विज्ञापन
विज्ञापन

लोकसभा चुनाव 2019: अंकगणित गठबंधन के पक्ष में, केमिस्ट्री भाजपा के साथ

शरद गुप्ता, अमर उजाला, नई दिल्ली Updated Sat, 18 May 2019 05:43 AM IST
Delhi Election
Delhi Election - फोटो : ANI
ख़बर सुनें
मौजूदा आम चुनावों के दौरान पूर्वी उत्तर प्रदेश के सियासी संग्राम पर सबकी निगाह है। यहां जातिगत समीकरण सपा-बसपा गठबंधन के पक्ष में नजर आते हैं लेकिन मोदी-फैक्टर, विकास कार्य और जातिगत समीकरणों में सेंध की वजह से हर सीट पर भाजपा मजबूत स्थिति में है। वहीं कांग्रेस ने भले ही प्रियंका गांधी को पूर्वी उत्तर प्रदेश का प्रभारी महासचिव बनाकर चुनाव को तिकोना बनाने की कोशिश की, लेकिन दो-तीन सीटों को छोड़कर कांग्रेस कहीं भी लड़ती नहीं दिखाई दे रही है। 
विज्ञापन
विज्ञापन
अंतिम दो चरणों में पूर्वी उत्तर प्रदेश की जिन 27 सीटों पर चुनाव हुए, इनमें से 26 सीटें पिछले चुनाव में भाजपा ने जीती थीं। केवल आजमगढ़ सीट सपा के खाते में गई थी। इन्हीं 27 सीटों में से 16 सीटें ऐसी थीं, जहां सपा-बसपा को पिछले चुनाव में मिले वोटों का योग भाजपा के विजयी उम्मीदवार को मिले वोट से ज्यादा है। इस बार गठबंधन के रणनीतिकारों की उम्मीद इसी पर टिकी है कि यदि सपा या बसपा अपने वोट दूसरे दल के उम्मीदवार को ट्रांसफर कराने में सफल रहे तो, सीधे—सीधे अंकगणित के अनुसार भाजपा इस क्षेत्र में महज 11 सीटों पर सिमट सकती है। 

लेकिन, जमीनी हकीकत यह भी है कि चुनाव महज अंकगणित से नहीं लड़े जाते। उसमें रणनीति और केमिस्ट्री का ज्यादा योगदान होता है। और गठबंधन के जातीय अंकगणित के बावजूद भाजपा को इन्हीं के बूते अपनी जीत का भरोसा है। 

भाजपा ने इन सीटों को जीतने के लिए पूरी ताकत लगा दी है। खासतौर पर अंतिम चरण की तेरह सीटों के लिए। इनके पूर्वी सिरे पर मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की सीट गोरखपुर है तो पश्चिमी छोर पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की सीट वाराणसी। उनके अलावा पार्टी अध्यक्ष अमित शाह का फोकस भी पश्चिम बंगाल के साथ पूर्वी उत्तर प्रदेश पर ही रहा। पूर्वी उत्तर प्रदेश में चुनाव समाप्त होने तक मोदी ने लगभग पंद्रह रैलियों को संबोधित किया।

वहीं योगी आदित्यनाथ ने गोरखपुर में डेरा डालकर आसपास की सभी सीटों को जिताने की जिम्मेदारी उठाई। भाजपा का मानना है कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की वाराणसी सीट से बने माहौल की वजह से क्षेत्र की सभी 13 सीटों पर उसे लाभ होगा। साथ ही कई केंद्रीय मंत्री और हैवीवेट भाजपा नेताओं को भी पूर्वी उत्तर प्रदेश की अलग-अलग सीटों की जिम्मेदारी दी गई है। 

गैर-यादव पिछड़े, गैर-जाटव दलितों में पैठ की नीति
- भाजपा की रणनीति गैर-यादव ओबीसी और गैर-जाटव दलितों मे पैठ बनाने की है। यही वे वर्ग हैं जिन्हें केंद्र सरकार की योजनाओं का सबसे ज्यादा लाभ हुआ है। चाहे वह प्रधानमंत्री आवास योजना के तहत मुफ्त मकान मिलना हो, उज्ज्वला के तहत एलपीजी कनेक्शन या शौचालय। पार्टी कार्यकर्ता इन समुदायों में एक-एक व्यक्ति के घर जाकर सघन प्रचार कर रहे हैं। 
- यही वजह है कि आजमगढ़ जैसी यादव-मुस्लिम बाहुल्य वाली सीट पर सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव के मुकाबले खड़े भोजपुरी कलाकार निरहुआ भी भाजपा की रणनीति और केमिस्ट्री की वजह से दम भर रहे हैं। पिछले चुनाव में मोदी लहर के बावजूद मुलायम सिंह यादव ने यहां लगभग 63 हजार वोटों से जीत दर्ज की थी। 

