बेहतर अनुभव के लिए एप चुनें।
TRY NOW
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
Digital Edition

झज्जरः दौड़ लगाने के लिए निकली अंतरराष्ट्रीय महिला बॉक्सर संदिग्ध परिस्थितियों में हुई लापता

हरियाणा में झज्जर के सिकंदरपुर रोड पर वीरवार देर शाम दौड़ लगाने गई अंतरराष्ट्रीय युवा महिला बॉक्सर संदिग्ध परिस्थितियों में लापता हो गई। आधी रात तक परिजन उसकी तलाश में जुटे रहे। इसके बाद खिलाड़ी के पिता ने पुलिस को शिकायत दी। पुलिस ने इस संबंध में गुमशुदगी का केस दर्ज कर लिया है।

हालांकि 24 घंटे बीतने के बाद भी खिलाड़ी का कोई सुराग नहीं लग पाया है। शिकायत में नाबालिग खिलाड़ी के पिता ने बताया कि जूनियर लेवल पर अंतरराष्ट्रीय स्तर पर भारत का प्रतिनिधित्व भी कर चुकी हैं। वह जर्मनी, सरबिया और स्पेन जैसे देशों में भारत का परचम लहरा चुकी हैं।

वह केवल उनकी नहीं बल्कि पूरे देश की बेटी है और उन्हें किसी भी अनहोनी की आशंका का डर सता रहा है। परिजनों ने बताया कि वह सिकंदरपुर मार्ग पर अभ्यास के लिए निकली थी, देर रात तक नहीं लौटी तो उसकी तलाश की गई, लेकिन कोई सुराग नहीं लगा।

शिकायत मिलने पर पुलिस ने उसकी तलाश में कई स्थानों पर दबिश दी है, लेकिन पुलिस के हाथ अभी खाली हैं। पुलिस प्रशासन की तरफ से इस संबंध में अन्य पुलिस थानों को भी सूचित किया गया है। पुलिस के साथ-साथ पारिवारिक स्तर पर भी उसकी तलाश की जा रही है।

मामले की सूचना मिलते ही पुलिस ने कार्रवाई शुरू कर दी थी। पुलिस की तरफ से इस संबंध में हर पहलू को ध्यान में रखते हुए जांच की जा रही है। अन्य थानों में भी सूचना दी गई है। खिलाड़ी की तलाश के लिए निरंतर प्रयास किए जा रहे हैं।
- गौतम, जांच अधिकारी, शहर पुलिस थाना, झज्जर।
... और पढ़ें

झज्जर में सगे भाइयों की गोली मारकर हत्या, एक को ढाबे पर तो दूसरे को घर में घुसकर मारी गोली

चिमनी गांव के दो सगे भाई भाइयों की गोली मारकर हत्या कर दी गई है। एक को बेरी कलानौर रोड पर उसके ढाबे पर गोली मारी तो दूसरे भाई की थोड़ी देर बाद गांव में जाकर घर में घुसकर गोली मारकर हत्या कर दी गई। घटना की जानकारी मिलते ही बेरी पुलिस थाना प्रभारी व डीएसपी नरेश कुमार मौके पर पहुंचे घटनास्थल का मुआयना करने के बाद पुलिस ने आगामी कार्रवाई शुरू कर दी है।

एक भाई का रोहतक पीजीआई में तो दूसरे भाई का सामान्य अस्पताल झज्जर में पोस्टमार्टम करवाया जा रहा है। दोनों का चिकित्सकों के बोर्ड से पोस्टमार्टम करवाया जा रहा है।

जानकारी के अनुसार चिमनी गांव निवासी ओमप्रकाश पुत्र दयाराम ने पुलिस को दिए बयान में कहा है कि उसके 3 पुत्र थे। जिनमें से उसके मझले पुत्र राजेश कुमार की बीमारी के चलते 22 मई को मौत हो गई थी। जबकि उसका बड़ा पुत्र आनंद बेरी कलानौर रोड पर ढाबा चलाता था। जबकि छोटा पुत्र कुलबीर किसी काम के लिए महेंद्रगढ़ जिले के जैनपुर गांव में गया था। 
... और पढ़ें

