विज्ञापन

फतेहाबाद

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
Digital Edition

फतेहाबाद: ज्योतिपुंज गोशाला के पास झगड़े की सूचना पर पहुंचे पुलिसकर्मियों पर ईंटों से हमला, आठ पर केस दर्ज

हरियाणा के फतेहाबाद के टोहाना शहर के चंडीगढ़ रोड स्थित ज्योतिपुंज गोशाला के पास झगड़े की सूचना मिलने पर पहुंचे पुलिसकर्मियों पर कुछ लोगों ने हमला कर दिया। इस हमले में एएसआई राजेश कुमार व एसपीओ महाबीर प्रसाद घायल हो गए। एएसआई राजेश कुमार के अधिक चोट होने के कारण उन्हें नागरिक अस्पताल में भर्ती करवाया गया।

जहां से प्राथमिक उपचार के बाद उन्हें अग्रोहा मेडिकल कॉलेज रेफर कर दिया गया। मामले की सूचना मिलने पर शहर थाना प्रभारी देवेंद्र नैन घटनास्थल पर पहुंचे। एसएचओ ने पूरी घटना की जानकारी ली। बाद में घायल एएसआई राजेश कुमार के बयान पर कार्रवाई करते हुए पुलिस ने आठ लोगों के खिलाफ केस दर्ज कर जांच शुरू की।

पुलिस ने समझाने का प्रयास किया तो की धक्कामुक्की, फिर बरसाई ईंट
जानकारी के अनुसार ज्योतिपुंज गोशाला के पास गोशाला पक्ष के लोगों और दूसरे पक्ष के लोगों के बीच कहासुनी हो गई थी। इसकी सूचना पर चंडीगढ़ रोड चौकी से एएसआई राजेश कुमार व एसपीओ महाबीर प्रसाद मौके पर पहुंचे। घायल पुलिसकर्मी राजेश कुमार के अनुसार गोशाला प्रधान बिजेंद्र, अनाज मंडी प्रधान जीवन लाल व 10-12 व्यक्ति तथा दूसरे पक्ष के बलवान, शिवचरण, सलिंद्र, राजवंत, काकू, बलियाला निवासी सुरेश, मनियाना निवासी जोगिंद्र व 10-15 अन्य मौजूद लोगों में किसी बात को लेकर कहासुनी हो रही थी।

एएसआई राजेश कुमार ने आरोप लगाया कि पुलिस ने दोनों पक्षों को समझाने का प्रयास किया, तो इसी बीच बलवान व उसके साथी ने पुलिस के साथ धक्का मुक्की शुरू कर दी। जब रोका तो ईंटों से हमला कर दिया। इससे उसके सिर पर चोटें आई और एसपीओ महाबीर भी घायल हो गए। पुलिस पर हमला होता देख वहां भीड़ एकत्रित हो गई, जिसके चलते हमलावर वहां से फरार हो गए। एसपीओ महाबीर ने ही एएसआई राजेश कुमार को उपचार के लिए टोहाना के नागरिक अस्पताल में भर्ती करवाया। जहां से प्राथमिक उपचार के बाद अग्रोहा मेडिकल कॉलेज रेफर कर दिया गया।

टोहाना शहर पुलिस ने घायल राजेश कुमार के बयान पर बलवान सिंह, शिवचरण, सलिंद्र, राजवंत, काकु, सुरेश, जोगिंद्र सिंह व एक अन्य युवक के खिलाफ सरकारी ड्यूटी में बाधा पहुंचाने व मारपीट करने के आरोप में केस दर्ज कर लिया है।

ज्योतिपुंज गोशाला रोड पर पुलिसकर्मियों के साथ मारपीट की गई है, जिसमें एएसआई राजेश कुमार को ज्यादा चोटें आई है। घायल पुलिसकर्मी के बयान पर आठ लोगों पर केस दर्ज कर जांच शुरू कर दी है। शीघ्र ही आरोपियों को काबू करेंगे। -देवेंद्र नैन, प्रभारी, शहर थाना टोहाना
... और पढ़ें

Fatehabad: किसानों को मिलने वाले फसल मुआवजे में अधिकारियों ने किया फर्जीवाड़ा, CM फ्लाइंग की जांच में खुलासा

हरियाणा के फतेहाबाद में बारिश की वजह से खराब हुई किसानों की फसल का मुआवजा दिलाने के लिए भरे गए फार्मों में ओवर राइटिंग करके धोखाधड़ी करने के मामले में बीमा कंपनी, कृषि अधिकारी व चार हलका पटवारियों सहित छह लोगों पर मुख्यमंत्री उड़नदस्ते ने केस दर्ज करवाया है। सदर थाना पुलिस ने उड़नदस्ते के एसआई कुलदीप सिंह की शिकायत पर केस दर्ज कर जांच शुरू कर दी है।

