विज्ञापन
विज्ञापन
आपकी जन्मकुंडली दूर करेगी आपके जीवन का कष्ट
Janam Kundali

आपकी जन्मकुंडली दूर करेगी आपके जीवन का कष्ट

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
Digital Edition

उत्तराखंड: बेटी के लव मैरिज करने से नाखुश बसपा जिलाध्यक्ष ने बेटी और दामाद को मारी गोली

उत्तराखंड के काशीपुर में बेटी के प्रेम विवाह से नाखुश बसपा जिलाध्यक्ष (ऊधमसिंह नगर) ने बेटी और दामाद को गोली मार दी। पुलिस ने आरोपी जिलाध्यक्ष विनोद गौतम समेत तीन लोगों पर हत्या के प्रयास का मुकदमा दर्ज कर लिया है। अजीमनगर पुलिस ने पैगा चौकी क्षेत्र में दबिश देकर दो आरोपियों को हिरासत में ले लिया जबकि एक आरोपी अभी भी पुलिस की पकड़ से बाहर है।

जनपद रामपुर थाना अजीमनगर के ग्राम सैदनगर में काशीपुर निवासी बसपा के जिलाध्यक्ष विनोद कुमार गौतम की रिश्तेदारी है। बसपा नेता की बेटी कामिनी ने कुछ दिन पूर्व सैदनगर निवासी प्रशांत से प्रेम विवाह कर लिया था। इस बात से बसपा नेता का परिवार नाखुश था। प्रशांत कुछ माह पूर्व ही पीएसी में भर्ती हुआ है। इन दिनों वह बरेली में ट्रेनिंग कर रहा है।


फिलहाल वह अपने घर सैंदपुर आया हुआ था। सात सितंबर को बसपा नेता विनोद, अपने भाई महावीर और बेटे रविकांत आदि को लेकर सैंदपुर पहुंच गए। वह वहां अपनी रिश्तेदारी में रहकर बेटी पर घर लौटने के लिए दबाव बनाते रहे। रिश्तेदारों के बीच में पड़ने के कारण तीन दिनों तक दोनों पक्षों में वार्ता चलती रही लेकिन बेटी कामिनी घर लौटने को तैयार नहीं हुई। पति प्रशांत भी कामिनी को वापस भेजने के पक्ष में नहीं था। इस मामले को लेकर 10 सितंबर की रात गांव में पंचायत हुई लेकिन नवदंपति की जिद के चलते बसपा नेता के सारे प्रयास विफल हो गए।

आवेश में बसपा जिलाध्यक्ष ने शुक्रवार रात प्रशांत के घर में घुसकर अपनी लाइसेंसी पिस्टल से बेटी और दामाद को गोली मार दी। दोनों को आनन-फानन में रामपुर के जिला अस्पताल में भर्ती कराया गया। वहां से उन्हें हायर सेंटर मुरादाबाद रेफर किया गया है। पीएसी जवान प्रशांत के पिता रामअवतार की तहरीर पर पुलिस ने विनोद गौतम, उनके बेटे रविकांत और भाई महावीर पर केस दर्ज कर लिया। अजीमनगर थाना प्रभारी सुभाष मावी के नेतृत्व में पुलिस टीम ने आरोपी के पैगा स्थित आवास के अलावा अन्य ठिकानो पर दबिशें दी। पुलिस ने दो आरोपियों को पूछताछ के लिए हिरासत में ले लिया है।
... और पढ़ें

काशीपुर ऑनर किलिंग: बेटी-दामाद की हत्या के आरोप में पिता-पुत्र गिरफ्तार, आरोपी दो मामा फरार 

उत्तराखंड के काशीपुर में बहुचर्चित दोहरे हत्याकांड के आरोपी पिता और बेटे को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है। उन्होंने समाज में बदनामी के कारण हत्या करने की बात स्वीकार की है। मामले के दो अन्य आरोपी अभी भी फरार बताए जा रहे हैं। पुलिस आरोपियों की निशानदेही पर हत्या में प्रयुक्त असलहे बरामद करने का प्रयास कर रही है।  

मोहल्ला अल्ली खां निवासी मुज्जमिल की बेटी नाजिया (18) का पड़ोस में रहने वाले राशिद (22) पुत्र कमरूद्दीन के साथ प्रेम प्रसंग चल रहा था। पांच माह पूर्व दोनों ने घर से भागकर शादी कर ली थी। गैर बिरादरी के युवक के साथ शादी करना नाजिया के परिजनों को गवारा नहीं हुआ।

15 दिन पूर्व दोनों लौट आए और वहीं किराए के मकान में रहने लगे। सोमवार रात करीब साढ़े आठ बजे नाजिया और राशिद की गोली मारकर हत्या कर दी गई। मामले में मृतक राशिद के भाई नईम की तहरीर पर पुलिस ने नाजिया के पिता मुज्जमिल, भाई मोहसिन, मामा अफसर अली व जौहर अली पर केस दर्ज किया था। पुलिस ने मौके से 315 बोर के दो खोखे बरामद किए थे। पोस्टमार्टम रिपोर्ट में दोनों को दो-दो गोलियां लगने की पुष्टि हुई। 
... और पढ़ें

ऊधमसिंहनगर: जिला पंचायत उपाध्यक्ष समेत 12 पर संगीन धाराओं में मुकदमा दर्ज, पढ़ें पूरा मामला

ऊधमसिंहनगर जिला पंचायत उपाध्यक्ष भाजपा नेता त्रिनाथ विश्वास सहित 12 लोगों के खिलाफ दिनेशपुर थाने में नाबालिग का अपहरण, दुष्कर्म, डकैती सहित अन्य धाराओं में केस दर्ज हुआ है। दिनेशपुर के एक गांव की महिला ने एसएसपी को दिए शिकायती पत्र में कहा था कि ग्राम भटबोझ लच्छी थाना दिनेशपुर निवासी अर्जुन सिंह उसकी नाबालिग बेटी को बहलाकर शादी करने के लिए तैयार करने की कोशिश में लगा है। अर्जुन उसकी बेटी को रोजाना अपने साथ ले जाकर घंटों बाद घर छोड़ जाता है।

आरोप है कि अर्जुन अपने रिश्तेदार रंजीत सिंह के साथ मिलकर उसके घर से 20 हजार की नकदी और तीन जोड़ी पायल ले गया था। केस दर्ज कराने पर 17 जून की रात अर्जुन सिंह अपने साथी रंजीत सिंह, गुमान सिंह और दो अन्य के साथ उसके घर में घुस आया और नाबालिग बेटी को जबरदस्ती अपने साथ ले गया। पुलिस को सूचना दी तो 18 जून की सुबह चार बजे उसकी बेटी को वापस घर में छोड़ गया।

केस वापस नहीं लेने पर उसे और बेटियों को जान से मारने की धमकी दी।  22 जून की रात भूरो देवी, दीवान सिंह, घुमान सिंह, पूरन सिंह निवासी ग्राम भटभोज लच्छी दिनेशपुर और भागो देवी निवासी खटोलान दिनेशपुर, गुड्डो देवी निवासी जगनपुरी दिनेशपुर, गिल्ला सिंह, सोबिया सिंह निवासी सेठवाल थाना गदरपुर, रंजीत सिंह ग्राम धुरिया बाजपुर, जिला पंचायत उपाध्यक्ष त्रिनाथ विश्वास निवासी कालीनगर (दिनेशपुर) एकराय होकर उसके घर में घुस आए। उसे पीटा और बेटी को घसीटते हुए ले जाने लगे। 
... और पढ़ें

Udham Singh Nagar News: पुलिस ने किया खुलासा, लूट के लिए हुई थी अलका जौहरी की हत्या, तांत्रिक गिरफ्तार

उत्तराखंड के ऊधमसिंह नगर में अलका जौहरी की हत्या नकदी और जेवरात हड़पने के लिए की गई थी। कुंडा थाना पुलिस ने मामले का खुलासा कर आरोपी तांत्रिक जोगेंद्र सिंह को गिरफ्तार कर लिया। उसकी निशानदेही पर 18 तोले सोने के जेवर, 28 हजार रुपये और वारदात में प्रयुक्त स्कूटी बरामद की है। 

हत्या का खुलासा करते हुए एएसपी राजेश भट्ट ने बताया कि वैशाली कॉलोनी निवासी अलका जौहरी का शव 17 जनवरी को मिस्सरवाला की पुलिया के पास मिला था। उसके भाई अनुज ने शव की शिनाख्त कर मुरादाबाद थाना मझौला के ग्राम मझौली निवासी जोगेंद्र सिंह के खिलाफ शक के आधार पर केस दर्ज कराया था। 15 जनवरी को अलका मुरादाबाद जाने की बात कहकर घर से निकली थी। उसके पास 50 हजार रुपये, लॉकर की चाभियां, बीमे से संबंधित कागज, एटीमएम कार्ड थे।

