एएसआई कुलदीप सिंह को एसआई और एएसआई बलजिंदर सिंह को एसआई बनाया गया है।

पुलिसकर्मियों में दिखाई गई अफसर की मेहरबानी

जिन पुलिसकर्मियों को सूची में पदोन्नत किया गया, उन पर अफसर की मेहरबानी दिखाई गई। सूची में चार पुलिसकर्मियों को लोकल रैंक देकर एसआई बनाया गया है, वहीं चार पुलिसकर्मियों को लोकल रैंक देकर एएसआई बनाया गया है। इसके अलावा तीन कर्मचारियों को पक्की पदोन्नति दी गई है। लोकल रैंक में कर्मचारियों को कंधे पर लगाने के लिए स्टार तो मिल जाते हैं, लेकिन वेतन भत्ते सहित अन्य लाभ नहीं मिलते। यह रैंक बेहतर काम करने वाले कर्मचारियों या अफसरों की मेहरबानी पर कर्मियों को मिलती है।
... और पढ़ें

सीमा हत्याकांड में नया मोड़: सीसीटीवी फुटेज में दिखे संदिग्ध युवक-युवती, तीन मिनट तक घूमते दिखे घटनास्थल के आसपास

एक सीसीटीवी फुटेज के सामने आने से रविवार को चंडीगढ़ के सीमा हत्याकांड में नया मोड़ आ गया है। फुटेज में वारदात वाले दिन बाइक पर एक संदिग्ध युवक और युवती देर रात डेढ़ से दो बजे के बीच घटनास्थल के पास दिखाई दिए हैं। युवती ने शॉल से अपना चेहरा ढका हुआ है जबकि युवक ने पगड़ी बांध रखी है। पुलिस दोनों की पहचान करने में जुट गई है।

पंजाब यूनिवर्सिटी के परिसर में दिवाली वाली रात प्रोफेसर बीबी गोयल की पत्नी सीमा की हत्या कर दी गई थी। मामले में पुलिस अधिकारियों का कहना है कि सीसीटीवी फुटेज में कैद संदिग्ध युवक और युवती करीब तीन मिनट तक ही घटनास्थल के पास आते-जाते दिखे हैं। सवाल यह उठता है कि क्या इतने कम समय में दरवाजों की दो जालियां काटकर, हाथ-पैर बांधकर किसी की हत्या कर के भागना संभव है?

सीमा के भाई ने की प्रोफेसर गोयल के खिलाफ एफआईआर दर्ज करने की मांग

सीमा के भाई दीप जॉर्ज ने एसएसपी कुलदीप चहल को प्रोफसर बीबी गोयल के खिलाफ एफआईआर दर्ज करने के लिए शिकायत दी है। उन्होंने कहा है कि प्रोफेसर काफी प्रभावशाली व्यक्ति हैं। वे केस को दबा सकते हैं। साथ ही जांच को प्रभावित कर सकते हैं। दीप ने एसएसपी से अपने स्तर पर जांच करने की मांग की है। मामले में सीमा के दोनों भाई एसएसपी से मिल चुके हैं। दीप जॉर्ज ने एक पत्र पोस्ट कर पीयू के वाइस चांसलर को भी शिकायत भेजी है और पूछा है कि इतनी सुरक्षा के बावजूद उनके घर के पास इतनी बड़ी घटना कैसे हो गई। इस मामले में अभी विवि की ओर से क्या कार्रवाई की गई है?

अंदर से कटी थी जाली, फिर अटकी जांच

वहीं एक पुलिस अधिकारी ने यह जानकारी दी है कि सीएफएसएल रिपोर्ट के अनुसार, प्रोफेसर के घर के दरवाजे की जाली अंदर से ही कटी थी, जबकि प्रोफेसर का दावा था कि किसी ने बाहर से जालियां काटीं और फिर कुंडी खोलकर उनकी पत्नी की हत्या कर दी। परिजनों के बयान और रिपोर्ट अलग आने से अब पुलिस ने नई दिशा से जांच शुरू कर दी है।

'पहली पत्नी से 20 दिन में हो गया था तलाक’