लॉकडाउन के बीच बड़ी वारदात, दिल्ली पुलिस के जवान और पड़ोसी की गोली मारकर हत्या

बहादुरगढ़ के लाइनपार क्षेत्र से गुजर रही मुंगेसपुर ड्रेन पर सोमवार की सुबह वत्स कॉलोनी निवासी दिल्ली पुलिसकर्मी और उसके पड़ोसी की गोलियां मारकर हत्या कर दी गई। दोहरे हत्याकांड के पीछे क्या कारण हैं और मारने वाले कौन थे, इसका अभी पता नही चल पाया है। सूचना मिलने पर डीएसपी अजायब सिंह, राहुल देव व लाइनपार थाना प्रभारी दलबल के साथ मौके पर पहुंचे। 

एफएसएल टीम को साक्ष्य जुटाने के लिए वारदातस्थल पर बुलाया गया है। पुलिस कई पहलुओं पर जांच कर रही है। कुछ व्यक्तियों को पुलिस ने हिरासत में लेकर पूछताछ भी शुरू कर दी है। जानकारी के अनुसार मूलरूप से गांव खांडा व हाल वत्स कॉलोनी निवासी 35 वर्षीय मनोज अपने पड़ोस में रहने वाले 52 वर्षीय रमेश के साथ प्रतिदिन की तरह सोमवार को भी घूमने गया था।

सुबह करीब 7 बजे दोनों को मुंगेशपुर ड्रेन की पटरी पर अज्ञात बदमाशों द्वारा गोली मारने की सूचना मिली। सूचना मिलने पर दोनों के परिजन मौके पर पहुंचे और इसकी खबर पुलिस को भी दी। बताया गया है कि मनोज दिल्ली पुलिस में है और विकासपुरी में तैनात था। जबकि रमेश लॉकडाउन से पहले फेरी कर कपड़े बेचता था।
... और पढ़ें

टीकरी बॉर्डर केस: योगेंद्र यादव और एक महिला से पूछताछ, ट्रेन में युवती से छेड़छाड़ की पुष्टि

तीन कृषि कानूनों को लेकर आंदोलन कर रहे किसानों के टीकरी बॉर्डर पड़ाव में पश्चिम बंगाल की युवती से दुष्कर्म के केस में मंगलवार को विशेष जांच दल (एसआईटी) ने किसान नेता योगेंद्र यादव और एक आरोपी महिला से पूछताछ की। प्रारंभिक पूछताछ में इस बात की पुष्टि हुई कि पश्चिमी बंगाल से दिल्ली आते वक्त युवती से छेड़छाड़ की गई। डीएसपी पवन कुमार शर्मा की अगुवाई में एसआईटी ने महिला से करीब तीन घंटे और योगेंद्र यादव से करीब एक घंटे तक पूछताछ की। वहीं बाकी चार आरोपी आंदोलनकारियों की गिरफ्तारी के लिए पुलिस की तीन टीम छापेमारी कर रही हैं।   

पुलिस ने सभी आरोपियों और किसान नेता योगेंद्र यादव को नोटिस भेजा है। इसके बाद एक आरोपी महिला पुलिस के सामने पेश हुई। वहीं आरोपी अनिल मलिक पर अनुचित व्यवहार के आरोप लग रहे हैं। अब पूछताछ के आधार पर पुलिस गिरफ्तारी पर विचार करेगी। इसके अलावा पीड़िता के पिता ने उसकी वीडियो भी पुलिस को सौंपी। डीएसपी के मुताबिक पीड़िता वीडियो में छेड़छाड़ की बात कह रही है। 
... और पढ़ें
थाने पहुंचे योगेंद्र यादव। थाने पहुंचे योगेंद्र यादव।

झज्जर में बड़ी वारदात : दुजाना चौक पर अतिथि अध्यापक की गोली मारकर हत्या, पुलिस जांच में जुटी

खेतों में रास्ते के लिए चल रहे विवाद में रविवार को दिनदहाड़े नकाबपोश बाइक सवारों ने अतिथि अध्यापक की आठ गोली मारकर हत्या कर दी। मौके पर मौजूद मृतक के दोस्त ने भाग कर जान बचाई। पुलिस ने मृतक के पिता के बयान पर सात लोगों के खिलाफ मुकदमा दर्ज किया है। पुलिस को दी शिकायत में दुजाना निवासी विजय सिंह ने बताया कि उसका बेटा अनिल दिल्ली के नजफगढ़ में रहता था और वहीं सरकारी स्कूल में अतिथि अध्यापक था। 

रविवार को वह होली के अवसर पर परिजनों से मिलने गांव आया था। दोपहर को वह अपने दोस्त मंदीप के साथ दुजाना चौक स्थित एक दुकान पर बैठा था। उसी दौरान बाइक पर तीन नकाबपोश आए और उन्होंने अनिल पर फायर कर दिया। हाथ में गोली लगने के बाद अनिल दुकान से निकलकर भागने लगा तो तीनों आरोपियों ने उसे आठ गोलियां मारीं। उसके दोस्त मंदीप ने फायरिंग के बाद मौके से भागकर अपनी जान बचाई। गोलियां लगने से अनिल की मौके पर ही मौत हो गई।

पिता जा रहा था दवा लेने
मृतक के पिता विजय सिंह ने बताया कि कुछ समय पहले बिरधाना के संजय ने परिजनों के साथ उनके परिवार पर हमला किया था। इस मामले में संजय की गिरफ्तारी अभी होनी थी। संजय और उसका परिवार रास्ते के विवाद के कारण उनके परिवार से रंजिश रखे हुए था। इसी रंजिश में उसके बेटे अनिल की हत्या की गई है। जब गोलियां चलीं तो वह दवा लेने जा रहा था और उसने मौके पर संजय को पहचान लिया। 
... और पढ़ें

झज्जर में रोहतक जैसी वारदात : अखाड़े में पहलवान को मारी गोली, चरखी दादरी के अस्पताल में तोड़ा दम

झज्जर के अंतिम छोर पर बसे गांव बहु झोलरी में शुक्रवार शाम पहलवान को गोली मार दी गई। घायल अवस्था में उसे चरखी दादरी के अस्पताल में भर्ती कराया गया, जहां चिकित्सकों ने उसे मृत घोषित कर दिया। घटना की सूचना मिलते ही साल्हावास पुलिस भी मौके पर पहुंची। मौका मुआयना करने के बाद पुलिस ने आगामी कार्रवाई शुरू कर दी है। 

घटना की सूचना मिलने के बाद डीएसपी नरेश कुमार व एसपी राजेश दुग्गल भी मौके पर पहुंचे। उन्होंने मौका मुआयना करने के बाद साल्हावास पुलिस थाना प्रभारी व अन्य टीमों को आवश्यक निर्देश दिए। पुलिस ने हत्या सहित विभिन्न धाराओं के तहत मामला दर्जकर लिया है। आरोपियों की गिरफ्तारी के लिए झाड़ली पुलिस चौकी, साल्हावास पुलिस थाना प्रभारी, सीआईए झज्जर व डीएसपी नरेश कुमार के टीमें छापेमारी कर रही हैं।

जानकारी के अनुसार शुक्रवार की शाम करीब पांच बजे खानपुर कलां गांव निवासी विक्रम पुत्र रामनिवास उर्फ मडू पहलवान गांव से कुछ दूरी पर खोरड़ा रोड पर पेंगा अखाड़ा में गया हुआ था। इसके साथ उसके पिता का भी अखाड़ा है। पेंगा अखाड़े में कुछ युवक शराब पी रहे थे। उस दौरान किसी बात पर कहासुनी को लेकर युवकों ने विक्रम को गोली मार दी। घायल अवस्था में उसे चरखी दादरी के सामान्य अस्पताल में ले जाया गया जहां चिकित्सकों ने उसे मृत घोषित कर दिया। पुलिस का कहना है कि मृतक के सीने में एक गोली लगी है। 

इकलौता बेटा था विक्रम
विक्रम के पिता पहले रामनिवास चंडीगढ़ पुलिस में कार्यरत हैं। वह सेवानिवृत्त होने के बाद गांव के नजदीक है खोरड़ा मोड़ पर अखाड़ा चलाते हैं। जहां पर पहलवानों को कुश्ती का प्रशिक्षण देते हैं। विक्रम भी अपने अखाड़े में पहलवानी का प्रशिक्षण ले रहा था। वह अपने माता-पिता का इकलौता पुत्र था। पुलिस ने मृतक के परिजनों के बयान पर कुछ लोगों के खिलाफ केस दर्ज किया है। लेकिन पुलिस ने फिलहाल आरोपियों के नाम उजागर नहीं किए हैं।
... और पढ़ें

हरियाणा : झज्जर में दो कारों में भिड़त, एक की मौत, 10 महिलाओं समेत 12 लोग घायल

कोसली रोड पर स्थित डावला गांव के पास कड़ौदा मोड़ पर रविवार की शाम करीब तीन बजे दो कारों की आपस में टक्कर हो गई। टक्कर में एक महिला की मौत हो गई, जबकि 10 महिलाओं सहित 12 लोग घायल हो गए। सभी घायलों को राहगीरों की मदद से सामान्य अस्पताल में भर्ती कराया गया। जहां से प्राथमिक उपचार के बाद पांच लोगों को छुट्टी दे दी गई, जबकि सात घायलों को रोहतक पीजीआई रेफर कर दिया गया। लेकिन चार महिलाओं और चालक को उनके परिजन रोहतक पीजीआई ले जाने के बजाय दिल्ली के नजफगढ़ ले गए। 

घटना की सूचना मिलने के बाद सदर पुलिस थाना प्रभारी पुलिस टीम के साथ मौके पर पहुंचे। पुलिस ने मौका मुआयना कर आगामी कार्रवाई शुरू कर दी है। पुलिस ने शव को कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए शव गृह भिजवा दिया है। जहां पोस्टमार्टम की कार्रवाई की जा रही है। जानकारी के अनुसार दिल्ली के नजफगढ़ से एक इको गाड़ी में सवार होकर दस महिलाएं झज्जर जिले के रेडूवास गांव में शोक जताने आई थीं। जब वे शोक जताने के बाद नजफगढ़ जा रही थीं तो डावला गांव के पास कड़ौदा मोड़ पर विपरीत दिशा से आ रही एक कार के साथ उनकी गाड़ी की टक्कर हो गई।

दोनों गाड़ियों के चालकों सहित 11 महिलाएं घायल हो गईं। घायलों को सामान्य अस्पताल लाया गया। एक महिला ने इलाज के दौरान दम तोड़ दिया। हादसे में नजफगढ़ के लोकेश पार्क गली नंबर 6 निवासी बिमला पत्नी रमेश, बबली पत्नी विजय, रानी पत्नी महावीर, बनारसी पत्नी रामनारायण, सुनीता पत्नी विजय, सुमित्रा, रजनी, गुड्डी व माया पत्नी रामकिशोर गाड़ी चालक दिल्ली के झाड़ौदा निवासी सतबीर घायल हो गए, जबकि दूसरी गाड़ी में कासनी गांव निवासी अरुण व उसकी बुआ रिंकी निवासी बुपनियां घायल हो गए।

सभी घायलों को राहगीरों की मदद से सामान्य अस्पताल में लाया गया। जहां से चिकित्सकों ने उनकी गंभीर हालत को देखते हुए प्राथमिक उपचार के बाद अरुण निवासी कासनी, रिंकी निवासी बुपनिया, सतवीर निवासी झाड़ोदा, नजफगढ़ निवासी बबली, रानी, बिमला, बनारसी को रोहतक पीजीआई रेफर कर दिया गया है। लेकिन बबली, रानी, बिमला, बनारसी और चालक सतवीर को उनके परिजन नजफगढ़ के निजी अस्पताल में ले गए हैं। जबकि माया की मौत हो गई है। घटना की सूचना मिलते ही पुलिस भी मौके पर पहुंच गई थी।
... और पढ़ें