उसके निकलने के बाद से घर के लॉकर में रखे 50 तोले सोने के जेवर और हीरे के 21 छोटे नग भी गायब थे। सीसीटीवी फुटेज में सामने आया कि एमपी चौक और जसपुर रोड पर अलका और जोगेंद्र स्कूटी पर एक साथ थे। 16 जनवरी की रात जोगेंद्र स्कूटी से अकेले मल्होत्रा फार्म स्थित अपने मौसेरे भाई के घर की ओर आता दिखा।

पुलिस ने जोगेंद्र को गिरफ्तार कर सोने के जेवर और नकदी बरामद कर ली। खुलासा करने वाली टीम को एएसपी राजेश भट्ट ने 11 हजार रुपये के इनाम की घोषणा की है। टीम में कुंडा थाना प्रभारी विनोद फर्त्याल, मंडी चौकी प्रभारी विजेंद्र सिंह, एसआई सुप्रिया नेगी, एसआई महेश चंद्र, विनय मित्तल, अवधेश, कुलदीप, राजेंद्र, जमशेद, कैलाश शामिल थे।
... और पढ़ें
सांकेतिक तस्वीर सांकेतिक तस्वीर

Uttarakhand News : पान खोखा व्यवसायी ने सिगरेट के रुपए मांगे तो कांस्टेबल ने उस पर चढ़ा दी कार, मौत

उत्तराखंड के बाजपुर में सिगरेट के रुपये मांगने से गुस्साए कोतवाली के एक कांस्टेबल ने तैश में आकर बुधवार देर रात खोखे वाले को कार से कुचलकर मौत के घाट उतार दिया। मृतक के दो चचेरे भाई और उनका दोस्त घायल हो गया। गंभीर रूप से घायल एक युवक का हल्द्वानी के अस्पताल में इलाज चल रहा है। पुलिस वाले के इस क्रूर कृत्य से आक्रोशित लोगों ने रात में ही कोतवाली परिसर में शव रखकर हंगामा किया।

हालात को देख आसपास के थानों समेत नैनीताल जिले से भी पुलिस फोर्स बुला लिया गया। पुलिस के आला अफसरों के निर्देश पर मृतक के भाई की तहरीर पर कांस्टेबल सहित तीन के खिलाफ केस दर्ज कर उन्हें गिरफ्तार कर लिया गया है। नाइट अफसर बन्नाखेड़ा चौकी प्रभारी अनिल जोशी को लाइन हाजिर कर दिया गया है। घटना की गंभीरता को देखते कुमाऊं परिक्षेत्र के आईजी अजय रौतेला, एसएसपी डीएस कुंवर सहित अन्य अफसर भी रात में ही मौके पर पहुंच गए थे। 

हल्द्वानी जाने वाली बसों के लिए बने निजी बस स्टैंड के पास अजय रूहेला और उसके भाई गौरव रूहेला (26) का पान का खोखा है। बुधवार देर रात करीब साढ़े 10 बजे गौरव रूहेला अपनी दुकान का सामान अंदर रख रहा था। पास में ही उसके चचेरे भाई विशाल रूहेला (31) और शिभम रूहेला (25) के अलावा उनका दोस्त अजय यादव (25) निवासी राजीवनगर खड़े थे। इसी बीच कोतवाली में तैनात कांस्टेबल प्रवीन कुमार, उसका साला जीवन और साथी गौरव राठौर पान के खोखे पर आए।

आरोप है कि उन्होंने सिगरेट लेकर रुपये नहीं दिए। रुपये मांगने पर कार सवार कांस्टेबल और उसके साथियों ने गालीगलौज और मारपीट कर धमकी दी, जिस पर हंगामा हो गया। गुस्से में कार सवार कांस्टेबल ने खोखा स्वामी गौरव रूहेला के ऊपर पीछे से कार चढ़ा दी। घटना में गौरव के अलावा उसके चचेरे भाई विशाल रूहेला, शिभम रूहेला और साथी अजय यादव घायल हो गए। आरोपी कांस्टेबल कार को बैक कर अपने साले और साथी के साथ मौके से फरार हो गया। 
... और पढ़ें

