बेहतर अनुभव के लिए एप चुनें।
INSTALL APP

फर्जी एनकाउंटर केस में 8 पुलिसवालों को उम्रकैद

ब्यूरो/अमर उजाला, पटियाला(पंजाब) Updated Fri, 03 Apr 2015 05:57 PM IST
विज्ञापन
life imprisonment to 8 policemen for fake encounter case

पढ़ें अमर उजाला ई-पेपर
कहीं भी, कभी भी।

ख़बर सुनें
दो फर्जी एनकाउंटर केसों में कोर्ट ने मंगलवार को एक एसपी समेत आठ पुलिस अधिकारियों व मुलाजिमों को उम्रकैद और जुर्माने की सजा सुनाई है। 22 साल पुराने इस केस में दोषियों ने एनकाउंटर में दिल्ली के एक कथित आतंकवादी समेत एक कांस्टेबल को फर्जी एनकाउंटर में मार गिराया था।
विज्ञापन


सरकारी वकील एचपीएस वर्मा ने बताया कि जिला जालंधर के लांबरा थाने की पुलिस सितंबर 1992 में ट्रांजिट रिमांड पर दिल्ली से टाडा एक्ट में गिरफ्तार कथित आतंकवादी विजयपाल सिंह को गिरफ्तार करके सीआईए स्टाफ जालंधर लेकर आई थी।


इस केस में बाद में पुलिस ने विजयपाल सिंह के साथ जालंधर पुलिस ट्रेनिंग सेंटर में लगे कांस्टेबल मुख्तियार सिंह, कांस्टेबल राजविंदर सिंह और संगरूर में लडाकोठी में तैनात कांस्टेबल बलजीत सिंहकी संलिप्तता होने का दावा करते हुए मुख्यितार सिंह व राजविंदर सिंह को गिरफ्तार कर लिया था। जबकि कांस्टेबल बलजीत सिंह को फरार बताया गया था।

इसी बीच चार सितंबर 1992 की रात को 21 पुलिस मुलाजिम व अधिकारी कथित आतंकी विजयपाल सिंह, कांस्टेबलों राजविंदर, मुख्तियार सिंह को विस्फोटक सामग्री बरामद कराने अपनी गाड़ी में लेकर जा रही थी।

लांबरा थाने से करीब 15 किलोमीटर दूर गांव चिटी के पास पुलिस ने एनकाउंटर करके विजयपाल सिंह को मार गिराया, जबकि दोनों कांस्टेबलों के बारे में कहा कि वह मौके से फरार हो गए।
विज्ञापन
आगे पढ़ें

दोषी पाते हुए कोर्ट ने उम्रकैद व जुर्माने की सजा सुनाई

विज्ञापन

आपकी राय हमारे लिए महत्वपूर्ण है। खबरों को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।

खबर में दी गई जानकारी और सूचना से आप संतुष्ट हैं?
विज्ञापन
विज्ञापन
सबसे विश्वसनीय हिंदी न्यूज़ वेबसाइट अमर उजाला पर पढ़ें हर राज्य और शहर से जुड़ी क्राइम समाचार की
ब्रेकिंग अपडेट।
 
रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें अमर उजाला हिंदी न्यूज़ APP अपने मोबाइल पर।
Amar Ujala Android Hindi News APP Amar Ujala iOS Hindi News APP
विज्ञापन
विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन
Election
  • Downloads

Follow Us