उड़नदस्ते ने जांच में पाया कि जिले के पांच गांवों के 145 किसानों के मुआवजा राशि फार्म पर कंपनी कर्मचारियों व अधिकारियों ने ओवर राइटिंग करके नुकसान को कम दर्शाया, जिससे किसानों को 3200 रुपये से लेकर 3800 रुपये प्रति एकड़ का आर्थिक नुकसान हुआ है। 

शिकायत में एसआई कुुलदीप सिंह ने बताया कि सीएम फ्लाइंग को सूचना मिली थी कि जिले के गांव खानपुर, बस्ती भीवां, हिजरावां कलां, भूथन खुर्द तथा फतेहाबाद के ग्रामीणों की वर्ष 2020 में अधिक बारिश के कारण जलभराव की वजह से फसल खराब हुई थी। ऐसे 145 किसानों ने कृषि विभाग को फसल खराबे की शिकायत दी थी। संबंधित अधिकारी व बीमा कंपनी कर्मचारी इन गांवों में सर्वे के लिए पहुंचे थे। 
 
अधिकारियों ने गांव खानपुर के 35 किसानों व फतेहाबाद क्षेत्र के 30 किसानों की गेहूं की फसल में 30-30 फीसदी, हिजरावां कलां के 45 व बस्ती भीवां के 10 किसानों की गेहूं की फसल में 35-35 फीसदी तथा भूथन खुर्द के 25 किसानों की गेहूं की फसल में 35 फीसदी नुकसान पाया औैर मुआवजे के लिए उनके फार्म भी भर दिए।

आरोप है कि इसके बाद सभी आरोपियों ने आपस में साजबाज होकर जिन किसानों की फसल का खराब 30 फीसदी था, उनके फार्मों पर ओवर राइटिंग करके इसे 23 फीसदी व जिन किसानों का फसल खराबा 35 फीसदी था, उनका 23 से 25 फीसदी कर दिया। इस तरह किसानों को प्रति एकड़ 3200 से 3800 रुपये का नुकसान हुआ है।

फतेहाबाद सदर थाना पुलिस ने कृषि विकास अधिकारी सुभाष चिनिया, बजाज एलायंस कंपनी के पूर्व कर्मचारी चबला मोरी निवासी राजविंद्र सिंह, गांव भूथन खुर्द के हलका पटवारी प्यारेलाल, फतेहाबाद व खानपुर के हलका पटवारी गुरनाम सिंह, बस्ती भीवां के हलका पटवारी अमर सिंह व हिजरावा कलां के हलका पटवारी बलबीर सिंह के खिलाफ केस दर्ज किया है।

सीएम फ्लाइंग की ओर से किसानों को फसल खराबे के लिए मिलने वाले मुआवजे में गड़बड़ी की शिकायत मिली है। मामले में छह लोगों पर केस दर्ज कर लिया गया है, जो लोग इसमें संलिप्त हैं, उनसे पूछताछ की जाएगी और कितना घपला हुआ है, इसका पता लगाया जाएगा। - रुपेश चौधरी, सदर थाना प्रभारी फतेहाबाद
... और पढ़ें

फतेहाबाद: किशोरी के दुष्कर्मी को 20 साल की कैद, जुर्माना भी लगाया

हरियाणा के फतेहाबाद में अतिरिक्त जिला एवं सत्र न्यायाधीश (फास्ट ट्रैक कोर्ट) के स्पेशल जज बलवंत सिंह की अदालत ने किशोरी के दुष्कर्म के दोषी को 20 साल की कैद व आठ हजार रुपये जुर्माने की सजा सुनाई है।

इस मामले में रतिया पुलिस ने 23 अक्तूबर 2021 को नाबालिग लड़की के पिता की शिकायत पर पंजाब के मानसा निवासी अमित उर्फ मीत के खिलाफ नाबालिग को बहला-फुसलाकर साथ ले जाने, दुष्कर्म व पॉक्सो एक्ट की धारा छह के तहत केस दर्ज किया था।

पुलिस को दी शिकायत में नाबालिग के पिता ने बताया था कि अमित उर्फ मीत उसकी 17 साल की बेटी को बहला फुसलाकर अपने साथ ले गया। 11 नवंबर को पुलिस ने लड़की को बरामद कर लिया था। किशोरी के मेडिकल में उससे दुष्कर्म की पुष्टि हुई थी।

इस दौरान युवक ने किशोरी के साथ मंदिर में प्रेम विवाह भी रचाया था। इस मामले में अदालत ने अमित को दोषी पाया। अदालत ने अभियुक्त को 20 साल की कैद व आठ हजार रुपये जुर्माने की सजा सुनाई।
... और पढ़ें

Fatehabad: दुकानदार की हत्या करने के दो दोषियों को आजीवन कारावास, 60 हजार रुपये की नकदी भी लूटी थी

हरियाणा के फतेहाबाद के टोहाना में बेइज्जती का बदला लेने के लिए एक दुकानदार की लोहे के सुओं से गोदकर निर्मम हत्या करने व दुकान में लूटपाट करने के दो दोषियों को अतिरिक्त जिला एवं सत्र न्यायाधीश जीए वधवा की अदालत ने आजीवन कारावास व एक-एक लाख रुपये जुर्माने की सजा सुनाई है।

