विज्ञापन

डायलसिस पर पड़ी वरुणा नदी

Varanasi Updated Fri, 08 Jun 2012 12:00 PM IST
विज्ञापन
ख़बर सुनें
वाराणसी। पर्यावरणीय संकट के दौर से गुजर रहे देश में पूर्वांचल की एक नदी घाटी संस्कृति का आने वाले दिनों में नामोनिशान मिट सकता है। जी हां, गंगा पर शोर मचाने वालों को यह जानकर झटका लगेगा कि वाराणसी की पहचान के तौर पर विख्यात वरुणा न सिर्फ डायलसिस पर पड़ चुकी है, बल्कि किसी भी समय उसका अस्तित्व खत्म हो सकता है। कसबों, गांवों, शहरों के बेतहाशा प्रदूषण, तटीय अतिक्रमण और सरकारी उपेक्षा के मकड़जाल में घिरी इस नदी को बचाना कितना कठिन होगा इसे उसके दफन होते किनारों को देख समझा जा सकता है। माना जा रहा है कि इसे पुनर्जीवित करने के ठोस प्रयास जल्द शुरू नहीं हुए तो भोले की नगरी के पौराणिक, सांस्कृति महत्व को चौपट होने से रोका नहीं जा सकेगा।
विज्ञापन
पूर्वांचल की 162 किमी लंबी नदी घाटी को खत्म करने में सबसे बड़ा हाथ बेहद कमजोर और अनियोजित सीवर प्रणाली का माना जाएगा। ट्रांस वरुणा से लगे इलाकों में किनारों को पाट कर बहुमंजिली इमारतें खड़ी करने वाले कालोनाइजर और उनके संरक्षणदाताओं को इसके लिए कटघरे में खड़ा किया जा सकता है। इलाहाबाद के मेल्हन से निकलकर जौनपुर होते हुए बढ़ने वाली वरुणा भदोही में सर्वाधिक प्रदूषित हुई है। वहां कालीन उद्योग से निकलने वाले रासायनिक कचरे को नालों के जरिए नदी में बहाए जाने से ज्यादा दुर्गति हुई। उससे आगे सत्तनपुर से रामेश्वरम तीर्थ के बीच बस्तियों के नाले भी इसमें गिर रहे हैं। हालांकि वरुणा को सर्वाधिक झटका बनारस में कैंट के पास से लगना शुरू हो जाता है। वहां से आदि केशव घाट के पास सराय वरुणा मोहना तक छावनी क्षेत्र, पांडेयपुर और कचहरी इलाके के बड़े नालों के बहाव का वरुणा माध्यम बना दी गई है। छिछले नाले का रूप ले चुकी वरुणा में काला, बदबूदार अवजल इस कदर भरा है कि नदी के पेटे में तटीय बस्तियों के लोग झांकते तक नहीं। पशु-पक्षी भी प्यास बुझाने की हिम्मत नहीं जुटा पाते।

प्वाइंटर
162 किमी लंबी वरुणा नदी अब पहचान खोने की कगार पर
150 मीटर चौड़ा किनारा सिकुड़कर कहीं 17 तो कहीं 30 मीटर तक आ गया
05 से अधिक शहरों, कसबों के नालों के बहाव का माध्यम बनी नदी

दुर्दशा के कारण

-शहरों, बस्तियों में अवजल निकास की ठोस योजना का अभाव होना
-नदी के बाढ़ प्रभावित इलाकों में किनारों का बेतहाशा अतिक्रमण
-तटवर्ती तालाबों, पोखरों और जोहड़ों का पाटा जाना
- तटीय इलाके में कंक्रीट के विस्तार के चक्कर में जल संचय करने वाले पेड़ों की कटान
-वरुणा बेसिन में बगीचों का खत्म होना

बैराज भी बाधक
चौकाघाट क्षेत्र में वरुणा पर बने बैराज के चलते गंगा से होकर आने वाले जल जीवों का रास्ता बाधित हो गया है। नदी में प्रदूषकों को छानने वाली मछलियों, केकड़ों और कछुओं का हो गया है अभाव।

बचाव के उपाय
-गंगा-यमुना की जलराशि को मौलिक रूप से प्रवाह देना
-दोनों किनारों पर 25-25 मीटर तक की एरिया में में बबूल या झाड़ीदार पौधों का रोपण
-पोखरों, तालाबों का जीर्णोद्धार किया जाना

प्राकट्य
विष्णु के चरण से आदि काल में प्रयाग के आसपास ही वरुणा का प्राकट्य माना जाता है -पं. शिव प्रसाद पांडेय लिंगिया महाराज, महंत शीतला मंदिर

बयान
गंगा-यमुना की तरह ही वरुणा भी भूगर्भीय जल के उद्गम से निकली जीवनदायिनी नदी है। भूगर्भीय झील या ग्राउंड ब्लाग सिस्टम से वरुणा का उद्गम मेल्हन में सैकड़ों साल पहले हुआ माना जाता है। गंगा-वरुणा का जल स्तर गिरने से इस नदी पर संकट बढ़ा है। इंटर सेप्टर तकनीक के अलावा किनारों पर पौधरोपण से इस नदी को पुनर्जीवित किया जा सकता है- रमेश चोपड़ा, नदी जल संचय एक्सपर्ट

Recommended

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
अमर उजाला की खबरों को फेसबुक पर पाने के लिए लाइक करें  

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App और Amarujala Hindi News APP अपने मोबाइल पे|
Get all India News in Hindi related to live update of politics, sports, entertainment, technology and education etc. Stay updated with us for all breaking news from India News and more news in Hindi.

विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन

Most Read

Jammu

जम्मू-कश्मीरः पाकिस्तानी ने किया सीजफायर उल्लंघन, बॉर्डर से बीएसएफ जवान गायब

पाकिस्तानी सेना द्वारा पुंछ जिले के आर एस पुरा सेक्टर में सीजफायर का उल्लंघन करने के बाद जम्मू में अंतरराष्ट्रीय सीमा से बीएसएफ जवान के गायब होने की खबर है। माना जा रहा है कि वह पाकिस्तानी फायरिंग में घायल होने के बाद गायब हुआ है।

18 सितंबर 2018

विज्ञापन

Related Videos

पीएम ने काशी को दिया 550 करोड़ रुपयों का रिटर्न गिफ्ट!

अपने संसदीय क्षेत्र वाराणसी पहुंचे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने दूसरे दिन मंगलवार को काशी की जनता को 557.40 करोड़ रुपये की सौगात दी।

18 सितंबर 2018

आज का मुद्दा
View more polls

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree