स्कूल पहुंचे बच्चों को थमा दी मास्टरों ने झाड़ू

Hapur Updated Sat, 25 Jan 2014 05:51 AM IST
गढ़मुक्तेश्वर। बहादुरगढ़ के गांव शकराटीला और करीमपुर के सरकारी स्कूलों में मासूमों को पढ़ाई छोड़कर सफाई करने को मजबूर होना पड़ रहा है, जिससे अभिभावकों में बड़े स्तर पर रोष व्याप्त है परंतु शिक्षा विभाग इस तरफ कोई भी ध्यान देने को तैयार नहीं है।
देश और प्रदेश में फैली अशिक्षा की गंभीर समस्या की रोकथाम के लिए भले ही शासन स्तर से सर्वशिक्षा और स्कूल चलो जैसे अनेकों अभियान चलाए जा रहे हैं, वहीं बच्चों से कराए जाने वाले काम धंधों को रोकने के लिए बाल श्रम विभाग का गठन भी किया हुआ है। परंतु इसके बाद भी अध्यापकों की मनमानी के चलते बच्चों की कोई सुध लेने को तैयार नहीं है। समूचे देश में बृहस्पतिवार को आजादी के मतवाले नेता जी सुभाष चंद्र बोस की जयंती मन रही थी, वहीं शकराटीला और करीमपुर के सरकारी स्कूलों में पढ़ने वाले बच्चे स्कूलों में सफाई करने में जुटे हुए थे। बच्चों से जबरन सफाई कराए जाने से उनके परिजन खफा हैं, जो लगातार शिकायतें करते आ रहे हैं। परंतु कोई सुन नहीं रहा। 

Spotlight

Most Read

Bihar

चारा घोटाला: लालू और जगन्नाथ मिश्रा को 5 साल की सजा, कोर्ट ने 5 लाख का लगाया जुर्माना

पूर्व रेल मंत्री और राष्ट्रीय जनता दल (आरजेडी) सुप्रीमो लालू प्रसाद यादव के खिलाफ सीबीआई की विशेष अदालत ने बड़ा फैसला सुनाया है।

24 जनवरी 2018

Related Videos

VIDEO: ‘पद्मावत’ पर बैन को लेकर सुप्रीम कोर्ट की सख्ती का असर दिख रहा है!

सुप्रीम कोर्ट की सख्ती के बावजूद ‘पद्मावत’ पर हो- हल्ला हो रहा है। ऐसे ही विरोध की तस्वीरें दिखाई दी हैं उत्तर प्रदेश के आगरा,सहारनपुर और हापुड़ में जहां पद्मावत का जबरदस्त विरोध हुआ।

23 जनवरी 2018