छात्रवृत्ति घोटाला: पूर्व समाज कल्याण अधिकारी शंखधर को भेजा जेल

दशमोत्तर छात्रवृति घोटाले में गिरफ्तार पूर्व समाज कल्याण अधिकारी अनुराग शंखधर को नैनीताल में विशेष भ्रष्टाचार निवारण कोर्ट में पेश किया गया जहां से उन्हें जेल भेज दिया गया है। शनिवार को आईटीआई थाना प्रभारी बीडी जोशी ने उन्हें देहरादून स्थित उनके आवास से गिरफ्तार किया था। 

आरोपी ने घोटाले को अंजाम देने के लिए मेरठ के एक शिक्षण संस्थान में जसपुर के 235 छात्रों का फर्जी दाखिला दिखाया था। छात्रवृत्ति की रकम भी शिक्षण संस्थान को चेक के माध्यम से दी गई थी। गिरफ्तारी के बाद पूछताछ में शंखधर ने इस बात का खुलासा किया है। 

एसआईटी को जांच के दौरान दशमोत्तर छात्रवृति घोटाले में कुछ समाज कल्याण अधिकारियों के लिप्त होने के साक्ष्य मिले थे। साक्ष्यों को पुख्ता करने के लिए एसआईटी ने छात्रों को फर्जी एडमिशन के लिए तैयार करने वाले कुछ बिचौलियों को गिरफ्तार कर उनसे पूछताछ की थी।

पूछताछ में वर्ष 2013 में ऊधमसिंह नगर जिले में तैनात समाज कल्याण अधिकारी अनुराग शंखधर का नाम भी सामने आया था। जसपुर में बिचौलियों ने कई छात्रों के फर्जी दाखिले अलग-अलग शिक्षण संस्थानों में दिखाए थे लेकिन जांच में पता चला कि इनमें से एक भी छात्र का दाखिला नहीं है। शंखधर ने भी जसपुर के 235 छात्रों का दाखिला मेरठ के एक शिक्षण संस्थान में दिखाया था। इसके बाद छात्रवृत्ति की रकम हड़पने के लिए शिक्षण संस्थान को तीन दिन के भीतर ही 1.18 करोड़ रुपये का चेक दिया था। 

पूछताछ में शंखधर ने यह भी बताया कि उस दौरान विभाग की ओर से आवंटित छात्रवृत्ति की रकम में से उन्हें ढाई करोड़ रुपये अधिक दिए गए थे। सीओ एपी कोंडे ने बताया कि शंखधर के खिलाफ 60 मुकदमे दर्ज हैं। वर्तमान में वह निलंबित थे।  अन्य आरोपियों की धरपकड़ के लिए भी प्रयास किए जा रहे हैं। 
... और पढ़ें

उत्तराखंड: प्रेमी के साथ रहने के लिए पत्नी ने रची पति की हत्या की साजिश, ऐसे दिया खौफनाक वारदात को अंजाम

शंखधर को जेल
दीपावली की रात उत्तराखंड में केलाखेड़ा के गांव रम्पुरा काजी में जसवंत सिंह की हत्या उसकी पत्नी ने प्रेमी के साथ मिलकर की थी। पुलिस पूछताछ में उसने यह बात कुबूली। पुलिस ने हत्या में प्रयुक्त तमंचा और खोखा बरामद कर लिया है।

बता दें कि 14 नवंबर की रात गांव रम्पुरा काजी में दो चारपाइयों पर मच्छरदानी लगाकर पत्नी सुरजीत कौर और दो बच्चों के साथ सो रहे जसवंत सिंह की कनपटी से सटाकर गोली मारकर हत्या कर दी गई थी। बुधवार को थाने में जसवंत सिंह हत्याकांड का खुलासा करते हुए एएसपी राजेश भट्ट और सीओ दीपशिखा अग्रवाल ने बताया कि चारपाई पर बगल में सो रही पत्नी सुरजीत कौर को भनक तक नहीं लगी, इसी शक के आधार पर पुलिस ने मृतक की पत्नी सुरजीत कौर को हिरासत में लेकर सख्ती से पूछताछ की।


