बाछेपारा गांव का वजूद मिटाने पर तुली घाघरा, 20 घर नदी में समाए

Bareily Bureau बरेली ब्यूरो
Updated Fri, 06 Aug 2021 12:58 AM IST
Ghaghra bent on erasing the existence of Bachepara village, 20 houses merged in the river
विज्ञापन
ख़बर सुनें
धौरहरा। तहसील क्षेत्र के रमियाबेहड़ में घाघरा नदी की विनाशलीला थमने का नाम नहीं ले रही है। घाघरा नदी बाछेपारा गांव का वजूद मिटाने पर तुली है। नदी की तेज लहरों के कारण बाढ़ खंड का कराया गया बचाव कार्य पानी में बहता जा रहा है। नदी धीरे-धीरे घरों को काटकर गांव का वजूद मिटाने को बेताब है। कटान पीड़ितों का आरोप है कि प्रशासन से कोई मदद नही मिल रही है कड़ी धूप में परिवार सहित खुले आसमान के नीचे रहने को विवश हैं।
विज्ञापन

बुधवार की रात से बृहस्पतिवार को दोपहर तक घाघरा नदी ने बाछेपारा के रमेश, बालकराम, उत्तम, मेवालाल, मथुरा, रामप्रसाद, दुबरि, संतोष, परशुराम, राजेश, रामधार पैकरमा, सुरेंद्र राममूर्ति, रामकुमार, गयाप्रसाद, सुमेर, बंसीलाल आदि के घर नदी में समा गए हैं। वहीं श्रीराम, श्रीकेशन, मिलन, हीरालाल, संतोष, राजीव, अमरीका, विश्राम, मोतीलाल, रामगुनी,हरिश्चंद्र, लक्ष्मी नारायण सहित 35 घर जो शेष बचे हैं वह भी कभी भी नदी की चपेट में आ सकते हैं।

कटान पीड़ित खुले आसमान के नीचे भूखे पेट रहने को विवश हैं, जबकि तहसील प्रशासन कटान पीड़ितों के खाने व रहने की व्यवस्था का दावा कर रहा है। कटान पीड़ितों का आरोप है कि एक दिन एसडीएम और तहसीलदार ही आए थे उसके बाद से कोई भी अधिकारी व जनप्रतिनिधि हाल जानने नहीं आया है। अधिशासी अभियंता बाढ़ खंड शारदा नगर राजीव कुमार ने बताया कि जहां भी कटान हो रहा है वहां बचाव कार्य चल रहा है। जलस्तर ज्यादा होने से बचाव कार्य मे दिक्कत आ रही है।

आपकी राय हमारे लिए महत्वपूर्ण है। खबरों को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।

खबर में दी गई जानकारी और सूचना से आप संतुष्ट हैं?
विज्ञापन
विज्ञापन

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App और Amarujala Hindi News APP अपने मोबाइल पे|
Get all India News in Hindi related to live update of politics, sports, entertainment, technology and education etc. Stay updated with us for all breaking news from India News and more news in Hindi.

विज्ञापन
विज्ञापन
  • Downloads

Follow Us

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00