-  इसी तरह, गाजीपुर में केंद्रीय मंत्री मनोज सिन्हा बसपा के अफजाल अंसारी से मुकाबले में जातिगत समीकरण खिलाफ होने के बावजूद अच्छा चुनाव लड़ रहे हैं। अफजाल का दावा है कि यादव, दलित और मुसलमान मिलाकर क्षेत्र के मतदाताओं का 55 प्रतिशत हो जाते हैं और उनकी जीत सुनिश्चित है। लेकिन सिन्हा ने अन्य पिछड़ी जातियों, दलितों ही नहीं बल्कि यादवों में भी सेंध लगाई है। उनकी सभाओं में कुछ मुसलमान भी दिखाई देते हैं। उनके द्वारा अपने क्षेत्र में कराए कार्यों की वजह से उन्हें सभी जातियों में कुछ न कुछ समर्थन मिल रहा है। 

हालांकि पूर्वांचल में ये चुनाव गठबंधन और भाजपा के बीच है लेकिन, कुछ छोटे दल भी इन्हें प्रभावित कर सकते हैं। पिछले कुछ वर्षों में पीस पार्टी, कौमी एकता दल, भारतीय समाज सुहेलदेव पार्टी, महान दल जैसी पार्टियों ने कुछ इलाकों में जड़ें जमाने में सफलता पाई है। इस चुनाव में शिवपाल यादव की प्रगतिशील समाजवादी पार्टी (प्रसपा) भी मैदान में है, प्रसपा का समझौता पीस पार्टी के साथ है।

पीस पार्टी के उम्मीदवार को गत चुनाव में डुमरियागंज में एक लाख वोट मिले थे। जबकि बसपा के साथ इस बार गठबंधन कर चुके कौमी एकता दल ने घोसी और बलिया में डेढ़ लाख से ज्यादा वोट हासिल किए थे। इसके अलावा भारतीय समाज सुहेलदेव पार्टी के ओमप्रकाश राजभर को सलेमपुर सीट पर 66 हजार वोट मिले थे। इस बार राजभर ने 30 से ज्यादा सीटों पर उम्मीदवार उतारे हैं और वे भाजपा के खिलाफ जमकर प्रचार कर रहे हैं। महान दल का कांग्रेस के साथ तालमेल हुआ है। 

प्रियंका के बयान से गफलत 
पूर्वी उत्तर प्रदेश में कांग्रेस ने कई मजबूत उम्मीदवार उतारे। संत कबीर नगर से पूर्व सांसद भालचंद्र यादव, कुशीनगर से आरपीएन सिंह, चंदौली से शिवकन्या कुशवाहा, मिर्जापुर से ललितेश पति त्रिपाठी, देवरिया से नियाज अहमद और घोसी से बालाकृष्ण चौहान आदि। लेकिन पूर्वी उत्तर प्रदेश की प्रभारी महासचिव प्रियंका गांधी के एक बयान से उलझन की स्थिति की रिपोर्ट हैं। प्रियंका ने कहा था कि कांग्रेस जहां जीतने की स्थिति में नहीं है, वहां उसने ऐसे उम्मीदवार उतारे हैं जो भाजपा के वोट काट दें। इसके बाद तो कांग्रेस के उम्मीदवारों को वोटकटवा कहा गया। कुछ जगहों से ऐसी रिपोर्ट भी हैं कि इसके बाद उनके समर्थक कांग्रेस के बजाए गठबंधन के लिए काम करने लगे। 

Recommended

Uttarakhand Board 2019 के परीक्षा परिणाम जल्द होंगे घोषित, देखने के लिए क्लिक करें
Uttarakhand Board

Uttarakhand Board 2019 के परीक्षा परिणाम जल्द होंगे घोषित, देखने के लिए क्लिक करें

शनि जयंती के अवसर पर शनि शिंगणापुर में शनि को प्रसन्न करने के लिए तेल अभिषेकम्
ज्योतिष समाधान

शनि जयंती के अवसर पर शनि शिंगणापुर में शनि को प्रसन्न करने के लिए तेल अभिषेकम्

विज्ञापन
विज्ञापन
अमर उजाला की खबरों को फेसबुक पर पाने के लिए लाइक करें

लोकसभा चुनाव 2019 (lok sabha chunav 2019) के नतीजों में किसने मारी बाजी? फिर एक बार मोदी सरकार या कांग्रेस की चुनावी नैया हुई पार? सपा-बसपा ने किया यूपी में सूपड़ा साफ या भाजपा का दम रहा बरकरार? सिर्फ नतीजे नहीं, नतीजों के पीछे की पूरी तस्वीर, वजह और विश्लेषण। 23 मई को सबसे सटीक नतीजों  (lok sabha chunav result 2019) के लिए आपको आना है सिर्फ एक जगह- amarujala.com  Hindi news वेबसाइट पर.

विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

Most Read

Delhi NCR

दिल्लीः खाना खाकर टहलने के लिए निकला सब-इंस्पेक्टर, बदमाशों ने छोटी सी बात पर ले ली जान

उत्तर पूर्वी दिल्ली के विवेक विहार के कस्तूरबा नगर इलाके में रविवार रात ऐसी घटना हुई जिससे पूरे इलाके में सनसनी मच गई

20 मई 2019

विज्ञापन

देखिए कौन सी पार्टी पिछड़ रही 2019 लोकसभा चुनाव के एग्जिट पोल में

2019 लोकसभा चुनाव का एग्जिट पोल पर अगर यकीन किया जाए तो 23 मई को बीजेपी अकेले दम पर सरकार बनाने की स्थिति में होगी।

20 मई 2019

आज का मुद्दा
View more polls

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree
Election