विज्ञापन

नैनीताल

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
Digital Edition

Uttarakhand News : पत्नी ने ससुराल जाने से मना किया तो दामाद ने पिता संग मिलकर ले ली ससुर की जान

गोरापड़ाव के पास हेड़ागज्जर गांव में एक विवाहिता ने प्रताड़ना से तंग आकर ससुराल जाने से मना किया तो पति ने अपने पिता की मदद से दिव्यांग ससुर को पीटकर मार डाला। बीच-बचाव के लिए आए साले और सास को भी पीट दिया। पुलिस ने मुकदमा दर्ज कर दामाद और उसके पिता को गिरफ्तार कर लिया है। 

मूलरूप से पीलीभीत के अमरिया निवासी रोशनलाल दो दशक से हेड़ागज्जर निवासी मोहन कांडपाल के खेत में झोपड़ी बनाकर परिवार के साथ रहते थे। बटाईदारी का काम करने वाले रोशन लाल ने अपनी बड़ी बेटी आरती की शादी हेड़ागज्जर में ही रहने वाले गोपाल सक्सेना के साथ 25 नवंबर 2020 को की थी।

आरोप है कि शादी के बाद से ही ससुरालियों ने आरती को दहेज के लिए प्रताड़ित करना शुरू किया तो आरती 13 जनवरी को मायके चली आई। 
... और पढ़ें

Nainital News : बेतालघाट ब्लाक में दो बाबाओं ने किया बच्चे के अपहरण का प्रयास, मजदूर ने बचाया

बेतालघाट ब्लॉक में रतौड़ा गांव के मंदिर में में रहने वाले दो बाबाओं ने गांव के उसी बालक (12) का अपहरण कर लिया, जो उन्हें खाना खिलाता था। काफी ढूंढखोज के बाद किशोर को दूसरे गांव हल्सों के मंदिर से बरामद कर लिया गया। राजस्व पुलिस ने आरोपी बाबाओं को हिरासत में लेकर उनके खिलाफ मुकदमा दर्ज कर लिया है। दोनों बाबाओं को सोमवार को अदालत में पेश किया जाएगा।  

राजस्व पुलिस के अनुसार शुक्रवार देर रात करीब 2:30 बजे गांव के मंदिर में रहने वाले एक बाबा और उसके चेले ने हिमांशु मेहरा पुत्र शंकर सिंह मेहरा को अगवा कर लिया। वे हिमांशु को गांव से तीन किमी दूर हल्सों गांव के मंदिर में ले गए और उसे वहां बंद कर लिया। हिमांशु के  परिजन अपने परिचित के घर जागर में गए थे। जब वे लौटे और उन्हें हिमांशु घर पर नहीं मिला तो वे परेशान हो गए।

उन्होंने ग्रामीणों के साथ रातभर हिमांशु की खोजबीन की और राजस्व पुलिस को सूचना दी। शनिवार सुबह तक हिमांशु का पता नहीं चला तो गांव के सभी लोग इकट्ठा हो गए। वे हिमांशु को ढूंढते हुए कोसी नदी के किनारे पहुंचे, जहां उसके कपड़े मिले। इधर, हल्सों गांव में मंदिर के पास काम पर गए मजदूर विनोद शर्मा को मंदिर के कमरे से दरवाजा खटखटाने की आवाज सुनाई दी। विनोद ने ग्रामीणों को इसकी जानकारी दी।

ग्रामीणों ने कमरे का ताला तोड़कर देखा तो वहां हिमांशु बंद था। जैसे ही उसने परिजनों को देखा वह गले लगकर रोने लगा। हिमांशु ने बाबाओं के कपड़े पहने हुए थे। यह देख परिजन और ग्रामीण भड़क गए और वे हिमांशु को रतौड़ा ले आए। पटवारी प्रवीण ह्यांकी ने बाबाओं को हिरासत में ले लिया।

दोनों के खिलाफ अपहरण के आरोप में धारा 363 अ के तहत मुकदमा दर्ज कर लिया गया है। पटवारी ने बताया कि सोमवार को दोनों को अदालत में पेश किया जाएगा। ग्रामीणों ने बताया कि  आरोपी बाबा टिहरी निवासी पूरन गिरि (62) दो साल से हल्सों गांव के मंदिर में रह रहा था। उसका चेला पौड़ी निवासी संध्या गिरि (19) दो महीने पहले ही आया था और रतौड़ा गांव में रह रहा था।
... और पढ़ें

उत्तराखंड: हल्द्वानी में ढाबा मालिक की गोली मारकर हत्या, पत्नी के मायके के सामने हुई वारदात

उत्तराखंड में हल्द्वानी के चांदमारी काठगोदाम में बृहस्पतिवार की शाम ढाबा मालिक की सीने में गोली मारकर हत्या कर दी गई। वारदात पत्नी के मायके के पास हुई। पिता और बहन पत्नी पर हत्या की साजिश का आरोप लगा रहे हैं।

चांदमारी निवासी अमित कुमार (32) पुत्र मंगल प्रसाद ने सलड़ी में ढाबा खोल रखा था। बृहस्पतिवार शाम वह ढाबे से लौटने के बाद रुद्रपुर तहसील में कार्यरत अपनी बहन शालिनी को लेने के लिए बाइक से काठगोदाम के लिए निकला लेकिन पुल पर जाम होने के कारण वह नहीं जा सका।

बहन खुद ही घर चली आई। इस बीच, किसी व्यक्ति ने घर पहुंचकर शालिनी को सूचना दी कि उसका भाई गली में लहूलुहान पड़ा है। बहन मौके पर पहुंची तो भाई लहूलुहान पड़ा था। उसकी बाइक दूर खड़ी थी। घटना की सूचना मिलने के बाद काठगोदाम पुलिस मौके पर पहुंची।
... और पढ़ें

महेंद्र भाटी हत्याकांड: सजा बढ़ाने की मांग करने वाली याचिका खारिज, मामले के सभी दोषी उत्तराखंड हाईकोर्ट से बरी

हाईकोर्ट ने उत्तर प्रदेश के दादरी से पूर्व विधायक रहे महेंद्र भाटी हत्याकांड के आरोपी प्रनीत भाटी को भी बरी कर दिया है। मामले में डीपी यादव, करन यादव, लक्कड़ पाला सिंह को कोर्ट पहले ही बरी कर चुका है। इस मामले में अब सभी आरोपी बरी हो चुके हैं।
 
महेंद्र भाटी के बेटे की याचिका खारिज
कोर्ट ने सभी दोषियों आरोपियों की सजा बढ़ाने की मांग करने वाली महेंद्र भाटी के बेटे की याचिका को खारिज कर दिया है। मामले में हाईकोर्ट ने सीबीआई कोर्ट के उस फैसले को पलट दिया है, जिसमें सीबीआई कोर्ट ने इन आरोपियों को आजीवन कारावास की सजा सुनाई थी।

1992 में हुई थी गाजियाबाद के विधायक महेंद्र भाटी की हत्या
कुछ दिन पूर्व कोर्ट ने  मामले की सुनवाई पूरी करने के बाद फैसला सुरक्षित रखा था। मामले के अनुसार 13 सितंबर 1992 को गाजियाबाद के विधायक महेंद्र भाटी की हत्या कर दी गयी थी। जिसका आरोप डीपी यादव, प्रनीत भाटी, करण यादव व पाल सिंह पर लगा था। 15 फरवरी 2015 को देहरादून सीबीआई की अदालत ने सभी आरोपियों को दोषी मानते हुए आजीवन कारावास की सजा सुनाई थी।
... और पढ़ें
नैनीताल हाईकोर्ट नैनीताल हाईकोर्ट

रामनगर: पहले छात्रा से अश्लील बातें कीं, शिकायत पर परिजन स्कूल पहुंचे तो बाथरूम में खुद को कर लिया बंद

छात्रा से अश्लील बातें करने का आरोपी शिक्षक परिजनों के विद्यालय पहुंचने पर बाथरूम में घुस गया। पुलिस के पहुंचने के बाद भी वह बाहर निकलने को तैयार नहीं हुआ। दरवाजा काटने की बात पर करीब दो घंटे बाद वह बाहर निकला। पुलिस ने परिजनों की तहरीर पर पॉक्सो एक्ट में मुकदमा दर्ज कर शिक्षक को हिरासत में ले लिया।

