आपका शहर Close

कैश न मिलने से गुस्साए लोग, बैंक पर कर दिया पथराव

ब्यूरो/अमर उजाला, गुरूग्राम/पुन्हाना

Updated Thu, 01 Dec 2016 01:40 AM IST
angry people threw stones at the bank

नोटबंदीPC: अमर उजाला

नोटबंदी का मामला लोगों के लिए अभी भी मुसीबत बना हुआ है। 22 दिन बाद भी मेवात के लोगों को इससे राहत नहीं मिल पा रही है। बुधवार को कस्बा पुन्हाना के कैनरा बैंक में कैश खत्म होने की सूचना पर लोगों ने पथराव कर बैंक के शीशे तोड़ डाले।
कैश की किल्लत से जूझ रहे लोगों का बुधवार को सब्र का बांध टूट गया। कैश खत्म होने की सूचना मिलने पर पुन्हाना स्थित केनरा बैंक से कैश निकालने के लिए सुबह से लाइन में खडे़ लोगों ने बैंक पर पथराव कर दिया।

बैंक के बाहर खडे़ सुरक्षाकर्मी के साथ भी हाथापाई हो गई। पथराव होते देख बैंक के अंदर खडे़ सुरक्षाकर्मी ने तुरंत दरवाजा बंद कर दिया। गांव खेड़ी कला की महिला का आरोप है कि उसकी बेटी की 11 दिसंबर की शादी है, फिर भी पैसे नहीं दिए जा रहे हैं।

लोगों का आरोप है कि मैनेजर व्यापारी लोगों से साठगांठ किए हुए है। लोगों को बहुत ही कम पैसा देता है। यह भी आरोप लगाया कि हर रोज मैनेजर दो बजे कैश देना शुरू करता है और चार बजे बंद कर देता है।

आरोप है कि मेवात के काफी लोग ओबीसी बैंक सोहना से अपने पैसे निकलवा कर ला रहे थे, लेकिन बड़कली स्थित ओबीसी बैंक मैनेजर ने उनको मना कर दिया है, जिससे उनको काफी परेशानी हो रही है।

टोकन के बाद भी नहीं मिल रहे पैसे
गांव नरियाला निवासी जमशेद और ऐजाज का आरोप है कि वह पिछले तीन दिन से नगीना की ओबीसी बैंक में पैसे निकलवाने के लिए आ रहे हैं। सुबह चार बजे ही लाइन में लग जाते हैं और शाम को चार बजे कहा दिया जाता है कि अब कैश खत्म हो गया। बाद में उनको टोकन देकर घर भेज देते हैं। सुबह फिर टोकन दिया जाता है, उसके बावजूद उनको तीन चार दिन से पैसे नहीं दिए जा रहे हैं।

व्यापारी आसानी से ले जाते हैं कैश
गांव इमाम नगर के शौकीन और खांजादा बसी निवासी मशरूफ का आरोप है कि वे सुबह चार बजे ही लाइन में लग जाते हैं, लेकिन बैंक का मैनेजर हर रोज 2 बजे से 4 बजे तक ही पैसे बांटता है। उनका आरोप है कि बाजार के कुछ व्यापारी बैंक में बिना रोके टोके आते हैं और कैश ले जाते हैं।

मैनेजर ने आरोपों को नकारा
बड़कली चौक स्थित ओबीसी बैंक के मैनेजर रजनीश गुप्ता ने सभी आरोपाें को सिरे से नकारते हुए कहा कि जितना भी कैश आता है सभी लोगों को बांटा जाता है, वहीं उनका व्यापारियों से कोई लेना देना नहीं है, बल्कि कई व्यापारी अपना रोज का जमा कराने के लिए आते हैं।
Comments

स्पॉटलाइट

विराट-अनुष्का की शादी में एक मेहमान का खर्च था 1 करोड़, पूरी शादी का खर्च सुन दिमाग हिल जाएगा

  • मंगलवार, 12 दिसंबर 2017
  • +

OMG: विराट ने अनुष्का को पहनाई 1 करोड़ की अंगूठी, 3 महीने तक दुनिया के हर कोने में ढूंढा

  • मंगलवार, 12 दिसंबर 2017
  • +

मांग में सिंदूर, हाथ में चूड़ा पहने अनुष्का की पहली तस्वीर आई सामने, देखें UNSEEN PHOTO और VIDEO

  • मंगलवार, 12 दिसंबर 2017
  • +

अनुष्‍का के लिए विराट ने शादी में सुनाया रोमांटिक गाना, कुछ देर पहले ही वीडियो आया सामने

  • मंगलवार, 12 दिसंबर 2017
  • +

विराट-अनुष्का का रिसेप्‍शन कार्ड सोशल मीडिया पर हुआ वायरल, देखें कितना स्टाइलिश है न्योता

  • मंगलवार, 12 दिसंबर 2017
  • +

Most Read

शादी के दिन ही हो गया दूल्हे की भतीजी के साथ ऐसा गंदा काम कि छा गया रोष

rape with groom's niece
  • मंगलवार, 12 दिसंबर 2017
  • +

लड़की की गोद भराई से पहले उड़ गए घरवालों के होश

rajasthan jaipur- Thieves steal jewelry Before Wedding Ceremonies
  • मंगलवार, 12 दिसंबर 2017
  • +

70 ​​हजार की रिश्वत लेते महिला थाने की लेडी SI अरेस्ट

jaipur lady Sub Inspector aarist of the women police station taking bribe
  • मंगलवार, 12 दिसंबर 2017
  • +

उग्रवादियों ने बाप-बेटे को गोलियों से भूना, दोनों ने तड़प-तड़पकर तोड़ा दम

Father and son murdered by ULFA militants in GUWAHATI of Assam
  • मंगलवार, 12 दिसंबर 2017
  • +

महिला से दुराचार कर फरार हुआ आरोपी, पुलिस ने सात दिन यहां से पकड़ा

rape accused arrested after seven days from forest
  • मंगलवार, 12 दिसंबर 2017
  • +

SPA की आड़ में चल रहा था देह व्यापार, ऑनलाइन तलाशे जाते थे ग्राहक

sex racket was running on the name of spa
  • सोमवार, 11 दिसंबर 2017
  • +
Top
  • Downloads

Follow Us

Read the latest and breaking Hindi news on amarujala.com. Get live Hindi news about India and the World from politics, sports, bollywood, business, cities, lifestyle, astrology, spirituality, jobs and much more. Register with amarujala.com to get all the latest Hindi news updates as they happen.

E-Paper
Your Story has been saved!