आयुर्वेदिक डॉक्टरों ने अंग्रेजी दवाइयां लिखीं तो होगी कार्रवाई

संजय भारद्वाज/अमर उजाला, नाहन(सिरमौर) Updated Sun, 04 Jun 2017 12:34 PM IST
ayurvedic doctors can not write allopathic medicines for treatment
ख़बर सुनें
हिमाचल प्रदेश के आयुर्वेदिक अस्पतालों में कार्यरत चिकित्सक अब अंग्रेजी दवाइयां (ऐलोपैथिक) नहीं लिख सकेंगे। यदि किसी चिकित्सक ने मरीज को एलोपैथिक दवाइयां लिखीं तो उनके खिलाफ कार्रवाई की जाएगी। हालांकि, ऐसी कंडीशन जब, मरीज को एलोपैथिक दवाइयां देनी जरूरी हो, तो डॉक्टर लिख सकता है, लेकिन इसकी पूरी वजह उस चिकित्सक को बतानी होगी।
आयुर्वेदिक विभाग आयुर्वेद को बढ़ावा देने के लिए यह व्यवस्था करने जा रहा है। औषधीय पौधों के रोपण के लिए किसानों को जागरूक करने के साथ ही अस्पतालों में प्राचीनतम योग पद्धति से भी रोगियों का इलाज जल्द शुरू किया जाएगा।


सिरमौर दौरे पर आए आयुर्वेदिक विभाग के विशेष कार्य अधिकारी (ओएसडी)डॉ. दिनेश कुमार ने अमर उजाला से खास मुलाकात में यह खुलासा किया है। उन्होंने बताया कि आयुर्वेदिक विभाग के अधिकतर संस्थान ग्रामीण क्षेत्रों में हैं। ऐसे में इन क्षेत्रों में जड़ी-बूटियों को बढ़ावा देने के प्रयास किए जाएंगे। 
आगे पढ़ें

पंचकर्मा और श्रारसूत्र के साथ शुरू होगी योग से इलाज की पद्धति

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App और Amarujala Hindi News APP अपने मोबाइल पे|
Get all India News in Hindi related to live update of politics, sports, entertainment, technology and education etc. Stay updated with us for all breaking news from India News and more news in Hindi.

Spotlight

Most Read

Lucknow

अखिलेश यादव अपने पिता पर ही चल रहे हैं 'चरखा दांव' : भाजपा

पूर्व मुख्यमंत्री व सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव ने अपने पिता मुलायम सिंह यादव पर उन्हीं का पसंदीदा चरखा दांव चलकर राजनीतिक मात देने की कोशिश की है।

22 मई 2018

Related Videos

VIDEO: पिटाई के बाद मजनू का उतरा ‘आशिकी’ का भूत

हिमाचल प्रदेश के हमीरपुर में नशे में धुत एक युवक को एक स्कूली बच्ची से छेड़छाड़ करना महंगा पड़ा। शिकायत के बाद परिवारवालों ने युवक को पकड़कर बीच सड़क जमकर पिटाई की।

19 मई 2018

अमर उजाला ऐप चुनें

सबसे तेज अनुभव के लिए

क्लिक करें Add to Home Screen