विज्ञापन

आगरा बवालः हमलावरों को छुड़ाने पर भड़की भीड़, एक आरोपी को पीट-पीट कर मारा

टीम डिजिटल आगरा Updated Mon, 05 Jun 2017 11:12 PM IST
मर्डर
मर्डर - फोटो : अमर उजाला
विज्ञापन
ख़बर सुनें
आगरा के फतेहाबाद में बवाल की असली जड़ हमलावरों को बचाना रहा। युवक की हत्या करने वाले भाइयों को ग्रमीणों की भीड़ ने पकड़ लिया था। वे उनकी जान लेने पर आमादा थे। इसी दौरान पहुंची पुलिस ने हमलावरों को छुड़ाने का प्रयास किया तो भीड़ ने पुलिस को भी नहीं छोड़ा। पुलिस कर्मियों की दौड़ा-दौड़ाकर पिटाई की। एक हमलावर को जान से मार दिया। 
विज्ञापन
बता दें कि सोमवार रात को नाथूराम वर्मा समर सिंह और उसके भाई सुधीर के साथ गांव नहरा नाहरगंज आए थे। वहां एक अन्य कार में कुछ और लोग मौजूद थे। गांव में आने के बाद इन दोनों भाइयों ने ही नाथूराम की गोली मारकर हत्या कर दी।  गांव के पास फायरिंग की आवाज सुनकर खेतों में काम कर रहे ग्रामीण आ गए। उन्होंने हमलावरों को घेर लिया। समर सिंह और सुधीर की जमकर पिटाई की। इधर दूसरी कार में सवार लोग पैदल भाग खड़े हुए। 

ग्रामीणों ने हमलावरों की कार को यमुना में फेंक दिया। सूचना पर पहुंची पुलिस ने आरोपियों को छुड़ाने का प्रयास किया तो आक्रोशित ग्रामीणों ने पुलिसकर्मियों के साथ भी मारपीट कर दी।  बाद में आई पीआरवी नंबर 59 में आए सिपाही को जमकर पीटा। यह देखकर पुलिस कर्मी जान बचाकर भाग निकले। 

ग्रामीणों ने पीआरवी में भी आग लगा दी। घटना की जानकारी पर आसपास के थानों की फोर्स पहुंची तो उसने ग्रामीणों को खदेड़ दिया। डीएम गौरव दयाल और एसएसपी दिनेश चंद्र दुबे आ गए। इधर ग्रामीणों की पिटाई से घायल हुए एक आरोपी सुधीर सिंह की मौत हो गई। वहीं समर सिंह मौका पाकर भाग गया।
 

Recommended

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
अमर उजाला की खबरों को फेसबुक पर पाने के लिए लाइक करें

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App और Amarujala Hindi News App अपने मोबाइल पे|
Get all crime news in Hindi. Stay updated with us for all breaking hindi news.

विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन

Most Read

Uttar Pradesh

आजम खान का बस चले तो वे हिंदुओं से जजिया वसूले: अमर सिंह

मोदी जी शिखर हैं और राहुल अभी सीख रहे हैं। मोदी जी का गुरुत्वाकर्षण खुद राहुल को उनके पास खींच लाया।

17 अक्टूबर 2018

विज्ञापन

Related Videos

VIDEO: यमुना नदी की सफाई के लिए जारी 460 करोड़ रुपए नहीं हुए खर्च, जानिए वजह

गंगा नदी के लिए जहां सरकार खुद को जागरूक बता रही हैं। उसके लिए अलग मंत्रालय तक बना दी वहीं यमुना को लेकर किसी को चिंता नहीं है। इस रिपोर्ट में देखिए की यमुना किस तरह हर रोज मर रही है। और इसके लिए जिम्मेदार कौन है।

15 अक्टूबर 2018

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree