'मुझे पापा बुला रहे हैं, जाना पड़ेगा... मम्मी माफ करना,' लिखकर प्रोफेसर ने दी जान

संवाद न्यूज एजेंसी, पठानकोट (पंजाब) Updated Sun, 20 Sep 2020 05:30 PM IST
विज्ञापन
मृतक प्रोफेसर का फाइल फोटो और बरामद सुसाइड नोट।
मृतक प्रोफेसर का फाइल फोटो और बरामद सुसाइड नोट। - फोटो : संवाद न्यूज एजेंसी

पढ़ें अमर उजाला ई-पेपर
कहीं भी, कभी भी।

*Yearly subscription for just ₹299 Limited Period Offer. HURRY UP!

ख़बर सुनें
पठानकोट के एसडी कॉलेज के फिजिक्स प्रोफेसर ने शनिवार की रात घर में पंखे से फंदा लगाकर आत्महत्या कर ली। मृतक की पहचान 42 वर्षीय सुलिंदर कालिया निवासी म्युनिसिपल कालोनी के तौर पर हुई है। थाना नंबर 2 पुलिस ने मृतक की जेब से सुसाइड नोट बरामद किया है। जिसमें लिखा कि मैं यह कदम खुद उठा रहा हूं, इसके लिए किसी से कुछ भी न पूछा जाए। पुलिस ने सुसाइड नोट कब्जे में लेकर परिवार वालों के बयान पर कार्रवाई की है। 
विज्ञापन

प्रोफेसर सुलिंदर कालिया के पिता की करीब 4 वर्ष पहले मौत हुई थी। इसके बाद से प्रोफेसर डिप्रेशन में थे। कुछ दिन पहले ही प्रोफेसर कालिया ने अपने पिता का श्राद्ध किया था। शनिवार रात को घर में खाना खाने के बाद सो गए। देर रात करीब एक बजे पत्नी अनु उठी तो बेड पर पति सुलिंदर कालिया नहीं दिखे। उन्होंने दूसरे कमरे में जाकर देखा तो पति पंखे से लटके थे। 
पत्नी के चिल्लाने पर घर में मौजूद मां व बच्चे उठ गए। घर में रोने की आवाज सुनकर मोहल्ले के लोग एकत्र हो गए। घटना की सूचना मिलने पर थाना नंबर- 2 पुलिस पहुंची। पुलिस ने शव कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम को भेजा। मामले की जांच कर रहे एएसआई रामलाल ने बताया कि मृतक प्रोफेसर की जेब से सुसाइड नोट मिला है। पुलिस ने सुसाइड नोट कब्जे में लेकर परिवार के बयान पर कार्रवाई की है। पोस्टमार्टम के बाद शव परिजनों को सौंप दिया गया है। 
‘मम्मी माफ करना, अनु और बच्चों को संभल लेना’
प्रोफेसर कालिया ने अपने सुसाइड नोट में लिखा कि मैं यह कदम खुद उठा रहा हूं, इसके लिए किसी को कुछ भी न पूछा जाए। अनु (पत्नी) और बच्चों को छोड़कर जाने का मन नहीं कर रहा, पर मुझे पापा बुला रहे हैं। वो मुझे अपने पास बुला रहे हैं, मुझे जाना पड़ेगा। मेरे बाद उनका बुरा हाल होगा, पर मुझे जाना पड़ेगा। मम्मी और अनु के मम्मी-डैडी मुझे माफ करना, मेरे बाद अनु और बच्चों को संभाल लेना। भगवान के सहारे छोड़कर जा रहा हूं, क्योंकि उस पर बड़ा यकीन है। अलविदा’’।
विज्ञापन
विज्ञापन
सबसे विश्वसनीय हिंदी न्यूज़ वेबसाइट अमर उजाला पर पढ़ें हर राज्य और शहर से जुड़ी क्राइम समाचार की
ब्रेकिंग अपडेट।
 
रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें अमर उजाला हिंदी न्यूज़ APP अपने मोबाइल पर।
Amar Ujala Android Hindi News APP Amar Ujala iOS Hindi News APP
विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
Election
  • Downloads

Follow Us

X

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00
X