ज्ञात रहे कि टोहाना में 21 मई 2019 की रात को रेलवे रोड पर रेडिमेड गारमेंट्स शोरूम के संचालक जोगेंद्र उर्फ बिट्टू निवासी फ्रेंड्स कॉलोनी की लोहे के सुए घोंपकर निर्मम हत्या कर दी गई थी। जोगेंद्र अपने शोरूम के बेसमेंट में खून से लथपथ मृत पाया गया था।

टोहाना शहर पुलिस ने 22 मई 2019 को दिनेश कुमार निवासी फ्रेंड्स कॉलोनी की शिकायत पर अज्ञात युवकों के खिलाफ उसके भाई जोगेंद्र उर्फ बिट्टू की शिकायत पर हत्या व लूटपाट का केस दर्ज किया था। पुलिस को दी शिकायत में दिनेश ने बताया था कि वह रेलवे कॉलोनी के पास प्रॉपर्टी डीलर की दुकान है।

उसके भाई जोगेंद्र ने भी नजदीक ही रेडिमेड कपड़ों का शोरूम खोला हुआ है। हम दोनों भाई रात को काम से फारिक होकर साथ ही घर जाते थे। 21 मई 2019 की रात को करीब 10 बजे जब वह अपने भाई की दुकान पर गया तो वहां पर कुछ ग्राहक खड़े थे। जोगेंद्र ने उसे कहा कि तुम घर चले जाओ मैं आ जाऊंगा।

इसके बाद वह अपने घर चला आया और देर रात को उसकी भतीजी का उसके पास फोन आया कि पापा घर नहीं आए हैं। जब वह शोरूम पर पहुंचा तो बेसमेंट में उसका भाई खून से लथपथ पड़ा था और उसकी मौत हो चुकी थी। पुलिस ने इस मामले की जांच करते हुए दिनेश कुमार निवासी उदयपुर व लखबीर उर्फ लक्खा निवासी लखुआना को काबू किया था।

दोस्त की बेइज्जती का बदला लेने के लिए दिया था वारदात को अंजाम
लखबीर ने पुलिस को बताया था कि वारदात से करीब 15 दिन पहले उसके एक साथी के साथ जोगेंद्र का कपड़ों के रेट को लेकर विवाद हो गया था और जोगेंद्र ने उसे दुकान से निकाल दिया था। इसी अपमान का बदला लेने के लिए वह अपने साथी दिनेश के साथ लोहे के दो सूआ लेकर रात को जोगेंद्र की दुकान पर पहुंचे और टी शर्ट दिखाने के बहाने उस पर लोहे के सुओं से अंधाधुंध वार किए। इसके बाद वह गल्ले से करीब 60 हजार रुपये की नकदी लेकर फरार हो गए। अदालत ने इस मामले में दोनों को दोषी करार देते हुए उनको आजीवन कारावास व एक-एक लाख रुपये जुर्माने की सजा सुनाई।
... और पढ़ें
सांकेतिक तस्वीर सांकेतिक तस्वीर

फतेहाबाद: नशे की गोलियां बेचने के दोषी को 10 साल की कैद, 2018 में 3200 गोलियों के साथ पकड़ा गया था दोषी

हरियाणा के फतेहाबाद में अतिरिक्त जिला एवं सत्र न्यायाधीश सुनील जिंदल की अदालत ने नशे की गोलियां सप्लाई करने के दोषी व्यक्ति को 10 साल की कैद व एक लाख रुपये जुर्माने की सजा सुनाई है। इस मामले में रतिया सदर पुलिस ने 21 सितंबर 2018 को गांव भरपूर निवासी संदीप कुमार को काबू करके उससे नशे की 3200 गोलियां बरामद की थीं।

पुलिस ने दोषी के खिलाफ मादक पदार्थ अधिनियम के तहत केस दर्ज किया था। पुलिस के अनुसार, संदीप ने पूछताछ में बताया था कि वह गांव में क्लीनिक खोले हुआ था। गांव में कई और क्लीनिक होने के कारण उसका काम नहीं चल रहा था।

नौकरी न मिलने के कारण उसने मेडिकल की दुकान भी खोल ली। इस दौरान उसकी मुलाकात हिसार के गांव भाना निवासी राजेश से हुई और राजेश ने उसे नशे की गोलियां बेचकर कमाई करने का लालच दिया।

इसके बाद वह राजेश से नशे की गोलियां लेकर आसपास के गांवों में भी सप्लाई करता था। वह नौ हजार रुपये में यह गोलियां लेकर आया था, जिसमें से उसने कुछ बेच दी थीं। अदालत ने इस मामले में संदीप को दोषी मानते हुए उसे 10 साल की कैद व एक लाख रुपये जुर्माने की सजा सुनाई।
... और पढ़ें

Fatehabad: सैनिक की पत्नी ने घर में बिस्तर में लगाई आग, बाल-बाल बचा फौजी पति, हत्या के प्रयास का केस दर्ज

