प्रधान की हत्या से 'कानपुर में बड़ा बवाल', डरती रही पुलिस और निहत्थे ग्रामीणों ने गिरा दी दीवार

टीम डिजिटल, अमर उजाला, कानपुर Updated Tue, 28 Nov 2017 01:15 PM IST
मृतक की फाइल फोटो, मौके पर लगी पुलिस फोर्स और भीड़ लगाए गांववाले
मृतक की फाइल फोटो, मौके पर लगी पुलिस फोर्स और भीड़ लगाए गांववाले
ख़बर सुनें
जमीन के विवाद में ग्राम प्रधान की चाचा ने गोली मारकर हत्या कर दी। वारदात के बाद आरोपी भागकर घर पहुंचा और एक कमरे में खुद को बंद कर लिया। पुलिस ने घेराबंदी की तो आरोपी ने फायरिंग शुरू कर दी। रुक-रुककर चार राउंड गोलियां चलाईं। इससे पुलिस को पीछे हटना पड़ा। तीन घंटे की मशक्कत के बाद रात आठ बजे पुलिस ने आरोपी को गिरफ्तार कर लिया। 
कानपुर के बिल्हौर विकास खंड क्षेत्र के गजना ग्राम प्रधान डिंपल कटियार उर्फ सूर्यप्रकाश (42) का अपने चाचा ओमप्रकाश कटियार (55) से लंबे समय से जमीन को लेकर विवाद चल रहा है। सोमवार शाम पांच बजे ओमप्रकाश ट्रैक्टर से विवादित भूमि की जुताई के लिए जा रहा था, तभी गांव के बाहर प्रधान डिंपल ने चाचा को रोक लिया। कहासुनी के दौरान ओमप्रकाश घर में रखी राइफल उठा लाया और भतीजे को गोली मार दी। डिंपल के पेट में गोली लगने से मौके पर ही मौत हो गई।

जब तक परिजन और मोहल्ले वाले कुछ समझ पाते तब तक ओमप्रकाश ने स्वयं को घर के एक कमरे में बंद कर लिया। इधर, ग्राम प्रधान की मौत की सूचना पर बड़ी संख्या में ग्रामीण मौके पर जुट गए। मौके पर एसपीआरए जेपी सिंह, सीओ, इंस्पेक्टर फोर्स के साथ पहुंच गए। इसी बीच कमरे से ओमप्रकाश रुक-रुककर फायरिंग करने लगा। एक गोली सामने खड़ी बस में जा धंसी। अंधेरा होने और फायरिंग देख पुलिस पीछे हट गई। तीन घंटे बाद रात आठ बजे पुलिस ने आरोपी को गिरफ्तार कर लिया। ओमप्रकाश ने बताया कि गांववाले उसे मार डालते इसलिए वह फायरिंग कर रहा था। 
 
आगे पढ़ें

पुलिस का रवैया काफी निराशाजनक रहा

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App और Amarujala Hindi News App अपने मोबाइल पे|
Get all crime news in Hindi. Stay updated with us for all breaking hindi news.

Spotlight

Most Read

Varanasi

बहन के साथ भाई ने पांच माह तक किया रेप, किसी को बताने पर जान से मारने की दी धमकी

बनारस में भाई-बहन के रिश्ते को कलंकित करने का मामला सामने आया है।

15 जुलाई 2018

Related Videos

स्कूल होने के बावजूद यहां खेतों में पढ़ाई कर रहे हैं बच्चे, जानिए वजह

सरकार बच्चों को स्कूल तक लाने के लिए जहां कई उपक्रम अपना रही है, वहीं यूपी के इटावा में बच्चे खेतों में पढ़ने को मजबूर है। जानिए आखिर क्यों खेतों में पढ़ रहे बच्चे।

12 जुलाई 2018

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree

अमर उजाला ऐप चुनें

सबसे तेज अनुभव के लिए

क्लिक करें Add to Home Screen