बेहतर अनुभव के लिए एप चुनें।
INSTALL APP
विज्ञापन

फतेहाबाद

विज्ञापन
कालाष्टमी प्राचीन कालभैरव मंदिर दिल्ली में पूजा और प्रसाद अर्पण से बनेगी बिगड़ी बात, अभी बुक करें
Myjyotish

कालाष्टमी प्राचीन कालभैरव मंदिर दिल्ली में पूजा और प्रसाद अर्पण से बनेगी बिगड़ी बात, अभी बुक करें

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
Digital Edition

फतेहाबाद: लग्जरी गाड़ी में गुरुग्राम से हो रही थी हेरोइन की तस्करी, तीन युवक गिरफ्तार  

फतेहाबाद में एंटी नारकोटिक्स टीम ने गांव धांगड़ के पास सियाज कार सवार तीन युवकों को 400 ग्राम हेरोइन के साथ पकड़ा है। पकड़े गए तीनों युवक गुरुग्राम से 400 ग्राम हेरोइन लेकर आ रहे थे। पकड़े गए आरोपी युवकों की पहचान फतेहाबाद के अग्रसैन कॉलोनी निवासी अकबर उर्फ गोलू, ठाकर बस्ती निवासी ध्रुव कुमार उर्फ आलोक, भोड़िया खेड़ा निवासी रविंद्र उर्फ रवि के रूप में हुई है। पूछताछ में आरोपी तस्करों ने बताया है कि इस हेरोइन को लाने के लिए खैरातीखेड़ा निवासी अमरजीत सिंह ने 2.50 लाख रुपये दिए थे। 

 ये हेरोइन गुरुग्राम से अमरजीत सिंह के जानकार से लेकर आ रहे थे। मामले में पुलिस ने आरोपी तस्करी अग्रसैन कॉलोनी निवासी अकबर उर्फ गोलू, ठाकर बस्ती निवासी ध्रुव कुमार उर्फ आलोक, भोड़िया खेड़ा निवासी रविंद्र उर्फ रवि और खैरातीखेड़ा निवासी अमरजीत के खिलाफ एनडीपीएस एक्ट के तहत मामला दर्ज किया है।

मामले के मुताबिक पुलिस अधीक्षक सुरेंद्र सिंह भौरिया ने बताया कि एंटी नारकोटिक्स टीम को सूचना मिली थी कि तीन दोस्त सोमवार को हेरोइन लेने के लिए दिल्ली-गुरुग्राम गए हुए हैं और उनके पास सियाज कार है। सूचना मिलने पर टीम ने गांव धांगड़ के पास मंगलवार को नाकेबंदी कर जांच शुरू की।

गांव धांगड़ के पास जब टीम जांच कर रही थी तो हिसार की तरफ से एक गाड़ी आ रही थी, जिसकी नंबर प्लेट पर मिट्टी लगी थी, टीम ने रोकने का ईशारा किया तो गाड़ी चालक ने वापस मोड़ने का प्रयास किया। टीम ने गाड़ी रुकवा ली और कार सवार युवकों से पूछताछ की तो उन्होंने अपनी पहचान फतेहाबाद के अग्रसैन कॉलोनी निवासी अकबर उर्फ गोलू, ठाकर बस्ती निवासी धुव्र कुमार उर्फ आलोक और भोडिय़ा खेड़ा निवासी रविंद्र उर्फ रवि के रूप में हुई। ड्यूटी मजिस्ट्रेट की मौजूदगी में जब गाड़ी की तलाशी ली गई तो डेशबोर्ड से 400 ग्राम हेरोइन बरामद हुई। 
 

रतिया के व्यक्ति के नाम पंजीकृत है गाड़ी 

नशा तस्कर जिस गाड़ी में पकड़े गए है वह रतिया के शक्ति नगर निवासी व्यक्ति के नाम पंजीकृत बताई जा रही है। फिलहाल पुलिस जांच में जुटी है कि गाड़ी मालिक भी कहीं इसमें शामिल तो नहीं है। 

ओरोपी अकबर के खिलाफ पहले भी मामले दर्ज 

पुलिस अधिकारियों के मुताबिक पकड़े गए आरोपी तस्कर अकबर के खिलाफ पहले भी मामला दर्ज है। इसके अलावा एक सोर्स का नाम भी आया है जिसके खिलाफ एनडीपीएस के 9 मामले दर्ज है। 

एंटी नारकोटिक्स टीम का दोबारा गठन किया गया : एसपी 

... और पढ़ें

खाद घोटाला: हांसपुर पैक्स में 2 करोड़ 18 लाख की खाद राशि की गबन, मैनेजर और सेल्समैन पर केस दर्ज

हरियाणा के फतेहाबाद में हांसपुर पैक्स में खाद बेचकर करोड़ों रुपये की राशि का गबन करने का मामला सामने आया है। जानकारी अनुसार मैनेजर और सेल्समैन ने मिलकर खाद बेच दी और उसकी करीब 2 करोड़ 18 लाख रुपये की राशि जमा नहीं करवाई। ऑडिट हुई तो खाद का स्टॉक कम मिला।

मामले में सदर पुलिस ने शिकायत आने के बाद फतेहाबाद के कॉप्रेटिव सोसायटी के सहायक रजिस्ट्रार की शिकायत पर दि हांसपुर पैक्स के मैनेजर देवीलाल और खुनन के सेल्समैन मुलखराज के खिलाफ धोखाधड़ी और गबन के आरोप में मामला दर्ज किया है। आरोप है कि खाद बाजार में बेच दी और इसकी राशि जमा नहीं करवाई।