हरियाणा के फतेहाबाद के भूना क्षेत्र के गांव चौबारा निवासी एक आर्मी जवान ने अपनी ही पत्नी के खिलाफ पुलिस थाना  में शिकायत देकर उसे जिंदा जलाकर मारने का आरोप लगाया है। सैनिक ने बताया कि इस दौरान वह झुलस भी गया। पुलिस ने आर्मी जवान की शिकायत पर आरोपी पत्नी के खिलाफ हत्या के प्रयास व नुकसान पहुंचाने और जान से मारने की धमकी देने की आईपीसी की धारा के तहत मुकदमा दर्ज करके पुलिस ने जांच शुरू कर दी है।

सैनिक के ही 7 वर्षीय मासूम बेटे की संदिग्ध परिस्थितियों में हुई मौत को लेकर भी उन्होंने अब मासूम की हत्या का आरोप लगाया है। हालांकि पुलिस ने बच्चे का अग्रोहा मेडिकल कॉलेज में पोस्टमार्टम करवाकर विसरा रिपोर्ट हिसार भेजी हुई है। परंतु पुलिस के पास अभी पोस्टमार्टम व विसरा रिपोर्ट नहीं आई है। पुलिस ने मृतक बच्चे  की मौत को लेकर सैनिक के छोटे भाई के बयान पर 174 की कार्रवाई हुई थी।

हंसता खेलता मासूम बच्चा कैसे मर गया जांच का विषय
गांव चौबारा निवासी सैनिक कृष्ण ने बताया कि उसका 7 वर्षीय मासूम बेटा गोरखपुर में एक प्राइवेट स्कूल में दूसरी कक्षा का विद्यार्थी था। लेकिन घटना से कुछ देर पहले वह हंसता खेलता हुआ आंगन में मस्ती कर रहा था। परंतु अचानक उसकी तबीयत खराब हो गई है पूरा शरीर नीला पड़ गया।

मगर इलाज के दौरान संदिग्ध परिस्थितियों में उसकी मौत हो गई। सैनिक ने बताया कि उन्होंने भाई को बच्चे का पोस्टमार्टम करवाने के लिए कह दिया था। इसलिए अग्रोहा मेडिकल कॉलेज में पोस्टमार्टम कार्रवाई हुई थी। हालांकि अभी तक पोस्टमार्टम एवं विसरा रिपोर्ट पुलिस के पास नहीं पहुंची है। क्योंकि रिपोर्ट आने के बाद ही मासूम बच्चे की मौत का राज खुल पाएगा।

इस संबंध में थानाध्यक्ष अनूप सिंह ने बताया कि कृष्ण की शिकायत पर तुरंत संज्ञान लिया गया है और आरोपी महिला के खिलाफ मुकदमा दर्ज करके जांच शुरू कर दी है।

... और पढ़ें

Fatehabad: गोमांस व गोवंश अवशेषों से भरे ट्रक को पकड़ा, रात के अंधेरे में ट्रक छोड़कर भागा चालक

हरियाणा के फतेहाबाद में गुरुवार रात को गौरव पुत्र सेना के सदस्यों ने गांव धांगड़ के पास गोमांस व गोवंश के अवशेषों से भरे ट्रक को पकड़ा है। ट्रक चालक मौके से फरार हो गया। ट्रक से मांस की भयंकर बदबू आ रही थी। ट्रक के आगे पीछे के नंबर भी बदले हुए थे।
 
इस मामले में फतेहाबाद सदर पुलिस ने ट्रक को अपने कब्जे में लेकर गौरव पुत्र सेना के सदस्य गौरव निवासी मताना की शिकायत पर अज्ञात ट्रक चालक के खिलाफ हरियाणा गो संरक्षण एवं गो संवर्धन अधिनियम की धारा 13 व धोखाधड़ी के आरोप में केस दर्ज किया है। 
 
पुलिस को दी शिकायत में गौरव ने बताया कि वह गौरव पुत्र सेना का सदस्य है। वीरवार रात को उसे सूचना मिली थी कि सिरसा से एक ट्रक फतेहाबाद की ओर आ रहा है, जिसमें गोवंश का मांस व गोवंश के अवशेष पड़े हैं। सूचना पाकर मैं व मेरा साथी जोनी निवासी फतेहाबाद हांसपुर हाईवे मोड़ पर पहुंच गए।
 
इसी दौरान एक ट्रक उनके आगे से गुजरा तो उसमें मांस की बदबू आ रही थी। इस पर उन्होंने ट्रक का पीछा करना आरंभ कर दिया। हमें पीछे आता देखकर ट्रक चालक नेशनल हाईवे नंबर-नौ पर गांव धांगड़ के पास ट्रक को छोड़कर धुंध व अंधेरे का फायदा उठाकर फरार हो गया।
 
ट्रक चालक ने पुलिस को बरगलाने के लिए ट्रक के आगे हरियाणा नंबर व पीछे उत्तर प्रदेश की नंबर प्लेट लगा रखी थी। ट्रक में भारी मात्रा में गोमांस व गोवंश के अवशेष पड़े थे। फतेहाबाद सदर पुलिस ने इस संबंध में गौरव की शिकायत पर अज्ञात ट्रक चालक के खिलाफ केस दर्ज कर लिया है। जांच अधिकारी एसआई सुमित ने बताया कि ट्रक चालक की तलाश की जा रही है।  
... और पढ़ें

Haryana: जलेबी बेचने वाला दुष्कर्मी बिल्लूराम कैसे बना बाबा , कष्ट दूर करने का झांसा दे करता था दुष्कर्म

पकड़ा गया ट्रक।

दुष्कर्मी जलेबी बाबा को 14 साल कैद: जज बोले- ऐसे बाबाओं के पास क्यों जाती हैं महिलाएं, इनसे बचकर रहना चाहिए

फतेहाबाद में दुष्कर्मी जलेबी बाबा को मंगलवार को फतेहाबाद की अतिरिक्त जिला एवं सत्र न्यायाधीश एवं फास्ट ट्रैक कोर्ट के स्पेशल जज ने 14 साल की सजा सुनाई है। सजा पर पहले बहस हुई और दोनों पक्षों ने अपनी अपनी दलीलें दी।

अदालत में आधे घंटे तक बाबा की सजा पर बहस चली। इसके बाद अदालत ने बाबा को सजा सुनाई और जुर्माना भी किया। सजा सुनाए जाने के दौरान कोर्ट में बाबा शांत खड़ा था और जब उसे सजा का प्रावधान किया तो उसकी आंखें नम थीं।

दुष्कर्मी जलेबी बाबा अमरपुरी उर्फ बिल्लूराम करीब 20 साल पहले पंजाब के मानसा से टोहाना आया था। यहां पर आकर उसने जलेबी की रेहड़ी लगाई और करीब 10 साल पहले उसने टोहाना के शक्ति नगर में बाबा बालकनाथ के नाम से आश्रम खोल लिया।

बाबा लोगों के कष्ट दूर करने की बात कहता था। इस दौरान अनेक महिलाएं उसकी अनुयायी बन गईं और बाबा के पास आने लगीं। उसके पास पांच-छह महिलाओं का अलग से ग्रुप था, जो अन्य महिलाओं को बाबा के पास लाती थीं। अभियोजन पक्ष के अनुसार, बाबा महिलाओं को प्याले में नशीला पदार्थ पिलाता था और इलाज के बहाने उनको आश्रम केे पीछे कमरे में ले जाकर उनसे दुष्कर्म करता था। साथ ही महिलाओं की वीडियो भी बनाता था। संवाद



एक महिला को किया था ब्लैकमेल
अदालत में चले अभियोग के दौरान पुलिस के सामने बाबा ने स्वीकार किया था कि उसने एक महिला का पहले अश्लील वीडियो बनाया और उसके बाद उसे ब्लैकमेल किया। बाबा ने इस महिला सेे सात हजार रुपये लेने की बात स्वीकार की थी। बाबा इतना शातिर था कि लोग उसके खिलाफ जुबान खोलने से डरते थे।

श्मशान घाट में पूजा के बहाने खाता था अफीम
बाबा ने पुलिस पूछताछ में यह भी बताया कि वह श्मशान घाट में पूजा अर्चना करने के बहाने जाता था। यहां पर उसने अफीम छिपा रखी थी और उसका सेवन करता था। कुुछ अफीम वह अपने साथ ले आता था और महिलाओं को चाय आदि में मिलाकर पिला देता था और उनको अपनी हवस का शिकार बनाता था।

छह में से तीन के बयान अदालत ने माने
बाबा के खिलाफ अदालत में लगातार साढ़े चार साल से चल रहे अभियोग के दौरान नाबालिग सहित छह महिलाओं ने अपने बयान दिए। इसके अलावा 32 अन्य लोगों ने भी गवाहियां दी। इस दौरान 20 गवाहियां हुईं और पांच मार्च को बाबा को अदालत ने दोषी माना। जलेबी बाबा के खिलाफ महिलाओं द्वारा दिए गए बयानों में अदालत ने नाबालिग व दो महिलाओं के बयानों को सही पाया। तीन अन्य महिलाओं के बयान अदालत ने नकार दिए। नाबालिग व दो अन्य महिलाओं के बयानों के आधार पर ही बाबा को अदालत ने पॉक्सो एक्ट की धारा छह, दुष्कर्म व आईटी एक्ट के तहत दोषी माना।

