डेढ़ माह से भूखे लौट रहे हैं बच्चे

Kaushambi Updated Thu, 22 Nov 2012 12:00 PM IST
चायल। नेवादा ब्लाक के प्राथमिक स्कूल पिपरी (मखऊपुर) में हेडमास्टर और प्रधान की मनमानी से बच्चों को स्कूल से भूखे लौटना पड़ रहा है। यहां चार अक्तूबर से एमडीएम बंद है। लोगों का कहना है कि कई बार इसकी शिकायत एबीएसए तक से की गई है। फिर भी मध्याह्न भोजन शुरू नहीं कराया जा सका है।
प्राथमिक स्कूलों में छात्र-छात्राओं को दोपहर का भोजन परोसा जाना अनिवार्य है। जिले के तमाम स्कूलों में यह योजना मनमानी की भेंट चढ़ी हुई है। इसके कारण बच्चों को खाली पेट स्कूल से घर लौटना पड़ता है। नेवादा ब्लाक के ही प्राथमिक स्कूल पिपरी (मखऊपुर) में चार अक्तूबर से भोजन नहीं बनाया जा रहा है। गांववालों का कहना है कि कई बार इसकी शिकायत प्रधानाध्यापिका, प्रधान, एबीएसए और सीडीओ से भी की जा चुकी है। फिर भी स्कूल में एमडीएम बनाया जाना शुरू नहीं किया गया है। मामले में प्रधानाध्यापिका सीता देवी का कहना है कि मांगने पर भी प्रधान राशन आदि उपलब्ध नहीं करा रही हैं। वहीं प्रधान सुदामा देवी की मानें तो महीनों से उनके यहां कनवर्जन कास्ट नहीं भेजी जा रही है। ऐसे में वे कहां से स्कूल में एमडीएम का खर्च वहन करें। एबीएसए डॉ अविनाश का कहना है कि जानकारी मिली है। जल्द ही प्रयास करके प्राथमिक स्कूल में मध्याह्न भोजन बच्चों को परोसा जाएगा।

Spotlight

Most Read

Bihar

चारा घोटाले के तीसरे केस में लालू यादव दोषी करार, दोपहर 2 बजे बाद होगा सजा का ऐलान

पूर्व रेल मंत्री और राष्ट्रीय जनता दल (आरजेडी) सुप्रीमो लालू प्रसाद यादव के खिलाफ सीबीआई की विशेष अदालत ने बड़ा फैसला सुनाया है।

24 जनवरी 2018

Related Videos

यूपी के कौशांबी से सामने आया फोन पर तीन तलाक का मामला

सरकार की तमाम कोशिशों के बावजूद तीन तलाक के मामले खत्म होने का नाम नहीं ले रहे हैं। इस बार यूपी के कौशांबी से तीन तलाक का मामला सामने आया है।

10 जनवरी 2018

आज का मुद्दा
View more polls