बेहतर अनुभव के लिए एप चुनें।
TRY NOW
विज्ञापन
विज्ञापन
अक्षय तृतीया के शुभ अवसर पर लाएं ये 7 चीजें,खूब आएगा धन।
Myjyotish

अक्षय तृतीया के शुभ अवसर पर लाएं ये 7 चीजें,खूब आएगा धन।

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

तेरा जीवन

14 मई 2021

Digital Edition

जम्मू के त्रिकुटा नगर में संदिग्ध महिलाएं सक्रिय, पुलिस ने बढ़ाई गश्त

जम्मू के त्रिकुटा नगर क्षेत्र में कुछ संदिग्ध महिलाओं के सक्रिय होने का मामला सामने आया है। इसकी शिकायत त्रिकुटा नगर पुलिस स्टेशन में की गई है। लोगों की शिकायत पर एसएचओ रविवार को सेक्टर 7 में पहुंचे और लोगों से बैठक कर आश्वासन दिया कि क्षेत्र में गश्त बढ़ाई जाएगी, ताकि लोग सुरक्षित रह सकें।

जानकारी के अनुसार लोगों ने बताया कि ऐसा तीन बार हुआ है कि कुछ महिलाएं लोगों के घर आती हैं। किराए पर कमरा लेने की बात कह कर कई तरह की जानकारियां प्राप्त करती हैं। लोगों का कहना है कि वह यकीन से कह सकते हैं ये महिलाएं अफगान मोहल्ले की हैं।

यहां पर अधिकतर रहने वाली महिलाएं रोहिंग्या और बाहर के क्षेत्रों की हैं, जो चोरी, ड्रग्स और अन्य तरह की संदिग्ध गतिविधियों में शामिल हैं। उन्होंने कहा कि अफगान मोहल्ला त्रिकुटा 5 और 7 सेक्टर की सुरक्षा के लिए खतरा बन चुका है। 
... और पढ़ें

जम्मू-कश्मीरः फर्जी फेसबुक अकाउंट बनाने वालों से पुलिस भी सुरक्षित नहीं, पढ़ें ये रिपोर्ट

साइबर अपराध से निपटने में साइबर पुलिस दम तोड़ रही है। अपराधियों के हौसले इतने बुलंद हैं कि वह पुलिस को ही निशाना बना रहे हैं। लगातार दो दिन फेसबुक पर पुलिस अफसरों के फर्जी अकाउंट बनाए गए। इससे पहले भी एक पुलिस अफसर का अकाउंट बना था। एक हफ्ते में तीन बड़े अफसरों के फर्जी अकाउंट बन जाना पुलिस के ढांचे पर सवाल उठाता है। अगर पुलिस ही इसमें सुरिक्षत नहीं तो आम लोगों का क्या होगा। इसका महज अंदाजा ही लगाया जा सकता है।

यह भी पढ़ेंः
अटल से लेकर मोदी तक सबके चहेते रहे जेटली, 20 तस्वीरों में देखिए भाजपा के संकटमोचक की जीवन गाथा

दरअसल, जानबूझ कर पुलिस अफसरों के नाम के फर्जी फेसबुक अकाउंट बनाए जा रहे हैं, ताकि आसानी से उनके जानने वालों को ठगा जा सके। फेसबुक अकाउंट बनने के बाद लोगों से पैसे मांगे जाते हैं, क्योंकि उन्हें पता होता है कि जिसके नाम का अकाउंट बनाया है, उसके नाम पर आसानी से उनके जानने वाले पैसे भेज देंगे। एसएसपी जम्मू क्राइम ब्रांच शैलेंद्र सिंह का कहना है कि फेसबुक पर फर्जीवाड़े का यह एक नया ट्रेंड सामने आया है। जिसकी गहनता से जांच की जा रही है।  

मामला नंबर- 1
कश्मीर के आईजी विजय कुमार का 21 अगस्त को फेसबुक अकाउंट बना। फेसबुक अकाउंट पर उनकी वर्दी वाली प्रोफाइल फोटो लगाई गई। हालांकि, नाम में विजय कुमार आईपीएस की जगह विजय कुमार एलपीएस रखा गया। अकाउंट बनने के बाद चार घंटे में ही इस अकाउंट में 100 से अधिक लोग जुड़ गए। जबकि विजय कुमार को घंटों के बाद पता चला कि उनके नाम का फर्जी अकाउंट बना है।