बचाव पक्ष ने कम से कम सजा की लगाई गुहार
मंगलवार को अदालत में बाबा की सजा पर एक बार फिर बहस हुई। बचाव पक्ष के वकील ने बाबा को शुगर व अन्य बीमारियां होने का हवाला देेते हुए कम से कम 10 साल की सजा देने की बात कही, लेकिन अदालत ने कहा कि बाबा ने गलत कार्य किया है। उसने महिलाओं के अश्लील वीडियो बनाए और दुष्कर्म किया। बाबा ने एक नाबालिग को दो बार अपने पास बुलाकर उससे गलत कार्य किया। पीड़ित पक्ष के वकीलों विजय कृष्ण रंगा व संजय वर्मा ने अदालत से कहा कि यह मामला डेरामुखी राम रहीम से मिलता जुलता है, इसलिए बाबा को एक साथ सजा देने की बजाए, अलग-अलग सजा दी जाए। अदालत ने दोनों पक्षों की बहस सुनने के बाद पॉक्सो एक्ट के तहत बाबा को 14 साल, आईटी एक्ट के तहत पांच साल व दो महिलाओं से दुष्कर्म के दोष में सात-सात साल की कैद की सजा सुनाई। सभी सजाएं एक साथ चलेंगी। वहीं बाबा पर अदालत ने 35 हजार रुपये का जुर्माना भी ठोका है। जुर्माना न भरने की एवज में उसे दो साल की अतिरिक्त सजा काटनी पड़ेगी।

फैसले के खिलाफ जाएंगे हाईकोर्ट
फतेहाबाद की अदालत द्वारा जलेबी बाबा को सजा सुनाए जाने के बाद बाबा के वकील गजेंद्र पांडे ने बताया कि इस फैसले के खिलाफ वह हाईकोर्ट जाएंगे। उन्होंने कहा कि बाबा को सीडी के आधार पर सजा सुनाई गई है। इस सीडी को इंडियन एविडेंस एक्ट का कोई सर्टिफिकेट नहीं मिला था। किसी पीड़िता नेे सीधे तौर पर बाबा के खिलाफ शिकायत नहीं दी थी। केवल सीडी के आधार पर यह सजा सुनाई गई, इसलिए सजा के खिलाफ हाईकोर्ट जाएंगे।

हमने बाबा को अधिक से अधिक सजा देने की मांग की थी। अदालत ने बाबा को पॉक्सो एक्ट, दुष्कर्म व आईटी एक्ट में दोषी माना है। उसे 14 साल तक जेल भुगतनी होगी। बाबा को जो सजा सुनाई गई हैं, वह एक साथ चलेंगी। - विजय कृष्ण रंगा, वकील पीड़ित पक्ष
... और पढ़ें

Chandigarh: फाइनेंस कंपनी का पेमेंट गेटवे हैक कर ठगे दो करोड़, हरियाणा के सभी आरोपी, ऐसे सीखी तकनीक

चंडीगढ़ पुलिस की साइबर सेल ने एक ऐसे गिरोह का पर्दाफाश किया है, जिसने एक एनबीएफसी कंपनी के पेमेंट गेटवे को हैक कर करीब दो करोड़ रुपये ठग लिए। ठगी के मास्टरमाइंड ने ये हैकिंग भी यूट्यूब से सीखी। ठगी के पैसों से आरोपियों ने चार ट्रकों के लोन और इंश्योरेंस प्रीमियम भरने के साथ रिचार्ज आदि किया। यही नहीं, आरोपियों ने लाखों के पेट्रोल डलवाए और गिफ्ट कूपन भी खरीदे।

पॉल मर्चेंट प्राइवेट लिमिटेड के अकाउंट्स मैनेजिंग डायरेक्टर ने 31 दिसंबर को शिकायत दी। बताया कि उनके मोबाइल एप पॉलपे को हैक कर कुछ लोगों ने 1.95 करोड़ (करीब दो करोड़) की ठगी की है। शिकायत के आधार पर पुलिस ने विभिन्न धाराओं के तहत केस दर्ज किया है। एसपी साइबर क्राइम केतन बंसल ने बताया कि जांच में पता चला कि 21 दिसंबर से ठगी का सिलसिला शुरू हुआ, जो नौ दिन तक चला। 

मामले में पांच आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया गया है। आठ मोबाइल फोन, एक वाईफाई मॉडम, चार लैपटॉप, 31 सिम कार्ड और चार ट्रक बरामद किए हैं। ये वही ट्रक हैं, जिनका लोन ठगी के पैसों से चुकाया गया। बता दें कि पॉल मर्चेंट प्राइवेट लिमिटेड एक नॉन बैंकिंग फाइनेंशियल कंपनी है, जिसे आरबीआई से लाइसेंस मिला हुआ है और वह लोगों के लिए वॉलेट व मोबाइल, डीटीएच व अन्य तरह के रिचार्ज आदि की सेवा देती है।
... और पढ़ें

Haryana: दुष्कर्मी जलेबी बाबा को 14 साल की सजा, बिलखकर अदालत में हाथ जोड़कर रहम की भीख मांगने लगा दोषी

महिलाओं से तंत्र-मंत्र के बहाने नशीला पदार्थ देकर दुष्कर्म करने व उनकी अश्लील वीडियो बनाने के दोषी जलेबी बाबा को अतिरिक्त जिला एवं सत्र न्यायाधीश व फास्ट ट्रैक कोर्ट के जज बलवंत सिंह की अदालत ने 14 साल की सजा सुनाई है। जलेबी बाबा को अदालत ने दो महिलाओं से दुष्कर्म करने व पॉक्सो एक्ट के एक मामले में दोषी माना है।