घटना के बाद से अवकाश पर था शिक्षक

एक विद्यालय की छात्रा ने अपने परिजनों को बताया था कि शिक्षक ने अश्लील बातें की हैं। घटना के बाद से शिक्षक अवकाश पर था। शनिवार को शिक्षक के स्कूल पहुंचने की जानकारी मिलने पर परिजन भी पहुंच गए। उन्होंने प्रधानाचार्य को मामले की जानकारी दी। इधर, शनिवार को ही शिक्षक ने छात्रा के चाचा के खिलाफ झूठे आरोप में फंसाने, धमकी और गालीगलौज करने की तहरीर थाने में दी।

स्कूल के बाथरूम में घुस गया और खुद को बंद कर लिया

सोमवार को छात्रा के चाचा और एबीवीपी कार्यकर्ता स्कूल पहुंचे तो शिक्षक भागकर स्कूल के बाथरूम में घुस गया और खुद को बंद कर लिया। सूचना पर पहुंचे एसआई मनोज अधिकारी, राजेंद्र सिंह नेगी, एचसीपी मोहन चंद्र ने शिक्षक से बाहर निकलने को कहा, लेकिन वह नहीं माना। शिक्षकों और प्रधानाचार्य ने भी मारपीट नहीं होने का भरोसा दिया।

एसएसआई मुनव्वर हुसैन ने फायर ब्रिगेड की टीम को बुलाकर बाथरूम का गेट काटने को कहा। इसके बाद शिक्षक बाहर आने को तैयार हुआ। एसएसआई ने बताया कि आरोपी शिक्षक को मंगलवार को कोर्ट में पेश किया जाएगा। प्रधानाचार्य का कहना है शिक्षक पर लगे आरोपों की जांच कॉलेज प्रशासन कर रहा है।
... और पढ़ें

नैनीताल हाईकोर्ट:  फांसी की सजा के रिकॉर्ड कोर्ट ने किए तलब, देहरादून में परिवार के पांच लोगों की हत्या का मामला

2014 में देहरादून के प्रेमनगर में दीपावली की रात अपने ही परिवार के पांच सदस्यों की हत्या के अभियुक्त को सत्र न्यायालय देहरादून की ओर से दी गई फांसी की सजा के मामले में हाईकोर्ट ने सत्र न्यायालय से समस्त रिकॉर्ड कोर्ट में तलब किए हैं।

जिला सत्र न्यायाधीश ने हरमीत को फांसी की सजा सुनाई थी
मुख्य न्यायाधीश आरएस चौहान एवं न्यायमूर्ति एनएस धानिक की खंडपीठ के समक्ष मामले की सुनवाई हुई। पांच अक्तूबर 2021 को जिला सत्र न्यायाधीश (पंचम) आशुतोष मिश्रा ने हरमीत को अपने ही परिवार के पांच सदस्यों की हत्या करने का दोषी पाते हुए फांसी की सजा सुनाई थी। सत्र न्यायालय ने पुष्टि करने के लिए यह आदेश हाईकोर्ट को भेजा था। 

सात साल बाद फांसी की सजा: परिवार के चार लोगों पर किए थे चाकू से ताबड़तोड़ 88 वार, गर्भवती बहन पर भी नहीं आया था तरस

मामले के अनुसार 23 अक्तूबर 2014 को आरोपी हरमीत ने अपने पिता जय सिंह, सौतेली मां कुलवंत कौर, गर्भवती बहिन हरजीत कौर, तीन साल की भांजी सहित बहिन के कोख में पल रहे गर्भ की भी चाकू से गोदकर हत्या कर दी थी। हत्यारे ने चाकू से 85 वार किए इसकी पुष्टि मेडिकल रिपोर्ट से हुई। पुलिस ने जांच में पाया कि आरोपी हरमीत के पिता की दो शादियां थीं, उसको शक था कि उसके पिता सारी संपति को सौतेली बहिन के नाम पर कर सकते हैं।

घटना देहरादून के आदर्श नगर की
उसकी सौतेली बहिन एक सप्ताह पहले ही अपनी डिलीवरी के लिए यहां आई हुई थी। दिवाली की रात को हरमीत ने पांच लोगों की निर्मम हत्या कर दी। इस केस का मुख्य गवाह पांच वर्षीय कमलजीत बच गया। घटना देहरादून के आदर्श नगर की थी। 24 अक्तूबर 2014 को पुलिस ने उसके खिलाफ मुकदमा दर्ज किया था।

जिला सत्र न्यायाधीश (पंचम) आशुतोष मिश्रा ने 5 अक्तूबर 2021 को उसे फांसी की सजा सुनाई थी। साथ ही एक लाख रुपये का अर्थदंड भी लगाया था। पुष्टि के लिए जिला एवं सत्र न्यायाधीश ने हाईकोर्ट को अपना यह आदेश भेजा था जिस पर हाईकोर्ट ने सुनवाई के बाद निचली कोर्ट के समस्त रिकार्ड तलब किए हैं।
... और पढ़ें

उत्तराखंड: हल्द्वानी में नौवीं की छात्रा का अपहरण, सामूहिक दुष्कर्म के बाद हत्या

हल्द्वानी में नौवीं की एक छात्रा को अगवा कर दो युवकों ने पहले तो सामूहिक दुष्कर्म किया और फिर उसी के दुपट्टे से गला घोंटकर उसकी हत्या कर दी। छात्रा सात दिन से लापता थी। उसका शव बुधवार को अर्द्धनग्न हाल में ट्रंचिंग ग्राउंड के पास नाले में पड़ा मिला। साक्ष्य छिपाने के लिए शव के ऊपर चटाई और गद्दे डाले गए थे। पुलिस ने आरोपी युवकों को गिरफ्तार कर लिया है।

नौवीं की छात्रा 29 सितंबर की दोपहर लापता हो गई थी। परिवार के लोगों ने थाने में गुमशुदगी दर्ज कराई थी। पुलिस ने सीसीटीवी फुटेज खंगाली तो दो बजकर 28 मिनट पर छात्रा अपने किराएदार की बेटी के साथ जाती दिखी थी। इसके बाद उसके साथ उसका परिचित इंदिरानगर निवासी दानिश दिखाई दिया।

पुलिस ने दानिश को पकड़कर पूछताछ की लेकिन वह कहीं और जाने की बात कहकर टालता रहा। इस दौरान बनभूलपुरा क्षेत्र के 35 कैमरों को खंगाला गया। पुलिस ने मंगलवार को गौलाजाली रजा गेट के पास सीसीटीवी फुटेज खंगाली तो 29 सितंबर को तीन बजकर 41 मिनट पर छात्रा इंदिरानगर निवासी जीशान के साथ जाती हुई दिखाई दी। पुलिस ने मंगलवार की रात जीशान को पकड़ लिया।

बुधवार को पूछताछ के दौरान जीशान टूट गया। उसने बताया कि दानिश ने छात्रा को ट्रंचिंग ग्राउंड के पास जंगल में मारकर नाले में फेंका है। पुलिस ने जीशान की निशानदेही पर नाले से छात्रा का शव अर्धनग्न हालत में बरामद किया। शव अधिक समय तक गंदे पानी में रहने के कारण फूल गया था। एसएसपी प्रीति प्रियदर्शिनी, एसपी सिटी डॉ. जगदीश चंद्र और सीओ शांतनु पाराशर ने मौके का मुआयना किया। फोरेंसिक टीम ने मौके से साक्ष्य एकत्रित किए।  

ये धाराएं लगाईं
बनभूलपुरा थानाध्यक्ष प्रमोद पाठक ने बताया कि अपहरण, हत्या, सामूहिक दुष्कर्म को देखते हुए आरोपियों के खिलाफ 363, 376 (3), 376 (डी), 34, 5 (ज),  302, 201, 5/6, पॉक्सो एक्ट के तहत मुकदमा दर्ज किया गया है।

स्मैक पीने से रोका तो छात्रा को थप्पड़ मार दिया
जीशान ने बताया कि छात्रा और दानिश के बीच विवाद हुआ था। सुलह कराने के लिए वह दोनों को लेकर जंगल में गया था। इस बीच जीशान ने स्मैक पीने का प्रयास किया तो छात्रा ने टोक दिया। इससे गुस्साए जीशान ने छात्रा को थप्पड़ जड़ दिया। छात्रा के बेहोश होने पर दोनों ने दुपट्टे से उसका गला कसकर मार डाला। पुलिस का कहना है कि दोनों ने छात्रा के साथ दुष्कर्म भी किया था।

दानिश छह दिनों तक पुलिस को चकमा देता रहा
दानिश घटना के दिन से ही पुलिस को चमका देता रहा। छात्रा की तलाश में उसने पुलिस को मंडी से लेकर कई स्थानों तक घुमाया। वह छात्रा की मां और परिजनों का भी हमदर्द बना रहा। इसी कारण किसी को उस पर शक नहीं हुआ। हर रोज सुबह वह परिजनों के साथ छात्रा को ढूंढने का नाटक करता था।

नशेड़ी हैं दानिश और जीशान
छात्रा की हत्या के आरोप में गिरफ्तार दानिश और जीशान दोनों नशेड़ी और सट्टेबाज हैं। छात्रा की मौसी ने बताया कि दोनों ही स्मैक पीते थे। दिखावे के लिए आलमारी बनाने का काम करते थे। दोनों सट्टेबाजी भी कराते थे। कई बार लोगों ने दानिश और जीशान के परिजनों से नशे के बारे में शिकायत की थी लेकिन कोई असर नहीं पड़ा।

छात्रा के घर में सात दिनों से नहीं बना भोजन
छात्रा की मौसी ने बताया कि 29 सितंबर की घटना के बाद परिवार के लोग काफी परेशान थे। रोज बेटी को ढूंढने के लिए चाय पीकर निकल जाते थे। इसी कारण घर में खाना नहीं बनता था। 
... और पढ़ें

वर्दी हुई दागदार: हल्द्वानी में एएसआई ने 10 साल की बच्ची से की छेड़खानी, मुकदमा दर्ज

उत्तरांखंड के हल्द्वानी में कुसुमखेड़ा क्षेत्र में कोतवाली थाने के एएसआई ने एक दुकान में 10 साल की बच्ची के साथ छेड़खानी कर दी। इससे गुस्साए परिजनों और पड़ोसियों ने एएसआई को पकड़कर जमकर पिटाई कर दी। उसे बेस अस्पताल में भर्ती कराया गया है। आरोपी के खिलाफ कई धाराओं में केस दर्ज करने के साथ ही एसएसपी ने उसे निलंबित कर दिया है।

कोतवाली थाना क्षेत्र के टीपीनगर चौकी में तैनात 57 वर्षीय एएसआई मदन सिंह परिहार बिठौरिया क्षेत्र में रहता है। वह रविवार सुबह सात बजे एक जनरल स्टोर में दूध लेने गया था। आरोप है कि इस दौरान उसने 10 साल की बच्ची को पकड़कर उसके साथ छेड़खानी की। इसकी भनक जब लोगों को लगी तो उन्होंने पुलिसकर्मी की जमकर पिटाई कर दी। उसके सिर से खून बहने लगा तो लोगों ने उसे छोड़ दिया और मुखानी पुलिस को घटना की जानकारी दी। थानाध्यक्ष सुशील कुमार ने मौका मुआयना किया।

परिजनों की तहरीर पर एएसआई परिहार के खिलाफ धारा 354, 354 ए, 9(ए)(4) (एल)10 पॉक्सो के तहत मुकदमा दर्ज किया गया है। मुकदमे की विवेचना उपनिरीक्षक कुमकुम धानिक कर रही हैं। उधर, आरोपी पुलिसकर्मी छेड़खानी की घटना से इनकार कर रहा है। मामले में एसएसपी प्रीति प्रियदर्शिनी ने थानाध्यक्ष की रिपोर्ट के आधार पर आरोपी को तत्काल प्रभाव से निलंबित कर दिया।  

आरोपी को रंगेहाथ पकड़ने के लिए लोगों ने बनाया वीडियो
बताया जा रहा है कि आरोपी एएसआई ने दो दिन पहले भी बच्ची से छेड़खानी की थी। लोग उसे रंगे हाथ पकड़ना चाहते थे इसलिए उन्होंने स्टिंग ऑपरेशन कर वीडियो बना लिया। इसके बाद जब आरोपी ने दुबारा छेड़खानी की तो लोगों ने उसे धर दबोचा और पिटाई कर दी। लोगों ने छेड़खानी की वीडियो क्लिप पुलिस के सुपुर्द कर दी है।
... और पढ़ें

उत्तराखंड: नैनीताल में नोएडा की महिला की हत्या, परिजनों का आरोप- ऋषभ बताकर आरोपी इमरान ने धोखे में रखा 

नोएडा निवासी महिला पर्यटक की नैनीताल के एक होटल में हुई हत्या के कई दिन बीतने के बाद भी पुलिस हत्यारोपी को नहीं पकड़ पाई है। महिला की मां, भाई और रिश्तेदारों ने कहा कि उन्हें पहले पता होता कि ऋषभ तिवारी असल में इमरान है, तो वे बेटी को उससे मिलने ही नहीं देते। 

नोएडा निवासी महिला, इमरान (ऋषभ तिवारी), स्वेता और अलमास उल हक स्वतंत्रता दिवस के दिन नैनीताल आए थे। वे यहां मल्लीताल स्थित होटल गैलेक्सी में ठहरे थे। उसी रोज महिला का जन्म दिन था इसलिए चारों ने देर रात तक होटल के कमरे में पार्टी की। इसके बाद महिला और इमरान एक कमरे में और स्वेता और अलमास उल हक दूसरे कमरे में चले गए। सोमवार की सुबह होटल के कमरे से नग्नावस्था में महिला (30) का शव बरामद हुआ, जबकि उसके साथ कमरे में ठहरा इमरान वहां से फरार हो चुका था।

स्वेता व अलमास उल हक की शिकायत पर पुलिस ने इमरान के खिलाफ हत्या का मुकदमा दर्ज किया था। मंगलवार को महिला की मां, भाई, दो महिला दोस्त, एक अन्य रिश्तेदार के साथ नैनीताल पहुंचे। पोस्टमार्टम हाउस में मीडिया कर्मियों से बातचीत में परिजनों ने बताया कि वे इमरान को ऋषभ तिवारी के नाम से जानते थे। उसे ब्राह्मण समझते थे। उन्होंने बताया कि इमरान ने उन्हें धोखे में रखा। दोस्तों ने बताया कि फरार इमरान ने फेसबुक में अपनी आईडी भी ऋषभ तिवारी के नाम से ही बनाई है। 

हत्या के बाद बेटी के पास पहुंचा और मोबाइल का पासवर्ड पूछ लिया
महिला के परिजनों से हुई पूछताछ में पुलिस को पता चला कि नैनीताल से फरार हुआ इमरान सोमवार की सुबह दस बजे नोएडा स्थित अपने फ्लैट में पहुंच गया था। महिला के भाई के अनुसार फ्लैट से जरूरी सामान लेने के बाद इमरान उनके घर पहुंचा था, जहां उसने महिला की बेटी से कहा कि उसकी मां फोन भूलकर ऑफिस चली गई है। इमरान ने इसी दौरान बेटी से मोबाइल का पासवर्ड भी पूछ लिया और लॉक खोलकर फोन लेकर चला गया।
... और पढ़ें

हल्द्वानी: स्पा सेंटर में चल रहा था देह व्यापार, बेसमेंट में रखी गईं कई राज्यों की नौ लड़कियों को छुड़ाया

हल्द्वानी में हाइडिल गेट स्थित स्पा सेंटर में सोमवार की शाम पुलिस ने छापा मारकर बड़े देह व्यापार का भंडाफोड़ किया। पुलिस ने एक युवक को आपत्तिजनक हालत में पकड़ लिया। सेंटर से पुलिस ने गैर राज्यों से लाई गईं नौ लड़कियों, एक ग्राहक और प्रबंधक को गिरफ्तार कर लिया। छापे की भनक मिलते ही दोनों संचालिकाएं फरार हो गई। पुलिस ने मौके से आपत्तिजनक वस्तुएं बरामद की हैं।

सीओ शांतनु पाराशर ने बताया कि सूचना मिली थी कि हाइडिल गेट स्थित जंगल लक्जरी स्पा सेंटर से देह व्यापार संचालित हो रहा है। सीओ ने एंटी ह्यूमन ट्रैफिकिंग सेल की यूनिट को साथ लेकर स्पा सेंटर में छापा मार दिया। इस दौरान स्थानीय नागरिक वीरेंद्र और मनु रौतेला भी मौजूद थे। पुलिस ने अंदर एक युवक को आपत्तिनजक हालत में एक कमरे से पकड़ लिया।

अचानक हुए छापे से सेंटर में हड़कंप मच गया। पकड़ा गया युवक आशीष उनियाल काठगोदाम क्षेत्र में रहता है लेकिन मूलरूप से न्यू टिहरी का रहने वाला है। आशीष एक निजी कंपनी में काम करता है। पुलिस ने सेंटर प्रबंधक पश्चिम बंगाल के वरुणपारा वारूईपुरा नदिया निवासी प्रबंधक को भी गिरफ्तार किया है। काठगोदाम पुलिस ने एंटी ह्यूमन ट्रैफिकिंग सेल की प्रभारी की तहरीर पर धारा 3,4,5,6,8 इंमोरल ट्रैफिकिंग एक्ट 1942 के तहत मुकदमा दर्ज किया है। पुलिस दिल्ली की रहने वाली संचालिका सुमन और स्वाति वर्मा की तलाश कर रही है।
... और पढ़ें

उत्तराखंड:  नैनीताल के होटल में नोएडा की महिला पर्यटक की संदिग्ध मौत, नग्न अवस्था में मिला शव

नैनीताल के मल्लीताल क्षेत्र में स्थित एक होटल के कमरे से महिला का शव नग्न अवस्था में मिलने से हड़कंप मच गया। महिला के साथी पर्यटकों द्वारा पुलिस को सूचना देने के बाद पुलिस मामले की जांच में जुट गई है। महिला के साथ कमरे में ठहरा युवक मौके से फरार है। जिसके चलते पुलिस इसे हत्या मान रही है। पुलिस ने महिला के परिजनों को सूचित कर दिया है।

पुलिस के अनुसार 13 अगस्त को होरिजन होम्स नोएडा एक्सटेंशन निवासी दीक्षा मिश्रा, ऋषभ के साथ व स्वेता शर्मा, अलमास उलहक के साथ नैनीताल घूमने आए थे। वह 13 अगस्त को रामनगर के एक रिसोर्ट में ठहरे हुए थे। जिसके बाद वह 14 अगस्त को नैनीताल आ गए।

नैनीताल आकर उन्होंने एक होटल में दो कमरे ले लिए। 15 अगस्त को दीक्षा के जन्मदिन के मौके पर चारों ने पार्टी की।  जिसके बाद एक कमरे में दीक्षा मिश्रा ऋषभ के साथ व दूसरे कमरे में स्वेता शर्मा, अलमास उलहक के साथ सोने चले गए। 
... और पढ़ें

शादी का खौफनाक अंत: नौ महीने तक साथ जीने मरने की कसमें खाईं और फिर पत्नी को सुला दिया मौत की नींद 

दिल्ली से नैनीताल लाकर एक युवक ने अपनी पत्नी की गला दबाकर जान ले ली और शव हल्द्वानी-नैनीताल हाईवे पर बेलुवाखान के पास कलमठ में ठिकाने लगा दिया। 

सामने आया कि नैनीताल के शक्तिफार्म निवासी युवक और दिल्ली निवासी युवती दोनों ही दिल्ली के एक शापिंग मॉल में साथ काम करते थे। यहीं से दोनों के बीच प्रेम परवान चढ़ा। जब युवती ने युवक से शादी करने के लिए कहा तो वह बहाने बनाकर टालता रहा।

