Hindi News ›   Uttar Pradesh ›   UP Assembly Election 2022 Satta Ka Sangram in Rampur Chai Par Chunavi Charcha Live Debate Discussion with Amar Ujala

UP Election 2022: रामपुर के हिंदू-मुस्लिम और सिख वोटर्स ने योगी सरकार पर कही बड़ी बात, चुनावी मुद्दे भी बताए

न्यूज डेस्क, अमर उजाला, रामपुर Published by: हिमांशु मिश्रा Updated Sat, 13 Nov 2021 09:37 AM IST

सार

गाजियाबाद और मुरादाबाद के वोटर्स का मूड समझने के बाद अब 'अमर उजाला' का चुनावी रथ 'सत्ता का संग्राम' रामपुर पहुंचा। यहां आज सुबह सिविल लाइंस स्थित रेलवे स्टेशन पर आम नागरिकों संग 'चाय पर चर्चा' हुई। बड़ी संख्या में जुटे लोगों ने खुलकर अपनी बातें कहीं।
अमर उजाला के सत्ता का संग्राम कार्यक्रम में चाय पर चर्चा में जुटे लोग।
अमर उजाला के सत्ता का संग्राम कार्यक्रम में चाय पर चर्चा में जुटे लोग। - फोटो : अमर उजाला
विज्ञापन
ख़बर सुनें

विस्तार

धारदार चाकू, जरदोजी की कला और पतंग के लिए पूरी दुनिया में प्रसिद्ध रामपुर में इस बार चुनाव के कौन से मुद्दे होंगे? धर्म, जाति या मजहब के नाम पर वोट पड़ेंगे या विकास की बात होगी? पिछले साढ़े चार साल के कार्यकाल में रामपुर का कितना विकास हुआ? कौन से जरूरी काम है जो अभी भी बाकी है? महिला सुरक्षा, रोजगार के मुद्दों पर रामपुर के लोग क्या सोचते हैं? इन सभी सवालों का जवाब जानने के लिए आज 'अमर उजाला' का चुनावी रथ 'सत्ता का संग्राम' रामपुर पहुंचा। यहां रेलवे स्टेशन पर जुटे आम लोगों से चाय पर चुनावी चर्चा हुई। पढ़िए लोगों ने क्या कहा?
विज्ञापन


मुरादाबाद की महिलाओं ने योगी सरकार के लिए क्या कहा? पढ़िए पूरी खबर


 

सभी धर्मों के लोगों ने योगी सरकार के लिए बड़ी बात कही

चाय पर चर्चा में जुटे लोग।
चाय पर चर्चा में जुटे लोग। - फोटो : अमर उजाला

रामपुर की सबसे बड़ी समस्या?

रामपुर में हुई चाय पर चर्चा।
रामपुर में हुई चाय पर चर्चा। - फोटो : अमर उजाला
अवतार सिंह ने कहा कि रामपुर में विकास हुए हैं, लेकिन आज तक यहां ट्रांसपोर्ट नगर नहीं बना। इससे ट्रांसपोटर्स बहुत ज्यादा परेशान हैं। मजदूरी करने वाले अयुब ने कहा कि भाजपा सरकार में कोई काम नहीं हुआ है। सब काम समाजवादी पार्टी की सरकार में हुए हैं। 

व्यापारी कुशल गुप्ता ने रोजगार का मुद्दा उठाया। कहा कि पहले यहां बीड़ी और जरदोरी का काम हुआ करता था। अब बंद हो गया है। व्यापार पूरी तरह से ठप है। नोटबंदी के बाद से कारोबार पहले की तरह ट्रैक नहीं पर आ पाया। रोजगार की काफी कमी आई है। 

मुसर्रत अली खां उर्फ गुड्डू ने कहा कि रामपुर में विकास हुआ है, लेकिन जिस स्तर पर होना चाहिए था वो नहीं हो पाया। नोटबंदी, कोविड के चलते लोगों को काफी परेशानी हुई। कारोबारियों और व्यापारियों को काफी दिक्क्तें आई। अली ने कहा कि यहां बेरोजगारी काफी बड़ी समस्या है। सरकार को इसपे फोकस करना चाहिए। 

पप्पू ने कहा कि रामपुर में बेरोजगारी काफी बड़ा संकट है। पिछली सरकारों में टेक्सटाइल, चीनी मील जैसी कई फैक्ट्रियां बंद हो गई। सपा सरकार में आजम खान बहुत पॉवरफुल थे, लेकिन उन्होंने भी कुछ नहीं किया। भाजपा सरकार में भी कुछ नहीं हुआ। पप्पू ने ये भी कहा कि वो मुसलमान होते हुए भी मुख्तार अब्बास नकवी के चलते भाजपा को वोट देते हैं। 

छात्र जुनैद चौधरी ने कहा कि अभी रोजगार का संकट है। पढ़े-लिखे बच्चे बेरोजगार घूम रहे हैं। वैकेंसी नहीं निकलती हैं। परीक्षाएं होती हैं, लेकिन उसका रिजल्ट नहीं निकलता। भर्तियां नहीं होती हैं।

विकास के मुद्दे पर क्या बोले लोग?

अमर उजाला सत्ता के संग्राम में चाय पर चर्चा में जुटे लेाग।
अमर उजाला सत्ता के संग्राम में चाय पर चर्चा में जुटे लेाग। - फोटो : अमर उजाला
अवतार सिंह ने कहा कि रामपुर में गुंडागर्दी खत्म हो गई है। आपराधिक घटनाओं में काफी कमी आई है। गुलशन अरोड़ा ने कहा कि रामपुर में काफी विकास के काम हुए हैं। सड़कों का बड़ा जाल बिछाया गया है। पहले रामपुर से लोगों को निकलने के लिए घंटों जाम में फंसना पड़ता था। अब ये समस्या पूरी तरह से खत्म हो गई है। नैनिताल जाने के लिए पहले ट्रैफिक का जाम लगता था। अब सड़कें बहुत अच्छी हो गई हैं। 

मुस्लिम वोटर फरजान ने कहा कि पहले के मुकाबले रामपुर में साफ-सफाई काफी बेहतर हो गई है। सड़कें ठीक हुई हैं। चाय बेचने वाले फराजना ने कहा कि उनका काम अच्छा चल रहा है। पहले के मुकाबले बेहतरी आई है। उत्तर प्रदेश सरकार से खुश हैं।  

विकास पांडेय ने कहा कि रोजगार है। जो काम करने वाले लोग हैं, वो पहले के मुकाबले ज्यादा कमा रहे हैं। रोड कनेक्टिविटी बेहतर हुई है। इसका फायदा भी लोगों को मिल रहा है। मजदूरी करने वाले राजेश ने कहा कि हमारे जीवन पर बहुत ज्यादा असर नहीं पड़ता है। खाने-पीने के लिए पैसा कमा लेते हैं।

पेट्रोल-डीजल और महंगाई मुद्दा होगा?
चाय पर चर्चा के लिए जुटे लोगों से जब पूछा गया कि क्या इस बार चुनाव में पेट्रोल-डीजल और महंगाई मुद्दा होगा? इस सवाल पर ज्यादातर लोगों ने ना बोला। कहा कि पेट्रोल-डीजल मुद्दा नहीं होगा। राज्य स्तर और स्थानीय स्तर पर नेता का चेहरा देखकर ही लोग वोट करेंगे। हालांकि, कुछ लोगों ने कहा कि सरकार को महंगाई कम करने की दिशा में काम करना चाहिए। 

रविंद्र गुप्ता ने कहा कि वर्तमान सरकार सबका साथ, सबका विश्वास और सबका विकास की नीति पर काम कर रही है। इस सरकार में कोई फैक्ट्री बंद नहीं हुई है। सब पिछली सरकार में बंद हुई है। रक्षा नीति बेहतर हुई है। विकास काफी हुई है। प्रधानमंत्री और मुख्यमंत्री ने काफी काम किया है।  

मुनीश शर्मा ने कहा कि राज्य और स्थानीय चेहरा देखकर वोट किया जाता है। सबसे पहले राज्य का चेहरा देखा जाता है। गौरव अग्रवाल ने कहा कि मौजूदा सरकार ने कई क्षेत्रों में अच्छा काम किया है। हालांकि, रोजगार के मुद्दे पर अन्य सरकारों की तरह ये भी फेल रही है। 
विज्ञापन

आपकी राय हमारे लिए महत्वपूर्ण है। खबरों को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।

खबर में दी गई जानकारी और सूचना से आप संतुष्ट हैं?
विज्ञापन
विज्ञापन

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App और Amarujala Hindi News APP अपने मोबाइल पे|
Get all India News in Hindi related to live update of politics, sports, entertainment, technology and education etc. Stay updated with us for all breaking news from India News and more news in Hindi.

विज्ञापन
विज्ञापन
  • Downloads
    News Stand

Follow Us

  • Facebook Page
  • Twitter Page
  • Youtube Page
  • Instagram Page
  • Telegram
एप में पढ़ें

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00