Hindi News ›   Uttar Pradesh ›   Baghpat ›   Identification of these colonies, pucca houses on the side of unpaved roads

कई कॉलोनियों की पहचान, कच्ची सड़क, पक्के मकान

Meerut Bureau मेरठ ब्यूरो
Updated Tue, 07 Dec 2021 11:27 PM IST
महावीर एंक्लेव में भरा दूषित पानी
महावीर एंक्लेव में भरा दूषित पानी - फोटो : BAGHPAT
विज्ञापन
ख़बर सुनें
20 साल बाद भी नगर पालिका कई जगह पेयजल और सीवर लाइन नहीं डलवा सकी
विज्ञापन

गलियां भी नहीं बनवाई गई, कीचड़ से भरे रास्तों से गुजरते है लोग
संवाद न्यूज एजेंसी
बागपत। 20 साल में जिस तरह से शहर की आबादी व दायरा बढ़ा है, उस तरह से सुविधाएं नहीं बढ़ सकी है। अधिकांश कालोनियों में रहने वाले लोगों को सुविधाओं के लिए तरसना पड़ रहा है। किसी जगह पानी की लाइन नहीं बिछवाई गई तो किसी तरह पानी निकासी की समस्या है। लोग कई बार नगर पालिका से लेकर अन्य अधिकारियों को समस्या से अवगत करा चुके है। उसके बाद भी समस्या का समाधान नहीं हो रहा है। कई कॉलोनियों में तो गांवों से भी बदतर हालात है।
बागपत में बीस साल पहले दिल्ली व बड़ौत रोड पर केवल सीमित मकान बने हुए थे और शहर केवल पुराने कस्बे व बाजार तक सीमित था। आबादी बढ़ने लगी और गांवों से लोग शहर में आकर रहने लगे तो बड़ौत रोड, दिल्ली रोड, मेरठ रोड पर कई कालोनियां बस गई। कालोनियां बसने के बावजूद आजतक लोग सुविधाओं के लिए तरस रहे है। बड़ौत रोड पर महावीर एंक्लेव व दिल्ली रोड पर गुलाब वाटिका का हाल है। इन दोनों जगहों पर लोगों को मूलभूत सुविधाओं के लिए जूझना पड़ रहा है। पेयजल की समस्या बनी रहती है तो बारिश में पानी की निकासी नहीं होने से लोगों को समस्या से जूझना पड़ता है। इन दोनों जगह कई गलियों का निर्माण तक नहीं हुआ है। लोग कई बार नगर पालिक के साथ ही प्रशासनिक अधिकारियों से समस्याओं के निस्तारण की मांग कर चुके है, लेकिन उसके बाद भी कुछ नहीं हुआ।

कालोनी में पेयजल की समस्या बनी हुई है, क्योंकि यहां पानी की लाइन नहीं बिछवाई गई है। बारिश में पानी की निकासी भी नहीं होती है। इसके अलावा खड़ंजा भी खराब हो चुका है। किसी भी समस्या का समाधान नहीं किया जाता है। बीस साल बाद भी हालात काफी खराब है। लोकेंद्र हेवा, महावीर एंक्लेव
बीस साल बाद भी सुविधाओं के लिए तरस रहे है। रास्ते तक नहीं बनवाए गए है और सफाई भी नहीं कराई जाती है। इनके अलावा भी बारिश में जलभराव की समस्या से जूझना पड़ता है। नगर पालिका को समस्याओं का समाधान कराना चाहिए। रेशमा तोमर, गुलाब वाटिका
कालोनी में बीस साल भी स्थिति नहीं सुधर सकी है और यहां पानी की निकासी नहीं होती है। गलियों का निर्माण भी नहीं कराया गया है। जिसका निर्माण कराया गया था, वह भी धंसने लगा है। इस तरह से आज भी सुविधाओं के लिए जूझ रहे है। मुनेश तोमर, गुलाब वाटिका

आपकी राय हमारे लिए महत्वपूर्ण है। खबरों को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।

खबर में दी गई जानकारी और सूचना से आप संतुष्ट हैं?
विज्ञापन
विज्ञापन

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App और Amarujala Hindi News APP अपने मोबाइल पे|
Get all India News in Hindi related to live update of politics, sports, entertainment, technology and education etc. Stay updated with us for all breaking news from India News and more news in Hindi.

विज्ञापन
विज्ञापन
  • Downloads
    News Stand

Follow Us

  • Facebook Page
  • Twitter Page
  • Youtube Page
  • Instagram Page
  • Telegram
एप में पढ़ें

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00