लोकप्रिय और ट्रेंडिंग टॉपिक्स

विज्ञापन
Hindi News ›   Uttar Pradesh ›   Lakhimpur Kheri News ›   Ravi Prakash Verma became the National General Secretary of Samajwadi party for the third time

Lakhimpur Kheri: पिछड़ा वर्ग को साधने की कवायद, रवि वर्मा लगातार तीसरी बार बने सपा के राष्ट्रीय महासचिव

संवाद न्यूज एजेंसी, लखीमपुर खीरी Published by: बरेली ब्यूरो Updated Tue, 31 Jan 2023 02:49 PM IST
सार

गोला निवासी रवि प्रकाश वर्मा तीन बार सांसद रह चुके हैं। एक बार राज्यसभा सांसद भी रहे हैं। रवि प्रकाश वर्मा को लगातार तीसरी बार राष्ट्रीय महासचिव बनाए रख सपा ने अपने पुराने चेहरों पर भरोसे की रवायत कायम की है।

सपा के राष्ट्रीय महासचिव रवि प्रकाश वर्मा
सपा के राष्ट्रीय महासचिव रवि प्रकाश वर्मा - फोटो : अमर उजाला

विस्तार

समाजवादी पार्टी (सपा) की राष्ट्रीय कार्यकारिणी के नए गठन में भी पूर्व राज्यसभा सांसद और राष्ट्रीय महासचिव रवि प्रकाश वर्मा का एक बार फिर से कद बरकरार रहा है। मूल रूप से पिछड़ा वर्ग को साध कर चुनाव में दम खम दिखाने वाली सपा ने एक बार फिर राष्ट्रीय कार्यकारिणी में रवि प्रकाश वर्मा को महत्व दिया है। हालांकि, भाजपा ने लखीमपुर खीरी में धौरहरा सांसद रेखा वर्मा को राष्ट्रीय उपाध्यक्ष बनाकर कुर्मी वोटों पर अपनी पकड़ बरकरार रखी है। 



जिले की करीब 50 लाख की आबादी वाले खीरी जनपद में ओबीसी आबादी सबसे ज्यादा करीब 35 प्रतिशत है। इनमें कुर्मी बाहुल्य आबादी पहले नंबर पर है। इसी गणित को साधते हुए समाजवादी पार्टी ने एक बार फिर अपने पुराने चेहरे रवि प्रकाश वर्मा पर अपना भरोसा बरकरार रखा है। 

तीसरी बार बने सपा के राष्ट्रीय महासचिव

गोला निवासी रवि प्रकाश वर्मा तीन बार सांसद रह चुके हैं। एक बार राज्यसभा सांसद भी रहे हैं। रवि प्रकाश वर्मा को लगातार तीसरी बार राष्ट्रीय महासचिव बनाए रख सपा ने अपने पुराने चेहरों पर भरोसे की रवायत कायम की है। तीसरी बार महासचिव नियुक्त होने पर रवि वर्मा ने बताया कि हमारा उद्देश्य समाजवादी कार्यकर्ताओं का वैचारिक आधार पक्का करना है। स्थानीय स्तर परसमस्याओं के निस्तारण की क्षमता पैदा करनी है। जिससे कि पार्टी हर वक्त चुनाव की लड़ाई में तैयार रहे। 

जातीय गणित की धुरी पर घूमती जिले की राजनीति

करीब 35 फीसदी पिछड़ा वर्ग की आबादी वाले खीरी जनपद में राजनीति की धुरी जातीय आंकड़ों के इर्दगिर्द ही घूमती है। मौजूदा वक्त में पिछड़ा वर्ग और कुर्मी बिरादरी से भाजपा की राष्ट्रीय उपाध्यक्ष और धौरहरा सांसद रेखा वर्मा राजनीति के फलक पर चमक रही हैं। ऐसे में सपा पिछड़ा वर्ग पर अपनी पकड़ ढीली करने का कोई खतरा नहीं 
मोल लेना चाहती।

 हालांकि, पिछले दो लोकसभा और दो विधान सभा चुनाव में मोदी लहर के आगे जातीय समीकरण नेस्तनाबूद हो चुके हैं। 2014 में रवि प्रकाश वर्मा ने खीरी संसदीय सीट से चुनाव लड़ा था, लेकिन हार गए। 2019 में उनकी बेटी पूर्वी वर्मा ने लोक सभा का चुनाव लड़ा था, लेकिन हार गईं थीं। दोनों ही लोकसभा चुनाव में भाजपा के अजय मिश्र टेनी ने बंपर जीत हासिल की थी। 
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App और Amarujala Hindi News APP अपने मोबाइल पे|
Get all India News in Hindi related to live update of politics, sports, entertainment, technology and education etc. Stay updated with us for all breaking news from India News and more news in Hindi.

विज्ञापन
विज्ञापन

एड फ्री अनुभव के लिए अमर उजाला प्रीमियम सब्सक्राइब करें

क्षमा करें यह सर्विस उपलब्ध नहीं है कृपया किसी और माध्यम से लॉगिन करने की कोशिश करें

;

Followed

;