मामले के मुताबिक पुलिस को दी शिकायत में बताया गया है कि दि हांसपुर पैक्स में हुए गबन मामले को लेकर सीएम विंडो लगाई गई थी। जांच के लिए संयुक्त जांच कमेटी गठित की गई। सीएम विंडो में शिकायत अयाल्की पैक्स, हांसपुर पैक्स और नागपुर पैक्स से संबंधित थी।

यह भी पढ़ें ः 
जबरन निकाह कर बदलवाया धर्म: बंधक बना एक साल तक किया दुष्कर्म, एसिड अटैक की धमकी दे संबंधियों से बनवाए संबंध

जांच में दि हांसपुर पैक्स में गबन सामने आया। जांच रिपोर्ट में बताया गया कि खाद बिक्री केंद्र बीराबदी के विक्रेता मुलखराज द्वारा 31 मार्च 2020 में ऑडिट के समय बकाया स्टॉक निकालने के बाद भौतिक जांच की गई। उस स्टॉक की भौतिक जांच की गई तो खाद का स्टॉक कम मिला। डीएपी 1774 और यूरिया 1918 बैग बताई गई थी, 18 नवंबर 2020 को भौतिक जांच करने पर डीएपी और यूरिया का स्टॉक नहीं मिला। स्टॉक करीब 25 लाख 51 हजार रुपये का था।

हांसपुर बिक्री केंद्र पर 1 करोड़ 93 लाख का गबन

हांसपुर बिक्री केंद्र पर जांच के दौरान डीएपी के 9281 बैग, यूरिया के 22 हजार 374 बैग, एनपीके के 508, एमओपी के 306, सुपर के 1619, कैटल फीड के 1113, बीटी कॉटन के 129, ज्वार सीड के 129, भूमि मित्रा के 163, एनपीके 1744 के 142, सल्फर के 113 बैग और पेस्टीसाइड बोतल 93 कम मिली। जांच रिपोर्ट के मुताबिक 1 करोड़ 93 लाख 35 हजार 472 रुपये का स्टॉक कम मिला।
 

सितंबर में दी गई थी शिकायत

जांच रिपोर्ट में गबन सामने आने के बाद फतेहाबाद के कॉपरेटिव सोसायटी की सहायक रजिस्ट्रार मानता देवी ने सितंबर माह में पुलिस को शिकायत दी थी। इस शिकायत के बाद अब पुलिस ने मामला दर्ज किया है। अब इस मामले की जांच पुलिस विभाग करेगा।
 
... और पढ़ें

फतेहाबाद: एक हजार रुपये रिश्वत लेते भूना तहसील से पटवारी रंगे हाथों गिरफ्तार, हिसार का रहने वाला है आरोपी

हरियाणा के फतेहाबाद जिले के भूना में कार्यरत पटवारी को एक हजार रुपये की रिश्वत लेते हुए विजिलेंस टीम ने दबोचा है। भूना के तहसील में विजिलेंस ने इस कार्रवाई को अंजाम दिया। फिलहाल पटवारी के खिलाफ भ्रष्टाचार रोकथाम अधिनियम के तहत एफआईआर दर्ज कर ली गई है। भूना के वार्ड नंबर एक निवासी अनिल कुमार ने बताया कि उसे बैंक से लोन लेने के लिए मकान को गिरवी रखना था।

जमीन के कागजात में इसके लिए पटवारी से फर्द में एंट्री करवानी थी। फर्द में एंट्री करने के नाम पर पटवारी लाल बहादुर ने उससे दो हजार रुपये की रिश्वत मांगी। अनिल ने पटवारी को 3 दिसंबर को एक हजार रुपये दे दिए। बाद में एक हजार रुपये और मांगे तो उसने सोमवार को देने की बात कही।

यह भी पढ़ें ः 
जबरन निकाह कर बदलवाया धर्म: बंधक बना एक साल तक किया दुष्कर्म, एसिड अटैक की धमकी दे संबंधियों से बनवाए संबंध

इसी बीच अनिल कुमार ने विजिलेंस को शिकायत कर दी। विजिलेंस टीम ने अनिल कुमार को एक हजार रुपये पाउडर लगाकर दे दिए। जैसे ही भूना तहसील में पटवारी लाल बहादुर ने अनिल कुमार से एक हजार रुपये लिए, उसी समय इशारा पाकर विजिलेंस ने उसे रंगे हाथों गिरफ्तार कर लिया। आरोपी पटवारी हिसार के मॉडल टाउन का निवासी है। वह रिटायर्ड फौजी है।
... और पढ़ें

फतेहाबाद में वारदात: कड़ी सुरक्षा के दावों के बीच दिनदहाड़े हुई चेन स्नेचिंग की दो घटनाएं, सीसीटीवी में दिखे झपटमार

फतेहाबाद शहर में 26 जनवरी यानी गणतंत्र दिवस, एक ऐसा दिन जब देशभर का सुरक्षा तंत्र इस स्तर पर अलर्ट होता है कि परिंदा भी पर न मार सके। मगर फतेहाबाद जिला मुख्यालय में पुलिस की नाक के नीचे दिन-दहाड़े स्नैचिंग की दो ऐसी वारदातें हुईं, जिसने पुलिस की इस तरह नींद उड़ाई कि तीन राज्यों में सर्च ऑपरेशन शुरू करना पड़ा है। फतेहाबाद पुलिस आरोपियों की तलाश में हरियाणा के साथ-साथ यूपी और पंजाब तक के प्रोफेशनल गैंग के अपराधियों का रिकॉर्ड खंगाल रही है। 

दरअसल, शहर के मॉडल टाउन में बुधवार दोपहर करीब 3 बजे बुजुर्ग महिला उषा रानी अपने घर के सामने पार्क की दीवार के साथ बैठी थी। इस दौरान बाइक पर सवार होकर आए दो युवकों में से एक ने उषा रानी के पास जाकर किसी का पता पूछा। कुछ सेकेंड बात करते हुए महिला के गले से चेन तोड़कर दौड़ा और पास खड़े बाइक सवार अपने दूसरे साथी के साथ बाइक पर फरार हो गया। पूरी घटना मौके पर लगे सीसीटीवी में कैद हो गई।

पुलिस अभी इस सूचना पर घटनास्थल की तरफ दौड़ी ही थी कि उसी दौरान हुडा सेक्टर तीन में दर्शना नाम की बुजुर्ग महिला को ठीक इसी तरह बाइक सवार दो युवकों ने अपना शिकार बनाया। हुडा सेक्टर निवासी बृजमोहन की शिकायत पर पुलिस ने इस मामले में केस दर्ज किया है। वहीं, मॉडल टाउन निवासी प्रांजल की शिकायत पर पुलिस ने उनकी मां की चेन छीनने वालों के खिलाफ केस दर्ज किया है। संवाद

वारदात के तरीके से पुलिस को बड़े गैंग पर है शक

दोनों घटनाओं में वारदात के तरीके को समझते हुए पुलिस ने ऐसी आशंका जाहिर की है कि ये किसी हाई प्रोफेशनल गैंग का काम है, क्योंकि एक ही दिन में मिलती-जुलती स्नैचिंग की वारदात केवल फतेहाबाद शहर में ही नहीं हुई बल्कि हरियाणा के दूसरे जिलों में भी हुई है। एसपी ने छानबीन का दायरा बढ़ाते हुए 24 घंटे के भीतर तीन राज्यों में सर्च ऑपरेशन शुरू कर दिया है। हरियाणा भर के थानों की पुलिस 26 जनवरी के दिन हुईं स्नैचिंग की वारदातों को सुलझाने के लिए यूपी से लेकर पंजाब तक ऐसी घटनाओं को अंजाम देने वाले प्रोफेशनल गैंग के अपराधियों का रिकॉर्ड खंगाल रही है, उनके फोटो मिलान कर रही है।

कार्यक्रम समाप्त होने के बाद सुरक्षा में ढील का फायदा उठाया

शहर फतेहाबाद में स्नैचिंग की दोनों वारदातें दोपहर तीन बजे से साढ़े तीन बजे के बीच अंजाम दी गई। पुलिस का मानना है कि इस मौके को आरोपियों ने इसलिए चुना क्योंकि कार्यक्रम समाप्त हो चुका था और सुरक्षा में लगी पुलिस टीमें कहीं न कहीं रिलैक्स हो गई थीं। 

पहले भी इसी तरह की वारदातें, यूपी के कई गैंग लुधियाना तक सक्रिय

पुलिस पड़ताल के अनुसार इन दिनों में इस तरह की वारदातें पिछले वर्ष भी हुईं और खासकर इसमें प्रोफेशनल गैंग के लोग शामिल रहते हैं। यूपी के कई ऐसे गैंग हैं जो इस तरह की स्नैचिंग की वारदातें करते हैं और ये गैंग लुधियाना तक सक्रिय हैं। फिलहाल पुलिस टीम हरियाणा के अलावा यूपी में और पंजाब में इस तरह की वारदातों को अंजाम देने वालों का रिकॉर्ड खंगाल रही है और उम्मीद है कि जल्द ही पुलिस दोनों घटनाओं को ट्रेस कर लेगी। 

शहर से हर दिन बाइक चोरी

फतेहाबाद शहर में लगभग हर दिन बाइक चोरी की घटना हो रही है, पुलिस ने कुछ आरोपी पिछले दिनों पकड़े लेकिन बाइक चोरी की घटनाओं का सिलसिला नहीं रुका, जनवरी महीने में भी शहर से निरंतर बाइक चोरी की घटनाएं हुईं। इनमें लघु सचिवालय की पार्किंग, बस स्टैंड और नागरिक अस्पताल तीन ऐसी जगहें हैं, जहां पर बाइक चोरी की घटनाओं को निरंतर अंजाम दिया जा रहा है।

स्नैचिंग जैसी वारदातों में चोरी की बाइक होते हैं इस्तेमाल, दो बड़े उदाहरण

बाइक चोरी की घटना दूसरे अपराधों को जननी है। आमतौर पर चोरी के बाइक दूसरे बड़े अपराध करने के लिए की जाती हैं। स्नैचिंग की वारदात में सबसे अधिक चोरी के बाइक इस्तेमाल होते हैं। 7 महीने पहले चार मरला कॉलोनी में स्नैचिंग की वारदात हुई जिसमें पुलिस जांच में सामने आया कि पंजाब से चोरी किए गए बाइक पर आए आरोपियों ने पहले सिरसा में स्नैचिंग की वारदात की और फिर फतेहाबाद में। इसी तरह पिछले वर्ष भूना में 11 जनवरी को महिला का पर्स बाइक सवारों ने छीना था। स्नैचिंग की वारदातों में पिछले कुछ समय से अंकुश लगा होने के बाद अचानक 26 जनवरी के दिन दो घटनाएं होने से पुलिस की सिरदर्दी बढ़ गई है।

