मजलिस-ए-अजा में उमड़ा हुसैनियों का हुजूम

Lucknow Updated Mon, 19 Nov 2012 12:00 PM IST
लखनऊ । करबला के शहीदों की याद में मजलिस-ए-अजा पर हुसैनियों का हुजूम अपने इमाम को पुरसा देने को बेकरार दिखा। हर तरफ स्याह लिबास में अजादार एक मजलिस से दूसरी मजलिस में सुबह से रात तक हजरत इमाम हुसैन को याद करते रहे। मजलिसों के दौरान शहर में अमन कायम रखने को लेकर उलमा ने प्रदेश सरकार व जिला प्रशासन को सचेत भी किया। इमामबाड़ा आगा वाकर में मजलिस को संबोधित करते हुए मौलाना मीसम जैदी ने कहा कि अहलेबैत वे हैं जिनके घर फरिश्ते आते हैं। रसूल के अहलेबैत से मोहब्बत रखने वाला ही सच्चा मुसलमान है। अल्लाह ने रसूल व आल ए मोहम्मद को इंसानियत की हिदायत के लिए दुनिया में भेजा। मौलाना ने कहा कि शियत के खिलाफ साजिश की जाती है लेकिन सरकारों को इस बात से अनजान नहीं रहना चाहिए कि शियत एक बहुत बड़ी ताकत है वोट बैंक की राजनीति से ऊपर उठकर शिया समुदाय के इस खास मौके पर ध्यान दें। इमामबाड़ा मदरसा नाजमियां में मौलाना हमीदुल हसन ने मजलिस को संबोधित करते हुए कहा कि हजरत इमाम हुसैन मदीने से हिजरत न करते तो मुसलमानों का वजूद खत्म हो जाता। मौलाना ने जब हजरत हुर व उनके बेटे की शहादत का वाकया बयान किया तो अजादार रोने लगे और या हुसैन की सदाएं बुलंद होने लगीं। इमामबाड़ा जकी अली खां में मजलिस को मौलाना सैयद शबाहत हुसैन रिजवी ने संबोधित करते हुए अहलेबैत और हदीस की रौशनी में बयान पेश किया। वहीं वक्फ इमामबाड़ा कस्रे जन्नत, जन्नत की खिड़की में मौलाना एजाज हुसैन रिजवी ने मजलिस को संबोधित करते हुए करबला के शहीदों पुरसा दिया। शिया पीजी कॉलेज में मौलाना आगा रूही ने मजलिस को संबोधित करते हुए कहा कि अल्लाह और उसके रसूल व आल पर भरोसा न करने वाले मुसलमान नहीं हैं। यह मुसलमानों के नकाब में समाज में दहशतगर्दी फैलाने का काम कर रहे हैं। मौलाना ने जब हजरत मुसलिम के मासूम बेटों की शहादत का जिक्र किया तो यहां मौजूद अजादार रोने लगे। इमामबाड़ा गुफरानमॉब में मौलाना कल्बे जव्वाद ने मजलिस को खिताब करते हुए कहा कि मुसलमानों के खिलाफ मुसलिम मुल्क ही साजिशें कर रहे हैं। यह अरब मुल्क अमेरिका व इजराइल के साजिश के तहत मुसलमानों को ही नुकसान पहुंचा रहे हैं क्यों ये कुछ देश अमेरिका व इजराइल के एजेण्ट हैं। मौलाना ने कहा कि कहा जाता है कि ताजिया शबीह है रखना बिदअत है लेकिन क्या दुम्बा या बकरीद में बकरा काटना बिदअत नहीं है। यह भी तो हजरत इब्राहिम और हजरत इस्माइल की कुरबानी की शबीह ही है। मौलाना ने मुसलमानों से शहर में अमन कायम रखने की अपील की। इमामबाड़ा जन्नतम्आब में मौलाना सैफ अब्बास ने कुरान और अहलेबैत पर मजलिस को खिताब करते हुए कहा कि अहलेबैत से हट कर मुसलमानों का वजूद खत्म हो जाता है। इसलिए कुरान और नमाज व मसजिदें सब रसूल और उनके अहलेबैत से मोहब्बत का नतीजा है।

Spotlight

Most Read

Bihar

चारा घोटाले के तीसरे केस में लालू यादव दोषी करार, दोपहर 2 बजे बाद होगा सजा का ऐलान

पूर्व रेल मंत्री और राष्ट्रीय जनता दल (आरजेडी) सुप्रीमो लालू प्रसाद यादव के खिलाफ सीबीआई की विशेष अदालत ने बड़ा फैसला सुनाया है।

24 जनवरी 2018

Related Videos

देखिए, कैसे 'राम भरोसे' आपकी रखवाली करते हैं यूपी के ये पहरेदार

जिनके भरोसे आप अपना घर छोड़ते हैं। जिनके भरोसे बड़ी-बड़ी कंपनियां होती हैं। जो दिन-रात एटीएम के बाहर लाखों रुपए की सुरक्षा करते हैं। वो खुद कितने सुरक्षित हैं। आइए इस पड़ताल में हमारे साथ और देखिए सेक्युरिटी गार्ड्स की सुरक्षा की इनसाइड स्टोरी।

24 जनवरी 2018