देशद्रोह के 909 आरोपियों की पेशी वीडियो कांफ्रेंसिंग से

ब्यूरो/अमर उजाला, हिसार Updated Mon, 01 Dec 2014 09:13 AM IST
muscle of 909 accused of treason by video conferencing
ख़बर सुनें
सतलोक आश्रम मामले में फंसे 909 लोगों की पेशी तीन दिसंबर को एक साथ होगी। कोर्ट में पेशी के दौरान अफरा-तफरी से बचने के लिए निचली अदालत ने वीसी (वीडियो कांफ्रेंसिंग) से पेशी भुगतवाने का फैसला लिया है।
रविवार को पुलिस ने राजकपूर उर्फ प्रीतम और राजेंद्र को कोर्ट में पेश किया गया था। जेएमआईसी संजय वर्मा की कोर्ट में पेशी के दौरान उन्होंने ये निर्देश दिए। कोर्ट ने दोनों अभियुक्तों को तीन दिसंबर तक न्यायिक हिरासत में जेल भेज दिया।

सभी की एक साथ पेशी की तारीख
पुलिस की तरफ से केस लड़ रहे असिस्टेंट डिस्ट्रिक अटॉर्नी राजेश चौधरी ने बताया कि देशद्रोह सहित अन्य मामलों में सतलोक आश्रम से पकडे़ गए सभी अभियुक्तों को केवल रामपाल को छोड़कर जेल भेजा जा चुका है। पहले खास राजदारों का रिमांड चल रहा था।

जिनको अलग=अलग तारीखों पर पेश किया था। जिन अभियुक्तों को शुरूआत में ही ज्यूडीशियल भेजा गया था, उन्हें दोबारा तीन दिसंबर को पेश करना है। कोर्ट ने संबंधित केस में सभी को एक ही दिन पेश होने की स्थिति में यह तारीख निर्धारित की है।

जेल में है वीडियो कांफ्रेंसिंग रूम
पुलिस प्रशासन ने बताया है कि जेल में वीडियो कांफ्रेंसिंग रूम है। कोर्ट इतने अधिक लोगों की पेशी कैमरे के सामने लेगी। कोर्ट की तरफ से ड्यूटी मजिस्ट्रेट या फिर संबंधित केस की सरकार की तरफ से पैरवी कर रहे वकील को जेल परिसर में भेजा जाएगा। कैमरे के सामने से सभी को गुजारकर सभी अभियुक्तों के हस्ताक्षर लिए जाएंगे।

RELATED

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App और Amarujala Hindi News App अपने मोबाइल पे|
Get all crime news in Hindi. Stay updated with us for all breaking hindi news.

Spotlight

Most Read

Pratapgarh

बहू ने सास को पीटा, फिर लगा दी आग

बहू ने सास को पीटा, फिर लगा दी आग

20 मई 2018

Related Videos

VIDEO: इस एलान के बाद अब मुसलमान सिर्फ मस्जिद में पढ़ सकेंगे नमाज

हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर ने नमाज को लेकर बयान दिया है। खट्टर ने कहा है कि हरियाणा में सार्वजनिक जगहों पर नमाज नहीं पढ़ी जाएगी। सिर्फ मस्जिदों में ही नमाज पढ़ी जाए।

6 मई 2018

आज का मुद्दा
View more polls

अमर उजाला ऐप चुनें

सबसे तेज अनुभव के लिए

क्लिक करें Add to Home Screen