पुलिस की अलग-अलग टीमें हर एंगल से जांच में जुटी हैं : एसपी

... और पढ़ें
सीसीटीवी में कैद आरोपी। सीसीटीवी में कैद आरोपी।

फतेहाबाद: पूर्व एसडीएम भारतभूषण सहित 3 को हाईकोर्ट से मिली अंतरिम जमानत, सेशन कोर्ट में हो गई थी रद्द 

हरियाणा के फतेहाबाद में रतिया के पूर्व एसडीएम एचसीएस अधिकारी भारतभूषण कौशिक सहित 6 के खिलाफ विजिलेंस द्वारा दर्ज किए गए भ्रष्टाचार अधिनियम के केस में पंजाब एंड हरियाणा हाईकोर्ट ने सोमवार को आरोपी पूर्व एसडीएम व उनकी पत्नी सहित आरोपी बाला सिंह को अंतरिम जमानत दे दी। हाईकोर्ट में सोमवार को मामले में आरोपियों की अंतरिम जमानत पर सुनवाई हुई जिसमें आरोपियों के वकीलों ने भ्रष्टाचार की दर्ज एफआईआर को ही गलत बताते हुए इसे रद्द करने की गुजारिश की। 

विजिलेंस द्वारा केस में आरोपी बनाए गए एचसीएस अधिकारी भारत भूषण कौशिक व उनकी पत्नी सारिका के साथ-साथ बर्खास्त पुलिसकर्मी बाला सिंह के वकील एडवोकेट जसवीर सिंह ने बताया कि माननीय हाईकोर्ट ने हमारी दलीलों को सुनने के बाद उक्त तीनों आरोपियों को अंतरिम जमानत देने का फैसला सुनाया है। फिलहाल एचसीएस अधिकारी भारतभूषण कौशिक व उनकी पत्नी सारिका सहित आरोपी बाला सिंह की अंतरिम जमानत हो गई जबकि बाला सिंह की पत्नी कर्मजीत कौर की जमानत पर सुनवाई 27 जनवरी को हाईकोर्ट में होगी। 

सेशन कोर्ट में जमानत हो गई थी रद्द 

बता दें कि इससे पहले फतेहाबाद सेशन कोर्ट ने पूर्व एसडीएम व उनकी पत्नी सारिका सहित बाला सिंह व उनकी पत्नी की जमानत याचिका खारिज हो गई थी। इसके बाद आरोपियों ने जमानत के लिए हाईकोर्ट में अपील की। इनमें पूर्व एसडीएम व उनकी पत्नी सहित आरोपी बाला सिंह की जमानत पर 24 जनवरी को सुनवाई हुई। 

ये है मामला

फतेहाबाद के रतिया में बतौर एसडीएम रहते हुए एचसीएस अधिकारी भारत भूषण कौशिक पर आरोप है कि उन्होंने गैर कानूनी तरीके से रजिस्ट्री करवाकर एक प्रॉपर्टी को अपनी पत्नी और बर्खास्त पुलिसकर्मी बाला सिंह की पत्नी कर्मजीत कौर के नाम करवाया। विजिलेंस ने इस जमीन सौदे के संबंध में एसडीएम सहित 6 लोगों पर 24 दिसंबर 2021 को भ्रष्टाचार  निरोधक अधिनियम के तहत एफआईआर दर्ज की थी। 

सिर्फ पटवारी की गिरफ्तारी

भ्रष्टाचार के आरोप में दर्ज इस केस में स्टेट विजिलेंस हिसार की टीम ने एचसीएस अधिकारी भारत भूषण कौशिक व उनकी पत्नी सारिका के अलावा रतिया के तहसीलदार भजनलाल, पटवारी मदनलाल, बर्खास्त पुलिसकर्मी बाला सिंह व कर्मजीत कौर को आरोपी बनाया था। विजिलेंस ने मामले की जांच शुरू करते हुए अब तक केवल सिर्फ पटवारी मदनलाल की गिरफ्तारी की लेकिन अन्य कोई आरोपी अभी तक विजिलेंस के हाथ नहीं लगा।
... और पढ़ें

साइबर क्राइम: फतेहाबाद की छात्रा का इमीग्रेशन अकाउंट किया हैक, आस्ट्रेलिया के लिए लगा स्टडी वीजा करवाया रद्द

हरियाणा के फतेहाबाद में साइबर अपराध का एक ऐसा मामला सामने आया है, जिसने ऑस्ट्रेलिया की एंबेसी तक में खलबली मचा दी है। शहर थाना पुलिस ने साइबर अपराध की एफआईआर दर्ज की है, जिसमें आरोप है कि स्टडी वीजा के लिए ऑनलाइन अप्लाई के सिस्टम में सेंधमारी करके किसी व्यक्ति ने फतेहाबाद निवासी छात्रा का स्टडी वीजा रद्द करवा दिया। फतेहाबाद शहर पुलिस ने छात्रा श्रेया के पिता रोशनलाल की शिकायत पर अज्ञात व्यक्ति के खिलाफ केस दर्ज कर जांच शुरू कर दी है।

सुंदर नगर निवासी छात्रा के पिता रोशनलाल ने बताया कि उसकी बेटी श्रेया ने ऑस्ट्रेलिया की विक्टोरिया यूनिवर्सिटी में जुलाई इनटेक के लिए दाखिला लिया था। लॉकडाउन के चलते पहले फ्लाइट्स बंद हो गई थीं और उसके बाद स्टडी वीजा दिसंबर 2021 में लगा। 23 दिसंबर 2021 को जब श्रेया ऑस्ट्रेलिया जाने के लिए एयरपोर्ट पहुंची तो उसका वीजा रद्द मिला।

बताया गया कि वीजा 9 दिसंबर को ही रद्द हो गया था। इस बारे में जब ऑस्ट्रेलिया एंबेसी जाकर जानकारी ली गई तो पता चला कि किसी शख्स ने पहले अपनी ई-मेल आईडी को श्रेया की ई-मेल आईडी के नाम पर बदला और फिर बदली गई ई-मेल आईडी से छात्रा श्रेया का इमिग्रेशन अकाउंट हैक किया।

इमिग्रेशन अकाउंट हैक करके वीजा कैंसिलेशन के लिए 7 दिसंबर 2021 को अप्लाई किया गया। छात्रा के पिता का कहना है कि उसकी बेटी के वीजा और स्टडी से संबंधित जरूरी दस्तावेज या तो खुद बेटी के पास मौजूद हैं या उसके एजेंट वर्लिन एजुकेशन फतेहाबाद के रवि चौधरी के पास मौजूद हैं। फिलहाल पुलिस ने केस दर्ज कर छानबीन शुरू कर दी है।
... और पढ़ें

फतेहाबाद: सिरसा के आश्रम संचालक को अश्लील वीडियो बना कर रही थी ब्लैकमेल, पति के साथ नर्स गिरफ्तार

हरियाणा के फतेहाबाद जिले के गांव दरियापुर के एक दंपती को पुलिस ने सिरसा स्थित आश्रम के संचालक को अश्लील वीडियो का डर दिखाकर 20 लाख रुपये की ब्लैकमेलिंग करने के आरोप में गिरफ्तार किया है। गिरफ्तार आरोपी महिला किरण बेसहारा, मंदबुद्धि और दिव्यांग लोगों के लिए बने इस आश्रम में बतौर नर्स काम कर रही थी।

कुछ समय से वह आश्रम संचालक से अपने पति अशोक को आश्रम में मैनेजर की नौकरी पर रखने की मांग कर रही थी। आश्रम संचालक ने इसके लिए मनाकर दिया तो आरोपी महिला ने पति के साथ मिलकर 20 लाख की ब्लैकमेलिंग का खेल रचा डाला। आश्रम संचालक से आरोपी नर्स और उसके पति ने दो किश्तों में कुल चार लाख रुपये लिए। दूसरी किश्त लेते हुए उक्त दोनों को पुलिस ने रंगे हाथ गिरफ्तार कर लिया। 

पुलिस के अनुसार आश्रम में बतौर नर्स काम करने वाली महिला किरण के खिलाफ आश्रम संचालक गुरविंद्र सिंह ने एफआईआर दर्ज करवाते हुए आरोप लगाया है कि किरण ने पति को घर पर लाकर खुद अपना अश्लील वीडियो उसके साथ शूट करवाया और फिर 20 लाख रुपये की डिमांड की। पीड़ित से 16 जनवरी को दो लाख रुपये आरोपी नर्स ने लिए।

जब नर्स ने और पैसे का दबाव डाला तो आश्रम संचालक पुलिस के पास पहुंचा। पुलिस ने आरोपी दंपति को रंगे हाथ काबू करने के लिए टीम बनाई। इसके बाद फतेहाबाद के दरियापुर में दूसरी बार दो लाख रुपये की राशि आरोपी नर्स किरण और उसके पति अशोक ने ली तो पुलिस ने दोनों को रंगे हाथ पकड़ लिया। दोनों को पुलिस ने गिरफ्तार कर वीरवार को अदालत में पेश किया, जहां से उन्हें न्यायिक हिरासत में भेज दिया है।

पुलिस को इसलिए हुआ शिकायत पर यकीन

हनीट्रैप का जाल बिछाकर ब्लैकमेलिंग की शिकायत पर पुलिस के लिए सीधे तौर पर यकीन करना मुश्किल रहा। मगर शिकायतकर्ता के 100 फीसदी दिव्यांग होने के कारण पुलिस को यकीन हुआ कि पूरी साजिश महिला और उसके पति ने ही रची है। खुद पीड़ित अपने शरीर का पेट से नीचे का हिस्सा दूसरे के सहारे बिना हिला नहीं सकता। पुलिस ने शिकायत को गंभीरता से लेते हुए कार्रवाई की।

बदनामी और आश्रम का नाम खराब होने के डर से पहले दो लाख तुरंत दिए

अश्लील वीडियो शूट होने के बाद आश्रम संचालक पूरी तरह से घबरा गया। उसका कहना है कि आनन-फानन उसने खुद की बदनामी और आश्रम का नाम खराब होने के डर से दो लाख रुपये नर्स को दे दिए। मगर डिमांड बढ़ने लगी तो उसे पुलिस की शरण में जाना पड़ा।
... और पढ़ें

फतेहाबाद:  10 हजार का इनामी गुजरात के मेहसाना से गिरफ्तार, उत्तर प्रदेश के मैनपुरी जिले का रहने वाला है आरोपी

