लोकप्रिय और ट्रेंडिंग टॉपिक्स

Hindi News ›   Uttar Pradesh ›   Lucknow ›   newly born girl baby caught in garbage

हे जन्मदाता, इतनी निष्ठुरता क्यों? नवजात बच्ची को कूड़े में फेंका, लिपटी थीं चीटियां, नोच रहे थे कुत्ते

Lucknow Bureau लखनऊ ब्यूरो
Updated Fri, 17 Sep 2021 02:08 AM IST
newly born girl baby caught in garbage
विज्ञापन
ख़बर सुनें
लखनऊ। मां की कोख में जिस बच्ची ने इस रंग-बिरंगी दुनिया के लिए न जाने कितने ख्वाब बुने होंगे, लेकिन कोख से बाहर आते ही उसकी आंखों के सामने मां की गोद और पिता के स्नेह की जगह तन्हाई थी, आसपास कूड़े का ढेर था, असुरक्षा थी और जन्म लेते ही जीवन के सामने संकट था। शरीर से चीटियां लिपटी थीं और कुत्ते नोच रहे थे। राजधानी में लगातार तीसरे दिन यह हृदयविदारक तस्वीर देखने को मिली। यानी तीसरे दिन तीसरी नवजात लावारिस हालत में पाई गई। इन वारदातों ने सोचने पर मजबूर कर दिया है कि क्या हम उसी समाज में रह रहे हैं जहां बेटियाें को देवी मानकर पूजने की परंपरा है।

आशियाना थाना क्षेत्र में सूर्यबली गली, सनराइज अपार्टमेंट के पास कूड़े के ढेर में रोती मिली नवजात बच्ची मिली तो उसे देखकर हर शख्स का मन द्रवित हो गया जिससे चीटियां लिपटी थीं और कुत्ते नोच रहे थे। परी जैसी नाजुक इस बच्ची को फेंकने वाला आखिर इतना निष्ठुर कैसे हो सकता है। राजधानी में तीन दिन केभीतर तीसरी बच्ची को फेंकेजाने की घटना हिलाकर रख देने वाली है। बुधवार की रात आशियाना में कूड़े के ढेर पर मिली बच्ची और उसकी हालत, हमारे सभ्य समाज पर एक सवाल भी है। दो दिन पहले एक नवजात मलिहाबाद दूसरी मड़ियांव थाना क्षेत्र के अल्लूनगर में फेंकी गई थी। दोनों बच्चियां दो से तीन दिन की थीं।

चाइल्ड लाइन केन्द्र समन्वयक कृष्ण प्रताप शर्मा ने बताया कि चाइल्ड लाइन को लगातार तीसरे दिन तीसरी नवजात के फेंकेजाने की सूचना मिली। बच्ची को लोकबंधु अस्पताल में भर्ती कराया गया है, वहां उसका इलाज चल रहा है। बृहस्पतिवार को अस्पताल में बच्ची की देखभाल के लिए ड्यूटी पर तैनात बृजेन्द्र बताया कि सूर्यबली गली, सनराइज अपार्टमेंट के पास आशियाना थाना क्षेत्र में कूड़े के ढेर में नवजात शिशु मिली थी। चीटियां उससे लिपटी थीं और कुत्ते नोच रहे थे। रोने की आवाज सुनकर भीड़ इकट्ठा हुई, पुलिस कंट्रोल रूम 112 को सूचना दी गई। नवजात को पहले नबीन ने देखा, उसकी सूचना चौकी प्रभारी को दिया। चाइल्ड लाइन को सूचना दी गई। टीम के सदस्य बृजेन्द्र शर्मा, अनीता त्रिपाठी थाना आशियाना पहुंचे। चाइल्ड लाइन के सुपुर्द करके बच्ची को लोक बंधु हास्पिटल ले जाया गया। डॉक्टरों ने संक्रमण की खतरा बताते हुए इलाज शुरू किया। बृजेन्द्र ने कहा कि अभी नवजात की नाल भी नहीं कटी है, बच्ची को पैदा होने के कुछ घंटे बाद ही फेंक दिया गया लगता है।

आपकी राय हमारे लिए महत्वपूर्ण है। खबरों को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।

खबर में दी गई जानकारी और सूचना से आप संतुष्ट हैं?
विज्ञापन
विज्ञापन

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App और Amarujala Hindi News APP अपने मोबाइल पे|
Get all India News in Hindi related to live update of politics, sports, entertainment, technology and education etc. Stay updated with us for all breaking news from India News and more news in Hindi.

विज्ञापन
विज्ञापन
एप में पढ़ें

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00