हरियाणा के बहादुरगढ़ में बड़ी वारदात, आभू्षण व्यापारी के कर्मचारी से 25 लाख का सोना लूटा

घायल को अस्पताल ले जाते हुए।
रोहतक से दिल्ली लौट रहे आभूषण कारोबारी के एक कर्मचारी से बहादुरगढ़ क्षेत्र में बदमाशों ने लगभग 25 लाख रुपये का सोना लूट लिया। कर्मचारी पर ईंट और तेजधार हथियार से हमला कर इस वारदात को अंजाम दिया गया। थाना सदर पुलिस ने केस दर्ज कर लिया है और छानबीन कर रही है। अभी तक बदमाशों का कोई सुराग नहीं लग पाया है।

दिल्ली के आदर्श नगर निवासी आभूषण व्यापारी संजय का कर्मचारी धवल श्रीवास्तव शनिवार को 700 ग्राम सोने के आभूषण बिक्री के लिए रोहतक लेकर आया था। रोहतक में धवल ने एक ज्वैलर्स फर्म को अंगूठी और कानों की बालियों की आपूर्ति की। दर्ज एफआईआर के मुताबिक, 210 ग्राम सोने की बिक्री के बाद बाकी सोना बच गया। इसे लेकर वह अपनी आई-20 गाड़ी से शाम करीब सवा छह बजे रोहतक से दिल्ली को रवाना हुआ। 

धवल ने बताया कि उसे टीकरी बार्डर के रास्ते दिल्ली जाना था। लेकिन किसानों के आंदोलन की वजह से टीकरी बार्डर और झाड़ोदा बार्डर बंद हैं, इसलिए उसे रास्ता बदलना पड़ा। वह सिद्धीपुर लोवा के रास्ते दिल्ली की तरफ जा रहा था। थाना सदर क्षेत्र के सिद्धीपुर गांव के तालाब के निकट पहुंचा तो काले रंग की पल्सर बाइक पर आए दो बदमाशों ने उसका रास्ता रोक लिया। 

बाइक पर पीछे बैठा बदमाश उतरकर उसके पास आया और सीधे ही उस पर ईंट से हमला कर दिया। धवल का कहना है कि सिर पर ईंट लगने से कुछ पल के लिए उसके सामने अंधेरा छा गया। इसके बाद बदमाशों ने उस पर तेजधार हथियार से वार किया और करीब 500 ग्राम सोने के आभूषण, मोबाइल फोन और कुछ नकदी छीन ली। अंधेरा होने के कारण बदमाशों की बाइक का नंबर उसे नजर नहीं आया।

धवल श्रीवास्तव उत्तर प्रदेश के बस्ती जिले की आवास विकास कालोनी के मूल निवासी हैं और फिलहाल दिल्ली में ही रहते हैं। लूटे गए आभूषणों की कीमत करीब 25 लाख रुपये आंकी जा रही है। सदर थाना के प्रभारी इंस्पेक्टर सुनील कुमार ने बताया कि शिकायत के आधार पर केस दर्जकर लिया गया है। पुलिस कई नजरिये से मामले की जांच कर रही है। जांच के बाद ही मामले के बारे में कुछ कह पाएंगे। घटनास्थल के आसपास से भी पुलिस कुछ पता लगाने का प्रयास कर रही है।
... और पढ़ें

टीकरी बॉर्डर पर किसान ने फांसी लगाकर दी जान, सुसाइड नोट पर लिखा- सरकार दे रही तारीख पर तारीख

हरियाणा के बहादुरगढ़ में कृषि कानूनों को लेकर केंद्र सरकार से नाराज एक किसान ने फांसी लगा ली। किसान ने सेक्टर-9 बाईपास के पार्क में पेड़ से लटककर जान दे दी। किसान की पहचान जींद के सिंघवाल गांव के कर्मबीर के तौर पर हुई। मृतक कर्मबीर के पास से एक सुसाइड नोट मिला है। 

सुसाइड नोट पर लिखा है कि सरकार तारीख पर तारीख दे रही है। पता नहीं कब ये काले कानून रद्द होंगे। जब तक काले कानून रद्द नही होंगे। तब तक यहां से नहीं जाएंगे। उधर, पुलिस ने शव का पंचनामा कर पोस्टमार्टम के लिए नागरिक अस्पताल भिजवा दिया है। परिजनों के आने के बाद उनके बयान दर्ज होंगे।

