फर्जी रेप केस में फंसाने की धमकी देकर वसूले 30 लाख, पुलिस इंस्पेक्टर पर केस दर्ज

ब्यूरो/अमर उजाला, हलवारा (लुधियाना) Updated Sun, 04 Feb 2018 06:59 PM IST
threatening of fake fir, punjab police, ludhiana news
ख़बर सुनें
रायकोट के थाना सदर में दो दिन पहले तैनात रहे पंजाब पुलिस के इंस्पेक्टर कुलदीप सिंह कंग के खिलाफ फाजिल्का के गांव घग्घा खुर्द में रहने वाले व्यक्ति को कभी विदेश भेजने के नाम पर धोखाधड़ी करने तो कभी महिला से दुराचार करने में फंसाने की धमकियां देकर तीस लाख रुपये फिरौती लेने के आरोप में मामला दर्ज किया गया है।
मामले में इंस्पेक्टरका साथ देने वाली लुधियाना निवासी महिला इंद्रजीत कौर को भी नामजद किया गया है। यह मामला पुलिस के उच्चाधिकारियों से की गई शिकायत पर दर्ज किया है। फाजिल्का के रहने वाले एडवोकेट सुखदेव सिंह मान की शिकायत पर थाना सिटी रायकोट की पुलिस ने इंस्पेक्टर कुलदीप सिंह कंग पर धोखाधड़ी, फिरौती लेने और क्रप्शन एक्ट के तहत मामला दर्ज किया है।

एडवोकेट सुखदेव सिंह मान की शिकायत के मुताबिक गांव घग्गा खुर्द के रहने वाले उसके जीजा बलकार सिंह की लुधियाना की महिला के साथ जान पहचान थी। महिला इंस्पेक्टर कुलदीप सिंह कंग को भी जानती थी। दोनों ने बलकार सिंह को ब्लैकमेल करने की प्लानिंग बनाई। कुछ दिन पहले इंस्पेक्टर कंग ने बलकार सिंह को फोन कर थाना सदर रायकोट में बुलाया और कहां कि उसने महिला इंद्रजीत को विदेश भेजने के नाम पर 28 लाख रुपये ऐंठे है। वह उसके खिलाफ मामला दर्ज करने वाले है। कभी उसे धोखाधड़ी तो कभी उसे इंद्रजीत कौर के साथ दुराचार करने का मामला दर्ज करने की धमकियां दी गई। कुछ दिन बीतने के बाद उन्होंने बलकार से तीस लाख रुपये की मांग की। बलकार ने खुद को बचाने के लिए उन्हें तीस लाख रुपये दे दिए।
आगे पढ़ें

दो दिन पहले हुई थी बदली, नहीं लिया चार्ज

RELATED

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App और Amarujala Hindi News App अपने मोबाइल पे|
Get all crime news in Hindi. Stay updated with us for all breaking hindi news.

Spotlight

Related Videos

VIDEO: इस एलान के बाद अब मुसलमान सिर्फ मस्जिद में पढ़ सकेंगे नमाज

हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर ने नमाज को लेकर बयान दिया है। खट्टर ने कहा है कि हरियाणा में सार्वजनिक जगहों पर नमाज नहीं पढ़ी जाएगी। सिर्फ मस्जिदों में ही नमाज पढ़ी जाए।

6 मई 2018

अमर उजाला ऐप चुनें

सबसे तेज अनुभव के लिए

क्लिक करें Add to Home Screen