कछला में गंगाघाट पर उमड़ा आस्था का सैलाब

बदायूं Updated Mon, 05 Jun 2017 01:37 AM IST
ख़बर सुनें
कछला गंगा दशहरा पर कछला घाट पर आस्था का सैलाब उमड़ पड़ा। श्रद्धालुओं ने हर-हर गंगे की गूंज के दौरान डुबकी लगाकर पूजा-अर्चना की। बच्चों के मुंडन संस्कार भी कराए। शाम तक स्नान का दौर चला। महिलाओं ने संकीर्तन कर गंगा का गुणगान किया। घाट पर पुलिस और प्रशासनिक अफसरों ने भी हालात पर नजर रखी।      
निजी संसाधनों समेत बस और ट्रेन से पहुंचे श्रद्घालुओं की दस्तक शनिवार शाम से ही शुरू हो गई थी, लेकिन स्नान की शुरूआत ब्रह्म मुहूर्त हुई। श्रद्घालुओं ने गंगा में डुबकी लगाकर सूर्य को अर्क दिया। कई श्रद्घालुओं गंगा में दुग्धाभिषेक भी किया। घाट पर ही श्रद्घालुओं ने हवन-पूजन कराया। कई श्रद्घालु ने ब्राह्मणों से भगवान सत्यनारायण स्वामी की कथा कराई। बच्चों के मुंडन संस्कार कराने वालों की संख्या में सैकड़ों में रही। आश्रमों से जुड़े लोगों की मानें तो दशहरा पर दो लाख से अधिक श्रद्घालुओं ने आस्था की डुबकी लगाई। एसडीएम पारसनाथ मौर्य और सीओ प्रमोद यादव की देखरेख में पीएसी और आसपास थानों के पुलिस फोर्स ने श्रद्घालुओं की सुरक्षा और यातायात की सुविधा अहम भूमिका निभाई।      
-----------------------      
इंसेट      
लगा जाम, पुलिस का छूटा पसीना      
उझानी। गंगाघाट पर श्रद्घालुओं की भारी संख्या की वजह से कोतवाली पुलिस ने इस बार बेहतर इंतजाम किए थे, लेकिन पूर्वाह्न में ट्रैक्टर-ट्रॉलियों की संख्या में इजाफा हो जाने से पुलिस चौकी के आसपास जाम का माहौल बन गया। पुल से लेकर चौराहे तक दर्जनों वाहन फंस गए। आवागमन शुरू कराते वक्त पुलिस कर्मियों का भी पसीना छूट गया। इस बीच, कासगंज की ओर से निकले भारी वाहनों को पुलिस ने जाम के दौरान कछला पुल पर रोक लिया। वितरोई मोड़ और मुजरिया चौराहे पर भी ट्रकों को रोके रखा गया।       
---------------------------------      
इंसेट      
स्टीमर सवार पीएसी के गोताखोरों ने रखी नजर      
फोटो- 04बीडीएनयूजेएचपीएच-05      
उझानी। दशहरा पर श्रद्घालुओं को स्नान के दौरान गहराई वाले स्थानों पर जाने से रोकने और आपात स्थिति से निपटने के लिए मुरादाबाद से पीएसी की दो स्टीमर के साथ 10 जवान शनिवार रात को ही गंगाघाट पर पहुंच गए। दोनों स्टीमर रविवार को तड़के से दोपहर बाद तक गश्त पर रहीं। पीएसी के गोताखोर जवानों ने श्रद्घालुओं को दोनों पुल के पिलर के आसपास गहराई वाले स्थानों पर जाने से रोके रखा। दोनों स्टीमर का दायरा गंगा में करीब एक किलोमीटर तक रहा।      

...तो फिर कैसे सुधरेंगे गंगा को प्रदूर्षित करने वाले      
फोटो- 04बीडीएनयूजेएचपीएच-06      
उझानी। कछला गंगाघाट पर स्नान के दौरान कई ऐसे श्रद्घालु ऐसे भी थे जिन्होंने हवन सामग्री को गंगा में प्रवाहित करने से गुरेज नहीं किया। हवन सामग्री की राख को बहता देख श्रद्धालुओं ने विरोध भी किया लेकिन उन पर इसका असर नजर नहीं आया। हद तो तब हो गई जब एक-एक करके पांच युवक बाइक धोने के गंगा में पहुंच गए। घाट पर मौजूद लोगों की चेतावनी से बेअसर युवकों ने काफी देर तक बाइकों को धोया। गंगा के प्रति जागरुकता का संदेश देने वाले स्वयंसेवियों में संजीव कुमार शर्मा कहते हैं कि लोगों को गंगा की स्वच्छता के प्रति सजग रहना होगा। उन्होंने सवाल भी उठाया कि ऐसे लोग कब सुधर पाएंगे।      
--------------------      
इंसेट      
कलर पहचानो के नाम पर लगे हजारों रुपये के दांव      
उझानी। गंगाघाट पर रविवार को पहली बार कई स्थानों पर जुआ जैसा खेल चला। टोकन का कलर पहचानो की आवाज देकर खेल करने वालों के फड़ पर खासकर युवकों का मजमा लगा रहा। धंधेबाजों ने एक सौ से लेकर हजार रुपये तक दांव लगवाए। युवकों की जेब खाली तो धंधेबाजों की गुल्लक भरती गई। दोपहर बाद तक चले खेल पर पुलिस की नजर भी नहीं पड़ी। खेल में करीब एक लाख रुपये का टर्न ओवर भी घूम गया।

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App और Amarujala Hindi News App अपने मोबाइल पे|
Get all crime news in Hindi. Stay updated with us for all breaking hindi news.

Spotlight

Most Read

Chandigarh

अवैध संबंध के चलते पत्नी ने प्रेमी से कराई थी पति की हत्या,नहाने के बहाने रची थी साजिश

शहर के शुक्रपुरा निवासी अमित की हत्या उसकी पत्नी कोमल ने अवैध संबंधों के चलते अपने प्रेमी एवं उसके दोस्तों से मिलकर कराई थी।

22 जून 2018

Related Videos

यूपी में अम्बेडर की मूर्ति को बचाने के लिए किया ऐसा इंतजाम

यूपी के बदायूं में संविधान निर्माता बीआर अम्बेडकर की मूर्ति को सुरक्षा देने के लिए उसे लोहे की जाली में बंद कर दिया गया है साथ ही अम्बेडकर की मूर्ति की रक्षा के लिए सुरक्षा गार्ड की तैनाती भी की गई है।

13 अप्रैल 2018

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree

अमर उजाला ऐप चुनें

सबसे तेज अनुभव के लिए

क्लिक करें Add to Home Screen