दीप जॉर्ज ने शिकायत में लिखा है कि प्रोफेसर गोयल की पहली शादी के बारे में उन्हें नहीं पता था। उसने मेरी बहन के साथ धोखे से शादी की थी। वह उनकी बहन के साथ शादी के पहले दिन से ही मारपीट और झगड़ा करता था। पहली पत्नी के साथ भी इन्हीं कारणों से 20 दिन में उसका तलाक हो गया था। आरोप है कि प्रोफेसर दहेज के लिए और गरीब होने पर उनकी बहन को ताने मारता था। इसकी शिकायत पिछले वर्ष प्रोफेसर की बेटी पारुल ने पुलिस को भी दी थी।

दो नवंबर को हुआ था झगड़ा

दीप जॉर्ज ने शिकायत में बताया है कि दो नवंबर 2021 को प्रोफेसर और उनकी बहन के बीच बहुत लड़ाई हुई थी। उनकी भांजी पारुल इसकी गवाह है। इस लड़ाई से दो हफ्ते पहले भी दोनों का झगड़ा हुआ था। तब पारुल कसौली गई थी और उसे अपनी मां को बचाने के लिए वहां से आना पड़ा। वहीं शिकायत के बाद एसएसपी ने डीएसपी चरणजीत सिंह को जांच के आदेश दे दिए हैं। डीएसपी ने दीप जॉर्ज के बयान दर्ज कर लिए हैं।
... और पढ़ें

दरिंदगी: 13 वर्षीय बेटी के पेट में हुआ दर्द, अस्पताल में मृत बच्चे को दिया जन्म, बुलानी पड़ी पुलिस

हरियाणा के पंचकूला में एक नाबालिग ने सेक्टर-6 सिविल अस्पताल में मृत बच्चे केे जन्म दिया। इसके बाद महिला थाना पुलिस को सूचना मिली। मौके पर पहुंची पुलिस ने नाबालिग की मां के बयान के आधार पर आरोपी पर केस दर्ज कर जांच शुरू कर दी है।

जानकारी के मुताबिक 13 वर्षीय नाबालिग के पेट में दर्द के बाद परिजन दोपहर 12 बजे सोमवार को सिविल अस्पताल लेकर पहुंचे। अस्पताल में जाने के बाद जब डॉक्टर ने नाबालिग की जांच की तो गर्भवती होने की पुष्टि हुई।

गर्भवती नाबालिग के पेट में अचानक दर्द उठा। इस दौरान उसने मृत बच्चे को जन्म दिया। सेक्टर-6 सिविल अस्पताल की टीम की ओर से पुलिस को सूचना दी गई।

सूचना मिलने के बाद सेक्टर-6 पुलिस चौकी टीम, महिला थाना पुलिस टीम मौके पर पहुंची। पुलिस ने नाबालिग और उसकी मां के बयान दर्ज किए हैं। मां के बयान पर पॉक्सो एक्ट और दुष्कर्म की धाराओं के तहत केस दर्ज किया गया है। वहीं, पुलिस का कहना है कि पुलिस मामले की जांच कर रही है। जल्द ही आरोपी को गिरफ्तार कर लिया जाएगा।

सात महीने पहले हुआ था दुष्कर्म
पुलिस के अनुसार, नाबालिग के साथ सात महीने पहले आरोपी ने दुष्कर्म किया था। नाबालिग नौवीं कक्षा की छात्रा थी। दुष्कर्म करने के बाद उसे जान से मारने की धमकी दी गई। नाबालिग ने डर के कारण किसी को यह बात अपने घर में नहीं बताई। जब नाबालिग को पेट में दर्द हुआ तो उसके परिजन उसे सेक्टर-6 सिविल अस्पताल लेकर पहुंचे।

डॉक्टरों की टीम ने नाबालिग की जांच के बाद परिजनों को गर्भवती होने की जानकारी दी। नाबालिग की काउंसलिंग की गई है। पुलिस और डॉक्टरों की टीम की ओर से उसकी देखरेख की जा रही है। नाबालिग की हालात खतरे से बाहर है।
... और पढ़ें
  • Downloads
    News Stand

Follow Us

  • Facebook Page
  • Twitter Page
  • Youtube Page
  • Instagram Page
  • Telegram
एप में पढ़ें

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00