अच्छा था या बुरा था इससे नहीं मतलब...

Banda Updated Thu, 10 May 2012 12:00 PM IST
बांदा। ‘अच्छा था या बुरा था इससे नहीं मतलब, मतलब हमें फकत था थोडे़ से मालो जर से...’ शायर डा.राज के इस कलाम ने बज्मे इकरारिया की तरही मुशायरा महफिल को गर्मा दिया। देर रात तक शेरो-शायरी का सिलसिला चलता रहा। कार्यक्रम में कुछ बाहरी शायर भी शामिल हुए।
मंगलवार की रात हुए इस मुशायरे की सदारत महोबा से आए बुजुर्ग शायर कामिल महोबवी ने की। मिसरह तरह था- ‘अरमान कितने लेकर निकले थे अपने घर से।’ नवाब असर ने पढ़ा- ‘उनको रिज्क देते हैं जैसे तुमको, बच्चे न कत्ल करना फाकाकशी के डर से।’ अहमद दिलनवाज ने पढ़ा- ‘बीमार दिल हमारा देगा तुम्हें दुआएं, निकलो गर जो होकर बीमार के नगर से।’ हुबाब ने शेर सुनाया- ‘उनके बदन की खुशबू हर सिम्त आ रही है, महसूस हो रहा है गुजरें हैं वो इधर से।’ शायर अशगर ने पढ़ा- ‘जिसकी भी दुम उठाई मादा नजर वो आए, अब गिर गए हैं मेरी उस्ताद भी नजर से।’
इनके अलावा मुशायरे में खादिम, शरीफ, वाकिफ, हसरत, निश्तर, खालिद, तारिक, अजीज, रहमान, सईद, हाशिम, अनवर और वारिस आदि शायरों ने भी कलाम पेश किए। अगला तरही मुशायरा तीन जून को होगा। ब्यूरो

Spotlight

Most Read

Lucknow

शिवपाल के जन्मदिन पर अखिलेश ने उन्हें इस अंदाज में दी बधाई, जानें- क्या बोले

शिवपाल यादव ने अपने समर्थकों संग लखनऊ स्थित आवास पर जन्मदिन मनाया। अखिलेश यादव ने उन्हें मीडिया के माध्यम से बधाई दी।

22 जनवरी 2018

Related Videos

यूपी पुलिस की हैवानियत का चेहरा, पिटाई की वजह से पेट में ही बच्चे की मौत

बांदा जिले की एक महिला ने यूपी पुलिस पर गंभीर आरोप लगाये है। महिला का कहना है कि उसके पति को गिरफ्तार करने आई पुलिस ने उसकी पिटाई कर दी। पुलिस की पिटाई से महिला का तीन माह का गर्भ गिर गया।

19 जनवरी 2018

आज का मुद्दा
View more polls
  • Downloads

Follow Us

Read the latest and breaking Hindi news on amarujala.com. Get live Hindi news about India and the World from politics, sports, bollywood, business, cities, lifestyle, astrology, spirituality, jobs and much more. Register with amarujala.com to get all the latest Hindi news updates as they happen.

E-Paper