विज्ञापन

सार्वजनिक स्थान, यात्रा पर जाते एन-95 मास्क पहनें

Shimla	 Bureauशिमला ब्यूरो Updated Fri, 14 Feb 2020 10:12 PM IST
विज्ञापन
ख़बर सुनें
कुल्लू। कोरोना वायरस के कहर से चीन में प्रतिदिन सैकड़ों लोग चपेट में आ रहे हैं। इसे लेकर जिला आयुर्वेदिक अस्पताल भी सचेत हो गया है। पड़ोसी देश चीन के साथ-साथ विश्व के दो दर्जन से अधिक देशों में फैल चुके जानलेवा कोरोना वायरस से बचाव को लेकर भारत सरकार के आयुष मंत्रालय के दिशा-निर्देश पर आयुर्वेदिक अस्पताल में लोगों को वायरस से बचने के नुसखों की जानकारी दी जा रही है।
विज्ञापन
हालांकि कुल्लू जिले में अभी तक इस वायरस का कोई खतरा नहीं है। इसके बावजूद स्वास्थ्य विभाग पूरी नजर रखे हुए है। आयुर्वेदिक अस्पताल के अधिकारियों ने कोरोना वायरस को फैलने से रोकने के लिए लोगों को जागरूक करना आरंभ कर दिया है। जिला आयुर्वेदिक अस्पताल के वरिष्ठ सहायक यशवंत सिंह ने कहा कि कुल्लू जिले में कोरोना वायरस से बचाव के लिए आयुष विभाग ने लोगों को सावधानी बरतने सलाह दी है। संक्रमण के फलस्वरूप बुखार, जुकाम, सांस लेने में तकलीफ, नाक बहना और गले में खराश जैसी समस्या उत्पन्न होती हैं। यह वायरस एक व्यक्ति से दूसरे व्यक्ति में फैलता है। विभाग ने लोगों से इसे लेकर बहुत सावधानी बरतने की एडवाइजरी जारी की है। उधर, अस्पताल के वरिष्ठ आयुर्वेदिक चिकित्सक अधिकारी जसविंद्र कपूर ने कहा कि आयुष विभाग के अधिकारी व कर्मचारी लोगों को कोरोना वायरस की रोकथाम के उपाय बता रहे हैं। जब व्यक्ति के शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता कम हो जाती है तो बीमारी का असर अधिक होने लगता है। उन्होंने कहा कि लोग व्यक्तिगत स्वच्छता बनाए रखें। साबुन और पानी से अपने हाथों को कम से कम 20 सेकेंड तक धोएं। हाथ धोए बिना अपनी आंखें, नाक और मुंह को छूने से बचे। जो लोग बीमार हैं, उनके संपर्क में आने से बचे। संक्रमण से बचने के लिए सार्वजनिक स्थानों पर यात्रा करते समय या काम करते समय एक एन-95 मास्क का उपयोग करें।
इस तरह करें कोरोना वायरस से बचाव
आयुर्वेदिक विभाग के अनुसार स्वस्थ आहार और जीवन शैली के माध्यम से प्रतिरक्षा प्रणाली को मजबूत करने के लिए उपाय किए जा सकते हैं। त्रिकटु (पिप्पली, मारीच और शुंठी) पाउडर 5 ग्राम, तुलसी व मुलेठी की 3-4 पत्तियां एक लीटर पानी में तब तक उबालें जब तक यह आधा लीटर न हो जाए। इसे एक बोतल में रख लें। आवश्यकतानुसार और जब चाहे तब घूंट में लेते रहें। प्रतिमार्स नास्य-प्रत्येक नथुने में प्रतिदिन सुबह अनु तेल या तिल के तेल की दो बूंद डालें। इससे मनुष्य के शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ जाती है।
विज्ञापन
विज्ञापन

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App और Amarujala Hindi News APP अपने मोबाइल पे|
Get all India News in Hindi related to live update of politics, sports, entertainment, technology and education etc. Stay updated with us for all breaking news from India News and more news in Hindi.

विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree
Election
  • Downloads

Follow Us