बेहतर अनुभव के लिए एप चुनें।
TRY NOW

टॉयलेट न होने पर छोड़ा ससुराल, बनने पर चार साल बाद लौटी बहू

Ghaziabad Bureau गाजियाबाद ब्यूरो
Updated Fri, 09 Apr 2021 01:28 AM IST
विज्ञापन
Phone_Poluice.jpg
Phone_Poluice.jpg

पढ़ें अमर उजाला ई-पेपर
कहीं भी, कभी भी।

ख़बर सुनें
टॉयलेट न होने पर छोड़ा ससुराल, बनने पर चार साल बाद लौटी बहू
विज्ञापन

गाजियाबाद। टॉयलेट एक प्रेमकथा फिल्म तो याद होगी। फिल्म में अभिनेता अक्षय कुमार की पत्नी बनीं अभिनेत्री भूमि पेडनेकर ने टॉयलेट न होने पर ससुराल छोड़ दी थी। उसके बाद क्या हुआ यह तो आपको पता होगा। ऐसा ही एक मामला गाजियाबाद में सामने आया है। एक बहू ने ससुराल इसलिए छोड़ दी क्योंकि घर में टॉयलेट नहीं था। झगड़ा और खींचतान होते हुए मामला तलाक तक पहुंच गया। फिल्म की तरह मामले की अंत सुखद रहा। ससुराल वाले टॉयलेट बनाने को राजी हो गए और चार साल बाद बहू ससुराल लौटी।
मामला विजय नगर थाना क्षेत्र की है। चार साल पहले क्षेत्र की एक कॉलोनी निवासी 23 वर्षीय युवती की शादी विजयनगर की ही एक अन्य कॉलोनी में रहने वाले युवक के साथ हुई थी। शादी के बाद महिला को पता चला कि उसकी ससुराल में टॉयलेट नहीं है। घर के सभी लोग बाहर खुले में शौच जाते हैं। इसके को लेकर शादी के कुछ दिन बाद से लड़ाई-झगड़ा होना लगा। मामला यहां तक बिगड़ गया कि पति-पत्नी के बीच मारपीट तक होने लगे। नाराज महिला अपने पति और ससुराल को छोड़कर घर आ गई। करीब चार वर्षों तक रिश्तेदार और परिवार के लोग दोनों पक्षों पर समझाने में लगे रहे लेकिन ससुराल पक्ष अपनी बहू की मांग को परिवार की शानशौकत के खिलाफ मानता रहा। उलटे सुलह का कोई रास्ता नहीं निकलते देख ससुराल पक्ष लड़की तलाक लेने पर उतारू हो गए। ससुराल का तलाक को लेकर दबाव बढ़ा तो पीड़ित महिला ने 30 जनवरी को महिला कल्याण विभाग की तरफ से संचालित वन स्टॉप सेंटर में शिकायत दर्ज कराई। उसके बाद दोनों पक्षों को काउंसिलिंग के लिए बुलाया गया लेकिन पति पक्ष के लोग आने को सहमत नहीं थी। इसके बाद पुलिस की मदद से उन्हें बुलाया गया। काउंसिलिंग में सामने आया कि असल लड़ाई शौचालय न होने से शुरू हुई।

ससुराल में बना शौचालय से खुशी से लौटी बहू
सेंटर पर काउंसिलिंग के बीच दोनों पक्षों को बताया गया कि अगर कोई सुलह का रास्ता नहीं निकलता है तो फिर कानूनी कार्रवाई की जाएगी। पीड़ित महिला की ननद और जेठ को भी बुलाया गया। नियमित रूप से उनकी काउंसिलिंग की गई और जानकारी दी गई कि अगर पीड़ित महिला लिखित शिकायत देती है तो आगे कानूनी कार्रवाई की जाएगी। इसके बाद ससुराल पक्ष ने प्रस्ताव रखा कि अगर शौचालय बना दिया जाए तो क्या बहू घर आने को तैयार हो गई। इस पर पीड़ित बहू ने सहमति दे दी। अब घर में ही शौचालय बनकर तैयार हुआ तो महिला चार साल बाद अपने ससुराल में पहुंची।
शौचालय को लेकर शुरू हुआ विवाद परिवार के बीच झगड़े की जड़ बन गया था। मामला यहां तक पहुंच गया था कि तलाक तक की नौबत आ गई थी लेकिन वन स्टॉप सेंटर में नियमित काउंसिलिंग के बाद अब परिवार ने शौचालय बना दिया है और बहू ससुराल पहुंच गई है। - विकास चंद्रा, जिला प्रोबेशन अधिकारी

आपकी राय हमारे लिए महत्वपूर्ण है। खबरों को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।

खबर में दी गई जानकारी और सूचना से आप संतुष्ट हैं?
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App और Amarujala Hindi News APP अपने मोबाइल पे|
Get all India News in Hindi related to live update of politics, sports, entertainment, technology and education etc. Stay updated with us for all breaking news from India News and more news in Hindi.

विज्ञापन
विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन
Election
  • Downloads

Follow Us

X

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00
X