उसे पॉक्सो एक्ट में 14 साल, दोनों दुष्कर्म मामलों में सात-सात साल व आईटी एक्ट में पांच साल की सजा सुनाई है। वहीं 35 हजार रुपये का जुर्माना किया है। जुर्माना न भरने पर दो साल की अतिरिक्त सजा भुगतनी होगी। सभी सजा एक साथ चलेंगी। सजा पर सुनवाई के दौरान जहां शनिवार को जलेबी बाबा बिलखते हुए अदालत में हाथ जोड़कर रहम की भीख मांग रहा था, वहीं मंगलवार को बिल्कुल शांत खड़ा रहा।

यह था मामला
गौरतलब है कि जुलाई 2018 में बाबा का एक वीडियो वायरल हुआ था, जिसमें वह महिला से दुष्कर्म करता नजर आ रहा था। वीडियो के वायरल होते ही टोहाना में लोगों ने प्रदर्शन किए। टोहाना पुलिस ने 19 जुलाई 2018 को टोहाना शहर थाना के तत्कालीन प्रभारी प्रदीप कुमार की शिकायत पर बाबा अमरपुरी उर्फ बिल्लूराम उर्फ जलेबी बाबा के खिलाफ दुष्कर्म, पॉक्सो एक्ट सहित कई धाराओं के तहत केस दर्ज किया था। इसके बाद पुलिस ने आरोपी बाबा को गिरफ्तार कर लिया और उसकी निशानदेही पर उसके घर से अफीम, पिस्तौल व अन्य आपत्तिजनक सामान बरामद किया। पुलिस ने करीब 100 महिलाओं के साथ बाबा द्वारा संबंध बनाने की वीडियो भी बरामद की थी। बाबा को अदालत ने पांच जनवरी को दोषी करार दिया था।



सिरसा डेरा के प्रमुख का हवाला देकर सुनाई सजा
मंगलवार को बाबा की सजा पर बहस के दौरान अदालत ने पीड़ित पक्ष के वकील से पूछा कि बाबा को किस प्रकार की सजा दी जाए। इस पर पीड़ित पक्ष के वकील विजय कृष्ण रंगा ने सिरसा के डेरा सच्चा सौदा के प्रमुख गुरमीत राम रहीम के केस का हवाला देते हुए कहा कि बाबा को अलग-अलग सजा दी जाए। मगर अदालत ने कहा कि वीडियो में ऐसा नहीं दिख रहा है कि बाबा ने महिलाओं से जबरदस्ती की है।

हालांकि बाबा ने जुर्म किया है, इसलिए उसे पॉक्सो एक्ट की धारा-छह के तहत 14 साल, दो महिलाओं से दुष्कर्म के मामले में सात-सात साल व आईटी एक्ट के तहत पांच साल की सजा सुनाई जाती है। इस दौरान बचाव पक्ष ने बाबा को कम से कम सजा देने की मांग की, लेकिन उनकी दलीलों का कोई असर नहीं हुआ।
... और पढ़ें

जलेबी बाबा की काली करतूत: नशीली चाय पिलाकर महिलाओं से करता था दुष्कर्म, नशे में भरवाता था हामी

हरियाणा के फतेहाबाद के टोहाना के शक्ति नगर में बाबा बालकनाथ आश्रम खोलकर महिलाओं की बीमारियों को दूर करने का पाखंड रचने वाले जलेबी बाबा की परतें लगातार खुलती जा रही हैं। जलेबी बाबा महिलाओं के कष्ट हरने के नाम पर उनको पहले चाय में नशीला पदार्थ देता था।

इसके बाद नशे की हालत में महिलाओं की अश्लील वीडियो तो बनाता ही था, साथ ही उनसे इस काम के लिए स्वीकारोक्ति भी करवाता था। पुलिस जांच के अनुसार, बाबा ने करीब 100 महिलाओं को अपनी हवस का शिकार बनाया था। बाबा को अदालत अब दोषी करार दे चुकी है, उसे मंगलवार को सजा सुनाई जाएगी।

गौरतलब है कि करीब 20 साल पहले पंजाब के मानसा जिला निवासी अमरवीर टोहाना में आया था। यहां पर आकर टोहाना की नेहरू मार्केट में जलेबी की रेहड़ी लगाई। जलेबी का कारोबार अच्छा चलने पर गजरेला बनाने लगा और काम बढ़ा लिया।

दुकान का नाम भी अमरवीर के पंजाबी तोहफे रख लिया। वह यह कारोबार करीब 10 साल तक चलाता रहा और उसने अच्छे रुपये भी बटोरे। इसी दौरान उसकी पत्नी की मौत हो गई। परिवार में चार लड़कियां और दो लड़के हैं। इसी दौरान पंजाब से एक तांत्रिक आया। उसने अमरवीर को तांत्रिक विद्या के बारे में जानकारी दी। बताया जा रहा है कि दो साल तक टोहाना से गायब रहा। बाद में वापस टोहाना वापस पहुंचा।



