बेहतर अनुभव के लिए एप चुनें।
TRY NOW

नाभा जेल ब्रेक: खालिस्तानी आतंकी हरमिंदर सिंह मिंटू दिल्ली से गिरफ्तार

ब्यूरो/अमर उजाला, पटियाला(पंजाब) Updated Mon, 28 Nov 2016 12:09 PM IST
विज्ञापन
five prisoners run away from nabha jail at patiala of punjab
- फोटो : amarujala

पढ़ें अमर उजाला ई-पेपर
कहीं भी, कभी भी।

ख़बर सुनें
पंजाब की सबसे सुरक्षित मानी जाने वाली नाभा जेल से हथियारबंद बदमाशों ने रविवार सुबह ताबड़तोड़ गोलीबारी करते हुए खालिस्तान लिबरेशन फोर्स (केएलएफ) के प्रमुख हरमिंदर सिंह उर्फ मिंटू समेत छह कैदियों को छुड़ा लिया था। सभी बदमाश पुलिस वर्दी में आए थे और उन्होंने एक साथी को हथकड़ी भी लगा रखी थी। कैदियों को निकालने के लिए उन्होंने करीब 100 राउंड गोलियां चलाईं। हालांकि कैदियों को भगाने में मदद करने वाले एक अपराधी को हरियाणा से यूपी के कैराना में घुसते ही दबोच लिया गया। वहीं सोमवार को दिल्ली पुलिस ने बड़ी कामयाबी हासिल की है। खालिस्तानी आतंकी हरमिंदर सिंह मिंटू को गिरफ्तार कर लिया गया है।
विज्ञापन


इस घटना के बाद ही पंजाब के उप मुख्यमंत्री सुखबीर सिंह बादल ने नाभा जेल के अधीक्षक और उप अधीक्षक को बर्खास्त कर दिया। एडीजीपी जेल एमके तिवारी को निलंबित कर रोहित चौधरी को यह जिम्मेदारी दी गई।


पंजाब के डीजीपी सुरेश अरोड़ा ने बताया कि चार गाड़ियों में पुलिस की वर्दी में आए दस हथियारबंद अपराधी केएलएफ चीफ मिंटू, कश्मीर सिंह, गुरप्रीत सिंह सेखों, हरजिंदर सिंह उर्फ विकी गौंडर, अमनदीप सिंह ढोडियां और कुलप्रीत सिंह नीटू को भगा ले गए। मिंटू और कश्मीर सिंह आतंकी हैं और बाकी सभी खतरनाक गैंगस्टर। हथियारबंद फार्च्यूनर और वेरना गाड़ियों में आए थे।

उधर, मेरठ जोन के आईजी अजय आनंद ने बताया कि वाहन चेकिंग के दौरान पुलिस को देखकर एक व्यक्ति फार्च्यूनर से कूदकर भागने लगा। पुलिस वालों ने दौड़कर उसका पीछा किया और उसे गिरफ्तार कर लिया। उसका नाम पलविंदर उर्फ पिंदा है। गाड़ी से एसएलआर और बंदूक सहित कई अवैध हथियार रखे मिले। पूछताछ में पिंदा ने अपने दो भाई और दो साथियों के साथ जेलब्रेक में मदद करने की बात स्वीकार कर ली है।

पूछताछ में पलविंदर ने बताया कि वह जालंधर का रहने वाला है। उसने वर्ष 2013 में जालंधर में एक सब इंस्पेक्टर की हत्या कर दी थी। इस मामले मे वह नाभा जेल में बंद था। लगभग दो महीने पहले पलविंदर बीमारी का बहाना बनाकर अस्पताल में दाखिल हुआ और वहीं से फरार हो गया। फरार होने के बाद से वह देहरादून रह रहा था। जिस समय पलविंदर को पकड़ा गया, वह पूरी तरह नशे में था। उसने भारी मात्रा में ड्रग्स ली हुई थी। पूछताछ में पलविंदर ने बताया कि मिंटू को छुड़ाने के लिए पुख्ता प्लानिंग की हुई थी। 

विज्ञापन
आगे पढ़ें

100 से ज्यादा राउंड फायरिंग

विज्ञापन

आपकी राय हमारे लिए महत्वपूर्ण है। खबरों को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।

खबर में दी गई जानकारी और सूचना से आप संतुष्ट हैं?
विज्ञापन
विज्ञापन
सबसे विश्वसनीय हिंदी न्यूज़ वेबसाइट अमर उजाला पर पढ़ें हर राज्य और शहर से जुड़ी क्राइम समाचार की
ब्रेकिंग अपडेट।
 
रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें अमर उजाला हिंदी न्यूज़ APP अपने मोबाइल पर।
Amar Ujala Android Hindi News APP Amar Ujala iOS Hindi News APP
विज्ञापन
विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन
Election
  • Downloads

Follow Us

X

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00
X