दो और किसानों की मौत
टीकरी बॉर्डर पर ही दो और किसानों की मौत की खबर है। इनमें एक किसान पंजाब के संगरूर और दूसरा मोगा जिले का रहने वाला था।  मृतकों में एक की आयु 60 और दूसरे की 70 साल थी।

मानसा और जींद के किसान की गई जान
पंजाब के रहने वाले एक किसान की मौत नया गांव चौक के नजदीक बस की चपेट में आने से हुई तो वहीं जींद जिले के रहने वाले एक किसान की हृदयाघात से मौत होने की आशंका जताई गई है। पुलिस ने दोनों के शव परिजनों को सौंप दिए हैं। 

पंजाब के मानसा जिले के गांव बाघड़ा के रहने वाले किसान बबली सिंह टीकरी बार्डर पर चल रहे आंदोलन में शामिल थे। वह बहादुरगढ़ बायपास पर नयागांव चौक के नजदीक किसानों के जत्थे में ठहरे थे। दो फरवरी को आंदोलन में हिस्सा लेने बहादुरगढ़ आए थे। 

शुक्रवार की दोपहर बाद बबली अपने साथी किसान मेजर सिंह के साथ लंगर का सामान लेने जा रहे थे। जब वे नयागांव चौक के पास सड़क पार कर रहे थे तो इसी दौरान बादली की तरफ से आ रही बस की चपेट में आ गए। घटना में वह गंभीर रूप से घायल हो गए थे। उन्हें इलाज के लिए बहादुरगढ़ के नागरिक अस्पताल लाया गया था, जहां डॉक्टर ने मृत घोषित कर दिया। 

जींद के गांव मोहनगढ़ के किसान रणधीर सिंह की अचानक तबीयत बिगड़ने से मौत हो गई। बताया गया है कि रणधीर सिंह तीन सप्ताह से टीकरी बार्डर पर लगभग हर रोज किसानों की सभा में भाग लेते थे। रणधीर सिंह की मौत की असल वजह का अभी पता नहीं लग पाया है। हृदयाघात होने का अनुमान लगाया है।
... और पढ़ें

हरियाणा में बाप ने 11 साल की बेटी को कुल्हाड़ी से काट डाला, वारदात से हर कोई हैरान

हरियाणा के झज्जर जिले के डीघल गांव में शनिवार सुबह 5:00 बजे पिता ने बेटे-बेटी पर कुल्हाड़ी से हमला कर दिया। बच्चों की मां ने धक्का देकर बेटे की जान तो बचा ली पर आरोपी ने सो रही 11 साल की बेटी के गले पर कुल्हाड़ी से वार कर उसकी हत्या कर दी। वारदात के बाद आरोपी फरार है। पुलिस ने बच्चों की मां के बयान पर पति के खिलाफ केस दर्जकर लिया है। 

पुलिस को दी शिकायत में ललिता पत्नी आनंद ने आरोप लगाया कि उसका पति नशे का आदी है। शुक्रवार रात परिवार के सदस्य खाना खाकर कमरे में सो गए थे। शनिवार सुबह 5:00 बजे अचानक उसकी नींद खुली तो देखा आनंद हाथ में कुल्हाड़ी लिए खड़ा था। जैसे ही वह बेटे रौनक (9) पर कुल्हाड़ी से वार करने लगा तो उसने उसे धक्का दे दिया। 

बेटा तो बच गया लेकिन आरोपी ने बाद में बेटी दीपिका (11) की गर्दन पर कुल्हाड़ी से वार कर दिया। दीपिका की मौके पर ही मौत हो गई। पुलिस ने ललिता के बयान पर आरोपी आनंद के खिलाफ हत्या का केस दर्ज किया है। सिर में चोट आने पर बेटे रौनक को अस्पताल ले जाया गया, जहां उपचार के बाद उसे छुट्टी दे दी गई। 
... और पढ़ें

नहीं थम रहा आंदोलन में किसानों की मौत का सिलसिला, टीकरी बॉर्डर पर दो और की जान गई

टीकरी बॉर्डर पर कृषि कानूनों के खिलाफ चल रहे आंदोलन के दौरान अलग-अलग स्थानों पर दो किसानों की मौत हो गई। पंजाब के रहने वाले एक किसान की मौत नया गांव चौक के नजदीक बस की चपेट में आने से हुई तो वहीं जींद जिले के रहने वाले एक किसान के हृदयाघात से मौत होने की आशंका जताई गई है। पुलिस ने दोनों के शव परिजनों को सौंप दिए हैं।

पंजाब के मानसा जिले के गांव बाघड़ा के रहने वाले किसान बबली सिंह टीकरी बार्डर पर चल रहे आंदोलन में शामिल थे। वह बहादुरगढ़ बाईपास पर नयागांव चौक के नजदीक किसानों के जत्थे में ठहरे थे। दो फरवरी को आंदोलन में हिस्सा लेने बहादुरगढ़ आए थे। शुक्रवार की दोपहर बाद बबली अपने साथी किसान मेजर सिंह के साथ लंगर का सामान लेने जा रहे थे। जब वे नयागांव चौक के पास सड़क पार कर रहे थे तो इसी दौरान बादली की तरफ से आ रही बस की चपेट में आ गए। 

घटना में वह गंभीर रूप से घायल हुए। उन्हें इलाज के लिए बहादुरगढ़ के नागरिक अस्पताल लाया गया, जहां डॉक्टर ने मृत घोषित कर दिया। जींद के गांव मोहनगढ़ के किसान रणधीर सिंह की अचानक तबीयत बिगड़ने से मौत हो गई। बताया गया है कि रणधीर सिंह तीन सप्ताह से टीकरी बार्डर पर लगभग हर रोज किसानों की सभा में भाग लेते थे। रणधीर सिंह की मौत की असल वजह का अभी पता नहीं लग पाया है। हृदयाघात होने का अनुमान लगाया है।
... और पढ़ें

झज्जर में आरएमपी ने फांसी लगाई, सुसाइड नोट में ढाई करोड़ के लेनदेन का जिक्र, लिखा- इन लोगों ने मुझे बर्बाद किया

झज्जर के मुख्य बाजार में एक आरएमपी ने फंदा लगाकर आत्महत्या कर ली। आरएमपी ने एक सुसाइड नोट भी छोड़ा है। जिसमें कुछ लोगों को पैसे देने की बात कही है। इसके अलावा दो लोगों से ढाई करोड़ रुपये के लेनदेन की बात कहते हुए लिखा है कि उक्त लोगों ने मुझे बर्बाद कर दिया। 

उसने सुसाइड नोट में उक्त दो लोगों के नाम लिखने के साथ-साथ यह भी लिखा है कि उनके खिलाफ कोई कार्रवाई न की जाए। डॉक्टर ने यह भी लिखा है कि उसे मुखाग्नि उसकी बेटी वैशाली ही दे। इसके अलावा जिन लोगों के पैसे देने हैं, उनके पैसे भी वे दे दे। पुलिस ने मामले में मुकदमा दर्ज कर जांच शुरू कर दी है।

जानकारी के अनुसार गुरुवार की रात को शहर के मुख्य बाजार के वार्ड नंबर-10 में रहने वाले आरएमपी सुनील गोयल पुत्र मनमोहन गोयल ने लेनदेन से परेशान होकर फंदा लगा लिया। फंदा लगाने के बाद उनके परिजनों से शहर के एक निजी अस्पताल में लेकर पहुंचे। जहां पर चिकित्सकों ने उन्हें मृत घोषित कर दिया। 

घटना की सूचना मिलते ही शहर पुलिस मौके पर पहुंची और शव को कब्जे में लेकर कार्रवाई शुरू कर दी। पुलिस ने मृतक की बेटी वैशाली के बयान पर मामला दर्जकर कार्रवाई शुरू कर दी है। पुलिस ने सामान्य अस्पताल में पोस्टमार्टम कराने के बाद शव परिजनों को सौंप दिया। पुलिस ने सुसाइड नोट को भी कब्जे में लेकर उसके आधार पर जांच शुरू कर दी है।

