दुष्कर्म के दोषी नाबालिग को तीन साल की सजा

अमर उजाला ब्यूरो Updated Fri, 19 May 2017 12:35 AM IST
कोसली थाना क्षेत्र के एक गांव की मानसिक विक्षिप्त किशोरी का मार्च-2016 में अपहरण कर दुष्कर्म करने के मामले में आरोपी नाबालिग को जुवेनाइल जस्टिस बोर्ड ने तीन साल की सजा सुनाई है। नाबालिग को सोनीपत स्थित बाल सुधार गृह में भेज दिया गया है। इसके साथ ही जुवेनाइल जस्टिस बोर्ड ने जिला कानूनी सेवा प्राधिकरण से पीड़ित को मुआवजा देने के लिए भी कहा है।
ज्ञात हो कि मार्च 2016 में कोसली थाना क्षेत्र के एक गांव से मानसिक तौर पर विक्षिप्त नाबालिग संदिग्ध हालात में लापता हो गई थी। नाबालिग का पता नहीं लगने पर कोसली थाना पुलिस ने अज्ञात के खिलाफ अपहरण का मामला दर्ज कर जांच शुरू की थी। पुलिस ने किशोरी की तलाश करने के बाद मेडिकल के लिए भेजा था। मामले में नाबालिग से रेप की पुष्टि होने पर पुलिस ने जांच के बाद रिपोर्ट जुवेनाइल जस्टिस बोर्ड के समक्ष प्रस्तुत की। बोर्ड के प्रिसिंपल मजिस्ट्रेट सौरभ कुमार, सदस्य तृप्ति भार्गव व प्रमिला भार्गव ने नाबालिग को दुष्कर्म का दोषी करार देते हुए वीरवार को तीन साल की सजा सुनाई है। 

Spotlight

Most Read

Dehradun

ढ़ाबे पर हो रहा था गलत काम, अब ये भुगतेंगे अंजाम

एक ढ़ाबे पर लंबे समय से गलत काम हो रहा था। सूचना पर पुलिस ने छापा मारा तो वहां गलत काम होता मिला।

25 फरवरी 2018

Related Videos

VIDEO: खिलाड़ियों की गलती पर कोच ने मुंह पर मारे जूते

हरियाणा के रेवाड़ी जिले के एक बड़े प्राइवेट स्कूल का वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है। इस वीडियो में खो-खो के छात्र खिलाड़ियों पर उनका कोच जूतों और थप्पड़ों की बरसात करता नजर आ रहा है।

14 अक्टूबर 2017

आज का मुद्दा
View more polls

अमर उजाला ऐप चुनें

सबसे तेज अनुभव के लिए

क्लिक करें Add to Home Screen