मामला नंबर- 2
22 अगस्त को इंस्पेक्टर और सांबा पुलिस स्टेशन के एसएचओ राजेश जसरोटिया के नाम का भी फर्जी फेसबुक अकाउंट बना। इसके बाद उनके अकाउंट से लोगों को फ्रेंड रिक्वेस्ट जाने लगी। उनके जानने वालों को पता चल गया कि फेसबुक अकाउंट बना है। इसके बाद यह अकाउंट ब्लॉक हो गया।

मामला नंबर-3
एसएसपी मोहन लाल के नाम का फेसबुक अकाउंट भी बना। जबकि इससे पहले आईपीएस अफसर अमित कुमार, एसीबी के एसपी मुश्ताक चौधरी और सब इंस्पेक्टर विकास का फर्जी फेसबुक अकाउंट भी बना।
... और पढ़ें

Jammu and Kashmir: 2014 की बाढ़ में दो दर्जन जवानों की जान बचाने वाले युवा ने थामा आतंक का दामन

पाकिस्तान ने रची जम्मू को दहलाने की साजिश, वैष्णो देवी और पर्यटक स्थलों पर अतिरिक्त सतर्कता

पाकिस्तान कश्मीर के बाद अब जम्मू में भी माहौल बिगाड़ने की साजिश रच रहा है। इसके लिए उसने आतंकी संगठन लश्कर-ए-तैयबा की मदद लेने का षड्यंत्र बुना है। लश्कर अपने स्थानीय नेटवर्क का इस्तेमाल कर रहा है। सीमा पार से लगातार स्थानीय आतंकियों और मददगारों को इस बारे में निर्देश दिए जा रहे हैं। वहीं सतर्क भारतीय एजेसियां पड़ोसी की हर चाल नाकाम करने में जुटी हैं। एक सप्ताह में जम्मू संभाग में लश्कर के छह मददगार गिरफ्तार किए जा चुके हैं। वैष्णोदेवी तीर्थक्षेत्र व अन्य पर्यटक स्थलों पर अतिरिक्त सतर्कता बरती जा रही है। 

सुरक्षा एजेंसियों से जुड़े सूत्रों का कहना है कि एक सप्ताह में पुंछ में एक और जम्मू में दो स्थानों पर लश्कर के मॉड्यूल का भंडाफोड़ होना बड़ी साजिश का इशारा करता है। यह महज इत्तफाक नहीं है। उनका कहना है कि पाकिस्तान की बौखलाहट के पीछे दो-तीन वजहें हैं। पहला घाटी में चुनाव बहिष्कार को दरकिनार कर हाल ही में हुए डीडीसी चुनाव में भारी मतदान होना। दूसरा, पाकिस्तान में अस्थिर हो रही इमरान सरकार और उठापटक से जनता का ध्यान बंटाना है।

यह भी पढ़ेंः
इस साल 17 आतंकियों ने किया समर्पण, एक आतंकी की आंखें भालू के भय से खुलीं, फिर वो मुख्यधारा में लौटा

ऐसे में वह नए इलाके में दहशत फैलाने की कोशिश कर रहा है। इसके लिए जम्मू संभाग के डोडा, किश्तवाड़ के साथ राजोरी और पुंछ को सॉफ्ट टारगेट बनाया जा रहा है। जम्मू को प्रदेश की राजधानी होने के कारण निशाने पर रखा गया है। इसके लिए स्लीपर मॉड्यूल का सहारा लिया जा रहा है। अंतरराष्ट्रीय सीमा और एलओसी पर घुसपैठ की कोशिशें भी जारी हैं।
... और पढ़ें
वैष्णो देवी और पर्यटक स्थलों पर अतिरिक्त सतर्कता वैष्णो देवी और पर्यटक स्थलों पर अतिरिक्त सतर्कता

जम्मू-कश्मीरः भगोड़े एसपीओ समेत जैश के चार आतंकवादी गिरफ्तार, हथियार भी बरामद

सुरक्षाबलों ने रविवार को पुलिस के भगोड़े जवान समेत जैश-ए-मोहम्मद के चार आतंकियों को बडगाम जिले से गिरफ्तार किया। इनके पास से हथियार भी बरामद किए गए हैं। पुलिस प्रवक्ता ने बताया कि सूचना के आधार पर हयातपोरा इलाके में सुरक्षाबलों ने घेराबंदी की। तलाशी के दौरान एक वाहन ने घेराबंदी तोड़कर भागने की कोशिश की, लेकिन सुरक्षाबलों ने उसे रोक लिया।

वाहन में सवार लोगों ने प्रतिरोध किया, लेकिन उन्हें काबू में कर पूछताछ की गई। पूछताछ में पता चला कि पकड़े गए लोगों में एक भगौड़ा एसपीओ अल्ताफ हुसैन भी शामिल है, जो आतंकी बन चुका है। अन्य लोगों की पहचान पुलवामा के शब्बीर अहमद भट, जमशीद मागरे और जाहिद डार के रूप में हुई। अल्ताफ इस साल के शुरूआत में दो एके-47 राइफल के साथ फरार हो गया था।

