बेहतर अनुभव के लिए एप चुनें।
INSTALL APP

बेटे के सिर पर हुआ खून सवार, मां दरवाजा खोल, तुझे भी जिंदा नहीं छोडूंगा

अमर उजाला ब्यूरो/ मेरठ Updated Mon, 05 Jun 2017 12:01 PM IST
विज्ञापन
फिल्मी अंदाज में युवक को मार डाला
फिल्मी अंदाज में युवक को मार डाला

पढ़ें अमर उजाला ई-पेपर
कहीं भी, कभी भी।

ख़बर सुनें
मां को शायद ये अंदाजा नहीं था कि मेरे बेटे को मुझ पर शक है। एक दिन बेटे के सिर पर ऐसा खून सवार हुआ कि उसने घर में लेटे युवक को फिल्मी अंदाज में मार डाला और मां से कहा- दरवाजा खोल, तुझे भी जिंदा नहीं छोडूंगा। पढ़ें पूरी कहानी।  
विज्ञापन


मेरठ में जयभीमनगर स्थित प्रताप विहार में शनिवार देर रात हुई अनिल (32) की हत्या के मामले में पुलिस ने महिला के 17 वर्षीय बेटे के खिलाफ हत्या का मुकदमा दर्ज कर लिया है। आरोपी की तलाश में पुलिस ने दबिश दी, लेकिन वह हत्थे नहीं चढ़ा। रात के वक्त अनिल की हत्या उस समय की गई, जब वह सीमा के घर में ही सोया हुआ था। पुलिस के अनुसार नाबालिग बेटे ने मां से अवैध संबंध के शक में अनिल की गोली मारकर हत्या की है। 


महिला थाने में रविवार को दिनभर सीमा आंसू बहाती रही, लेकिन उसके परिवार का एक भी व्यक्ति मिलने नहीं पहुंचा। सीमा ने बताया कि वह मेडिकल थाना क्षेत्र के एक अस्पताल में नर्स थी। जहां उसकी दोस्ती खरखौदा के छतरी गांव निवासी अनिल पुत्र विजयपाल से हो गई। अनिल कई कई दिन तक महिला के घर रहता था। पुलिस को पूछताछ में सीमा ने बताया कि उसकी अनिल से सिर्फ दोस्ती थी। सीमा ने बताया कि शनिवार रात वह चारपाई पर सोई थी, तो दूसरी चारपाई पर अनिल सोया हुआ था। रात के करीब डेढ़ बजे महिला का बेटा छत से आया और सोते हुए अनिल के सीने में तमंचे से गोली मार दी। सीमा ने समझा कि पास ही किसी वाहन का टायर फट गया है। आंख खुलते ही उसने देखा कि बेटा तमंचा लिए खड़ा है। अनिल की मौके पर ही मौत हो चुकी थी। बेटा तमंचे में दूसरी गोली भर रहा था। महिला ने किसी अनहोनी की आशंका में दूसरे कमरे में घुसकर दरवाजा बंद कर लिया। महिला के बेटे ने अपनी मां से कहा कि आज दरवाजा खोल दे, नहीं तो तेरा भी भेजा उड़ा दूंगा। जिसके बाद सीमा अपनी जान बचाने के लिए कमरे में छिपी रही और दरवाजा नहीं खोला। महिला बचाओ बचाओ कहकर शोर मचाती रही, और बेटा मां की हत्या के लिए दरवाजा पीटता रहा। महिला ने बताया उसके बेटे के सिर पर खून सवार था, यदि मैं दरवाजा खोल देती तो वह मुझे भी जिंदा नहीं छोड़ता। बाद में पड़ोसी पहुंचे तो बेटा भाग गया। पुलिस के पहुंचने पर उसने कमरे का दरवाजा खोला। अनिल के भाई हरीश ने थाना भावनपुर पहुंचकर महिला के बेटे के खिलाफ मुकदमा दर्ज कराया। सीमा को पुलिस ने अनिल की हत्या का गवाह बनाया है।
विज्ञापन
आगे पढ़ें

परिवार मे मचा कोहराम

विज्ञापन

आपकी राय हमारे लिए महत्वपूर्ण है। खबरों को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।

खबर में दी गई जानकारी और सूचना से आप संतुष्ट हैं?
विज्ञापन
विज्ञापन
सबसे विश्वसनीय हिंदी न्यूज़ वेबसाइट अमर उजाला पर पढ़ें हर राज्य और शहर से जुड़ी क्राइम समाचार की
ब्रेकिंग अपडेट।
 
रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें अमर उजाला हिंदी न्यूज़ APP अपने मोबाइल पर।
Amar Ujala Android Hindi News APP Amar Ujala iOS Hindi News APP
विज्ञापन
विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन
Election
  • Downloads

Follow Us