बेहतर अनुभव के लिए एप चुनें।
INSTALL APP

वरुणा का दर्द : डीएम आवास के पीछे कटते रहे हरे पेड़, आंखें मूंदे रहा वन विभाग

ब्यूरो, अमर उजाला, वाराणसी Updated Sun, 04 Jun 2017 12:55 PM IST
विज्ञापन
वरुणा नदी के किनारे काटा गया पेड़
वरुणा नदी के किनारे काटा गया पेड़ - फोटो : अमर उजाला

पढ़ें अमर उजाला ई-पेपर
कहीं भी, कभी भी।

ख़बर सुनें

वृक्ष धरती का शृंगार होते हैं। अगर वृक्ष न हों, हरियाली न हो तो धरती की कोख सूनी हो जाएगी। धरती पर हरियाली बनी रहे इसकी जिम्मेदारी वन विभाग की है पर वरुणा की हरीतिमा उजड़ गई और जिला वन अधिकारी को आज भी इस बात का इंतजार है कि कोई उनके पास आकर शिकायत करे तो वे कुछ करें।

विज्ञापन

 

आम तौर पर किसी गरीब-मजलूम को एक पेड़ काटने की अनुमति देने में पसीने छुड़ा देने वाला वन विभाग भी वरुणा के गुनहगारों में से एक है। इस इलाके की हरीतिमा नष्ट कर होटल बनाने की तैयारियां मुकम्मल हो गईं और विभाग के जिम्मेदार हाथ पर हाथ धरे शिकायत मिलने का इंतजार करते रहे।

 

भीमनगर में डीएम आवास के ठीक पीछे वरुणा नदी किनारे सैकड़ों हरे पेड़ कट गए लेकिन इसकी जानकारी वन विभाग को आज तक नहीं है। वहीं दूसरे किनारे पर आज भी हरीतिमा बरकरार है। यहां पेड़ काटने के साथ ही मिट्टी डालकर गड्ढे पाटने का काम एक साल से चल रहा था।

 

स्थानीय लोगों ने पेड़ कटने की शिकायत भी की लेकिन रौब-रुआब के आगे उनकी भला सुनता कौन? लोगों का कहना है कि बिना सारे विभागों की मिलीभगत के एक जीती-जागती नदी का गला घोंटने की साजिश को अंजाम ही नहीं दिया जा सकता था।

 

जिला वन अधिकारी मूलचंद का कहना है कि भीमनगर के बारे में मुझे कोई जानकारी नहीं है। शिकायत मिलने पर कार्रवाई की जाएगी। क्षेत्रीय लोगों के मुताबिक तकरीबन एक साल पहले तक यहां घनी वृक्षावली थी। इनमें आम, नीम, बेल, पाकड़, बबूल, महुआ आदि के सैकड़ों पेड़ थे।

 

गरमी के दिनों में यहां लोग सुकू न के कुछ पल बिताते थे। बाद में कुछ लोग इसे अपनी जमीन बताकर नदी किनारे के गड्ढे पाटने लगे। कुछ दिनों बाद यहां पेड़ काटने का सिलसिला शुरू हो गया। पेड़ काटने के बाद बची ठूंठ पर भी मिट्टी डाल दी गई।

विज्ञापन
आगे पढ़ें

अवैध निर्माणों पर कार्रवाई से बच रहा वीडीए

विज्ञापन

आपकी राय हमारे लिए महत्वपूर्ण है। खबरों को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।

खबर में दी गई जानकारी और सूचना से आप संतुष्ट हैं?
विज्ञापन
विज्ञापन
सबसे विश्वसनीय हिंदी न्यूज़ वेबसाइट अमर उजाला पर पढ़ें हर राज्य और शहर से जुड़ी क्राइम समाचार की
ब्रेकिंग अपडेट।
 
रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें अमर उजाला हिंदी न्यूज़ APP अपने मोबाइल पर।
Amar Ujala Android Hindi News APP Amar Ujala iOS Hindi News APP
विज्ञापन
विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन
Election
  • Downloads

Follow Us