उसके साथ भागने वाला एक अन्य एसपीओ जहांगीर पहले ही गिरफ्तार किया जा चुका है। पूछताछ में पता चला कि यह ग्रुप इलाके में आतंकी गतिविधियों को अंजाम देने की फिराक में था। पुलिस ने मुकदमा दर्ज कर जांच शुरू कर दी है।

यह भी पढ़ेंः
सेना के शीर्ष कमांडर का दावा- अंदरूनी मुद्दों से ध्यान भटकाने के लिए एलओसी पर तनाव बढ़ा सकता है पाक    
 
... और पढ़ें

जम्मू-कश्मीरः कुलगाम में सीआरपीएफ के जवानों पर आतंकियों ने किया ग्रेनेड हमला

जम्मू-कश्मीर के कुलगाम में सीआरपीएफ के जवानों को निशाना बनाते हुए आतंकियों ने ग्रेनेड हमला किया है। हालांकि इस हमले में किसी भी प्रकार के नुकसान की खबर नहीं है। वहीं सुरक्षाबलों की ओर से आतंकियों की तलाश में इलाके में अभियान चलाया जा रहा है।

यह भी पढ़ें-
डीडीसी चुनावः पांचवें चरण के मतदान में दिखा गजब का उत्साह, देखिए लोकतंत्र की जीत की तस्वीरें    

बता दें कि प्रदेश में चल रहे डीडीसी चुनावों में लोगों का उत्साह देख आतंकी संगठन बौखलाए हुए हैं। इसी क्रम में लोगों में खौफ उत्पन्न करने और घाटी का माहौल खराब करने के लिए आतंकी इस तरह की कायराना हरकतों को अंजाम दे रहे हैं।

यह भी पढ़ेंः यूएई के बाजार में धूम मचाने को तैयार कश्मीरी केसर, जानिए किसे कहते हैं केसर का शहर

 
... और पढ़ें

जम्मू-कश्मीरः कनाडा भेजने के नाम पर दो लोगों से साढ़े चार लाख रुपये की ठगी

कनाडा भेजने के नाम पर जम्मू संभाग में रियासी जिले के दो लोगों से 4.59 लाख रुपये की ठगी की गई। जालसाजी का पता चलने पर पीड़ितों ने पुलिस से शिकायत की। इस मामले में क्राइम ब्रांच ने मोहाली के तीन लोगों के खिलाफ केस दर्ज किया है। मामले में आगे की जांच की जा रही है।

जिले के पौनी के रहने वाले मनप्रीत सिंह और गगनदीप कौर ने क्राइम ब्रांच को लिखित शिकायत की। जिसमें कहा कि मोहाली की वीएफएस ग्लोबल एसोसिएट कंपनी के मालिक आदित्य और दो सहयोगी दलजीत सिंह व लवप्रीत सिंह ने उनसे कनाडा भेजने के लिए संपर्क किया। मनप्रीत और गगनदीप आरोपियों के झांसे में आ गए।

आरोपियों ने पहले वीजा देकर काम दिलाने के नाम पर पैसे मांगे। बताया गया कि स्वास्थ्य बीमा और मेडिकल चेकअप के लिए पैसे भेजने हैं। दोनों पीड़ितों ने पैसे उनके अकाउंट में ट्रांसफर कर दिए। इसके बाद आरोपियों ने दोबारा दूतावास और फिंगर प्रिंट के नाम पर और पैसे मांगे। कुल मिलाकर 4.59 लाख रुपये ले लिए। लेकिन इसके बाद न तो वीजा मिला और न ही पैसे वापस दिए गए। क्राइम ब्रांच ने शिकायत मिलने के बाद शुरुआती जांच कर मामला दर्ज कर लिया।
... और पढ़ें

जम्मू-कश्मीरः राजोरी में एसएसपी के घर पर रहस्यमयी ब्लास्ट, जांच में जुटी पुलिस

प्रतीकात्मक तस्वीर

जम्मूः फरियाद लेकर थाने पहुंची महिला, एएसआई ने झांसा देकर लौटाया, फिर घर में घुसकर किया दुष्कर्म

जम्मू संभाग के राजोरी पुलिस थाने में शिकायत दर्ज कराने आई महिला के साथ दुष्कर्म के आरोप में थाने में ही तैनात असिस्टेंट सब इंस्पेक्टर पर मामला दर्ज किया गया है। बताया जा रहा है कि पहले एएसआई ने महिला को फुसला कर घर भेज दिया और बाद में उसके घर में जाकर उससे दुष्कर्म किया। महिला के शोर मचाने पर आसपास के लोगों ने आरोपी को पकड़ा और पुलिस के हवाले कर दिया। थाने में एएसआई मोहम्मद शब्बीर को गिरफ्तार कर उसके खिलाफ आईपीसी की धारा 376 और 452 के तहत मामला दर्ज कर लिया गया है।

जानकारी के अनुसार बुद्धल पुलिस थाने में एक महिला किसी मामले को लेकर शिकायत दर्ज कराने आई थी। उसकी फरियाद सुनने के बजाय एएसआई ने उसे झांसा देकर लौटा दिया। बाद में वह महिला के घर में जा घुसा और जबरन उसके साथ दुष्कर्म किया। पुलिस के एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया कि आरोपी एएसआई को गिरफ्तार कर उसके खिलाफ मामला दर्ज कर लिया गया है।

दो साल में होना था रिटायर
बुद्धल स्थित पुलिस स्टेशन के सूत्रों ने बताया कि जिस एएसआई पर बलात्कार का मामला दर्ज हुआ है, दो साल बाद उसे सेवानिवृत्त होना था। दुष्कर्म मामले में शिकायतकर्ता महिला उससे आधी उम्र की है।

यह भी पढ़ें-
बारामुला मुठभेड़ः आतंकियों ने 12 लोगों को बना लिया था बंधक, फिर दिखा जांबाजों का शौर्य
... और पढ़ें

जम्मू-कश्मीरः विजयपुर के पूर्व एसडीएम और नायब तहसीलदार पर धोखाधड़ी का मामला

सांबा जिले के विजयपुर के पूर्व एसडीएम, नायब तहसीलदार समेत अन्य पर जमीन के म्यूटेशन (दाखिल खारिज) में धोखाधड़ी करने का केस दर्ज किया गया है। आरोपियों ने निजी लोगों से मिलकर सिडको की ओर से जमीन अधिग्रहण के बाद भुगतान की गई राशि 2.75 करोड़ रुपये का लाभ कमाया। शिकायत मिलने के बाद एंटी करप्शन ब्यूरो ने मामले की शुरूआती जांच की और केस दर्ज कर लिया।

केस के मुताबिक गांव मीन चाढ़कां में वर्ष 1959-60 में खेवात नंबर 34, 35, 36, खसरा नंबर 126, 129, 129 और 131 की जमाबंदी की गई। इस जमीन पर पृथ्वी सिंह, साईं सिंह, तरलोक सिंह और संसार सिंह निवासी मीन चाढ़कां का मालिकाना हक था। 1993 में संसार सिंह की मृत्यु हो गई और जमीन संसार सिंह की पत्नी सोमा देवी के नाम पर हो गई।

वर्ष 2016 में सोमा देवी, रमकन कुमार, सुभाष चंद्र और सुनील सिंह ने मयूटेशन नंबर 772 को पॉवर ऑफ अटार्नी गांधी नगर जम्मू के रहने वाले रजनीश पुरी को दी, लेकिन कुछ महीने के बाद सोमा देवी, सुभाष चंद्र और सुनील सिंह ने इसे वापस ले लिया। कुछ समय बाद सिडको औद्योगिक क्षेत्र का विकास हुआ।
... और पढ़ें

पंजाब से कार छीनकर भागे संदिग्ध, जम्मू-पठानकोट राजमार्ग पर हाई अलर्ट

पड़ोसी राज्य पंजाब में हथियारों से लैस संदिग्धों द्वारा कार छीनकर भागने की घटना के बाद जम्मू-पठानकोट राजमार्ग के सभी चेक प्वाइंट को हाई अलर्ट पर रखा गया है। एक पुलिस अधिकारी ने बताया कि जम्मू-पठानकोट राजमार्ग से गुजरने वाले सभी वाहनों की तलाशी ली जा रही है।

यह भी पढ़ेंः
उत्तरी कश्मीर को लेकर हिजबुल रच रहा ये साजिश, जानिए कितना चुनौतीपूर्ण था ऑपरेशन पट्टन

बता दें कि शुक्रवार शाम को गुरदासपुर के दीनानगर इलाके में हथियारों से लैस संदिग्धों ने एक निजी कार छीनने के बाद उसके मालिक को घायल कर दिया था। इसके बाद बदमाश फरार हो गए थे। इस घटना के बाद हिमाचल प्रदेश और जम्मू-कश्मीर के लिए अलर्ट जारी किया गया था।

यह भी पढ़ेंः बारामुला मुठभेड़ः आतंकियों ने 12 लोगों को बना लिया था बंधक, फिर दिखा जांबाजों का शौर्य

सीमावर्ती इलाकों में रात के समय गश्त भी तेज कर दी गई थी। वहीं एक अधिकारी ने कहा कि जम्मू-कश्मीर की सीमा में घुसने की कोशिश करने पर हमलावरों से निपटने की पूरी तैयारी कर ली गई है। कड़ी निगरानी रखी जा रही है।
... और पढ़ें

खुलासाः आतंकवाद को रियासी जिले में फिर से जिंदा करने की साजिश, लश्कर के मददगारों ने कबूल की ये बात

जम्मू-कश्मीर के रियासी में सुरक्षाबलों को बड़ी सफलता मिली है। पुलिस और सेना की संयुक्त टीम ने लश्कर-ए-तैयबा के तीन मददगारों को गिरफ्तार किया है। पकड़े गए आतंकियों के मददगारों से पूछताछ में सनसनीखेज खुलासा हुआ है।

यह भी पढ़ेंः
जम्मू-कश्मीरः अगस्त में 16 और इस साल अब तक 161 आतंकी ढेर, 61 सुरक्षाकर्मी शहीद

रियासी जिले की एसएसपी रश्मि वजीर ने कहा कि आतंकियों के तीन मददगारों को गिरफ्तार किया गया है। इनमें से एक सरकारी अध्यापक, एक दुकानदार और एक श्रमिक है। ये सभी आतंकी संगठन लश्कर-ए-तैयबा से जुड़े हैं। इनका हैंडलर मोहम्मद कासिम है। ये सभी पिछले पांच साल से इलाके में सक्रिय थे और कासिम के संपर्क में थे। साथ ही पूर्व आतंकियों के परिवारों को मदद कर रहे थे।

उन्होंने बताया कि पकड़े गए आतंकियों के मददगारों ने कबूल किया है कि सीमा पार बैठे इनके आका रियासी जिले में आतंकवाद को एक बार फिर से जिंदा करने की साजिश रहे हैं। इनके पास से रुपये व अन्य सामग्री बरामद हुई है। आतंकियों के ये मददगार सोशल मीडिया के जरिए अपने आकाओं के संपर्क में थे।

पुलिस का कहना है कि पूछताछ अभी जारी है, इस मामले में कुछ और गिरफ्तारियां भी हो सकती हैं। बता दें कि सुरक्षाबलों को इलाके में आतंकियों के मददगारों की मौजूदगी की सूचना मिली थी। इसी सूचना के आधार पर सुरक्षाबलों ने अभियान चलाया और आतंकियों के तीन मददगारों को गिरफ्तार करने में सफलता पाई।
... और पढ़ें

जम्मूः फर्जी दस्तावेजों से अपने नाम करवा ली 108 कनाल सरकारी जमीन, पांच लोग नामजद

जम्मू शहर के सुंजवां इलाके में लोगों ने फर्जी दस्तावेजों के माध्यम से धोखाधड़ी कर 108 कनाल सरकारी जमीन अपने नाम करवा ली। क्राइम ब्रांच जम्मू ने हसन दीन, फैम अली, फजल हुसैन, रशाद अहमद (सभी निवासी बरमीनी) और अब्दुल मजीद निवासी सुंजवां पर धोखाधड़ी का मामला गर्ज किया है। राजस्व विभाग के अफसरों के खिलाफ भी मामला दर्ज किया है, जिसकी जांच चल रही है। बताया जा रहा है कि विभाग की मिलीभगत से फर्जी राजस्व दस्तावेज तैयार किए गए और जमीन पर मालिकाना हक ले लिया गया।

जानकारी के अनुसार, यह जमीन खसरा नंबर 1524 की है। जम्मू के उपायुक्त और एडीसी की तरफ से क्राइम ब्रांच के संज्ञान में यह मामला लाया गया। इसके बाद जब मामले की जांच की गई तो पाया गया कि धोखाधड़ी हुई है। बताया गया कि एसडीएम दक्षिण की ओर से इस मामले की जांच भी की गई।

इसमें पाया गया कि जमीन का दाखिल खारिज (म्यूटेशन)फर्जी हुआ है। शिकायत मिलने के बाद क्राइम ब्रांच ने इसकी शुरूआती जांच की। क्राइम ब्रांच ने आरोपियों को अपना पक्ष रखने का मौका भी दिया, लेकिन वह संतोषजनक जवाब नहीं दे पाए। अब मामले में आगे की जांच की जा रही है।
... और पढ़ें
Election
  • Downloads

Follow Us

विज्ञापन