आकर बनाया आश्रम
वार्ड नंबर 19 के शक्ति नगर में बाबा अमर पुरी उर्फ बिल्लूराम उर्फ जलेबी बाबा ने मकान लिया। वहां बाबा बालकनाथ के नाम से आश्रम बनाया और उसी के साथ ही अपना मकान बना लिया और बच्चों के साथ यहां रहना शुरू कर दिया।

यहां से शुरू हुआ बाबा का खेल 
अमरवीर ने अपना नाम बदलकर अमरपुरी रख लिया। लोगों के दुख और कष्ट हरने के लिए बाहर बोर्ड लगा दिया। तांत्रिक विद्या का जादू चला और लोगों की भीड़ जुटनी शुरू हो गई। जिसके बाद बाबा के पास माया भी आनी शुरू हो गई। इस दौरान उसने लड़कियों समेत छह बच्चों की शादी पंजाब में कर दी। जिसके बाद सभी बच्चे पंजाब में ही रहने लग गए।

दिल्ली और पंजाब की महिलाओं को लिया साथ 
बताया जा रहा है कि बच्चों की शादी होने के बाद पांच से छह महिलाएं बाबा के पास रहने के लिए आ गई। ये महिलाएं बाहर से आने वाली महिलाओं को बाबा के बारे में जानकारी देती और उनके दुख हरने का दावा भी करती थी। बताया जा रहा है कि जितनी भी कमाई होती थी उसमें महिलाओं का भी हिस्सा होता था। जिन महिलाओं को बाबा अपने आश्रम के अलग कमरे में ले जाता था, उनसे नशे की हालत में स्वीकारोक्ति भी करवाता था, यह उनकी मर्जी से हो रहा है। बाबा उनके कष्ट दूर कर रहा है।
... और पढ़ें

Fatehabad News: दुष्कर्मी जलेबी बाबा को सजा पर फैसला सुरक्षित, आज होगा निर्णय

हरियाणा के फतेहाबाद में दुष्कर्मी जलेबी बाबा की सजा पर सोमवार को अतिरिक्त जिला एवं सत्र न्यायाधीश एवं फास्ट ट्रैक कोर्ट के स्पेशल जज बलवंत सिंह की अदालत में बहस हुई। अदालत ने फिलहाल जलेबी बाबा की सजा का फैसला सुरक्षित रखा है और उसे मंगलवार को सजा सुनाई जाएगी। ज्ञात रहे कि अदालत ने पांच जनवरी को दुष्कर्मी जलेबी बाबा को महिलाओं से दुष्कर्म के मामले में दोषी करार दिया था। इस मामले में बाबा की सजा पर शनिवार व सोमवार को बहस हो चुकी है।

टोहाना में जुलाई 2018 में जलेबी बाबा की एक सेक्स वीडियो वायरल हुई थी, जिसमें बाबा एक महिला से नशे की हालत में दुष्कर्म करता हुआ दिखाई दे रहा था। इस वीडियो के वायरल होने के बाद टोहाना में बाबा के खिलाफ लोगों में रोष फैल गया और पुलिस पर दबाव बना तो पुलिस ने 19 जुलाई 2018 को तत्कालीन शहर थाना प्रभारी प्रदीप कुमार की शिकायत पर बाबा के खिलाफ दुष्कर्म, फिरौती मांगने, आर्म्स एक्ट, आईटी एक्ट सहित कई धाराओं के तहत केस दर्ज किया था। इसके बाद बाबा को गिरफ्तार किया गया तो उसके आश्रम से 120 महिलाओं की अश्लील सीडियां बरामद हुई थी।

बाबा पर आरोप था कि वह तंत्र-मंत्र व झाड़-फूंक की आड़ में महिलाओं को चाय में नशा देता था और इसके बाद महिलाओं को अपने अलग कमरे में ले जाकर उनसे दुष्कर्म करता था। बाबा के खिलाफ छह महिलाओं व एक नाबालिग लड़की ने अदालत में अपने बयान दर्ज करवाए हुए हैं।
 
दुष्कर्मी बाबा को अतिरिक्त जिला एवं सत्र न्यायाधीश एवं फास्ट ट्रैक कोर्ट के स्पेशल जज बलवंत सिंह की अदालत ने पांच जनवरी को दुष्कर्म व पॉक्सो एक्ट में दोषी ठहराया था। शनिवार को बाबा की सजा पर बहस हुई और सोमवार को भी उसकी सजा पर दोनों पक्षों की बहस सुनी गई। अदालत ने दोनों पक्षों की बहस सुनने के बाद बाबा की सजा पर फैसला सुरक्षित रख लिया। बाबा को मंगलवार को सजा सुनाई जाएगी।
... और पढ़ें
एप में पढ़ें
जानिए अपना दैनिक राशिफल बेहतर अनुभव के साथ सिर्फ अमर उजाला एप पर
अभी नहीं

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00