मम्मी- पापा का सपना पूरा करे बेटी
आरएमपी ने सुसाइड नोट में अपनी बेटी से यह भी कहा है कि वह किसी का बुरा न करे। जितना भला हो वह करे और अपने मम्मी पापा का सपना पूरा करे।
... और पढ़ें

किसान आंदोलन : हार्ट अटैक से पंजाब के दो किसानों की मौत, जहर खाने वाले जयभगवान की भी नहीं बची जान

कृषि कानूनों के विरोध में आंदोनलरत दो किसानों की मंगलवार रात टीकरी बॉर्डर पर मौत हो गई। मृतकों में एक किसान हरियाणा और दूसरा पंजाब का है। उधर, कुंडली बॉर्डर पर लुधियाना के जगजीत सिंह (34) की भी हार्ट अटैक से जान चली गई।

मंगलवार दोपहर बाद टीकरी बॉर्डर पर जहरीला पदार्थ निगलने वाले रोहतक के गांव पाकस्मा के करीब 42 वर्षीय किसान जयभगवान राणा की जान अस्पताल में इलाज के बावजूद नहीं बच पाई। 

उन्होंने दिल्ली सीमा पर किसानों की सभा के मंच के निकट जहर खा लिया था। उन्हें दिल्ली के संजय गांधी मेमोरियल अस्पताल में भर्ती करवाया गया था। लेकिन मंगलवार देर रात उनकी मौत हो गई। टीकरी बॉर्डर चौकी के एक दरोगा ने बताया कि जयभगवान राणा की मौत होने की जानकारी मिली है और मामले में आवश्यक कानूनी कार्रवाई दिल्ली के मुंडका थाना की पुलिस कर रही है। शव का पोस्टमार्टम संजय गांधी मेमोरियल अस्पताल में ही होगा।

वहीं दूसरी ओर, बहादुरगढ़ बाईपास पर नयागांव चौक के निकट ठहरे पंजाब के 65 वर्षीय किसान धन्ना सिंह की मंगलवार देर रात हृदयाघात से मौत हो गई। उनके शव को नागरिक अस्पताल बहादुरगढ़ के शवगृह में रखा गया है। परिजनों को सूचना भेज दी गई है। पुलिस सूत्रों ने बताया कि धन्ना सिंह एक महीने से आंदोलन में थे। 

मंगलवार रात को वह भोजन कर आराम से सोए। वह हर सुबह जल्दी जाग जाते थे। लेकिन बुधवार सुबह नहीं उठे तो करीब सात बजे साथी किसानों ने आवाज लगाई। बार-बार आवाज लगाने पर भी कोई जवाब नहीं मिला तो उनको हिलाकर जगाने की कोशिश की गई। लेकिन इसके बावजूद उनके शरीर में कोई हलचल नहीं हुई तो उन्हें तुरंत नागरिक अस्पताल ले जाया गया। सीएमओ झज्जर डॉ. संजय दहिया ने बताया कि अस्पताल पहुंचने पर डॉक्टर ने जांच की तो वह मृत मिले। धन्ना सिंह पंजाब के पटियाला के गांव तंगू के रहने वाले थे।

जयभगवान ने देशवासियों को लिखा था पत्र
जहरीला पदार्थ खाने से पहले जयभगवान राणा ने देशवासियों के नाम लिखे पत्र में कहा था कि किसानों की कोई सुनवाई नहीं कर रहा। राणा ने सरकार को इस समस्या का समाधान भी बताया था। पत्र में उन्होंने कहा है कि हर राज्य के दो-दो किसान नेताओं को बुलाकर सरकार मीडिया की उपस्थिति में बात करे। अगर ज्यादा राज्यों के प्रतिनिधि कानूनों के खिलाफ हों तो कानूनों को रद्द कर दिया जाए, अन्यथा किसान अपने घर चले जाएं।
... और पढ़ें
Election
  • Downloads

Follow Us

विज्ञापन