पुलिस गिरफ्त में आरोपी नर्स और उसका पति।
हरियाणा के फतेहाबाद में पंजाब की रामा मंडी से बहादुरगढ़ जा रही हिंदुस्तान पेट्रोलियम की अंडरग्राउंड पाइप लाइन से तेल चोरी की वारदात का मास्टर माइंड 10 हजार रुपये के इनामी को फतेहाबाद पुलिस ने गुजरात के मेहसाना से गिरफ्तार किया है। गिरफ्तार आरोपी रमेश उत्तर प्रदेश के मैनपुरी जिले के गांव मथूरिया का रहने वाला है। 

सीआईए स्टाफ के इंचार्ज कुलदीप सिंह ने बताया कि रमेश पर पुलिस ने 10 हजार रुपये का ईनाम घोषित किया हुआ था। मामले में फतेहाबाद पुलिस को आरोपी के गुजरात में छुपे होने की सूचना मिली। इसके बाद सीआईए टीम ने कार्रवाई करते हुए आरोपी को गुजरात से गिरफ्तार कर लिया।

आरोपी को मंगलवार को अदालत में पेश किया गया, जहां से उसे चार दिन के रिमांड पर भेज दिया गया है। कुलदीप सिंह ने बताया कि आरोपी गांव अहरवां में पाइप लाइन से आठ हजार लीटर तेल चोरी की घटना में मास्टर माइंड था। इस मामले में पुलिस चार आरोपियों को पहले ही गिरफ्तार कर चुकी है और रमेश के रूप में पांचवीं गिरफ्तारी हुई है।

29 अक्तूबर को पकड़ा गया था मामला

गौरतलब है कि 29 अक्तूबर 2021 को फतेहाबाद के गांव अहरवां में हिंदुस्तान पेट्रोलियम की पाइप लाइन में लीकेज कर तेल चोरी का मामला पकड़ा गया था। पुलिस ने कंपनी के सुपरवाइजर गांव करंडी निवासी राममूर्ति की शिकायत पर केस दर्ज कर जांच शुरू की थी। आरोप था कि चोरों द्वारा यहां से करीब आठ हजार लीटर तेल चोरी किया था। इस मामले में फतेहाबाद सीआईए पुलिस ने तीन युवकों कृष्ण निवासी कुंडल भिवानी, रणजीत निवासी मैनिया जिला मैनपुरी (यूपी) तथा फिराद अली निवासी मुरादाबाद हाल बुध बाजार, नांगलोई, दिल्ली को नवंबर में गिरफ्तार किया था।

वहीं, चौथे आरोपी जितेंद्र उर्फ राजीव निवासी मैनपुरी (यूपी) को 12 दिसंबर को ग्रेटर नोएडा से गिरफ्तार कर उससे चार हजार रुपये बरामद किए थे। इस मामले में पांचवां आरोपी रमेश चंद्र फरार चल रहा था, उस पर भी पुलिस ने 10 हजार रुपये का इनाम रखा है।
... और पढ़ें

फतेहाबाद में हादसा: ट्राला ने कार में मारी टक्कर, एक की मौत, बेटी को प्रसव कराने ले जा रहा था परिवार

हरियाणा के फतेहाबाद जिले के गांव झलनिया के पास गुरुवार सुबह तकरीबन पांच बजे दर्दनाक हादसा हो गया। ट्राला ने एक कार में टक्कर मार दी। हादसे में कार सवार अधेड़ की मौत हो गई और महिला घायल हो गई। घायल को नागरिक अस्पताल में भर्ती कराया गया, जहां से उसे हिसार रेफर कर दिया गया। बताया जा रहा है कि दंपती जाखल से रेफर की गई बेटी का प्रसव कराने उसकी एंबुलेंस के पीछे जा रहे थे। मामले में नरेंद्र के भाई राजेंद्र की तहरीर पर ट्रॉला चालक के खिलाफ मामला दर्ज किया गया है। 

गांव दीवाना नरेंद्र (50) की बेटी अंजलि की शादी गांव शक्करपुरा निवासी संदीप से हुई है। प्रसव पीड़ा होने पर बुधवार को संदीप अंजलि को जाखल स्थित अस्पताल ले गया, जहां से उसे फतेहाबाद रेफर कर दिया गया। एंबुलेंस में गर्भवती अंजलि और पति संदीप सवार हो गए। कार में सवार होकर नरेंद्र अपनी पत्नी संतोष, भाई राजेंद्र और भाभी के साथ एंबुलेंस के पीछे फतेहबाद की ओर रवाना हुए।

गांव झलनिया के पास नरेंद्र कार में तेल डलवाने के लिए पेट्रोल पंप पर रुक गए। तेल डलवाने के बाद पंप से निकलते ही सामने से आ ट्रॉला ने कार को जोरदार टक्कर मार दी। हादसे में कार में आगे बैठे नरेंद्र और उनकी पत्नी संतोष गंभीर रूप से घायल हो गए। कार में सवार राजेंद्र और उसकी पत्नी भी मामूली रूप से घायल हो गए।

राजेंद्र और उसकी पत्नी ने किसी प्रकार मौके से गुजर रहे कैंटर को रोका और चालक की मदद से परिजनों को फोन पर सूचना दी। परिजन एंबुलेंस लेकर मौके पर पहुंचे और दोनों घायलों को नागरिक अस्पताल ले जाया गया, जहां परीक्षण के बाद चिकित्सकों ने नरेंद्र को मृत घोषित कर दिया। वहीं संतोष को गंभीर हालत में हिसार रेफर कर दिया गया। 
... और पढ़ें

फतेहाबाद: बुलेट मोटरसाइकिल से पटाखे बजाने से रोका तो युवक के पेट में मारी गोली, हालत गंभीर