आखिरकार युवती ने एक दिन दिल्ली पुलिस में युवक के खिलाफ दुष्कर्म की रिपोर्ट दर्ज करा दी। इतना होने के बाद दोनों के बीच समझौता हुआ और नौ महीने पहले दोनों ने शादी कर ली। 

यह भी पढ़ें...
उत्तराखंड: दिल्ली से पत्नी को नैनीताल लाकर मार डाला, डेढ़ महीने बाद मिला सड़ा-गला शव

यह खुलासा युवती के पति ने पुलिस से पूछताछ के दौरान किया। आरोपी पति ने पुलिस को बताया कि शादी के बावजूद पारिवारिक कारणों के चलते दोनों एक दूसरे से खुश नहीं थे और आए दिन उसकी पत्नी किसी न किसी बात को लेकर उसके साथ झगड़ा करती थी। इसमें सास व बहू के बीच होने वाली कलह भी शामिल थी। 

पुलिस के मुताबिक शुरुआत में आरोपी ने पत्नी को समझाने का प्रयास किया लेकिन दोनों के बीच किसी न किसी बात को लेकर झगड़ा होता रहा। आखिरकार पति ने पत्नी को ठिकाने लगाने का मन बना लिया।
... और पढ़ें

उत्तराखंड: दिल्ली से पत्नी को नैनीताल लाकर मार डाला, डेढ़ महीने बाद मिला सड़ा-गला शव

दिल्ली से नैनीताल लाकर एक युवक ने अपनी पत्नी की गला दबाकर जान ले ली और शव हल्द्वानी-नैनीताल हाईवे पर बेलुवाखान के पास कलमठ में ठिकाने लगा दिया। दिल्ली पुलिस की तहकीकात में मामला डेढ़ महीने बाद खुला तो महिला का सड़ा गला शव बरामद किया गया। दुष्कर्म की सजा से बचने के लिए नौ महीने पहले महिला से शादी की गई थी। पुलिस ने मुकदमा दर्ज कर आरोपी पति को गिरफ्तार कर लिया है।

नई दिल्ली निवासी एक व्यक्ति ने 15 जून को दिल्ली के द्वारिका थाने में अपनी 26 वर्षीय बेटी की गुमशुदगी की रिपोर्ट दर्ज कराई थी। रिपोर्ट में इस बात की आशंका जताई गई कि बेटी को उसके ससुरालियों ने ही लापता किया है। उन्होंने ससुरालियों के खिलाफ कार्रवाई की मांग की थी। शिकायत और द्वारका अदालत के आदेश पर दिल्ली पुलिस ने महिला की खोजबीन की तो 12 जून को उसके मोबाइल की लोकेशन नैनीताल-हल्द्वानी रोड पर हनुमानगढ़ी के आसपास मिली। इसके बाद दिल्ली पुलिस ने उसके  ऊधमसिंह नगर निवासी पति और ससुरालियों से पूछताछ की लेकिन कुछ हाथ नहीं लगा। बाद में पुलिस ने सख्ती की तो पति ने सब कुछ उगल दिया।

दिल्ली पुलिस के मुताबिक पति ने बताया कि उसने 11 जून को पत्नी की गला दबाकर हत्या कर उसके शव को नैनीताल के पास एनएच के एक कमलठ में ठिकाने लगाया है। सोमवार को दिल्ली पुलिस के एसआई नरेंद्र सिंह, कांस्टेबल सुनील कुमार और शाहिद पति को साथ लेकर नैनीताल पहुंचे। उन्होंने उसकी निशानदेही पर एनएच से लगे रिया तोक के पास एक कमलठ से महिला का सड़ा गला शव बरामद कर लिया। तल्लीताल के थानाध्यक्ष विजय मेहता ने बताया कि पति के खिलाफ धारा 201 और 302 के तहत मुकदमा दर्ज कर लिया गया है।
... और पढ़ें
  • Downloads
    News Stand

Follow Us

  • Facebook Page
  • Twitter Page
  • Youtube Page
  • Instagram Page
  • Telegram
एप में पढ़ें

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00