आखिर सुरजीत कौर टूट गई और उसने सब सच उगल दिया। इस पर मृतक की पत्नी के प्रेमी रणजीत सिंह निवासी गांव भोगपुर डैम गुरुद्वारा तीरथनगर पतरामपुर (जसपुर) को गिरफ्तार कर लिया गया। उसकी निशानदेही पर तमंचा, खोखा और धमकी भरे मिले पत्र की डायरी भी बरामद कर ली है।

एएसपी ने बताया मृतक की पत्नी सुरजीत कौर और रणजीत सिंह के बीच प्रेम प्रसंग चल रहा था। दोनों साथ रहना चाहते थे। इसी के चलते दोनों ने जसवंत सिंह को मारने की साजिश रच डाली। पति की हत्या कराने के बाद पत्नी ने अपने प्रेमी रणजीत सिंह को मौके से यह कहकर भगा दिया था कि वह सब संभाल लेगी। गठित तीन टीमों में एसओ प्रभात कुमार, एसआई मनोज कोठारी, सुशील कुमार, गणेश टोलिया, इंद्र सिंह, संजय कुमार, मनोहर चंद्र, ओमप्रकाश, देवेंद्र सिंह राजपूत, जगदीश सिंह, तोरण सिंह, महेश कोहली, त्रिलोक सिंह, जसविंदर सिंह, गिरीश कांडपाल, जरनैल सिंह शामिल रहे। 
... और पढ़ें

काशीपुर :  आप नेता बाली के घर का गेट तोड़कर घुसी कार, चालक को गार्ड ने मारी गोली 

हाल ही में आम आदमी पार्टी में शामिल हुए और उद्योगपति दीपक बाली के आवास का गेट तोड़कर घर में घुसी कार के चालक को गार्ड ने गोली मार दी। गोली चालक के सिर में लगी है और वह गंभीर है।

घायल की सूचना पर पहुंचे उसके मित्रों ने उसे एक निजी अस्पताल में भर्ती कराया। देर रात हुई इस वारदात से इलाके में सनसनी फैल गई। खबर लिखे जाने तक पुलिस ने मुकदमा दर्ज नहीं किया है। हालांकि कार और नेता के आवास पर लगे सीसीटीवी की फुटेज कब्जे में ले ली हैं। 

जनपद नैनीताल थाना रामनगर छोई निवासी हरप्रीत सिंह उर्फ  हेरी 27 पुत्र परमजीत सिंह सोमवार शाम किसी काम से काशीपुर आया था। रात करीब आठ बजे वह रामनगर रोड पर एसआईएमटी के पास अपने एक परिचित से मिलकर घर लौट रहा था। रामनगर रोड पर पहुंचते ही उसकी क्रेटा कार संख्या (यूके 04-2495) अनियंत्रित होकर आप नेता दीपक बाली के आवास का गेट तोड़ते हुए अंदर घुसी और फिर तेजी से बाहर आ गई।
... और पढ़ें

रुद्रपुर : सियासी रंजिश में हुई पार्षद धामी की हत्या, चार लाख की दी थी सुपारी, एक शूटर गिरफ्तार

पुलिस ने 19 दिन बाद भाजपा समर्थित पार्षद प्रकाश धामी हत्याकांड का खुलासा कर दिया है। पुलिस ने एक शूटर राजकुमार उर्फ बिट्टू उर्फ अभिषेक निवासी ग्राम बसेरा थाना पिसावा जिला अलीगढ़ को 30 अक्तूबर की शाम जट्टारी (अलीगढ़) क्षेत्र से गिरफ्तार कर लिया है।
 
 पुलिस के अनुसार राजनीतिक रंजिश के चलते स्थानीय हिस्ट्रीशीटर रहे पूर्व सभासद राजेश गंगवार ने अपने भाई अन्नू गंगवार के साथ मिलकर चार लाख रुपये सुपारी देकर अंतरराज्यीय शूटरों से पार्षद धामी की हत्या कराई थी। हत्याकांड में शामिल मुख्य साजिशकर्ता समेत छह बदमाश अभी फरार हैं।

एसएसपी डीएस कुंवर ने शनिवार की शाम कोतवाली में बताया कि हत्या में शामिल शूटर राजकुमार उर्फ बिट्टू उर्फ अभिषेक निवासी ग्राम बसेरा थाना पिसावा (अलीगढ़) को चिह्नित किया गया था। उसकी निशानदेही पर हत्या में प्रयुक्त 315 बोर का तमंचा, तीन कारतूस और एक मोबाइल बरामद किया गया है। एसएसपी ने बताया कि पार्षद की हत्या के बाद बदमाश हाईवे के टोल बैरियरों से बचते हुए यूपी भागे थे। इसके बाद राजेश गंगवार व अन्नू गंगवार भी फरार हो गए।  
... और पढ़ें

रुद्रपुर : पार्षद प्रकाश धामी हत्याकांड में एक और शूटर बरेली से गिरफ्तार

भाजपा समर्थित पार्षद प्रकाश धामी हत्याकांड में एक और शूटर बरेली से गिरफ्तार कर लिया गया है। पकड़ा गया शूटर अतुल राठौर ग्राम लालऊ थाना दक्षिण फिरोजाबाद का निवासी है। हत्याकांड के मास्टरमाइंड पूर्व सभासद राजेश गंगवार व एक शूटर राजकुमार उर्फ बिट्टू को पुलिस पहले ही गिरफ्तार कर चुकी है।

रामनगर की पीरूमदारा चौकी पुलिस ने मुख्य साजिशकर्ता पूर्व सभासद राजेश गंगवार को गिरफ्तार कर ऊधमसिंह नगर पुलिस के हवाले कर दिया था। बीते 12 अक्तूबर को पार्षद प्रकाश धामी को शूटरों ने घर के बाहर बुलाकर गोलियों से भूनकर हत्या कर दी थी।

हत्या के बाद शूटर सफेद रंग की आई-20 कार में सवार होकर फरार हो गए थे। हत्याकांड की पूरी वारदात पार्षद के घर के आसपास लगे सीसीटीवी कैमरों में कैद हो गई थी। बीते 30 अक्तूबर को पुलिस ने एक शूटर राजकुमार उर्फ बिट्टू उर्फ अभिषेक निवासी ग्राम बसेरा थाना पिसावा अलीगढ़ को गिरफ्तार कर हत्याकांड का खुलासा कर दिया था।
... और पढ़ें

साइबर ठगों का जाल: कन्याएं कर रहीं वीडियो कॉल, आपत्तिजनक बातों की रिकॉर्डिंग वायरल करने और केस की दे रहीं धमकी

फोन करके ओटीपी हासिल करके क्रेडिट या डेबिट कार्ड के जरिये ऑनलाइन ठगी को लेकर लोग सतर्क हुए तो अब साइबर ठगो ने ठगी का दूसरा तरीका ईजाद कर लिया है।

फेसबुक मैंसेजर के जरिये लड़कियां लोगों को जाल में फंसाती हैं, फिर वीडियो कॉल के जरिये आपत्तिजनक बातों की रिकार्डिंग वायरल करने के नाम पर लोगों को ब्लैकमेल किया जाता है। इस चक्कर में कई लोग अब फंस चुके हैं। वहीं कुछ लोगों ने इसकी शिकायत साइबर सेल में की है।

पुलिस कार्यालय स्थित साइबर सेल में रोजाना चार से पांच लोग फेसबुक मैसेंजर की शिकायतें लेकर पहुंच रहे हैं। पीड़ितों का कहना है कि उन्हें युवतियों के नाम से फ्रेंड रिकवेस्ट आई थी। रिक्वेस्ट स्वीकार करने के बाद युवतियां मैसेज करती हैं। दोस्ती करने की बात कहकर नजदीकियां बढ़ाती हैं। फेसबुक मैसेंजर पर वीडियो कॉल करती हैं और इस दौरान आपत्तिजनक बातें करती हैं।

कॉल कटने के बाद युवती उनकी वीडियो को वापस भेजकर सोशल मीडिया पर वायरल करने की धमकी देती हैं। वीडियो वायरल नहीं करने के एवज में ठग मुंह मांगे रुपयों की मांग करते हैं। साइबर सेल प्रभारी हिमांशु पंत, साइबर विशेषज्ञ चंदन बिष्ट, आनंद कश्मीरा ने लोगों से अनजान लोगों की फ्रेंड रिकवेस्ट स्वीकार न करने व वीडियो कॉल करने वाली अनजान युवतियों से दूर रहने को कहा है। 
... और पढ़ें
Election
  • Downloads

Follow Us

विज्ञापन
X

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00
X