फतेहाबाद में घर के बाहर बुलेट से पटाखे बजाने से रोकने के विवाद को लेकर शहर के तुलसीदास चौक के पास बुधवार देर रात करीब 11 बजे युवकों ने रामनिवास मोहल्ला निवासी युवक मनीष के पेट में दो गोलियां मार दी। गंभीर रूप से घायल युवक को फतेहाबाद के नागरिक अस्पताल लाया गया, यहां से डॉक्टरों ने गंभीर हालत को देखते हुए रेफर कर दिया। घायल युवक का हिसार के निजी अस्पताल में उपचार चल रहा है। 
 
मामले में पुलिस ने घायल युवक रामनिवास मोहल्ला निवासी मनीष के भाई शशांक उर्फ काकू की शिकायत पर आरोपी फतेहाबाद निवासी सूरज, गुलाब जन्नत, सूरज, सनी, रोहित व टॉनी के खिलाफ हत्या प्रयास और शस्त्र अधिनियम के तहत मामला दर्ज किया है। वहीं घायल युवक की हालत गंभीर बताई जा रही है।
 
पुलिस को दी शिकायत में रामनिवास मोहल्ला निवासी शशांक उर्फ काकू ने बताया कि बुधवार रात करीब 10 बजे आरोपी सूरज और गुलाब बुलेट मोटरसाइकिल लेकर उसके घर के बाहर आए और पटाखे बजाने लगे इसको लेकर भाई मनीष ने उक्त लोगों को कहा कि यहां पर बुलेट से पटाखे न बजाएं लेकिन मना करने के बावजूद उक्त लोग पटाखे बजाते रहे और फिर झगड़ा करके चले गए।
 
आरोप है रात 11 बजे आरोपी बाल्मीकि चौक निवासी जन्नत घर पर आया और मनीष को बुलाकर ले गया, जब भाई तुलसीदास चौक के पास खड़ा था तो आरोपी सूरज, सनी रोहित, सूरज, गुलाब, टॉनी मौके पर आ गए। आरोप है कि रोहित ने मनीष के पेट पर दो गोली मारी और हवाई फायर किया।
इसके बाद आरोपी मौके से फरार हो गए, गंभीर रूप से घायल भाई को फतेहाबाद के सरकारी अस्पताल में लेकर आए यहां से प्राथमिक उपचार के बाद रेफर कर दिया गया, फिलहाल घायल मनीष का हिसार के निजी अस्पताल में उपचार चल रहा है।
... और पढ़ें

फतेहाबाद: गांव मोहम्मदपुर रोही में युवक की पीट-पीटकर हत्या, परिजनों ने दो दोस्तों पर लगाया आरोप

हरियाणा के फतेहाबाद में गांव मोहम्मदपुर रोही में 25 वर्षीय युवक की उसके दोस्तों ने ही पीट-पीटकर हत्या कर दी। युवक बुधवार रात को अपने दोस्तों के साथ और सुबह उसका शव मिला है, शरीर पर चोट के निशान मिले है। बताया जा रहा है कि तीनों दोस्तों ने एक-साथ बैठकर शराब पी थी और इसके बाद हत्या कर दी गई।

मामले में सदर पुलिस ने मृतक गांव मोहम्मदपुर रोही निवासी समीर के भाई देवेंद्र की शिकायत पर आरोपी ढाणी मोहम्मदपुर रोही निवासी राजेश उर्फ पवन और हिसार जिले के गांव सदलपुर निवासी हनुमान के खिलाफ हत्या के आरोप में मामला दर्ज किया है। 

पुलिस को दी शिकायत में देवेंद्र सिंह ने बताया कि बुधवार शाम करीब पांच बजे उसका भाई समीर ढाणी से गांव मोहम्दपुर रोही गया था। रात करीब 9 बजे समीर, खेत पड़ोसी राजेश उर्फ पवन, राजेश की बुआ का लड़का हनुमान निवासी सदलपुर और एक अन्य युवक पीर दरगाह के पास बैठे थे। इसके बाद समीर खेत पड़ोसी राजेश की ढाणी में राजेश और हनुमान के साथ जाकर सो गया।
 
गुरुवार सुबह सुबह 8 बजे जब राजेश की ढाणी में गए तो चारपाई पर समीर का शव पड़ा था। समीर की कमर पर नीले के निशान थे और शरीर पर कई जगह चोट के निशान मिले। आरोप है कि समीर को राजेश उर्फ पवन व हनुमान ने चोट मारकर हत्या की है। 

शक : शराब पीने के दौरान हुआ झगड़ा 

गांव एमपी रोही में युवक की हुई हत्या मामले में झगड़े का कारण शराब पीना बताया जा रहा है। परिजनों का कहना है कि चारों युवकों ने एक साथ शराब पी है और  झगड़ा हुआ है, इसके बाद पीट-पीटकर हत्या कर दी गई।
... और पढ़ें

सजा: चूरापोस्त तस्कर को 15 साल की कैद और एक लाख रुपये जुर्माना, न भरने पर दो साल की अतिरिक्त कैद

हरियाणा की फतेहाबाद जिला एवं सत्र न्यायाधीश डीआर चालिया की अदालत ने चूरापोस्त तस्करी मामले की सुनवाई करते हुए दोषी गांव मढ़ निवासी जग्गा सिंह को 15 साल की कैद और एक लाख रुपये जुर्माने की सजा सुनाई है। जुर्माना न भरने पर दो साल की कैद अतिरिक्त रूप से भुगतनी होगी। 

मामले के मुताबिक थाना सदर रतिया ने दोषी जग्गा सिंह के खिलाफ 9 जून 2019 को एनडीपीएस एक्ट के तहत मामला दर्ज किया था। पुलिस थाने में दर्ज मामले के मुताबिक पुलिस ने सरदूलगढ़ रतिया रोड़ पर नागपुर चुंगी के पास नाकेबंदी के दौरान दोषी की बाइक से एक कट्टा नीचे गिर गया और चूरापोस्त बिखर गया।

इस पर एएसआई प्रवीण कुमार ने दोषी को बाइक व कट्टा सहित आरोपी को काबू किया था। कट्टे में 8 किलो चूरापोस्त बरामद हुआ। पुलिस को दोषी जग्गा सिंह ने बताया कि वह काफी समय से नशा करने का आदी है। वह इधर-उधर से चूरापोस्त खरीदता है, उसमें कुछ बेच देता है और कुछ खा लेता है।

उसने बताया कि यह चूरापोस्त कुकड़ावाली के पवन कुमार से खरीदा था। अदालत ने 10 जनवरी को इस मामले में आरोपी जग्गा सिंह को दोषी करार दिया था जबकि इस मामले में एक आरोपी कुकड़ावाली निवासी पवन कुमार को संदेह का लाभ देकर बरी कर दिया था। 

पहले भी हो चुकी है सजा 

उल्लेखनीय है कि दोषी जग्गा सिंह को 1995 में हिसार की एक अदालत ने एनडीपीएस एक्ट के तहत 10 साल की सजा व एक लाख रुपये जुर्माने की सजा सुनाई थी। वहीं एक दूसरे मामले में हिसार की ही एक अदालत ने जग्गा को एनडीपीएस मामले में 5 साल की कैद व 25 हजार रुपये जुर्माने की सजा सुनाई थी।
... और पढ़ें

फतेहाबाद: महिला भ्रूण लिंग जांच के नाम पर लेती थी 15 हजार रुपये, स्वास्थ्य विभाग की टीम ने ऐसे पकड़ा

स्वास्थ्य विभाग फतेहाबाद और सिरसा की टीम ने टोहाना में रेड मारकर एक महिला को अवैध तरीके से भ्रूण लिंग जांच करवाने और धोखाधड़ी करने के आरोप में पकड़ा है। पकड़ी गई आरोपी महिला भ्रूण लिंग जांच के नाम पर15 हजार रुपये लेकर गर्भवती महिला का अल्ट्रासाउंड करवा रही थी।

पकड़ी गई आरोपी महिला की पहचान गांव अकांवाली निवासी रानी के रूप में हुई है। स्वास्थ्य विभाग ने आरोपी महिला को पुलिस के हवाले कर दिया है। वहीं मामले में टोहाना पुलिस ने आरोपी महिला के खिलाफ पीएनडीटी की धारा व धोखाधड़ी के आरोप में मामला दर्ज कर लिया है। 

 मामले के मुताबिक फतेहाबाद के सिविल सर्जन डॉ. वीरेश भूषण को गुप्त सूचना मिली थी कि अवैध रूप से लिंग जांच का काम हो रहा है। गिरोह को पकड़ने के लिए टीम को गठन किया गया। जिसमें चिकित्सा अधिकारी डॉ. गिरीश और निरपाल चंद्र को शामिल किया गया। इसके अलावा सिरसा स्वास्थ्य विभाग की टीम को भी शामिल किया गया। स्वास्थ्य विभाग की टीम ने गिरोह में शामिल महिला से संपर्क किया, जिसने भ्रूण लिंग जांच के लिए 15 हजार रुपये मांगे। गिरोह में शामिल महिला को पकड़ने के लिए डिकोय गर्भवती मरीज को तैयार किया गया।

स्वास्थ्य विभाग की टीम सोमवार सुबह गांव जमालपुर पहुंची। यहां पर भ्रूण लिंग जांच करवाने वाली महिला मिली और उसने 15 हजार रुपये ले लिए। महिला ने पहचान गांव अकांवाली निवासी रानी के रूप में हुई। महिला डिकोय गर्भवती मरीज को लेकर टोहाना के एक अस्पताल में पहुंची और डिकोय मरीज को लेकर अंदर चली गई। थोड़ी देर बाद महिला बाहर आई, जिसे स्वास्थ्य विभाग की टीम ने पकड़ लिया। महिला ने बताया कि अस्पताल के अंदर डिकोय गर्भवती का अल्ट्रासाउंड हो रहा है। जांच करने पर महिला के पास से स्वास्थ्य विभाग द्वारा दी गई राशि बरामद हुई।

आरोपी महिला ने स्वास्थ्य विभाग की टीम को पूछताछ में बताया कि गर्भवती महिला के साथ आए व्यक्ति ने भ्रूण लिंग जांच करवाने के लिए 15 हजार रुपये दिए थे। इसमें से उसने 100 रुपये की डॉक्टर पर्ची और 700 रुपये अल्ट्रासाउंड की पर्ची कटवाई है।

स्वास्थ्य विभाग ने अस्पताल के अंदर अल्ट्रासाउंड के रिकॉर्ड की जांच की तो वह सही मिला। स्वास्थ्य विभाग ने आरोपी महिला रानी के खिलाफ गर्भवती महिला के भ्रूण लिंग की गैर कानूनी जांच करने की एवज में राशि लेने और धोखाधड़ी करने के आरोप में शिकायत दी है। 
... और पढ़ें
  • Downloads

Follow Us

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00