नर्सिंग स्टाफ की हड़ताल से मरीज बेहाल

नर्सिंग स्टाफ की हड़ताल से मरीज बेहाल Updated Sun, 04 Sep 2016 01:35 AM IST
नर्सिंग स्टाफ की हड़ताल से मरीज बेहाल
नर्सिंग स्टाफ की हड़ताल से मरीज बेहाल - फोटो : अमर उजाला ब्यूरो
विज्ञापन
ख़बर सुनें
नर्सिंग स्टाफ की हड़ताल से एसएन मेडिकल कालेज, लेडी लायल और जिला अस्पताल की चिकित्सकीय सेवाएं पटरी से उतर गईं। मरीजों की ड्रेसिंग नहीं हुई, ड्रिप तक नहीं बदली गई। सबसे बुरा हाल एसएन मेडिकल कालेज का हुआ। यहां इनडोर पांच सौ मरीजों को भारी परेशानी उठानी पड़ी। संविदा स्टाफ और नर्सिंग छात्राओं के बावजूद भी मरीज हलाकान रहे। 
विज्ञापन

नर्सेज को न्यूनतम एंट्री पे 5400 ग्रेड, सातवें वेतन आयोग में नर्सिंग भत्ता बढ़ाने, यूनीफार्म-धुलाई भत्ता बढ़ाने जैसी सात मांगों के लिए लेडी लायल, एसएन और जिला अस्पताल की नर्सिंग स्टाफ ने धरना दिया। नारेबाजी करते हुए परिसर में पैदल मार्च निकाला। नर्सिंग स्कूल में संगोष्ठी कर मांग पूरी होने तक हड़ताल जारी रखने का एलान किया। जिलाध्यक्ष कुंती चौहान, एसएन अध्यक्ष सुजाता तोमर, ममता सिंह, रानी वर्मा, राकेश शर्मा, अशोक कुमार, संदीप त्यागी, जितेंद्र सिंह, सुमित्रा पांडे, ज्योतिसिमा फ्लोरेंस आदि रहे।  

प्राचार्य कार्यालय पर तड़पता रहा मरीज
हड़ताल के चलते शिकोहाबाद का नेत्रपाल प्राचार्य कार्यालय पर तड़पता रहा। यहां किसी ने उसे भर्ती नहीं किया। यहां एसआईसी डा. हिमांशु यादव आए तो उन्होंने एंबुलेंस बुलाकर इसे इमरजेंसी भर्ती कराया। पीड़ित के परिजन उमेश ने बताया कि शुक्रवार को इमरजेंसी में भर्ती कराया था। यहां दवा देकर दूसरे दिन बुलाया, यहां आने पर हड़ताल की बात कह भगा दिया।

आपकी राय हमारे लिए महत्वपूर्ण है। खबरों को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।

खबर में दी गई जानकारी और सूचना से आप संतुष्ट हैं?
विज्ञापन
विज्ञापन
सबसे विश्वसनीय हिंदी न्यूज़ वेबसाइट अमर उजाला पर पढ़ें हर राज्य और शहर से जुड़ी क्राइम समाचार की
ब्रेकिंग अपडेट।
 
रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें अमर उजाला हिंदी न्यूज़ APP अपने मोबाइल पर।
Amar Ujala Android Hindi News APP Amar Ujala iOS Hindi News APP
विज्ञापन
विज्ञापन
  • Downloads

Follow Us

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00