बारिश ने तबाह की दो सीजन की फसल

Sandeep Tomar Updated Tue, 07 Apr 2015 10:56 PM IST
unseasonal rain destroyed crop in jammu
ख़बर सुनें
लगातार फसलों के दो सीजनों की तबाही झेल चुके  किसानों के लिए तीसरे सीजन में भी राहत मिलती नहीं दिख रही। एक महीने के बाद खरीफ सीजन में फसलें लगाई जानी हैं, लेकिन इसकी तैयारियां न के बराबर हैं। खरीफ सीजन में मुख्य रूप से धान, मक्की और दलहन लगाई जाती है।
पहाड़ी इलाकों में अगले महीने ही बुआई शुरू होनी है, लेकिन अभी तक किसानों के पास बीज नहीं पहुंचा। नहरों की हालत भी ऐसी नहीं कि खरीफ सीजन में फसलों के अंतिम छोर तक पानी पहुंच पाए। जम्मू संभाग में दो लाख हेक्टेयर पर धान, डेढ़ लाख हेक्टेयर पर मक्की और 60 हजार हेक्टेयर पर मूंग, माश लगती है। पहाड़ी इलाकों में मक्की और समतल इलाकों में धान लगेगी।

पहाड़ी इलाकों में मई महीने में मक्की की बुआई होनी है। इसके लिए किसानों के पास अभी तक बीज नहीं पहुंचा। जम्मू के समतल इलाकों के लिए भी धान का बीज नहीं पहुंचा। जम्मू संभाग में कृषि के लिए किसान नहरों पर निर्भर हैं। पिछले सात महीनों में हुई बारिश की वजह से नहरों की हालत खराब हो गई। कई जगहों से नहरें टूट चुकी हैं।

मौसम सबसे बड़ा दुश्मन
पिछले सात महीने में बेमौसम बारिश ने किसानों को परेशान करके रखा हुआ है। किसान काउंसिल के प्रधान तेजिंदर सिंह का कहना है कि पिछली दो फसलें तबाह हो चुकी हैं। अब मौसम से डर लग रहा है। कोई गारंटी नहीं कि खरीफ सीजन में मौसम विलेन न बने।
आगे पढ़ें

पिछले दो सीजन भी तबाह

RELATED

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App और Amarujala Hindi News APP अपने मोबाइल पे|
Get all India News in Hindi related to live update of politics, sports, entertainment, technology and education etc. Stay updated with us for all breaking news from India News and more news in Hindi.

Spotlight

Most Read

Lucknow

अखिलेश यादव अपने पिता पर ही चल रहे हैं 'चरखा दांव' : भाजपा

पूर्व मुख्यमंत्री व सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव ने अपने पिता मुलायम सिंह यादव पर उन्हीं का पसंदीदा चरखा दांव चलकर राजनीतिक मात देने की कोशिश की है।

22 मई 2018

Related Videos

60 सेकेंड में जाने एशिया की सबसे बड़ी सुरंग जोजिला टनल के बारे में

जम्मू-कश्मीर में एशिया की सबसे बड़ी टनल यानि कि जोजिला टनल दुनिया की चंद सबसे बड़ी परियोजनाओं में शामिल है। इस परियोजना का मकसद कश्मीर घाटी और लद्दाख के बीच हर मौसम में संपर्क बनाए रखना है। देखिए आखिर क्यों खास है ये टनल।

19 मई 2018

आज का मुद्दा
View more polls

अमर उजाला ऐप चुनें

सबसे तेज अनुभव के लिए

क्लिक करें Add to Home Screen